Home / Musafir Shayari

Musafir Shayari

Zindagi se yahi gila hai mujhe..

Zindagi se yahi gila hai mujhe,
Tu bahut der se mila hai mujhe.

Tu mohabbat se koi chaal to chal,
Haar jaane ka hausla hai mujhe.

Dil dhadakta nahi tapakta hai,
Kal jo khwahish thi aabla hai mujhe.

Hum-safar chahiye hujum nahi,
Ek musafir bhi qafila hai mujhe.

Kohkan ho ki qais ho ki “Faraz”,
Sab mein ek shakhs hi mila hai mujhe. !!

ज़िंदगी से यही गिला है मुझे,
तू बहुत देर से मिला है मुझे !

तू मोहब्बत से कोई चाल तो चल,
हार जाने का हौसला है मुझे !

दिल धड़कता नहीं टपकता है,
कल जो ख़्वाहिश थी आबला है मुझे !

हम-सफ़र चाहिए हुजूम नहीं,
एक मुसाफ़िर भी क़ाफ़िला है मुझे !

कोहकन हो कि क़ैस हो कि “फ़राज़”,
सब में एक शख़्स ही मिला है मुझे !!

 

Usi ki tarah mujhe sara zamana chahe..

Usi ki tarah mujhe sara zamana chahe,
Wo mera hone se ziyada mujhe pana chahe.

Meri palkon se phisal jata hai chehra tera,
Ye musafir to koi aur thikana chahe.

Ek banphool tha is shehar mein wo bhi na raha,
Koi ab kis ke liye laut ke aana chahe.

Zindagi hasraton ke saz pe sahma-sahma,
Wo tarana hai jise dil nahi gaana chahe. !!

उसी की तरह मुझे सारा ज़माना चाहे,
वो मेरा होने से ज़्यादा मुझे पाना चाहे !

मेरी पलकों से फिसल जाता है चेहरा तेरा,
ये मुसाफ़िर तो कोई और ठिकाना चाहे !

एक बनफूल था इस शहर में वो भी न रहा,
कोई अब किस के लिए लौट के आना चाहे !

ज़िंदगी हसरतों के साज़ पे सहमा-सहमा,
वो तराना है जिसे दिल नहीं गाना चाहे !!

 

Hath khali hain tere shahr se jate-jate..

Hath khali hain tere shahr se jate jate,
Jaan hoti to meri jaan lutate jate.

Ab to har hath ka patthar hamein pahchanta hai,
Umar guzri hai tere shahr mein aate jate.

Ab ke mayus hua yaron ko rukhsat kar ke,
Ja rahe the to koi zakhm lagate jate.

Rengne ki bhi ijazat nahi hum ko warna,
Hum jidhar jate naye phool khilate jate.

Main to jalte hue sahraon ka ek patthar tha,
Tum to dariya the meri pyas bujhate jate.

Mujh ko rone ka saliqa bhi nahi hai shayad,
Log hanste hain mujhe dekh ke aate jate.

Hum se pahle bhi musafir kayi guzre honge,
Kam se kam rah ke patthar to hatate jate. !!

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते !

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते !

अब के मायूस हुआ यारों को रुख़्सत कर के,
जा रहे थे तो कोई ज़ख़्म लगाते जाते !

रेंगने की भी इजाज़त नहीं हम को वर्ना,
हम जिधर जाते नए फूल खिलाते जाते !

मैं तो जलते हुए सहराओं का एक पत्थर था,
तुम तो दरिया थे मेरी प्यास बुझाते जाते !

मुझ को रोने का सलीक़ा भी नहीं है शायद,
लोग हँसते हैं मुझे देख के आते जाते !

हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे,
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते !!