Wo to khushbu hai hawaon mein bikhar jayega..

Wo to khushbu hai hawaon mein bikhar jayega,
Masla phool ka hai phool kidhar jayega.

Hum to samjhe the ki ek zakhm hai bhar jayega,
Kya khabar thi ki rag-e-jaan mein utar jayega.

Wo hawaon ki tarah khana-ba-jaan phirta hai,
Ek jhonka hai jo aayega guzar jayega.

Wo jab aayega to phir us ki rifaqat ke liye,
Mausam-e-gul mere aangan mein thahar jayega.

Aakhirash wo bhi kahin ret pe baithi hogi,
Tera ye pyar bhi dariya hai utar jayega.

Mujh ko tahzib ke barzakh ka banaya waris,
Jurm ye bhi mere ajdad ke sar jayega. !!

वो तो ख़ुशबू है हवाओं में बिखर जाएगा,
मसअला फूल का है फूल किधर जाएगा !

हम तो समझे थे कि एक ज़ख़्म है भर जाएगा,
क्या ख़बर थी कि रग-ए-जाँ में उतर जाएगा !

वो हवाओं की तरह ख़ाना-ब-जाँ फिरता है,
एक झोंका है जो आएगा गुज़र जाएगा !

वो जब आएगा तो फिर उस की रिफ़ाक़त के लिए,
मौसम-ए-गुल मेरे आँगन में ठहर जाएगा !

आख़िरश वो भी कहीं रेत पे बैठी होगी,
तेरा ये प्यार भी दरिया है उतर जाएगा !

मुझ को तहज़ीब के बर्ज़ख़ का बनाया वारिस,
जुर्म ये भी मेरे अज्दाद के सर जाएगा !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Pura Dukh Aur Aadha Chand..

Pura dukh aur aadha chand

 

Pura dukh aur aadha chand,
Hijr ki shab aur aisa chand.

Din mein wahshat bahal gayi,
Raat hui aur nikla chand.

Kis maqtal se guzra hoga,
Itna sahma sahma chand.

Yaadon ki aabaad gali mein,
Ghum raha hai tanha chand.

Meri karwat par jag utthe,
Nind ka kitna kachcha chand.

Mere munh ko kis hairat se,
Dekh raha hai bhola chand.

Itne ghane baadal ke pichhe,
Kitna tanha hoga chand.

Aansoo roke nur nahaye,
Dil dariya tan sahra chand.

Itne raushan chehre par bhi,
Sooraj ka hai saya chand.

Jab pani mein chehra dekha,
Tu ne kis ko socha chand ?

Bargad ki ek shakh hata kar,
Jaane kis ko jhanka chand.

Baadal ke resham jhule mein,
Bhor samay tak soya chand.

Raat ke shane par sar rakkhe,
Dekh raha hai sapna chand.

Sukhe patton ke jhurmut par,
Shabnam thi ya nanha chand.

Hath hila kar rukhsat hoga,
Us ki surat hijr ka chand.

Sahra sahra bhatak raha hai,
Apne ishq mein sachcha chand.

Raat ke shayad ek baje hain,
Sota hoga mera chand. !!

पूरा दुख और आधा चाँद,
हिज्र की शब और ऐसा चाँद !

दिन में वहशत बहल गई,
रात हुई और निकला चाँद !

किस मक़्तल से गुज़रा होगा,
इतना सहमा सहमा चाँद !

यादों की आबाद गली में,
घूम रहा है तन्हा चाँद !

मेरी करवट पर जाग उठ्ठे,
नींद का कितना कच्चा चाँद !

मेरे मुँह को किस हैरत से,
देख रहा है भोला चाँद !

इतने घने बादल के पीछे,
कितना तन्हा होगा चाँद !

आँसू रोके नूर नहाए,
दिल दरिया तन सहरा चाँद !

इतने रौशन चेहरे पर भी,
सूरज का है साया चाँद !

जब पानी में चेहरा देखा,
तू ने किस को सोचा चाँद ?

बरगद की एक शाख़ हटा कर,
जाने किस को झाँका चाँद !

बादल के रेशम झूले में,
भोर समय तक सोया चाँद !

रात के शाने पर सर रक्खे,
देख रहा है सपना चाँद !

सूखे पत्तों के झुरमुट पर,
शबनम थी या नन्हा चाँद !

हाथ हिला कर रुख़्सत होगा,
उस की सूरत हिज्र का चाँद !

सहरा सहरा भटक रहा है,
अपने इश्क़ में सच्चा चाँद !

रात के शायद एक बजे हैं,
सोता होगा मेरा चाँद !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Bahut Roya Wo Humko Yaad Kar Ke..

Bahut roya wo humko yaad kar ke,
Hamari zindagi barbaad kar ke.

Palat kar phir yahin aa jayenge hum,
Wo dekhe to hamein aazad kar ke.

Rihai ki koi surat nahi hai,
Magar han minnat-e-sayyaad kar ke.

Badan mera chhua tha us ne lekin,
Gaya hai ruh ko aabaad kar ke.

Har aamir tul dena chahta hai,
Muqarrar zulm ki miad kar ke. !!

बहुत रोया वो हमको याद कर के,
हमारी ज़िंदगी बरबाद कर के !

पलट कर फिर यहीं आ जाएँगे हम,
वो देखे तो हमें आज़ाद कर के !

रिहाई की कोई सूरत नहीं है,
मगर हाँ मिन्नत-ए-सय्याद कर के !

बदन मेरा छुआ था उस ने लेकिन,
गया है रूह को आबाद कर के !

हर आमिर तूल देना चाहता है,
मुक़र्रर ज़ुल्म की मीआद कर के !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Ab Bhala Chhod Ke Ghar Kya Karte..

Ab bhala chhod ke ghar kya karte,
Sham ke waqt safar kya karte.

Teri masrufiyaten jante hain,
Apne aane ki khabar kya karte.

Jab sitare hi nahi mil paye,
Le ke hum shams-o-qamar kya karte.

Wo musafir hi khuli dhup ka tha,
Saye phaila ke shajar kya karte.

Khak hi awwal o aakhir thahri,
Kar ke zarre ko guhar kya karte.

Rae pahle se bana li tu ne,
Dil mein ab hum tere ghar kya karte.

Ishq ne sare saliqe bakhshe,
Husn se kasb-e-hunar kya karte. !!

अब भला छोड़ के घर क्या करते,
शाम के वक़्त सफ़र क्या करते !

तेरी मसरूफ़ियतें जानते हैं,
अपने आने की ख़बर क्या करते !

जब सितारे ही नहीं मिल पाए,
ले के हम शम्स-ओ-क़मर क्या करते !

वो मुसाफ़िर ही खुली धूप का था,
साए फैला के शजर क्या करते !

ख़ाक ही अव्वल ओ आख़िर ठहरी,
कर के ज़र्रे को गुहर क्या करते !

राय पहले से बना ली तू ने,
दिल में अब हम तेरे घर क्या करते !

इश्क़ ने सारे सलीक़े बख़्शे,
हुस्न से कस्ब-ए-हुनर क्या करते !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Kuch To Hawa Bhi Sard Thi Kuch Tha Tera Khayal Bhi..

Kuch to hawa bhi sard thi kuch tha tera khayal bhi,
Dil ko khushi ke sath sath hota raha malal bhi.

Baat wo aadhi raat ki raat wo pure chaand ki,
Chaand bhi ain chait ka us pe tera jamal bhi.

Sab se nazar bacha ke wo mujh ko kuch aise dekhta,
Ek dafa to ruk gai gardish-e-mah-o-sal bhi.

Dil to chamak sakega kya phir bhi tarash ke dekh len,
Shisha-giran-e-shahr ke hath ka ye kamal bhi.

Us ko na pa sake the jab dil ka ajib haal tha,
Ab jo palat ke dekhiye baat thi kuch muhaal bhi.

Meri talab tha ek shakhs wo jo nahin mila to phir,
Hath dua se yun gira bhul gaya sawal bhi.

Us ki sukhan-taraaziyan mere liye bhi dhaal thi,
Us ki hansi mein chhup gaya apne ghamon ka haal bhi.

Gah qarib-e-shah-rag gah baid-e-wahm-o-khwab,
Us ki rafaqaton mein raat hijr bhi tha visal bhi.

Us ke hi bazuon mein aur us ko hi sochte rahe,
Jism ki khwahishon pe the ruh ke aur jal bhi.

Sham ki na-samajh hawa puch rahi hai ek pata,
Mauj-e-hawa-e-ku-e-yar kuch to mera khayal bhi. !!

कुछ तो हवा भी सर्द थी कुछ था तेरा ख़याल भी,
दिल को ख़ुशी के साथ साथ होता रहा मलाल भी !

बात वो आधी रात की रात वो पूरे चाँद की,
चाँद भी ऐन चैत का उस पे तेरा जमाल भी !

सब से नज़र बचा के वो मुझ को कुछ ऐसे देखता,
एक दफ़ा तो रुक गई गर्दिश-ए-माह-ओ-साल भी !

दिल तो चमक सकेगा क्या फिर भी तराश के देख लें,
शीशा-गिरान-ए-शहर के हाथ का ये कमाल भी !

उस को न पा सके थे जब दिल का अजीब हाल था,
अब जो पलट के देखिए बात थी कुछ मुहाल भी !

मेरी तलब था एक शख़्स वो जो नहीं मिला तो फिर,
हाथ दुआ से यूँ गिरा भूल गया सवाल भी !

उस की सुख़न-तराज़ियाँ मेरे लिए भी ढाल थीं,
उस की हँसी में छुप गया अपने ग़मों का हाल भी !

गाह क़रीब-ए-शाह-रग गाह बईद-ए-वहम-ओ-ख़्वाब,
उस की रफ़ाक़तों में रात हिज्र भी था विसाल भी !

उस के ही बाज़ुओं में और उस को ही सोचते रहे,
जिस्म की ख़्वाहिशों पे थे रूह के और जाल भी !

शाम की ना-समझ हवा पूछ रही है एक पता,
मौज-ए-हवा-ए-कू-ए-यार कुछ तो मिरा ख़याल भी !! -Parveen Shakir Ghazal

 

Jab Bhi Yeh Dil Udas Hota Hai..

Jab bhi yeh dil udas hota hai,
Jane kaun aas-pas hota hai.

Aankhen pahchanti hain aankhon ko,
Dard chehra-shanas hota hai.

Go barasti nahi sada aankhen,
Abr to barah-mas hota hai.

Chhaal pedon ki sakht hai lekin,
Niche nakhun ke mas hota hai.

Zakhm kahte hain dil ka gahna hai,
Dard dil ka libas hota hai.

Das hi leta hai sab ko ishq kabhi,
Sanp mauqa-shanas hota hai.

Sirf itna karam kiya kije,
Aap ko jitna ras hota hai. !!

जब भी ये दिल उदास होता है,
जाने कौन आस-पास होता है !

आँखें पहचानती हैं आँखों को,
दर्द चेहरा-शनास होता है !

गो बरसती नहीं सदा आँखें,
अब्र तो बारह-मास होता है !

छाल पेड़ों की सख़्त है लेकिन,
नीचे नाख़ुन के मास होता है !

ज़ख़्म कहते हैं दिल का गहना है,
दर्द दिल का लिबास होता है !

डस ही लेता है सब को इश्क़ कभी,
साँप मौक़ा-शनास होता है !

सिर्फ़ इतना करम किया कीजे,
आप को जितना रास होता है !!

Gulzar All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Aaj Ki Raat Bhi Guzri Hai Meri Kal Ki Tarah..

Aaj ki raat bhi guzri hai meri kal ki tarah,
Hath aaye na sitare tere aanchal ki tarah.

Hadsa koi to guzra hai yakinan yaro,
Ek sannata hai mujh mein kisi maqtal ki tarah.

Phir na nikla koi ghar se ki hawa phirti thi,
Sang hathon mein uthaye kisi pagal ki tarah.

Tu ki dariya hai magar meri tarah pyasa hai,
Main tere pas chala aaunga baadal ki tarah.

Raat jalti hui ek aisi chita hai jis par,
Teri yaaden hain sulagte hue sandal ki tarah.

Main hun ek khwab magar jagti aankhon ka “Amir“,
Aaj bhi log ganwa den na mujhe kal ki tarah. !!

आज की रात भी गुज़री है मेरी कल की तरह,
हाथ आए न सितारे तेरे आँचल की तरह !

हादसा कोई तो गुज़रा है यक़ीनन यारो,
एक सन्नाटा है मुझ में किसी मक़्तल की तरह !

फिर न निकला कोई घर से कि हवा फिरती थी,
संग हाथों में उठाए किसी पागल की तरह !

तू कि दरिया है मगर मेरी तरह प्यासा है,
मैं तेरे पास चला आऊँगा बादल की तरह !

रात जलती हुई एक ऐसी चिता है जिस पर,
तेरी यादें हैं सुलगते हुए संदल की तरह !

मैं हूँ एक ख़्वाब मगर जागती आँखों का “अमीर“,
आज भी लोग गँवा दें न मुझे कल की तरह !!