Apne Hamrah Khud Chala Karna..

Apne hamrah khud chala karna,
Kaun aayega mat ruka karna.

Khud ko pahchanne ki koshish mein,
Der tak aaina taka karna.

Rukh agar bastiyon ki jaanib hai,
Har taraf dekh kar chala karna.

Wo payambar tha bhul jata tha,
Sirf apne liye dua karna.

Yaar kya zindagi hai sooraj ki,
Subh se sham tak jala karna.

Kuch to apni khabar mile mujh ko,
Mere bare mein kuch kaha karna.

Main tumhein aazmaunga ab ke,
Tum mohabbat ki inteha karna.

Us ne sach bol kar bhi dekha hai,
Jis ki aadat hai chup raha karna. !!

अपने हमराह ख़ुद चला करना,
कौन आएगा मत रुका करना !

ख़ुद को पहचानने की कोशिश में,
देर तक आइना तका करना !

रुख़ अगर बस्तियों की जानिब है,
हर तरफ़ देख कर चला करना !

वो पयम्बर था भूल जाता था,
सिर्फ़ अपने लिए दुआ करना !

यार क्या ज़िंदगी है सूरज की,
सुब्ह से शाम तक जला करना !

कुछ तो अपनी ख़बर मिले मुझ को,
मेरे बारे में कुछ कहा करना !

मैं तुम्हें आज़माऊँगा अब के,
तुम मोहब्बत की इंतिहा करना !

उस ने सच बोल कर भी देखा है,
जिस की आदत है चुप रहा करना !!

Amir Qazalbash All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Ek Parinda Abhi Udaan Me Hai..

Ek parinda abhi udaan me hai,
Tir har shakhs ki kaman mein hai.

Jis ko dekho wahi hai chup chup sa,
Jaise har shakhs imtihan mein hai.

Kho chuke hum yakin jaisi shai,
Tu abhi tak kisi guman mein hai.

Zindagi sang-dil sahi lekin,
Aaina bhi isi chatan mein hai.

Sar-bulandi nasib ho kaise,
Sar-nigun hai ki sayeban mein hai.

Khauf hi khauf jagte sote,
Koi aaseb is makan mein hai.

Aasra dil ko ek umid ka hai,
Ye hawa kab se baadban mein hai.

Khud ko paya na umar bhar hum ne,
Kaun hai jo hamare dhyan mein hai. !!

एक परिंदा अभी उड़ान में है,
तीर हर शख़्स की कमान में है !

जिस को देखो वही है चुप चुप सा,
जैसे हर शख़्स इम्तिहान में है !

खो चुके हम यक़ीन जैसी शय,
तू अभी तक किसी गुमान में है !

ज़िंदगी संग-दिल सही लेकिन,
आईना भी इसी चटान में है !

सर-बुलंदी नसीब हो कैसे,
सर-निगूँ है कि साएबान में है !

ख़ौफ़ ही ख़ौफ़ जागते सोते,
कोई आसेब इस मकान में है !

आसरा दिल को एक उमीद का है,
ये हवा कब से बादबान में है !

ख़ुद को पाया न उम्र भर हम ने,
कौन है जो हमारे ध्यान में है !!

Amir Qazalbash All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Mere Junoon Ka Natija Zarur Niklega..

Mere junoon ka natija zarur niklega,
Isi siyah samundar se nur niklega.

Gira diya hai to sahil pe intezaar na kar,
Agar wo dub gaya hai to dur niklega.

Usi ka shahr wahi muddai wahi munsif,
Hamein yakin tha hamara kusoor niklega.

Yakin na aaye to ek baat puchh kar dekho,
Jo hans raha hai wo zakhmon se chur niklega.

Us aastin se ashkon ko pochhne wale,
Us aastin se khanjar zarur niklega. !!

मेरे जुनूँ का नतीजा ज़रूर निकलेगा,
इसी सियाह समुंदर से नूर निकलेगा !

गिरा दिया है तो साहिल पे इंतिज़ार न कर,
अगर वो डूब गया है तो दूर निकलेगा !

उसी का शहर वही मुद्दई वही मुंसिफ़,
हमें यक़ीं था हमारा क़ुसूर निकलेगा !

यक़ीं न आए तो एक बात पूछ कर देखो,
जो हँस रहा है वो ज़ख़्मों से चूर निकलेगा !

उस आस्तीन से अश्कों को पोछने वाले,
उस आस्तीन से ख़ंजर ज़रूर निकलेगा !!

Amir Qazalbash All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Lab Pe Pabandi To Hai Ehsas Par Pahra To Hai

Lab pe pabandi to hai ehsas par pahra to hai,
Phir bhi ahl-e-dil ko ahwal-e-bashar kahna to hai.

Khun-e-ada se na ho khun-e-shahidan hi se ho,
Kuch na kuch is daur mein rang-e-chaman nikhra to hai.

Apni ghairat bech dalen apna maslak chhod den,
Rahnumaon mein bhi kuch logon ka ye mansha to hai.

Hai jinhen sab se ziyada dawa-e-hubbul-watan,
Aaj un ki wajh se hubb-e-watan ruswa to hai.

Bujh rahe hain ek ek kar ke aqidon ke diye,
Is andhere ka bhi lekin samna karna to hai.

Jhuth kyun bolen farogh-e-maslahat ke naam par,
Zindagi pyari sahi lekin hamein marna to hai. !!

लब पे पाबंदी तो है एहसास पर पहरा तो है,
फिर भी अहल-ए-दिल को अहवाल-ए-बशर कहना तो है !

ख़ून-ए-आदा से न हो ख़ून-ए-शहीदाँ ही से हो,
कुछ न कुछ इस दौर में रंग-ए-चमन निखरा तो है !

अपनी ग़ैरत बेच डालें अपना मस्लक छोड़ दें,
रहनुमाओं में भी कुछ लोगों का ये मंशा तो है !

है जिन्हें सब से ज़ियादा दावा-ए-हुब्बुल-वतन,
आज उन की वज्ह से हुब्ब-ए-वतन रुस्वा तो है !

बुझ रहे हैं एक एक कर के अक़ीदों के दिए,
इस अँधेरे का भी लेकिन सामना करना तो है !

झूठ क्यूँ बोलें फ़रोग़-ए-मस्लहत के नाम पर,
ज़िंदगी प्यारी सही लेकिन हमें मरना तो है !!

Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Sadiyon Se Insan Ye Sunta Aaya Hai..

Sadiyon se insan ye sunta aaya hai,
Dukh ki dhup ke aage sukh ka saya hai.

Hum ko in sasti khushiyon ka lobh na do,
Hum ne soch samajh kar gham apnaya hai.

Jhuth to qatil thahra is ka kya rona,
Sach ne bhi insan ka khun bahaya hai.

Paidaish ke din se maut ki zad mein hain,
Is maqtal mein kaun hamein le aaya hai.

Awwal awwal jis dil ne barbaad kiya,
Aakhir aakhir wo dil hi kaam aaya hai.

Itne din ehsan kiya diwanon par,
Jitne din logon ne sath nibhaya hai. !!

सदियों से इंसान ये सुनता आया है,
दुख की धूप के आगे सुख का साया है !

हम को इन सस्ती ख़ुशियों का लोभ न दो,
हम ने सोच समझ कर ग़म अपनाया है !

झूठ तो क़ातिल ठहरा इस का क्या रोना,
सच ने भी इंसाँ का ख़ूँ बहाया है !

पैदाइश के दिन से मौत की ज़द में हैं,
इस मक़्तल में कौन हमें ले आया है !

अव्वल अव्वल जिस दिल ने बर्बाद किया,
आख़िर आख़िर वो दिल ही काम आया है !

इतने दिन एहसान किया दीवानों पर,
जितने दिन लोगों ने साथ निभाया है !!

#Sahir Ludhianvi Ghazal

 

Is Taraf Se Guzre The Qafile Bahaaron Ke..

Is taraf se guzre the qafile bahaaron ke,
Aaj tak sulagte hain zakhm rahguzaron ke.

Khalwaton ke shaidai khalwaton mein khulte hain,
Hum se puchh kar dekho raaz parda-daron ke.

Gesuon ki chhanw mein dil-nawaz chehre hain,
Ya hasin dhundlakon mein phool hain bahaaron ke.

Pahle hans ke milte hain phir nazar churaate hain,
Aashna-sifat hain log ajnabi dayaron ke.

Tum ne sirf chaha hai hum ne chhu ke dekhe hain,
Pairahan ghataon ke jism barq-paron ke.

Shughl-e-mai-parasti go jashn-e-na-muradi tha,
Yun bhi kat gaye kuch din tere sogwaron ke. !!

इस तरफ़ से गुज़रे थे क़ाफ़िले बहारों के,
आज तक सुलगते हैं ज़ख़्म रहगुज़ारों के !

ख़ल्वतों के शैदाई ख़ल्वतों में खुलते हैं,
हम से पूछ कर देखो राज़ पर्दा-दारों के !

गेसुओं की छाँव में दिल-नवाज़ चेहरे हैं,
या हसीं धुँदलकों में फूल हैं बहारों के !

पहले हँस के मिलते हैं फिर नज़र चुराते हैं,
आश्ना-सिफ़त हैं लोग अजनबी दयारों के !

तुम ने सिर्फ़ चाहा है हम ने छू के देखे हैं,
पैरहन घटाओं के जिस्म बर्क़-पारों के !

शुग़्ल-ए-मय-परस्ती गो जश्न-ए-ना-मुरादी था,
यूँ भी कट गए कुछ दिन तेरे सोगवारों के !! -Sahir Ludhianvi Ghazal

 

 

Ab Koi Gulshan Na Ujde Ab Watan Azad Hai..

Ab koi gulshan na ujde ab watan azad hai,
Ruh ganga ki himala ka badan azad hai.

Khetiyan sona ugayen wadiyan moti lutayen,
Aaj gautam ki zamin tulsi ka ban azad hai.

Mandiron mein sankh baje masjidon mein ho azan,
Shaikh ka dharm aur din-e-barhaman azad hai.

Lut kaisi bhi ho ab is desh mein rahne na paye,
Aaj sab ke waste dharti ka dhan azad hai. !!

अब कोई गुलशन न उजड़े अब वतन आज़ाद है,
रूह गंगा की हिमाला का बदन आज़ाद है !

खेतियाँ सोना उगाएँ वादियाँ मोती लुटाएँ,
आज गौतम की ज़मीं तुलसी का बन आज़ाद है !

मंदिरों में संख बाजे मस्जिदों में हो अज़ाँ,
शैख़ का धर्म और दीन-ए-बरहमन आज़ाद है !

लूट कैसी भी हो अब इस देश में रहने न पाए,
आज सब के वास्ते धरती का धन आज़ाद है !!

#Sahir Ludhianvi Ghazal