Friday , April 10 2020

Muntzir Poetry

Teri Har Baat Mohabbat Mein Gawara Kar Ke..

Teri har baat mohabbat mein gawara kar ke

Teri har baat mohabbat mein gawara kar ke,
Dil ke bazaar mein baithe hain khasara kar ke.

Aate jate hain kai rang mere chehre par,
Log lete hain maza zikr tumhara kar ke.

Ek chingari nazar aai thi basti mein use,
Wo alag hat gaya aandhi ko ishaara kar ke.

Aasmanon ki taraf phenk diya hai maine,
Chand miti ke charaghon ko sitara kar ke.

Main wo dariya hun ki har bund bhanwar hai jis ki,
Tum ne achchha hi kiya mujh se kinara kar ke.

Muntazir hun ki sitaron ki zara aankh lage,
Chand ko chhat pur bula lunga ishaara kar ke. !!

तेरी हर बात मोहब्बत में गवारा कर के,
दिल के बाज़ार में बैठे हैं ख़सारा कर के !

आते जाते हैं कई रंग मेरे चेहरे पर,
लोग लेते हैं मज़ा ज़िक्र तुम्हारा कर के !

एक चिंगारी नज़र आई थी बस्ती में उसे,
वो अलग हट गया आँधी को इशारा कर के !

आसमानों की तरफ़ फेंक दिया है मैंने,
चंद मिट्टी के चराग़ों को सितारा कर के !

मैं वो दरिया हूँ कि हर बूँद भँवर है जिस की,
तुम ने अच्छा ही किया मुझ से किनारा कर के !

मुंतज़िर हूँ कि सितारों की ज़रा आँख लगे,
चाँद को छत पुर बुला लूँगा इशारा कर के !! -Rahat Indori Ghazal

 

Kuch toh apni nishaniya rakh ja..

Kuch toh apni nishaniya rakh ja,
In kitabo mein titliya rakh ja.

Log thak haar kar lout na jaye,
Raste mein kahaniya rakh ja.

Muntzir koi toh mile mujhko,
Ghar ke baahar udasiyan rakh ja.

In darkhton se fal nahi girte,
Inke najdik aandhiyan rakh ja.

Ho raha hai agar juda mujhse,
Meri aankho pe ungliyan rakh ja.

Aaj tufaan bhi akela hai,
Tu bhi sahil pe kashtiya rakh ja. !!

कुछ तो अपनी निशानिया रख जा,
इन किताबो में तितलिया रख जा !

लोग थक हर कर लौट न जाये,
रास्ते में कहानिया रख जा !

मुंतज़िर कोई तो मिले मुझको,
घर के बाहर उदासियाँ रख जा !

इन दरख्तों से फल नहीं गिरते,
इनके नजदीक आँधियाँ रख जा !

हो रहा है अगर जुदा मुझसे,
मेरी आँखों पे उँगलियाँ रख जा !

आज तूफ़ान भी अकेला है,
तू भी साहिल पे कश्तियाँ रख जा !!