Hawayen tez thin ye to faqat bahane the..

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the,
Safine yun bhi kinare pe kab lagane the.

Khayal aata hai rah-rah ke laut jaane ka,
Safar se pahle humein apne ghar jalane the.

Guman tha ki samajh lenge mausamon ka mizaj,
Khuli jo aankh to zad pe sabhi thikane the.

Humein bhi aaj hi karna tha intezaar us ka,
Use bhi aaj hi sab wade bhul jaane the.

Talash jin ko hamesha buzurg karte rahe,
Na jaane kaun si duniya mein wo khazane the.

Chalan tha sab ke ghamon mein sharik rahne ka,
Ajib din the ajab sar-phire zamane the. !!

हवाएँ तेज़ थीं ये तो फ़क़त बहाने थे,
सफ़ीने यूँ भी किनारे पे कब लगाने थे !

ख़याल आता है रह-रह के लौट जाने का,
सफ़र से पहले हमें अपने घर जलाने थे !

गुमान था कि समझ लेंगे मौसमों का मिज़ाज,
खुली जो आँख तो ज़द पे सभी ठिकाने थे !

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का,
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे !

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे !

चलन था सब के ग़मों में शरीक रहने का,
अजीब दिन थे अजब सर-फिरे ज़माने थे !!

 

Ek nazm-danish war kahlane walo..

Danish-war kahlane walo,
Tum kya samjho,
Mubham chizen kya hoti hain,
Thal ke registan mein rahne wale logo..

Tum kya jaano,
Sawan kya hai,
Apne badan ko,
Raat mein andhi tariki se..

Din mein khud apne hathon se,
Dhanpne walo,
Uryan logo,
Tum kya jaano..

Choli kya hai daman kya hai,
Shahr-badar ho jaane walo,
Footpathon par sone walo,
Tum kya samjho..

Chhat kya hai diwaren kya hain,
Aangan kya hai,
Ek ladki ka khizan-rasida bazu thame,
Nabz ke upar hath jamaye..

Ek sada par kan lagaye,
Dhadkan sansen ginne walo,
Tum kya jaano,
Mubham chizen kya hoti hain..

Dhadkan kya hai jiwan kya hai,
Sattarah-number ke bistar par,
Apni qaid ka lamha lamha ginne wali,
Ye ladki jo..

Barson ki bimar nazar aati hai tum ko,
Sola sal ki ek bewa hai,
Hanste hanste ro padti hai,
Andar tak se bhig chuki hai..

Jaan chuki hai,
Sawan kya hai,
Is se puchho,
Kanch ka bartan kya hota hai..

Is se puchho,
Mubham chizen kya hoti hain,
Suna aangan tanha,
Jiwan kya hota hai..

दानिश-वर कहलाने वालो,
तुम क्या समझो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं,
थल के रेगिस्तान में रहने वाले लोगो..

तुम क्या जानो,
सावन क्या है,
अपने बदन को,
रात में अंधी तारीकी से..

दिन में ख़ुद अपने हाथों से,
ढाँपने वालो,
उर्यां लोगो,
तुम क्या जानो..

चोली क्या है दामन क्या है,
शहर-बदर हो जाने वालो,
फ़ुटपाथों पर सोने वालो,
तुम क्या समझो..

छत क्या है दीवारें क्या हैं,
आँगन क्या है,
एक लड़की का ख़िज़ाँ-रसीदा बाज़ू थामे,
नब्ज़ के ऊपर हाथ जमाए..

एक सदा पर कान लगाए,
धड़कन साँसें गिनने वालो,
तुम क्या जानो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं..

धड़कन क्या है जीवन क्या है,
सत्तरह-नंबर के बिस्तर पर,
अपनी क़ैद का लम्हा लम्हा गिनने वाली,
ये लड़की जो..

बरसों की बीमार नज़र आती है तुम को,
सोला साल की एक बेवा है,
हँसते हँसते रो पड़ती है,
अंदर तक से भीग चुकी है..

जान चुकी है,
सावन क्या है,
इस से पूछो,
काँच का बर्तन क्या होता है..

इस से पूछो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं,
सूना आँगन तन्हा,
जीवन क्या होता है.. !!

 

Tu mera hai..

Tu mera hai,
Tere man mein chhupe hue sab dukh mere hain,
Teri aankh ke aansu mere,
Tere labon pe nachne wali ye masum hansi bhi meri..

Tu mera hai,
Har wo jhonka,
Jis ke lams ko,
Apne jism pe tu ne bhi mahsus kiya hai..

Pahle mere hathon ko,
Chhu kar guzra tha,
Tere ghar ke darwaze par,
Dastak dene wala..

Har wo lamha jis mein,
Tujh ko apni tanhai ka,
Shiddat se ehsas hua tha,
Pahle mere ghar aaya tha..

Tu mera hai,
Tera mazi bhi mera tha,
Aane wali har saat bhi meri hogi,
Tere tapte aariz ki dopahar hai meri..

Sham ki tarah gahre gahre ye palkon saye hain mere,
Tere siyah baalon ki shab se dhup ki surat,
Wo subhen jo kal jagengi,
Meri hongi..

Tu mera hai,
Lekin tere sapnon mein bhi aate hue ye dar lagta hai,
Mujh se kahin tu puchh na baithe,
Kyun aaye ho,
Mera tum se kya nata hai.. !!

तू मेरा है,
तेरे मन में छुपे हुए सब दुख मेरे हैं,
तेरी आँख के आँसू मेरे,
तेरे लबों पे नाचने वाली ये मासूम हँसी भी मेरी..

तू मेरा है,
हर वो झोंका,
जिस के लम्स को,
अपने जिस्म पे तू ने भी महसूस किया है..

पहले मेरे हाथों को,
छू कर गुज़रा था,
तेरे घर के दरवाज़े पर,
दस्तक देने वाला..

हर वो लम्हा जिस में,
तुझ को अपनी तन्हाई का,
शिद्दत से एहसास हुआ था,
पहले मेरे घर आया था..

तू मेरा है,
तेरा माज़ी भी मेरा था,
आने वाली हर साअत भी मेरी होगी,
तेरे तपते आरिज़ की दोपहर है मेरी..

शाम की तरह गहरे गहरे ये पलकों साए हैं मेरे,
तेरे सियाह बालों की शब से धूप की सूरत,
वो सुब्हें जो कल जागेंगी,
मेरी होंगी..

तू मेरा है ,
लेकिन तेरे सपनों में भी आते हुए ये डर लगता है,
मुझ से कहीं तू पूछ न बैठे,
क्यूँ आए हो,
मेरा तुम से क्या नाता है.. !!

 

Kitne hi ped khauf-e-khizan se ujad gaye..

Kitne hi ped khauf-e-khizan se ujad gaye,
Kuchh barg-e-sabz waqt se pahle hi jhad gaye.

Kuchh aadhiyan bhi apnī muavin safar mein thi,
Thak kar padav dala to kheme ukhad gaye.

Ab ke meri shikast mein un ka bhi haath hai,
Woh tir jo kaman ke panje mein gad gaye.

Suljhi thi gutthiyan meri danist mein magar,
Hasil ye hai ki zakhmon ke tanke ukhad gaye.

Nirwan kya bas ab to aman ki talash hai,
Tahzib phailne lagi jangal sukad gaye.

Is band ghar mein kaise kahun kya tilism hai,
Khole the jitne qufl woh honthon pe pad gaye.

Be-saltanat hui hain kayi unchi gardanen,
Bahar saron ke dast-e-tasallut se dhad gaye. !!

कितने ही पेड़ ख़ौफ़-ए-ख़िज़ाँ से उजड़ गए,
कुछ बर्ग-ए-सब्ज़ वक़्त से पहले ही झड़ गए !

कुछ आँधियाँ भी अपनी मुआविन सफ़र में थीं,
थक कर पड़ाव डाला तो ख़ेमे उखड़ गए !

अब के मेरी शिकस्त में उन का भी हाथ है,
वो तीर जो कमान के पंजे में गड़ गए !

सुलझी थीं गुत्थियाँ मेरी दानिस्त में मगर,
हासिल ये है कि ज़ख़्मों के टाँके उखड़ गए !

निरवान क्या बस अब तो अमाँ की तलाश है,
तहज़ीब फैलने लगी जंगल सुकड़ गए !

इस बंद घर में कैसे कहूँ क्या तिलिस्म है,
खोले थे जितने क़ुफ़्ल वो होंटों पे पड़ गए !

बे-सल्तनत हुई हैं कई ऊँची गर्दनें,
बाहर सरों के दस्त-ए-तसल्लुत से धड़ गए !!

 

Ye aur baat ki rang-e-bahaar kam hoga..

Ye aur baat ki rang-e-bahaar kam hoga,
Nayi ruton mein darakhton ka bar kam hoga.

Talluqat mein aayi hai bas ye tabdili,
Milenge ab bhi magar intezaar kam hoga.

Main sochta raha kal raat baith kar tanha,
Ki is hujum mein mera shumar kam hoga.

Palat to aayega shayad kabhi yahi mausam,
Tere baghair magar khush-gawar kam hoga.

Bahut tawil hai “Aanis” ye zindagi ka safar,
Bas ek shakhs pe dar-o-madar kam hoga. !!

ये और बात कि रंग-ए-बहार कम होगा,
नई रुतों में दरख़्तों का बार कम होगा !

तअल्लुक़ात में आई है बस ये तब्दीली,
मिलेंगे अब भी मगर इंतिज़ार कम होगा !

मैं सोचता रहा कल रात बैठ कर तन्हा,
कि इस हुजूम में मेरा शुमार कम होगा !

पलट तो आएगा शायद कभी यही मौसम,
तेरे बग़ैर मगर ख़ुश-गवार कम होगा !

बहुत तवील है “अनीस” ये ज़िंदगी का सफ़र,
बस एक शख़्स पे दार-ओ-मदार कम होगा !!

 

Ajab talash-e-musalsal ka ikhtitam hua..

Ajab talash-e-musalsal ka ikhtitam hua,
Husul-e-rizq hua bhi to zer-e-dam hua.

Tha intezaar manayenge mil ke diwali,
Na tum hi laut ke aaye na waqt-e-sham hua.

Har ek shahr ka mear mukhtalif dekha,
Kahin pe sar kahin pagdi ka ehtiram hua.

Zara si umar adawat ki lambi fehristen,
Ajib qarz wirasat mein mere naam hua.

Na thi zamin mein wusat meri nazar jaisi,
Badan thaka bhi nahi aur safar tamam hua.

Hum apne sath liye phir rahe hain pachhtawa,
Khayal laut ke jaane ka gam gam hua. !!

अजब तलाश-ए-मुसलसल का इख़्तिताम हुआ,
हुसूल-ए-रिज़्क़ हुआ भी तो ज़ेर-ए-दाम हुआ !

था इंतिज़ार मनाएँगे मिल के दीवाली,
न तुम ही लौट के आए न वक़्त-ए-शाम हुआ !

हर एक शहर का मेआर मुख़्तलिफ़ देखा,
कहीं पे सर कहीं पगड़ी का एहतिराम हुआ !

ज़रा सी उम्र अदावत की लम्बी फ़ेहरिस्तें,
अजीब क़र्ज़ विरासत में मेरे नाम हुआ !

न थी ज़मीन में वुसअत मेरी नज़र जैसी,
बदन थका भी नहीं और सफ़र तमाम हुआ !

हम अपने साथ लिए फिर रहे हैं पछतावा,
ख़याल लौट के जाने का गाम गाम हुआ !!

 

Ye qarz to mera hai chukayega koi aur..

Ye qarz to mera hai chukayega koi aur,
Dukh mujh ko hai aur nir bahayega koi aur.

Kya phir yunhi di jayegi ujrat pe gawahi,
Kya teri saza ab ke bhi payega koi aur.

Anjam ko pahunchunga main anjam se pahle,
Khud meri kahani bhi sunayega koi aur.

Tab hogi khabar kitni hai raftar-e-taghayyur,
Jab sham dhale laut ke aayega koi aur.

Ummid-e-sahar bhi to wirasat mein hai shamil,
Shayad ki deeya ab ke jalayega koi aur.

Kab bar-e-tabassum mere honton se uthega,
Ye bojh bhi lagta hai uthayega koi aur.

Is bar hun dushman ki rasai se bahut dur,
Is bar magar zakhm lagayega koi aur.

Shamil pas-e-parda bhi hain is khel mein kuchh log,
Bolega koi hont hilayega koi aur. !!

ये क़र्ज़ तो मेरा है चुकाएगा कोई और,
दुख मुझ को है और नीर बहाएगा कोई और !

क्या फिर यूँही दी जाएगी उजरत पे गवाही,
क्या तेरी सज़ा अब के भी पाएगा कोई और !

अंजाम को पहुँचूँगा मैं अंजाम से पहले,
ख़ुद मेरी कहानी भी सुनाएगा कोई और !

तब होगी ख़बर कितनी है रफ़्तार-ए-तग़य्युर,
जब शाम ढले लौट के आएगा कोई और !

उम्मीद-ए-सहर भी तो विरासत में है शामिल,
शायद कि दीया अब के जलाएगा कोई और !

कब बार-ए-तबस्सुम मेरे होंटों से उठेगा,
ये बोझ भी लगता है उठाएगा कोई और !

इस बार हूँ दुश्मन की रसाई से बहुत दूर,
इस बार मगर ज़ख़्म लगाएगा कोई और !

शामिल पस-ए-पर्दा भी हैं इस खेल में कुछ लोग,
बोलेगा कोई होंट हिलाएगा कोई और !!