Wednesday , February 26 2020

Kisne bhige hue balon se ye jhatka paani

Kisne bhige hue balon se ye jhatka paani,
Jhum kar aayi ghata tut ke barsa paani.

Koi matwali ghata thi ke jawani ki umang,
Ji baha le gaya barsat ka pahla paani.

Tiktiki bandhe wo firte hai main is fikr mein hun,
Kahi khaane lage na chakkar ye gahara paani.

Baat karne mein wo un aankhon se amrit tapka,
“Arzoo” dekhte hi muh mein bhar aaya paani.

Ro liya fut ke seene mein jalan ab kyun ho,
Aag pighla ke nikla hai ye jalta paani.

Ye pasina wahi aansoo hai jo pi jate the tum,
“Arzoo” lo wo khula bhed wo futa paani.

किसने भीगे हुए बालों से ये झटका पानी,
झूम कर आई घटा टूट के बरसा पानी !

कोई मतवाली घटा थी के जवानी की उमंग,
जी बहा ले गया बरसात का पहला पानी !

टिकटिकी बंधे वो फिरते है मैं इस फ़िक्र में हूँ,
कही खाने लगे न चक्कर ये गहरा पानी !

बात करने में वो उन आँखों से अमृत टपका,
“आरज़ू” देखते ही मुह में भर आया पानी !

रो लिया फुट के सीने में जलन अब क्यों हों,
आग पिघला के निकला है ये जलता पानी !

ये पसीना वही आंसू है जो पी जाते थे तुम,
“आरज़ू” लो वो खुला भेद वो फूटा पानी !!

Kyun kisi aur ko dukh-dard sunaun apne..

kyun kisi aur ko dukh sunaun apne

Kyun kisi aur ko dukh-dard sunaun apne,
Apni aankho mein bhi main zakhm chhupaun apne.

Main to qaem hun tere gham ki badaulat warna,
Yun bhikhar jaun ki khud ke haath na aaun apne.

Sher logon ko bahut yaad hai auron ke liye,
Tu mile to main tujhe sher sunaun apne.

Tere raste ka jo kanta bhi mayassar aaye,
Main use shauk se collar pe sajaun apne.

Sochta hun ki bujha dun main ye kamre ka diya,
Apne saye ko bhi kyon sath jagaun apne.

Us ki talwar ne wo chaal chali hai ab ke,
Panv kate hain agar haath bachaun apne.

Aakhiri baat mujhe yaad hai us ki “Anwar”,
Jaane wale ko gale se na lagaun apne. !!

क्यों किसी और को दुःख-दर्द सुनाओ अपने,
अपनी आँखों में भी मैं ज़ख़्म छुपाऊँ अपने !

मैं तो क़ायम हूँ तेरे गम की बदौलत वरना,
यूँ बिखर जाऊ की खुद के हाथ न आऊं अपने !

शेर लोगों को बहुत याद है औरों के लिए,
तू मिले तो मैं तुझे शेर सुनाऊ अपने !

तेरे रास्ते का जो कांटा भी मयससर आये,
मैं उसे शौक से कॉलर पे सजाऊँ अपने !

सोचता हूँ की बुझा दूँ मैं ये कमरे का दीया,
अपने साये को भी क्यों साथ जगाऊँ अपने !

उस की तलवार ने वो चाल चली है अब के,
पाँव कटते हैं अगर हाथ बचाऊँ अपने !

आख़िरी बात मुझे याद है उस की “अनवर”,
जाने वाले को गले से न लगाऊँ अपने !!

Paraya kaun hai aur kaun apna sab bhula denge..

Paraya kaun hai aur kaun apna sab bhula denge,
Matae zindagi ek din hum bhi luta denge.

Tum apne samne ki bhid se ho kar guzar jao,
Ki aage wale to hargiz na tum ko rasta denge.

Jalae hain diye to phir hawaon par nazar rakkho,
Ye jhonke ek pal mein sab charaghon ko bujha denge.

Koi puchhega jis din waqai ye zindagi kya hai,
Zamin se ek mutthi khak le kar hum uda denge.

Gila, shikwa, hasad, kina, ke tohfe meri kismat hain,
Mere ahbab ab is se ziyaada aur kya denge.

Musalsal dhup mein chalna charaghon ki tarah jalna,
Ye hangame to mujh ko waqt se pahle thaka denge.

Agar tum aasman par ja rahe ho shauq se jao,
Mere naqshe qadam aage ki manzil ka pata denge. !!

पराया कौन है और कौन अपना सब भुला देंगे,
मताए ज़िन्दगानी एक दिन हम भी लुटा देंगे !

तुम अपने सामने की भीड़ से होकर गुज़र जाओ,
कि आगे वाले तो हर गिज़ न तुम को रास्ता देंगे !

जलाये हैं दिये तो फिर हवाओ पर नज़र रखो,
ये झोकें एक पल में सब चिराग़ो को बुझा देंगे !

कोई पूछेगा जिस दिन वाक़ई ये ज़िन्दगी क्या है,
ज़मीं से एक मुठ्ठी ख़ाक लेकर हम उड़ा देंगे !

गिला, शिकवा, हसद, कीना, के तोहफे मेरी किस्मत है,
मेरे अहबाब अब इससे ज़ियादा और क्या देंगे !

मुसलसल धूप में चलना चिराग़ो की तरह जलना,
ये हंगामे तो मुझको वक़्त से पहले थका देंगे !

अगर तुम आसमां पर जा रहे हो, शौक़ से जाओ,
मेरे नक्शे क़दम आगे की मंज़िल का पता देंगे !!

Agar kabhi meri yaad aaye..

Agar kabhi meri yaad aaye

Agar kabhi meri yaad aaye,
Toh chaand raaton ki naram dil geer roshni mein,
Kisi sitaarey ko dekh lena,
Agar woh nakhl-e-falak se udd kar tumhare qadmon mein aa gire toh,
Ye jaan lena woh istaara tha mere dil ka,
Agar na aaye..

Magar ye mumkin hi kis tarah hai ki tum kisi par nigaah daalo,
Toh uski deewar-e-jaan na tootey,
Woh apni hasti na bhool jaaye,
Agar kabhi meri yaad aaye..

Gureiz karti hawaa ki lehron pe haath rakhna,
Main khushbuon mein tumhein miloonga,
Mujhe gulaabon ki patiyon mein talash karna,
Main oss qatron ke aainon mein tumhein miloonga,
Agar sitaaron mein, oss qatron mein, khushbuon mein na paao mujhko,
Toh apne qadmon mein dekh lena..

Main gard karti masaafton mein tumhein miloonga,
Kahin pe roshan chiraag dekho toh jaan lena,
Ki har patange ke saath main bhi bikhar chuka hoon,
Tum apne haathon se un patangon ki khaak dariya mein daal dena,
Main khaak ban kar samandaron mein safar karunga,
Kisi na dekhe huye jazeere pe ruk ke tum ko sadaayein dunga,
Samandaron ke safar pe niklo toh us jazeere pe bhi utarna,
Agar kabhi meri yaad aaye..

अगर कभी मेरी याद आये,
तो चाँद रातों की नर्म दिल गीर रौशनी में,
किसी सितारे को देख लेना,
अगर वो नख्ल-ए फलक से उड़ कर तुम्हारे क़दमों में आ गिरे तो,
ये जान लेना वो इस्तारा था,
मेरे दिल का अगर ना आये..

मगर ये मुमकिन ही किस तरह है कि तुम किसी पर निगाह डालो,
तो उसकी निग़ाह-ए जान ना टूटे,
वो अपनी हस्ती ना भूल जाए,
अगर कभी मेरी याद आये..

गुरेज़ करती हवा की लहरों पे हाथ रखना,
मैं खुशबुओं में तुम्हें मिलूंगा,
मुझे गुलाबों की पत्तियों में तलाश करना,
मैं ओस क़तरों के आइनों में तुम्हें मिलूंगा,
अगर सितारों में, ओस क़तरों में, खुशबुओं में ना पाओ मुझको,
तो अपने क़दमों में देख लेना..

मैं गर्द करती मसाफ़तों में तुम्हें मिलूंगा,
कहीं पे रौशन चिराग़ देखो तो जान लेना,
कि हर पतंगे के साथ मैं भी बिखर चुका हूं,
तुम अपने हाथों से उन पतंगों कि खाक दरिया में डाल देना,
मैं खाक बन कर समन्दरों में सफर करूंगा,
किसी ना देखे हुए जज़ीरे पे रुक के तुम को सदायें दूंगा,
समन्दरों के सफर पे निकलो तो उस जज़ीरे पे भी उतरना,
अगर कभी मेरी याद आये..

Khushi ka masla kya hai jo mujhse khauf khati hai..

Khushi ka masla kya hai jo mujhse khauf khati hai,
Ise jab bhi bulata hun ghamon ko saath lati hai.

Chiragon kab hawa ki dogli fitrat ko samjhoge,
Jalaati hai yahi tumko yahi tumko bujhaati hai.

Mirashim ke shzar ko badazani ka ghun laga jabse,
Koi patta bhi jab khichein to dali toot jati hai.

ख़ुशी का मसला क्या है जो मुझसे खौफ खाती है,
इसे जब भी बुलाता हूँ ग़मों को साथ लती है !

चिरागों कब हवा की दोगली फितरत को समझोगे,
जलाती है यही तुमको यही तुमको बुझाती है !

मिराशिम के शज़र को बदज़नी का घुन लगा जबसे,
कोई पत्ता भी जब खीचें तो डाली टूट जाती है !!

Kuch toh apni nishaniya rakh ja..

Kuch toh apni nishaniya rakh ja,
In kitabo mein titliya rakh ja.

Log thak haar kar lout na jaye,
Raste mein kahaniya rakh ja.

Muntzir koi toh mile mujhko,
Ghar ke baahar udasiyan rakh ja.

In darkhton se fal nahi girte,
Inke najdik aandhiyan rakh ja.

Ho raha hai agar juda mujhse,
Meri aankho pe ungliyan rakh ja.

Aaj tufaan bhi akela hai,
Tu bhi sahil pe kashtiya rakh ja. !!

कुछ तो अपनी निशानिया रख जा,
इन किताबो में तितलिया रख जा !

लोग थक हर कर लौट न जाये,
रास्ते में कहानिया रख जा !

मुंतज़िर कोई तो मिले मुझको,
घर के बाहर उदासियाँ रख जा !

इन दरख्तों से फल नहीं गिरते,
इनके नजदीक आँधियाँ रख जा !

हो रहा है अगर जुदा मुझसे,
मेरी आँखों पे उँगलियाँ रख जा !

आज तूफ़ान भी अकेला है,
तू भी साहिल पे कश्तियाँ रख जा !!

Sarakti jaye hai rukh se naqab aahista aahista..

Sarakti jaye hai rukh se naqab aahista aahista,
Nikalta aa raha hai aaftaab aahista aahista.

Jawan hone lage jab wo to hum se kar liya pardaa,
Haya yakalakht aayi aur shabaab aahista aahista.

Shab-e-furkat ka jaga hun farishton ab to sone do,
Kabhi fursat mein kar lena hisaab aahista aahista.

Sawal-e-wasl par unko udu ka Khauf hai itna,
Dabe honthon se dete hain jawaab aahista aahista.

Humare aur tumhare pyar mein bas fark hai itna,
Idhar toh jaldi jaldi hai udhar aahista aahista.

Wo bedardi se sar kaate “Ameer” aur main kahun unse,
Huzur aahista aahista, janaab aahista aahista. !!

सरकती जाए है रुख से नकाब आहिस्ता आहिस्ता,
निकलता आ रहा है आफताब आहिस्ता आहिस्ता !

जवान होने लगे जब वो तो हम से कर लिया पर्दा,
हया यकलख्त आई और शबाब आहिस्ता आहिस्ता !

शब्-इ-फुरक़त का जागा हूँ फरिश्तों अब तो सोने दो,
कभी फुर्सत में कर लेना हिसाब आहिस्ता आहिस्ता !

सवाल-ए-वस्ल पर उनको उदू का खौफ है इतना,
दबे होंठों से देते हैं जवाब आहिस्ता आहिस्ता !

हमारे और उम्हारे प्यार में बस फर्क है इतना,
इधर तो जल्दी जल्दी है उधर आहिस्ता आहिस्ता !

वो बेदर्दी से सर काटे “अमीर” और मैं कहूं उन से,
हुज़ूर आहिस्ता, आहिस्ता जनाब, आहिस्ता आहिस्ता !!