Friday , April 10 2020

Chand ka tukda na suraj ka numainda hoon..

Chand ka tukda na suraj ka numainda hoon,
Main na is baat pe naazan hun na sharminda hoon.

Dafn ho jayega jo sainkdon man mitti mein,
Ghaliban main bhi usi shehar ka bashinda hoon.

Zandagi tu mujhe pahchan na payi lekin,
Log kahte hain ke main tera numainda hoon.

Phool si qabr se aksar ye sada aati hai,
Koi kahta hai bachaalo main abhi zinda hoon.

Tan pe kapde hain qadaamat ki alaamat aur main,
Sar barahna yahan aajane pe sharminda hoon.

Waaqai is tarah maine kabhi socha hi nahi,
Kaun hai apna yahan kis ke liye zinda hoon. !!

चाँद का टुकड़ा न सूरज का नुमाइन्दा हूँ,
मैं न इस बात पे नाज़ाँ हूँ न शर्मिंदा हूँ !

दफ़न हो जाएगा जो सैंकड़ों मन मिट्टी में,
ग़ालिबन मैं भी उसी शहर का बाशिन्दा हूँ !

ज़िंदगी तू मुझे पहचान न पाई लेकिन,
लोग कहते हैं कि मैं तेरा नुमाइन्दा हूँ !

फूल सी क़ब्र से अक्सर ये सदा आती है,
कोई कहता है बचा लो मैं अभी ज़िन्दा हूँ !

तन पे कपड़े हैं क़दामत की अलामत और मैं,
सर बरहना यहाँ आ जाने पे शर्मिंदा हूँ !

वाक़ई इस तरह मैंने कभी सोचा ही नहीं,
कौन है अपना यहाँ किस के लिये ज़िन्दा हूँ !! -Bashir Badr Ghazal

 

Sar Jhukaoge To Patthar Devta Ho Jayega..

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega

 

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega,
Itna mat chaho use wo bewafa ho jayega.

Hum bhi dariya hain hamein apna hunar malum hai,
Jis taraf bhi chal padenge rasta ho jayega.

Kitni sachchai se mujh se zindagi ne kah diya,
Tu nahin mera to koi dusra ho jayega.

Main khuda ka naam lekar pi raha hun dosto,
Zahar bhi is mein agar hoga dawa ho jayega.

Sab usi ke hain hawa khushboo zamin-o-aasman,
Main jahan bhi jaunga us ko pata ho jayega. !!

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा,
इतना मत चाहो उसे वो बेवफ़ा हो जाएगा !

हम भी दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है,
जिस तरफ भी चल पड़ेंगे रास्ता हो जाएगा !

कितनी सच्चाई से मुझसे ज़िन्दगी ने कह दिया,
तू नहीं मेरा तो कोई दूसरा हो जाएगा !

मैं खुदा का नाम लेकर पी रहा हूं दोस्तों,
ज़हर भी इसमें अगर होगा दवा हो जाएगा !

सब उसी के हैं हवा ख़ुशबू ज़मीन-ओ-आसमां
मैं जहां भी जाऊंगा, उसको पता हो जाएगा !! -Bashir Badr Ghazal

 

Yun Hi Be-Sabab Na Phira Karo Koi Sham Ghar Mein Raha Karo..

Yun hi be-sabab na phira karo koi sham ghar mein raha karo,
Wo ghazal ki sachchi kitab hai use chupke chupke padha karo.

Koi hath bhi na milayega jo gale miloge tapak se,
Ye naye mizaj ka shehar hai zara fasle se mila karo.

Abhi raah mein kayi mod hain koi ayega koi jayega,
Tumhein jis ne dil se bhula diya use bhulne ki dua karo.

Mujhe ishtihaar si lagti hain ye mohabbaton ki kahaniyan,
Jo kaha nahin wo suna karo jo suna nahin wo kaha karo.

Kabhi husn-e parda-nashin bhi ho zara aashiqana libas mein,
Jo main ban sanwar ke kahin chalun mere sath tum bhi chala karo.

Nahin be-hijab wo chand sa ki nazar ka koi asar na ho,
Use itni garmi-e-shauq se badi der tak na taka karo.

Ye khizan ki zard si shaal mein jo udas ped ke pas hai
Ye tumhaare ghar ki bahaar hai use aansuon se hara karo. !!

यूं ही बे-सबब न फिरा करो कोई शाम घर में रहा करो,
वो ग़ज़ल की सच्ची किताब है उसे चुपके-चुपके पढ़ा करो !

कोई हाथ भी न मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से,
ये नए मिज़ाज का शहर है ज़रा फ़ासले से मिला करो !

अभी राह में कई मोड़ हैं कोई आएगा कोई जाएगा,
तुम्हें जिसने दिल से भुला दिया उसे भूलने की दुआ करो !

मुझे इश्तिहार-सी लगती हैं ये मोहब्बतों की कहानियां,
जो कहा नहीं, वो सुना करो जो सुना नहीं वो कहा करो !

नहीं बे हिजाब वो चाँद सा कि नज़र का कोई असर न हो,
उसे इतनी गर्मी-ए-शौक़ से बड़ी देर तक न तका करो !

ये ख़िज़ां की ज़र्द-सी शाल में जो उदास पेड़ के पास है
ये तुम्हारे घर की बहार है उसे आंसुओं से हरा करो !! -Bashir Badr Ghazal

 

Log Toot Jate Hain Ek Ghar Banane Mein..

Log toot jate hain ek ghar banane mein,
Tum taras nahin khate bastiyan jalane mein.

Aur jaam tootenge is sharaab-khaane mein,
Mausamon ke aane mein mausamon ke jane mein.

Har dhadakte patthar ko log dil samajhte hain,
Umaren bit jati hain dil ko dil banane mein.

Fakhta ki majburi ye bhi kah nahin sakti,
Kaun saanp rakhta hain uske aashiyane mein.

Dusri koi ladki zindagi mein aayegi,
Kitni der lagti hain us ko bhul jane mein. !!

लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में,
तुम तरस नहीं खाते बस्तियाँ जलाने में !

और जाम टूटेंगे इस शराब-ख़ाने में,
मौसमों के आने में मौसमों के जाने में !

हर धड़कते पत्थर को, लोग दिल समझते हैं,
उम्र बीत जाती है दिल को दिल बनाने में !

फ़ाख़्ता की मजबूरी ये भी कह नहीं सकती,
कौन साँप रखता है उसके आशियाने में !

दूसरी कोई लड़की ज़िंदगी में आएगी,
कितनी देर लगती है उसको भूल जाने में !! -Bashir Badr Ghazal

 

Khushboo Ki Tarah Aaya Wo Tez Hawaon Mein..

Khushboo ki tarah aaya wo tez hawaon mein

 

Khushboo ki tarah aaya wo tez hawaon mein,
Manga tha jise hum ne din raat duaon mein.

Tum chhat pe nahi aaye main ghar se nahi nikla,
Ye chand bahut bhatka saawan ki ghataon mein.

Is shehar mein ek ladki bilkul hai ghazal jaisi,
Bijli si ghataon mein khushboo si Adaon mein.

Mausam ka ishaara hai khush rahne do bachchon ko,
Masoom mohabbat hai phoolon ki khataon mein.

Hum chand sitaron ki rahon ke musafir hain,
Hum raat chamakte hain tarik khalaon mein.

Bhagwan hi bhejenge chawal se bhari thaali,
Mazloom parindon ki masoom sabhaon mein.

Dada bade bhole the sab se yahi kahte the,
Kuchh zehar bhi hota hai angrezi dawaon mein. !!

खुशबू कि तरह आया वो तेज़ हवाओं में,
मांगा था जिसे हमने दिन रात दुआओं में !

तुम छत पे नहीं आये में घर से नहीं निकला,
ये चाँद बहुत भटका सावन कि घटाओं में !

इस शहर में एक लड़की बिलकुल है ग़ज़ल जैसी,
बिजली सी घटाओं में खुशबू सी अदाओं में !

मौसम का इशारा है खुश रहने दो बच्चों को,
मासूम मोहब्बत है फूलों कि खताओं में !

हम चाँद सितारों की राहों के मुसाफ़िर हैं,
हम रात चमकते हैं तारीक ख़लाओं में !

भगवान् ही भेजेंगे चावल से भरी थाली,
मज़लूम परिंदों कि मासूम सभाओं में !

दादा बड़े भोले थे सब से यही कहते थे
कुछ ज़हर भी होता है अंग्रेजी दवाओं में !! -Bashir Badr Ghazal

 

Main Lakh Kah Dun Ki Aakash Hun Zamin Hun Main..

Main lakh kah dun ki aakash hun zamin hun main,
Magar use to khabar hai ki kuch nahin hun main.

Ajib log hain meri talash mein mujh ko,
Wahan pe dhund rahe hain jahan nahin hun main.

Main aainon se to mayus laut aaya tha,
Magar kisi ne bataya bahut hasin hun main.

Wo zarre zarre mein maujud hai magar main bhi,
Kahin kahin hun kahan hun kahin nahin hun main.

Wo ek kitab jo mansub tere naam se hai,
Usi kitab ke andar kahin kahin hun main.

Sitaro aao meri raah mein bikhar jao,
Ye mera hukm hai haalanki kuch nahi hun main.

Yahin husain bhi guzre yahin yazid bhi tha,
Hazar rang mein dubi hui zamin hun main.

Ye budhi qabren tumhein kuch nahin batayengi,
Mujhe talash karo doston yahin hun main. !!

मैं लाख कह दूँ कि आकाश हूँ ज़मीं हूँ मैं,
मगर उसे तो ख़बर है कि कुछ नहीं हूँ मैं !

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझ को,
वहाँ पे ढूँड रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं !

मैं आइनों से तो मायूस लौट आया था,
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं !

वो ज़र्रे ज़र्रे में मौजूद है मगर मैं भी,
कहीं कहीं हूँ कहाँ हूँ कहीं नहीं हूँ मैं !

वो इक किताब जो मंसूब तेरे नाम से है,
उसी किताब के अंदर कहीं कहीं हूँ मैं !

सितारो आओ मिरी राह में बिखर जाओ,
ये मेरा हुक्म है हालाँकि कुछ नहीं हूँ मैं !

यहीं हुसैन भी गुज़रे यहीं यज़ीद भी था,
हज़ार रंग में डूबी हुई ज़मीं हूँ मैं !

ये बूढ़ी क़ब्रें तुम्हें कुछ नहीं बताएँगी,
मुझे तलाश करो दोस्तो यहीं हूँ मैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Na Humsafar Na Kisi Humnasheen Se Niklega..

Na humsafar na kisi humnasheen se niklega,
Hamare panw ka kanta hameen se niklega.

Main janta tha ki zahrila saanp ban ban kar,
Tera khulus meri aastin se niklega.

Isi gali mein wo bhukha faqir rahta tha,
Talash kije khazana yahin se niklega.

Buzurg kahte the ek waqt aayega jis din,
Jahan pe dubega sooraj wahin se niklega.

Guzishta sal ke zakhmon hare-bhare rahna,
Julus ab ke baras bhi yahin se niklega. !!

न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा,
हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा !

मैं जानता था कि ज़हरीला साँप बन बन कर,
तिरा ख़ुलूस मिरी आस्तीं से निकलेगा !

इसी गली में वो भूखा फ़क़ीर रहता था,
तलाश कीजे ख़ज़ाना यहीं से निकलेगा !

बुज़ुर्ग कहते थे इक वक़्त आएगा जिस दिन,
जहाँ पे डूबेगा सूरज वहीं से निकलेगा !

गुज़िश्ता साल के ज़ख़्मों हरे-भरे रहना,
जुलूस अब के बरस भी यहीं से निकलेगा !! -Rahat Indori Ghazal