Home / Neend Shayari

Neend Shayari

Be-qarari si be-qarari hai..

Be-qarari si be-qarari hai,
Wasl hai aur firaq tari hai.

Jo guzari na ja saki hum se,
Hum ne wo zindagi guzari hai.

Nighare kya hue ki logon par,
Apna saya bhi ab to bhaari hai.

Bin tumhare kabhi nahi aai,
Kya meri nind bhi tumhari hai.

Aap mein kaise aaun main tujh bin,
Sans jo chal rahi hai aari hai.

Us se kahiyo ki dil ki galiyon mein,
Raat-din teri intizari hai

Hijr ho ya wisaal ho kuchh ho,
Hum hain aur us ki yaadgari hai

Ek mahak samt-e-dil se aai thi,
Main ye samjha teri sawari hai.

Hadson ka hisab hai apna,
Warna har aan sab ki bari hai.

Khush rahe tu ki zindagi apni,
Umar bhar ki umid-wari hai. !!

बे-क़रारी सी बे-क़रारी है,
वस्ल है और फ़िराक़ तारी है !

जो गुज़ारी न जा सकी हम से,
हम ने वो ज़िंदगी गुज़ारी है !

निघरे क्या हुए कि लोगों पर,
अपना साया भी अब तो भारी है !

बिन तुम्हारे कभी नहीं आई,
क्या मेरी नींद भी तुम्हारी है !

आप में कैसे आऊँ मैं तुझ बिन,
साँस जो चल रही है आरी है !

उस से कहियो कि दिल की गलियों में,
रात-दिन तेरी इंतिज़ारी है !

हिज्र हो या विसाल हो कुछ हो,
हम हैं और उस की यादगारी है !

एक महक सम्त-ए-दिल से आई थी,
मैं ये समझा तेरी सवारी है !

हादसों का हिसाब है अपना,
वर्ना हर आन सब की बारी है !

ख़ुश रहे तू कि ज़िंदगी अपनी,
उम्र भर की उमीद-वारी है !!