Itni muddat baad mile ho..

Itni muddat baad mile ho,
Kin sochon mein gum phirte ho.

Itne khaif kyun rahte ho,
Har aahat se dar jate ho.

Tez hawa ne mujh se puchha,
Ret pe kya likhte rahte ho.

Kash koi hum se bhi puchhe,
Raat gaye tak kyun jage ho.

Main dariya se bhi darta hun,
Tum dariya se bhi gahre ho.

Kaun si baat hai tum mein aisi,
Itne achchhe kyun lagte ho.

Pichhe mud kar kyun dekha tha,
Patthar ban kar kya takte ho.

Jao jit ka jashn manao,
Main jhutha hun tum sachche ho.

Apne shehar ke sab logon se,
Meri khatir kyun uljhe ho.

Kahne ko rahte ho dil mein,
Phir bhi kitne dur khade ho.

Raat hamein kuchh yaad nahi tha,
Raat bahut hi yaad aaye ho.

Hum se na puchho hijr ke kisse,
Apni kaho ab tum kaise ho.

“Mohsin” tum badnam bahut ho,
Jaise ho phir bhi achchhe ho. !!

इतनी मुद्दत बाद मिले हो,
किन सोचों में गुम फिरते हो !

इतने ख़ाइफ़ क्यूँ रहते हो,
हर आहट से डर जाते हो !

तेज़ हवा ने मुझ से पूछा,
रेत पे क्या लिखते रहते हो !

काश कोई हम से भी पूछे,
रात गए तक क्यूँ जागे हो !

में दरिया से भी डरता हूँ,
तुम दरिया से भी गहरे हो !

कौन सी बात है तुम में ऐसी,
इतने अच्छे क्यूँ लगते हो !

पीछे मुड़ कर क्यूँ देखा था,
पत्थर बन कर क्या तकते हो !

जाओ जीत का जश्न मनाओ,
में झूठा हूँ तुम सच्चे हो !

अपने शहर के सब लोगों से,
मेरी ख़ातिर क्यूँ उलझे हो !

कहने को रहते हो दिल में,
फिर भी कितने दूर खड़े हो !

रात हमें कुछ याद नहीं था,
रात बहुत ही याद आए हो !

हम से न पूछो हिज्र के क़िस्से,
अपनी कहो अब तुम कैसे हो !

“मोहसिन” तुम बदनाम बहुत हो,
जैसे हो फिर भी अच्छे हो !!

 

Ye khayalon ki bad-hawasi hai..

Ye khayalon ki bad-hawasi hai,
Ya tere naam ki udasi hai.

Aaine ke liye to patli hain,
Ek kaba hai ek kashi hai.

Tum ne hum ko tabah kar Dala,
Baat hone ko ye zara si hai. !!

ये ख़यालों की बद-हवासी है,
या तेरे नाम की उदासी है !

आइने के लिए तो पतली हैं,
एक काबा है एक काशी है !

तुम ने हम को तबाह कर डाला,
बात होने को ये ज़रा सी है !!

 

Sab tamannayen hon puri koi khwahish bhi rahe..

Sab tamannayen hon puri koi khwahish bhi rahe,
Chahta wo hai mohabbat mein numaish bhi rahe.

Aasman chume mere pankh teri rahmat se,
Aur kisi ped ki dali pe rihaish bhi rahe.

Us ne saunpa nahi mujh ko mere hisse ka wajud,
Us ki koshish hai ki mujh se meri ranjish bhi rahe.

Mujh ko malum hai mera hai wo main us ka hun,
Us ki chahat hai ki rasmon ki ye bandish bhi rahe.

Mausamon se rahen “vishwas” ke aise rishte,
Kuchh adawat bhi rahe thodi nawazish bhi rahe. !!

सब तमन्नाएँ हों पूरी कोई ख़्वाहिश भी रहे,
चाहता वो है मोहब्बत में नुमाइश भी रहे !

आसमाँ चूमे मेरे पँख तेरी रहमत से,
और किसी पेड़ की डाली पे रिहाइश भी रहे !

उस ने सौंपा नहीं मुझ को मेरे हिस्से का वजूद,
उस की कोशिश है कि मुझ से मेरी रंजिश भी रहे !

मुझ को मालूम है मेरा है वो मैं उस का हूँ,
उस की चाहत है कि रस्मों की ये बंदिश भी रहे !

मौसमों से रहें “विश्वास” के ऐसे रिश्ते,
कुछ अदावत भी रहे थोड़ी नवाज़िश भी रहे !!

 

Un ki khair-o-khabar nahi milti..

Un ki khair-o-khabar nahi milti,
Hum ko hi khas kar nahi milti.

Shairi ko nazar nahi milti,
Mujh ko tu hi agar nahi milti.

Ruh mein dil mein jism mein duniya,
Dhundhta hun magar nahi milti.

Log kahte hain ruh bikti hai,
Main jidhar hun udhar nahi milti. !!

उनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलती,
हमको ही ख़ासकर नहीं मिलती !

शायरी को नज़र नहीं मिलती,
मुझको तू ही अगर नहीं मिलती !

रूह में दिल में जिस्म में दुनिया,
ढूंढता हूँ मगर नहीं मिलती !!

 

Rang duniya ne dikhaya hai nirala dekhun..

Rang duniya ne dikhaya hai nirala dekhun,
Hai andhere mein ujala to ujala dekhun.

Aaina rakh de mere samne aakhir main bhi,
Kaisa lagta hai tera chahne wala dekhun.

Kal talak wo jo mere sar ki qasam khata tha,
Aaj sar us ne mera kaise uchhaala dekhun.

Mujh se mazi mera kal raat simat kar bola,
Kis tarah main ne yahan khud ko sambhala dekhun.

Jis ke aangan se khule the mere sare raste,
Us haweli pe bhala kaise main tala dekhun. !!

रंग दुनिया ने दिखाया है निराला देखूँ,
है अँधेरे में उजाला तो उजाला देखूँ !

आइना रख दे मेरे सामने आख़िर मैं भी,
कैसा लगता है तेरा चाहने वाला देखूँ !

कल तलक वो जो मेरे सर की क़सम खाता था,
आज सर उस ने मेरा कैसे उछाला देखूँ !

मुझ से माज़ी मेरा कल रात सिमट कर बोला,
किस तरह मैं ने यहाँ ख़ुद को सँभाला देखूँ !

जिस के आँगन से खुले थे मेरे सारे रस्ते,
उस हवेली पे भला कैसे मैं ताला देखूँ !!

 

Tum lakh chahe meri aafat mein jaan rakhna..

Tum lakh chahe meri aafat mein jaan rakhna,
Par apne waste bhi kuchh imtihaan rakhna.

Wo shakhs kaam ka hai do aib bhi hain us mein,
Ek sar uthana duja munh mein zaban rakhna.

Pagli si ek ladki se shehar ye khafa hai,
Wo chahti hai palkon pe aasman rakhna.

Kewal faqiron ko hai ye kaamyabi hasil,
Masti se jina aur khush sara jahan rakhna. !!

तुम लाख चाहे मेरी आफ़त में जान रखना,
पर अपने वास्ते भी कुछ इम्तिहान रखना !

वो शख़्स काम का है दो ऐब भी हैं उस में,
एक सर उठाना दूजा मुँह में ज़बान रखना !

पगली सी एक लड़की से शहर ये ख़फ़ा है,
वो चाहती है पलकों पे आसमान रखना !

केवल फ़क़ीरों को है ये कामयाबी हासिल,
मस्ती से जीना और ख़ुश सारा जहान रखना !!

 

Usi ki tarah mujhe sara zamana chahe..

Usi ki tarah mujhe sara zamana chahe,
Wo mera hone se ziyada mujhe pana chahe.

Meri palkon se phisal jata hai chehra tera,
Ye musafir to koi aur thikana chahe.

Ek banphool tha is shehar mein wo bhi na raha,
Koi ab kis ke liye laut ke aana chahe.

Zindagi hasraton ke saz pe sahma-sahma,
Wo tarana hai jise dil nahi gaana chahe. !!

उसी की तरह मुझे सारा ज़माना चाहे,
वो मेरा होने से ज़्यादा मुझे पाना चाहे !

मेरी पलकों से फिसल जाता है चेहरा तेरा,
ये मुसाफ़िर तो कोई और ठिकाना चाहे !

एक बनफूल था इस शहर में वो भी न रहा,
कोई अब किस के लिए लौट के आना चाहे !

ज़िंदगी हसरतों के साज़ पे सहमा-सहमा,
वो तराना है जिसे दिल नहीं गाना चाहे !!