Wednesday , February 26 2020

Munawwar Rana “Maa” Part 1

1.
Hanste hue Maa-Baap ki gaali nahi khaate,
Bachche hain to kyon shauq se mitti nahi khaate.

हँसते हुए माँ-बाप की गाली नहीं खाते,
बच्चे हैं तो क्यों शौक़ से मिट्टी नहीं खाते !

2.
Ho chaahe jis ilaaqe ki zaban bachche samajhte hain,
Sagi hai ya ki sauteli hai Maa bachche samajhte hain.

हो चाहे जिस इलाक़े की ज़बाँ बच्चे समझते हैं,
सगी है या कि सौतेली है माँ बच्चे समझते हैं !

3.
Hawa dukhon ki jab aayi kabhi khizaan ki tarah,
Mujhe chhupa liya mitti ne meri Maa ki tarah.

हवा दुखों की जब आई कभी ख़िज़ाँ की तरह,
मुझे छुपा लिया मिट्टी ने मेरी माँ की तरह !

4.
Sisakiyaan uski na dekhi gayi mujhse “Rana”,
Ro pada main bhi use pehli kamaayi dete.

सिसकियाँ उसकी न देखी गईं मुझसे “राना”,
रो पड़ा मैं भी उसे पहली कमाई देते !

5.
Sar-phire log humein dushman-e-jaan kehte hain,
Hum jo is mulk ki mitti ko bhi Maa kehte hain.

सर फिरे लोग हमें दुश्मन-ए-जाँ कहते हैं,
हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी माँ कहते हैं !

6.
Mujhe bas is liye achchhi bahaar lagati hai,
Ki ye bhi Maa ki tarah khush-gawaar lagati hai.

मुझे बस इस लिए अच्छी बहार लगती है,
कि ये भी माँ की तरह ख़ुशगवार लगती है !

7.
Maine rote hue ponchhe the kisi din aansoo,
Muddaton Maa ne nahi dhoya dupatta apna.

मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आँसू,
मुद्दतों माँ ने नहीं धोया दुपट्टा अपना !

8.
Bheje gaye farishte humaare bachaav ko,
Jab haadsaat Maa ki dua se ulajh pade.

भेजे गए फ़रिश्ते हमारे बचाव को,
जब हादसात माँ की दुआ से उलझ पड़े !

9.
Labon pe us ke kabhi bad-dua nahi hoti,
Bas ek Maa hai jo mujh se khafa nahi hoti.

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती,
बस एक माँ है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती !

10.
Taar par bathi hui chidiyon ko sota dekh kar,
Farsh par sota hua beta bahut achchha laga.

तार पर बैठी हुई चिड़ियों को सोता देख कर,
फ़र्श पर सोता हुआ बेटा बहुत अच्छा लगा !!

11.
Is chehre mein poshida hai ek kaum ka chehra,
Chehre ka utar jana munasib nahi hoga.

इस चेहरे में पोशीदा है इक क़ौम का चेहरा,
चेहरे का उतर जाना मुनासिब नहीं होगा !

12.
Ab bhi chalti hai jab aandhi kabhi gham ki “Rana”,
Maa ki mamta mujhe baahon mein chhupa leti hai.

अब भी चलती है जब आँधी कभी ग़म की “राना”,
माँ की ममता मुझे बाहों में छुपा लेती है !

13.
Musibat ke dinon mein humesha sath rahti hai,
Payambar kya pareshaani mein ummat chhod sakta hai ?

मुसीबत के दिनों में हमेशा साथ रहती है,
पयम्बर क्या परेशानी में उम्मत छोड़ सकता है ?

14.
Puraana ped buzurgon ki tarah hota hai,
Yahi bahut hai ki taaza hawayen deta hai.

पुराना पेड़ बुज़ुर्गों की तरह होता है,
यही बहुत है कि ताज़ा हवाएँ देता है !

15.
Kisi ke paas aate hain to dariya sukh jate hain,
Kisi ke ediyon se ret ka chashma nikalta hai.

किसी के पास आते हैं तो दरिया सूख जाते हैं,
किसी के एड़ियों से रेत का चश्मा निकलता है !

16.
Jab tak raha hun dhoop mein chadar bana raha,
Main apni Maa ka aakhiri jevar bana raha.

जब तक रहा हूँ धूप में चादर बना रहा,
मैं अपनी माँ का आखिरी ज़ेवर बना रहा !

17.
Dekh le zalim shikaari ! Maa ki mamata dekh le,
Dekh le chidiya tere daane talak to aa gayi.

देख ले ज़ालिम शिकारी ! माँ की ममता देख ले,
देख ले चिड़िया तेरे दाने तलक तो आ गई !

18.
Mujhe bhi us ki judai satate rehti hai,
Use bhi khwaab mein beta dikhaayi deta hai.

मुझे भी उसकी जुदाई सताती रहती है,
उसे भी ख़्वाब में बेटा दिखाई देता है !

19.
Muflisi ghar mein theharne nahi deti usko,
Aur pardesh mein beta nahi rahne deta.

मुफ़लिसी घर में ठहरने नहीं देती उसको,
और परदेस में बेटा नहीं रहने देता !

20.
Agar school mein bachche hon ghar achchha nahi lagta,
Parindon ke na hone par shajar achchha nahi lagta.

अगर स्कूल में बच्चे हों घर अच्छा नहीं लगता,
परिन्दों के न होने पर शजर अच्छा नहीं लगता !

Wafa mein ab ye hunar ikhtiyar karna hai..

Wafa mein ab ye hunar ikhtiyar karna hai,
Wo sach kahe na kahe aitebaar karna hai.

Ye tujh ko jagte rahne ka shouq kab se hua,
Mujhe to khair tera intezar karna hai.

Hawa ki zad mein jalne hain aansoon ke chiraagh,
Kabhi ye jashan sar-e-rah guzaar karna hai.

Wo muskura ke naye wishwason mein dhal gaya,
Khayal tha ke use sharam saar karna hai.

Misaal-e-shaakh-e-barhana khizan ke rut mein kabhi,
Khud apne jism ko be-barg-o-baar karna hai.

Tere firaaq mein din kis tarah kattein apne,
Ke shugal-e-shab to sitare shumaar karna hai.

Chalo ye ashk hi moti samajh ke baich aaye,
Kisi tarah to hame rozgaar karna hai.

Kabhi to dil mein chupe zakhm bhi numayaan hun,
Qaba samajh ke badan taar taar karna hai.

Khuda jane ye koi zid ke shouq hai “Mohsin”,
Khud apni jaan ke dushman se pyar karna hai. !!

वफ़ा में अब ये हुनर इख़्तियार करना है,
वह सच कहें न कहे ऐतबार करना है !

ये तुझ को जागते रहने का शौक़ कब से हुआ,
मुझे तो खैर तेरा इंतज़ार करना है !

हवा की ज़द में जलने हैं आंसुओं के चिराग,
कभी ये जश्न सर-ए-राह गुजार करना है !

वह मुस्कुरा के नए विश्वासों में ढल गया,
ख्याल था कि उसे शर्म सार करना है !

मिसाल-ए-शाख-ए-बढ़ाना खिज़ां के रुत में कभी,
खुद अपने जिस्म को बेबर्ग-ओ-बार करना है !

तेरे फ़िराक में दिन किस तरह कटें अपने,
के सहगल-ए-शब तो सितारे शुमार करना है !

चलो ये अश्क ही मोती समझ के बेच आये,
किसी तरह तो हमे रोज़गार करना है !

कभी तो दिल में छुपे ज़ख्म भी नुमायां हों,
क़बा समझ के बदन तार तार करना है !

खुदा जाने ये कोई ज़िद के शौक है “मोहसिन”,
खुद अपनी जान के दुश्मन से प्यार करना है !!

Hazaron khwahishen aisi ke har khwahish pe dam nikle..

Hazaron khwahishen aisi ke har khwahish pe dam nikle,
Bahut nikle mere arman lekin phir bhi kam nikle.

Dare kyun mera qatil kya rahega us ki gardan par,
Wo khoon jo chashm-e-tar se umar bhar yun dam-b-dam nikle.

Nikalna khuld se aadam ka sunte aaye hain lekin,
Bahut be-abru ho kar tere kuche se hum nikle.

Bharam khul jaye zalim tere qamat ki daraazi ka,
Agar is turra-e-pur-pech-o-kham ka pech-o-kham nikle.

Magar likhwaye koi us ko khat to hum se likhwaye,
Hui subh aur ghar se kan par rakh kar qalam nikle.

Hui is daur mein mansub mujh se baada ashami,
Phir aaya wo zamana jo jahan mein jam-e-jam nikle.

Hui jin se tawaqqo khastagi ki daad pane ki,
Wo hum se bhi ziyaada khasta-e-tegh-e-sitam nikle.

Mohabbat mein nahi hai farq jine aur marne ka,
Usi ko dekh kar jite hain jis kafir pe dam nikle.

Zara kar jor sine par ki teer-e-pursitam nikle,
Jo wo nikle to dil nikle jo dil nikle to dam nikle.

Khuda ke waste parda na kabe se uthaa zaalim,
Kahin aisa na ho yaan bhi wahi kafir sanam nikle.

Kahan mai-khane ka darwaza “Ghalib” aur kahan waiz,
Par itna jaante hain kal wo jata tha ki hum nikle.

Hazaron khwahishen aisi ke har khwahish pe dam nikle,
Bahut nikle mere arman lekin phir bhi kam nikle. !!

हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले,
बहुत निकले मेरे अरमाँ लेकिन फिर भी कम निकले !

डरे क्यों मेरा कातिल क्या रहेगा उसकी गर्दन पर,
वो खून जो चश्म-ऐ-तर से उम्र भर यूं दम-ब-दम निकले !

निकलना खुल्द से आदम का सुनते आये हैं लेकिन,
बहुत बे-आबरू होकर तेरे कूचे से हम निकले !

भ्रम खुल जाये जालीम तेरे कामत कि दराजी का,
अगर इस तुर्रा-ए-पुरपेच-ओ-खम का पेच-ओ-खम निकले !

मगर लिखवाये कोई उसको खत तो हमसे लिखवाये,
हुई सुबह और घर से कान पर रखकर कलम निकले !

हुई इस दौर में मनसूब मुझसे बादा-आशामी,
फिर आया वो जमाना जो जहाँ से जाम-ए-जम निकले !

हुई जिनसे तव्वको खस्तगी की दाद पाने की,
वो हमसे भी ज्यादा खस्ता-ए-तेग-ए-सितम निकले !

मुहब्बत में नहीं है फ़र्क जीने और मरने का,
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफिर पे दम निकले !

जरा कर जोर सिने पर कि तीर-ऐ-पुरसितम निकले,
जो वो निकले तो दिल निकले, जो दिल निकले तो दम निकले !

खुदा के बासते पर्दा ना काबे से उठा जालिम,
कहीं ऐसा न हो याँ भी वही काफिर सनम निकले !

कहाँ मय-खाने का दरवाजा “गालिब” और कहाँ वाइज़,
पर इतना जानते हैं कल वो जाता था के हम निकले !

हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले,
बहुत निकले मेरे अरमाँ लेकिन फिर भी कम निकले !!

Aam hukm-e-sharab karta hun..

Aam hukm-e-sharab karta hun,
Mohtasib ko kabab karta hun.

Tuk to rah ai bina-e-hasti tu,
Tujh ko kaisa kharab karta hun.

Bahs karta hun ho ke abjad-khwan,
Kis qadar be-hisab karta hun.

Koi bujhti hai ye bhadak mein abas,
Tishnagi par itab karta hun.

Sar talak aab-e-tegh mein hun gharq,
Ab tain aab aab karta hun.

Ji mein phirta hai “mir” wo mere,
Jagta hun ki khwab karta hun. !!

आम हुक्म-ए-शराब करता हूँ,
मोहतसिब को कबाब करता हूँ !

टुक तो रह ऐ बिना-ए-हस्ती तू,
तुझ को कैसा ख़राब करता हूँ !

बहस करता हूँ हो के अबजद-ख़्वाँ,
किस क़दर बे-हिसाब करता हूँ !

कोई बुझती है ये भड़क में अबस,
तिश्नगी पर इताब करता हूँ !

सर तलक आब-ए-तेग़ में हूँ ग़र्क़,
अब तईं आब आब करता हूँ !

जी में फिरता है “मीर” वो मेरे,
जागता हूँ कि ख़्वाब करता हूँ !!

Koi anees koi aashna nahi rakhte..

Koi anees koi aashna nahi rakhte,
Kisi ki aas baghair az khuda nahi rakhte.

Kisi ko kya ho dilon ki shikastagi ki khabar,
Ki tutne mein ye shishe sada nahi rakhte.

Faqir dost jo ho hum ko sarfaraaz kare,
Kuch aur farsh ba-juz boriya nahi rakhte.

Musafiro shab-e-awwal bahut hai tera-o- tar,
Charagh-e-qabr abhi se jala nahi rakhte.

Wo log kaun se hain ai khuda-e-kaun-o-makan,
Sukhan se kan ko jo aashna nahi rakhte.

Musafiran-e-adam ka pata mile kyunkar,
Wo yun gaye ki kahin naqsh-e-pa nahi rakhte.

Tap-e-darun gham-e-furqat waram-e-payada-rawi,
Maraz to itne hain aur kuch dawa nahi rakhte.

Khulega haal unhen jab ki aankh band hui,
Jo log ulfat-e-mushkil-kusha nahi rakhte.

Jahan ki lazzat-o-khwahish se hai bashar ka khamir,
Wo kaun hain ki jo hirs-o-hawa nahi rakhte.

“Anees” bech ke jaan apni hind se niklo,
Jo tosha-e-safar-e-karbala nahi rakhte. !!

कोई अनीस कोई आश्ना नहीं रखते,
किसी की आस बग़ैर अज़ ख़ुदा नहीं रखते !

किसी को क्या हो दिलों की शिकस्तगी की ख़बर,
कि टूटने में ये शीशे सदा नहीं रखते !

फ़क़ीर दोस्त जो हो हम को सरफ़राज़ करे,
कुछ और फ़र्श ब-जुज़ बोरिया नहीं रखते !

मुसाफ़िरो शब-ए-अव्वल बहुत है तेरा-ओ-तार,
चराग़-ए-क़ब्र अभी से जला नहीं रखते !

वो लोग कौन से हैं ऐ ख़ुदा-ए-कौन-ओ-मकाँ,
सुख़न से कान को जो आश्ना नहीं रखते !

मुसाफ़िरान-ए-अदम का पता मिले क्यूँकर,
वो यूँ गए कि कहीं नक़्श-ए-पा नहीं रखते !

तप-ए-दरूँ ग़म-ए-फ़ुर्क़त वरम-ए-पयादा-रवी,
मरज़ तो इतने हैं और कुछ दवा नहीं रखते !

खुलेगा हाल उन्हें जब कि आँख बंद हुई,
जो लोग उल्फ़त-ए-मुश्किल-कुशा नहीं रखते !

जहाँ की लज़्ज़त-ओ-ख़्वाहिश से है बशर का ख़मीर,
वो कौन हैं कि जो हिर्स-ओ-हवा नहीं रखते !

“अनीस” बेच के जाँ अपनी हिन्द से निकलो,
जो तोशा-ए-सफ़र-ए-कर्बला नहीं रखते !!

Chand tanha hai aasman tanha..

Chand tanha hai aasman tanha,
Dil mila hai kahan kahan tanha.

Bujh gayi aas chhup gaya tara,
Thartharaata raha dhuan tanha.

Zindagi kya isi ko kahte hain,
Jism tanha hai aur jaan tanha.

Ham-safar koi gar mile bhi kahin,
Donon chalte rahe yahan tanha.

Jalti-bujhti si raushni ke pare,
Simta simta sa ek makan tanha.

Rah dekha karega sadiyon tak,
Chhod jayenge ye jahan tanha. !!

चाँद तन्हा है आसमाँ तन्हा,
दिल मिला है कहाँ कहाँ तन्हा !

बुझ गई आस छुप गया तारा,
थरथराता रहा धुआँ तन्हा !

ज़िंदगी क्या इसी को कहते हैं,
जिस्म तन्हा है और जाँ तन्हा !

हम-सफ़र कोई गर मिले भी कहीं,
दोनों चलते रहे यहाँ तन्हा !

जलती-बुझती सी रौशनी के परे,
सिमटा सिमटा सा इक मकाँ तन्हा !

राह देखा करेगा सदियों तक,
छोड़ जाएँगे ये जहाँ तन्हा !!

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye..

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye,
Tera hath hath mein aa gaya ki charagh rah mein jal gaye.

Wo lajaye mere sawal par ki utha sake na jhuka ke sar,
Udi zulf chehre pe is tarah ki shabon ke raaz machal gaye.

Wahi baat jo wo na kah sake mere sher-o-naghma mein aa gayi,
Wahi lab na main jinhen chhu saka qadah-e-sharab mein dhal gaye.

Wahi aastan hai wahi jabin wahi ashk hai wahi aastin,
Dil-e-zar tu bhi badal kahin ki jahan ke taur badal gaye.

Tujhe chashm-e-mast pata bhi hai ki shabab garmi-e-bazm hai,
Tujhe chashm-e-mast khabar bhi hai ki sab aabgine pighal gaye.

Mere kaam aa gayi aakhirash yahi kawishen yahi gardishen,
Badhin is qadar meri manzilen ki qadam ke khar nikal gaye. !!

मुझे सहल हो गईं मंज़िलें वो हवा के रुख़ भी बदल गए,
तेरा हाथ हाथ में आ गया कि चराग़ राह में जल गए !

वो लजाए मेरे सवाल पर कि उठा सके न झुका के सर,
उड़ी ज़ुल्फ़ चेहरे पे इस तरह कि शबों के राज़ मचल गए !

वही बात जो वो न कह सके मेरे शेर-ओ-नग़्मा में आ गई,
वही लब न मैं जिन्हें छू सका क़दह-ए-शराब में ढल गए !

वही आस्ताँ है वही जबीं वही अश्क है वही आस्तीं,
दिल-ए-ज़ार तू भी बदल कहीं कि जहाँ के तौर बदल गए !

तुझे चश्म-ए-मस्त पता भी है कि शबाब गर्मी-ए-बज़्म है,
तुझे चश्म-ए-मस्त ख़बर भी है कि सब आबगीने पिघल गए !

मेरे काम आ गईं आख़िरश यही काविशें यही गर्दिशें,
बढ़ीं इस क़दर मेरी मंज़िलें कि क़दम के ख़ार निकल गए !!