Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai..

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai,
Tumhari yaadon ke saath tanha safar kiya hai.

Suna hai us rut ko dekh kar tum bhi ro pade the,
Suna hai barish ne pattharon par asar kiya hai.

Salib ka bar bhi uthao tamam jiwan,
Ye lab-kushai ka jurm tum ne agar kiya hai.

Tumhein khabar thi haqiqaten talkh hain jabhi to,
Tumhari aankhon ne khwab ko mo’atabar kiya hai.

Ghutan badhi hai to phir usi ko sadayen di hain,
Ki jis hawa ne har ek shajar be-samar kiya hai.

Hai tere andar basi hui ek aur duniya,
Magar kabhi tu ne itna lamba safar kiya hai.

Mere hi dam se to raunaqen tere shehar mein thin,
Mere hi qadmon ne dasht ko rah-guzar kiya hai.

Tujhe khabar kya mere labon ki khamoshiyon ne,
Tere fasane ko kis qadar mukhtasar kiya hai.

Bahut si aankhon mein tirgi ghar bana chuki hai,
bahut si aankhon ne intezaar-e-sahar kiya hai. !!

मिलन की साअत को इस तरह से अमर किया है,
तुम्हारी यादों के साथ तन्हा सफ़र किया है !

सुना है उस रुत को देख कर तुम भी रो पड़े थे,
सुना है बारिश ने पत्थरों पर असर किया है !

सलीब का बार भी उठाओ तमाम जीवन,
ये लब-कुशाई का जुर्म तुम ने अगर किया है !

तुम्हें ख़बर थी हक़ीक़तें तल्ख़ हैं जभी तो,
तुम्हारी आँखों ने ख़्वाब को मोतबर किया है !

घुटन बढ़ी है तो फिर उसी को सदाएँ दी हैं,
कि जिस हवा ने हर इक शजर बे-समर किया है !

है तेरे अंदर बसी हुई एक और दुनिया,
मगर कभी तूने इतना लम्बा सफ़र किया है !

मेरे ही दम से तो रौनक़ें तेरे शहर में थीं,
मेरे ही क़दमों ने दश्त को रह-गुज़र किया है !

तुझे ख़बर क्या मेरे लबों की ख़मोशियों ने,
तेरे फ़साने को किस क़दर मुख़्तसर किया है !

बहुत सी आँखों में तीरगी घर बना चुकी है,
बहुत सी आँखों ने इंतज़ार-ए-सहर किया है !!

 

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai..

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai,
Misal-e-rang wo jhonka nazar bhi aata hai.

Tamam shab jahan jalta hai ek udas diya,
Hawa ki rah mein ek aisa ghar bhi aata hai.

Wo mujh ko tut ke chahega chhod jayega,
Mujhe khabar thi use ye hunar bhi aata hai.

Ujad ban mein utarta hai ek jugnu bhi,
Hawa ke sath koi ham-safar bhi aata hai.

Wafa ki kaun si manzil pe us ne chhoda tha,
Ki wo to yaad hamein bhul kar bhi aata hai.

Jahan lahu ke samundar ki had thaharti hai,
Wahin jazira-e-lal-o-guhar bhi aata hai.

Chale jo zikr farishton ki parsai ka,
To zer-e-bahs maqam-e-bashar bhi aata hai.

Abhi sinan ko sambhaale rahen adu mere,
Ki un safon mein kahin mera sar bhi aata hai.

Kabhi-kabhi mujhe milne bulandiyon se koi,
Shua-e-subh ki surat utar bhi aata hai.

Isi liye main kisi shab na so saka “Mohsin”,
Wo mahtab kabhi baam par bhi aata hai. !!

तेरे बदन से जो छू कर इधर भी आता है,
मिसाल-ए-रंग वो झोंका नज़र भी आता है !

तमाम शब जहाँ जलता है एक उदास दिया,
हवा की राह में एक ऐसा घर भी आता है !

वो मुझ को टूट के चाहेगा छोड़ जाएगा,
मुझे ख़बर थी उसे ये हुनर भी आता है !

उजाड़ बन में उतरता है एक जुगनू भी,
हवा के साथ कोई हम-सफ़र भी आता है !

वफ़ा की कौन सी मंज़िल पे उस ने छोड़ा था,
कि वो तो याद हमें भूल कर भी आता है !

जहाँ लहू के समुंदर की हद ठहरती है,
वहीं जज़ीरा-ए-लाल-ओ-गुहर भी आता है !

चले जो ज़िक्र फ़रिश्तों की पारसाई का,
तो ज़ेर-ए-बहस मक़ाम-ए-बशर भी आता है !

अभी सिनाँ को सँभाले रहें अदू मेरे,
कि उन सफ़ों में कहीं मेरा सर भी आता है !

कभी-कभी मुझे मिलने बुलंदियों से कोई,
शुआ-ए-सुब्ह की सूरत उतर भी आता है !

इसी लिए मैं किसी शब न सो सका “मोहसिन”,
वो माहताब कभी बाम पर भी आता है !

 

Kathin tanhaiyon se kaun khela main akela..

Kathin tanhaiyon se kaun khela main akela,
Bhara ab bhi mere ganv ka mela main akela.

Bichhad kar tujh se main shab bhar na soya kaun roya,
Ba-juz mere ye dukh bhi kis ne jhela main akela.

Ye be-awaz banjar ban ke basi ye udasi,
Ye dahshat ka safar jangal ye bela main akela.

Main dekhun kab talak manzar suhane sab purane,
Wahi duniya wahi dil ka jhamela main akela.

Wo jis ke khauf se sahra sidhaare log sare,
Guzarne ko hai tufan ka wo rela main akela. !!

कठिन तन्हाइयों से कौन खेला मैं अकेला,
भरा अब भी मेरे गाँव का मेला मैं अकेला !

बिछड़ कर तुझ से मैं शब भर न सोया कौन रोया,
ब-जुज़ मेरे ये दुख भी किस ने झेला मैं अकेला !

ये बे-आवाज़ बंजर बन के बासी ये उदासी,
ये दहशत का सफ़र जंगल ये बेला मैं अकेला !

मैं देखूँ कब तलक मंज़र सुहाने सब पुराने,
वही दुनिया वही दिल का झमेला मैं अकेला !

वो जिस के ख़ौफ़ से सहरा सिधारे लोग सारे,
गुज़रने को है तूफ़ाँ का वो रेला मैं अकेला !!

 

Ajib khauf musallat tha kal haweli par..

Ajib khauf musallat tha kal haweli par,
Lahu charagh jalati rahi hatheli par.

Sunega kaun magar ehtijaj khushbu ka,
Ki sanp zahar chhidakta raha chameli par.

Shab-e-firaq meri aankh ko thakan se bacha,
Ki nind war na kar de teri saheli par.

Wo bewafa tha to phir itna mehrban kyun tha,
Bichhad ke us se main sochun usi paheli par.

Jala na ghar ka andhera charagh se “Mohsin”,
Sitam na kar meri jaan apne yar beli par. !!

अजीब ख़ौफ़ मुसल्लत था कल हवेली पर,
लहु चराग़ जलाती रही हथेली पर !

सुनेगा कौन मगर एहतिजाज ख़ुश्बू का,
कि साँप ज़हर छिड़कता रहा चमेली पर !

शब-ए-फ़िराक़ मेरी आँख को थकन से बचा,
कि नींद वार न कर दे तेरी सहेली पर !

वो बेवफ़ा था तो फिर इतना मेहरबाँ क्यूँ था,
बिछड़ के उस से मैं सोचूँ उसी पहेली पर !

जला न घर का अँधेरा चराग़ से “मोहसिन”,
सितम न कर मेरी जाँ अपने यार बेली पर !!

 

Zaban rakhta hun lekin chup khada hun..

Zaban rakhta hun lekin chup khada hun,
Main aawazon ke ban mein ghir gaya hun.

Mere ghar ka daricha puchhta hai,
Main sara din kahan phirta raha hun.

Mujhe mere siwa sab log samjhen,
Main apne aap se kam bolta hun.

Sitaron se hasad ki intiha hai,
Main qabron par charaghan kar raha hun.

Sambhal kar ab hawaon se ulajhna,
Main tujh se pesh-tar bujhne laga hun.

Meri qurbat se kyun khaif hai duniya,
Samundar hun main khud mein gunjta hun.

Mujhe kab tak sametega wo “Mohsin”,
Main andar se bahut tuta hua hun. !!

ज़बाँ रखता हूँ लेकिन चुप खड़ा हूँ,
मैं आवाज़ों के बन में घिर गया हूँ !

मेरे घर का दरीचा पूछता है,
मैं सारा दिन कहाँ फिरता रहा हूँ !

मुझे मेरे सिवा सब लोग समझें,
मैं अपने आप से कम बोलता हूँ !

सितारों से हसद की इंतिहा है,
मैं क़ब्रों पर चराग़ाँ कर रहा हूँ !

सँभल कर अब हवाओं से उलझना,
मैं तुझ से पेश-तर बुझने लगा हूँ !

मेरी क़ुर्बत से क्यूँ ख़ाइफ़ है दुनिया,
समुंदर हूँ मैं ख़ुद में गूँजता हूँ !

मुझे कब तक समेटेगा वो “मोहसिन”,
मैं अंदर से बहुत टूटा हुआ हूँ !!

 

Bichhad ke mujh se ye mashghala ikhtiyar karna..

Bichhad ke mujh se ye mashghala ikhtiyar karna,
Hawa se darna bujhe charaghon se pyar karna.

Khuli zaminon mein jab bhi sarson ke phool mahken,
Tum aisi rut mein sada mera intezar karna.

Jo log chahen to phir tumhein yaad bhi na aayen,
Kabhi kabhi tum mujhe bhi un mein shumar karna.

Kisi ko ilzam-e-bewafai kabhi na dena,
Meri tarah apne aap ko sogwar karna.

Tamam wade kahan talak yaad rakh sakoge,
Jo bhul jayen wo ahd bhi ustuwar karna.

Ye kis ki aankhon ne baadalon ko sikha diya hai,
Ki sina-e-sang se rawan aabshaar karna.

Main zindagi se na khul saka is liye bhi “Mohsin”,
Ki bahte pani pe kab talak etibar karna. !!

बिछड़ के मुझ से ये मश्ग़ला इख़्तियार करना,
हवा से डरना बुझे चराग़ों से प्यार करना !

खुली ज़मीनों में जब भी सरसों के फूल महकें,
तुम ऐसी रुत में सदा मेरा इंतिज़ार करना !

जो लोग चाहें तो फिर तुम्हें याद भी न आएँ,
कभी कभी तुम मुझे भी उन में शुमार करना !

किसी को इल्ज़ाम-ए-बेवफ़ाई कभी न देना,
मेरी तरह अपने आप को सोगवार करना !

तमाम वादे कहाँ तलक याद रख सकोगे,
जो भूल जाएँ वो अहद भी उस्तुवार करना !

ये किस की आँखों ने बादलों को सिखा दिया है,
कि सीना-ए-संग से रवाँ आबशार करना !

मैं ज़िंदगी से न खुल सका इस लिए भी “मोहसिन”,
कि बहते पानी पे कब तलक एतिबार करना !!

 

Ujad ujad ke sanwarti hai tere hijr ki sham..

Ujad ujad ke sanwarti hai tere hijr ki sham,
Na puchh kaise guzarti hai tere hijr ki sham.

Ye barg barg udasi bikhar rahi hai meri,
Ki shakh shakh utarti hai tere hijr ki sham.

Ujad ghar mein koi chand kab utarta hai,
Sawal mujh se ye karti hai tere hijr ki sham.

Mere safar mein ek aisa bhi mod aata hai,
Jab apne aap se darti hai tere hijr ki sham.

Bahut aziz hain dil ko ye zakhm zakhm ruten,
Inhi ruton mein nikharti hai tere hijr ki sham.

Ye mera dil ye sarasar nigar-khana-e-gham,
Sada isi mein utarti hai tere hijr ki sham.

Jahan jahan bhi milen teri qurbaton ke nishan,
Wahan wahan se ubharti hai tere hijr ki sham.

Ye hadisa tujhe shayad udas kar dega,
Ki mere sath hi marti hai tere hijr ki sham. !!

उजड़ उजड़ के सँवरती है तेरे हिज्र की शाम,
न पूछ कैसे गुज़रती है तेरे हिज्र की शाम !

ये बर्ग बर्ग उदासी बिखर रही है मेरी,
कि शाख़ शाख़ उतरती है तेरे हिज्र की शाम !

उजाड़ घर में कोई चाँद कब उतरता है,
सवाल मुझ से ये करती है तेरे हिज्र की शाम !

मेरे सफ़र में एक ऐसा भी मोड़ आता है,
जब अपने आप से डरती है तेरे हिज्र की शाम !

बहुत अज़ीज़ हैं दिल को ये ज़ख़्म ज़ख़्म रुतें,
इन्ही रुतों में निखरती है तेरे हिज्र की शाम !

ये मेरा दिल ये सरासर निगार-खाना-ए-ग़म,
सदा इसी में उतरती है तेरे हिज्र की शाम !

जहाँ जहाँ भी मिलें तेरी क़ुर्बतों के निशाँ,
वहाँ वहाँ से उभरती है तेरे हिज्र की शाम !

ये हादिसा तुझे शायद उदास कर देगा,
कि मेरे साथ ही मरती है तेरे हिज्र की शाम !!