Jiwan ko dukh dukh ko aag aur aag ko pani kahte..

Jiwan ko dukh dukh ko aag aur aag ko pani kahte,
Bachche lekin soye hue the kis se kahani kahte.

Sach kahne ka hausla tum ne chhin liya hai warna,
Shehar mein phaili virani ko sab virani kahte.

Waqt guzarta jata aur ye zakhm hare rahte to,
Badi hifazat se rakkhi hai teri nishani kahte.

Wo to shayad donon ka dukh ek jaisa tha warna,
Hum bhi patthar marte tujh ko aur diwani kahte.

Tabdili sachchai hai is ko mante lekin kaise,
Aaine ko dekh ke ek taswir purani kahte.

Tera lahja apnaya ab dil mein hasrat si hai,
Apni koi baat kabhi to apni zabani kahte.

Chup rah kar izhaar kiya hai kah sakte to “Aanis”,
Ek alahida tarz-e-sukhan ka tujh ko bani kahte. !!

जीवन को दुख दुख को आग और आग को पानी कहते,
बच्चे लेकिन सोए हुए थे किस से कहानी कहते !

सच कहने का हौसला तुम ने छीन लिया है वर्ना,
शहर में फैली वीरानी को सब वीरानी कहते !

वक़्त गुज़रता जाता और ये ज़ख़्म हरे रहते तो,
बड़ी हिफ़ाज़त से रक्खी है तेरी निशानी कहते !

वो तो शायद दोनों का दुख एक जैसा था वर्ना,
हम भी पत्थर मारते तुझ को और दीवानी कहते !

तब्दीली सच्चाई है इस को मानते लेकिन कैसे,
आईने को देख के एक तस्वीर पुरानी कहते !

तेरा लहजा अपनाया अब दिल में हसरत सी है,
अपनी कोई बात कभी तो अपनी ज़बानी कहते !

चुप रह कर इज़हार किया है कह सकते तो “अनीस”,
एक अलाहिदा तर्ज़-ए-सुख़न का तुझ को बानी कहते !!

 

Wo mere haal pe roya bhi muskuraya bhi..

Wo mere haal pe roya bhi muskuraya bhi,
Ajib shakhs hai apna bhi hai paraya bhi.

Ye intezaar sahar ka tha ya tumhara tha,
Deeya jalaya bhi main ne deeya bujhaya bhi.

Main chahta hun thahar jaye chashm-e-dariya mein,
Larazta aks tumhara bhi mera saya bhi.

Bahut mahin tha parda larazti aankhon ka,
Mujhe dikhaya bhi tu ne mujhe chhupaya bhi.

Bayaz bhar bhi gayi aur phir bhi sada hai,
Tumhare naam ko likha bhi aur mitaya bhi. !!

वो मेरे हाल पे रोया भी मुस्कुराया भी,
अजीब शख़्स है अपना भी है पराया भी !

ये इंतिज़ार सहर का था या तुम्हारा था,
दीया जलाया भी मैं ने दीया बुझाया भी !

मैं चाहता हूँ ठहर जाए चश्म-ए-दरिया में,
लरज़ता अक्स तुम्हारा भी मेरा साया भी !

बहुत महीन था पर्दा लरज़ती आँखों का,
मुझे दिखाया भी तू ने मुझे छुपाया भी !

बयाज़ भर भी गई और फिर भी सादा है,
तुम्हारे नाम को लिखा भी और मिटाया भी !!

 

Ek karb-e-musalsal ki saza den to kise den..

Ek karb-e-musalsal ki saza den to kise den,
Maqtal mein hain jine ki dua den to kise den.

Patthar hain sabhi log karen baat to kis se,
Is shahr-e-khamoshan mein sada den to kise den.

Hai kaun ki jo khud ko hi jalta hua dekhe,
Sab hath hain kaghaz ke diya den to kise den.

Sab log sawali hain sabhi jism barahna,
Aur pas hai bas ek rida den to kise den.

Jab hath hi kat jayen to thamega bhala kaun,
Ye soch rahe hain ki asa den to kise den.

Bazar mein khushbu ke kharidar kahan hain,
Ye phool hain be-rang bata den to kise den.

Chup rahne ki har shakhs qasam khaye hue hai,
Hum zahr bhara jam bhala den to kise den. !!

एक कर्ब-ए-मुसलसल की सज़ा दें तो किसे दें,
मक़्तल में हैं जीने की दुआ दें तो किसे दें !

पत्थर हैं सभी लोग करें बात तो किस से,
इस शहर-ए-ख़मोशाँ में सदा दें तो किसे दें !

है कौन कि जो ख़ुद को ही जलता हुआ देखे,
सब हाथ हैं काग़ज़ के दिया दें तो किसे दें !

सब लोग सवाली हैं सभी जिस्म बरहना,
और पास है बस एक रिदा दें तो किसे दें !

जब हाथ ही कट जाएँ तो थामेगा भला कौन,
ये सोच रहे हैं कि असा दें तो किसे दें !

बाज़ार में ख़ुशबू के ख़रीदार कहाँ हैं,
ये फूल हैं बे-रंग बता दें तो किसे दें !

चुप रहने की हर शख़्स क़सम खाए हुए है,
हम ज़हर भरा जाम भला दें तो किसे दें !!

 

Bahar bhi ab andar jaisa sannata hai..

Bahar bhi ab andar jaisa sannata hai,
Dariya ke us par bhi gehra sannata hai.

Shor thame to shayad sadiyan bit chuki hain,
Ab tak lekin sahma sahma sannata hai.

Kis se bolun ye to ek sahra hai jahan par,
Main hun ya phir gunga behra sannata hai.

Jaise ek tufan se pehle ki khamoshi,
Aaj meri basti mein aisa sannata hai.

Nayi sehar ki chap na jaane kab ubhregi,
Chaaron jaanib raat ka gahra sannata hai.

Soch rahe ho socho lekin bol na padna,
Dekh rahe ho shehar mein kitna sannata hai.

Mehv-e-khwab hain sari dekhne wali aankhen,
Jagne wala bas ek andha sannata hai.

Darna hai to anjaani aawaaz se darna,
Ye to “Aanis” dekha-bhaala sannata hai. !!

बाहर भी अब अंदर जैसा सन्नाटा है,
दरिया के उस पार भी गहरा सन्नाटा है !

शोर थमे तो शायद सदियाँ बीत चुकी हैं,
अब तक लेकिन सहमा सहमा सन्नाटा है !

किस से बोलूँ ये तो एक सहरा है जहाँ पर,
मैं हूँ या फिर गूँगा बहरा सन्नाटा है !

जैसे एक तूफ़ान से पहले की ख़ामोशी,
आज मेरी बस्ती में ऐसा सन्नाटा है !

नई सहर की चाप न जाने कब उभरेगी,
चारों जानिब रात का गहरा सन्नाटा है !

सोच रहे हो सोचो लेकिन बोल न पड़ना,
देख रहे हो शहर में कितना सन्नाटा है !

महव-ए-ख़्वाब हैं सारी देखने वाली आँखें,
जागने वाला बस एक अंधा सन्नाटा है !

डरना है तो अन-जानी आवाज़ से डरना,
ये तो “आनिस” देखा-भाला सन्नाटा है !!

 

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai..

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai,
Tumhari yaadon ke saath tanha safar kiya hai.

Suna hai us rut ko dekh kar tum bhi ro pade the,
Suna hai barish ne pattharon par asar kiya hai.

Salib ka bar bhi uthao tamam jiwan,
Ye lab-kushai ka jurm tum ne agar kiya hai.

Tumhein khabar thi haqiqaten talkh hain jabhi to,
Tumhari aankhon ne khwab ko mo’atabar kiya hai.

Ghutan badhi hai to phir usi ko sadayen di hain,
Ki jis hawa ne har ek shajar be-samar kiya hai.

Hai tere andar basi hui ek aur duniya,
Magar kabhi tu ne itna lamba safar kiya hai.

Mere hi dam se to raunaqen tere shehar mein thin,
Mere hi qadmon ne dasht ko rah-guzar kiya hai.

Tujhe khabar kya mere labon ki khamoshiyon ne,
Tere fasane ko kis qadar mukhtasar kiya hai.

Bahut si aankhon mein tirgi ghar bana chuki hai,
bahut si aankhon ne intezaar-e-sahar kiya hai. !!

मिलन की साअत को इस तरह से अमर किया है,
तुम्हारी यादों के साथ तन्हा सफ़र किया है !

सुना है उस रुत को देख कर तुम भी रो पड़े थे,
सुना है बारिश ने पत्थरों पर असर किया है !

सलीब का बार भी उठाओ तमाम जीवन,
ये लब-कुशाई का जुर्म तुम ने अगर किया है !

तुम्हें ख़बर थी हक़ीक़तें तल्ख़ हैं जभी तो,
तुम्हारी आँखों ने ख़्वाब को मोतबर किया है !

घुटन बढ़ी है तो फिर उसी को सदाएँ दी हैं,
कि जिस हवा ने हर इक शजर बे-समर किया है !

है तेरे अंदर बसी हुई एक और दुनिया,
मगर कभी तूने इतना लम्बा सफ़र किया है !

मेरे ही दम से तो रौनक़ें तेरे शहर में थीं,
मेरे ही क़दमों ने दश्त को रह-गुज़र किया है !

तुझे ख़बर क्या मेरे लबों की ख़मोशियों ने,
तेरे फ़साने को किस क़दर मुख़्तसर किया है !

बहुत सी आँखों में तीरगी घर बना चुकी है,
बहुत सी आँखों ने इंतज़ार-ए-सहर किया है !!

 

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai..

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai,
Misal-e-rang wo jhonka nazar bhi aata hai.

Tamam shab jahan jalta hai ek udas diya,
Hawa ki rah mein ek aisa ghar bhi aata hai.

Wo mujh ko tut ke chahega chhod jayega,
Mujhe khabar thi use ye hunar bhi aata hai.

Ujad ban mein utarta hai ek jugnu bhi,
Hawa ke sath koi ham-safar bhi aata hai.

Wafa ki kaun si manzil pe us ne chhoda tha,
Ki wo to yaad hamein bhul kar bhi aata hai.

Jahan lahu ke samundar ki had thaharti hai,
Wahin jazira-e-lal-o-guhar bhi aata hai.

Chale jo zikr farishton ki parsai ka,
To zer-e-bahs maqam-e-bashar bhi aata hai.

Abhi sinan ko sambhaale rahen adu mere,
Ki un safon mein kahin mera sar bhi aata hai.

Kabhi-kabhi mujhe milne bulandiyon se koi,
Shua-e-subh ki surat utar bhi aata hai.

Isi liye main kisi shab na so saka “Mohsin”,
Wo mahtab kabhi baam par bhi aata hai. !!

तेरे बदन से जो छू कर इधर भी आता है,
मिसाल-ए-रंग वो झोंका नज़र भी आता है !

तमाम शब जहाँ जलता है एक उदास दिया,
हवा की राह में एक ऐसा घर भी आता है !

वो मुझ को टूट के चाहेगा छोड़ जाएगा,
मुझे ख़बर थी उसे ये हुनर भी आता है !

उजाड़ बन में उतरता है एक जुगनू भी,
हवा के साथ कोई हम-सफ़र भी आता है !

वफ़ा की कौन सी मंज़िल पे उस ने छोड़ा था,
कि वो तो याद हमें भूल कर भी आता है !

जहाँ लहू के समुंदर की हद ठहरती है,
वहीं जज़ीरा-ए-लाल-ओ-गुहर भी आता है !

चले जो ज़िक्र फ़रिश्तों की पारसाई का,
तो ज़ेर-ए-बहस मक़ाम-ए-बशर भी आता है !

अभी सिनाँ को सँभाले रहें अदू मेरे,
कि उन सफ़ों में कहीं मेरा सर भी आता है !

कभी-कभी मुझे मिलने बुलंदियों से कोई,
शुआ-ए-सुब्ह की सूरत उतर भी आता है !

इसी लिए मैं किसी शब न सो सका “मोहसिन”,
वो माहताब कभी बाम पर भी आता है !

 

Kathin tanhaiyon se kaun khela main akela..

Kathin tanhaiyon se kaun khela main akela,
Bhara ab bhi mere ganv ka mela main akela.

Bichhad kar tujh se main shab bhar na soya kaun roya,
Ba-juz mere ye dukh bhi kis ne jhela main akela.

Ye be-awaz banjar ban ke basi ye udasi,
Ye dahshat ka safar jangal ye bela main akela.

Main dekhun kab talak manzar suhane sab purane,
Wahi duniya wahi dil ka jhamela main akela.

Wo jis ke khauf se sahra sidhaare log sare,
Guzarne ko hai tufan ka wo rela main akela. !!

कठिन तन्हाइयों से कौन खेला मैं अकेला,
भरा अब भी मेरे गाँव का मेला मैं अकेला !

बिछड़ कर तुझ से मैं शब भर न सोया कौन रोया,
ब-जुज़ मेरे ये दुख भी किस ने झेला मैं अकेला !

ये बे-आवाज़ बंजर बन के बासी ये उदासी,
ये दहशत का सफ़र जंगल ये बेला मैं अकेला !

मैं देखूँ कब तलक मंज़र सुहाने सब पुराने,
वही दुनिया वही दिल का झमेला मैं अकेला !

वो जिस के ख़ौफ़ से सहरा सिधारे लोग सारे,
गुज़रने को है तूफ़ाँ का वो रेला मैं अकेला !!