Wednesday , December 11 2019
Home / Munawwar Rana / Sabke Kahne Se Iraada Nahi Badla Jata..

Sabke Kahne Se Iraada Nahi Badla Jata..

1.
Sabke kahne se iraada nahi badla jata,
Har saheli se dupatta nahi badla jata.

सबके कहने से इरादा नहीं बदला जाता,
हर सहेली से दुपट्टा नहीं बदला जाता !

2.
Kam se kam bachchon ki honthon ki hansi ki khatir,
Ayse mitti mein milana ki khilauna ho jaun.

कम से कम बच्चों के होंठों की हँसी की ख़ातिर,
ऐसे मिट्टी में मिलाना कि खिलौना हो जाऊँ !

3.
Kasam deta hai bachchon ki bahane se bulata hai,
Dhuan chimani ka humko karkhane se bulata hai.

क़सम देता है बच्चों की बहाने से बुलाता है,
धुआँ चिमनी का हमको कारख़ाने से बुलाता है !

4.
Bachche bhi gareebi ko samjhane lage shayad,
Ab jaag bhi jate hain to sahari nahi khate.

बच्चे भी ग़रीबी को समझने लगे शायद,
अब जाग भी जाते हैं तो सहरी नहीं खाते !

5.
Inhein firka parasti mat sikha dena ki ye bachche,
Zameen se choom kar titali ke tute par uthate hain.

इन्हें फ़िरक़ा-परस्ती मत सिखा देना कि ये बच्चे,
ज़मी से चूम कर तितली के टूटे पर उठाते हैं !

6.
Bichhadte waqt bhi chehara nahi utarta hai,
Yhaan saron se dupatta nahi utarta hai.

बिछड़ते वक़्त भी चेहरा नहीं उतरता है,
यहाँ सरों से दुपट्टा नहीं उतरता है !

7.
Kaano mein koi phool bhi hans kar nahi phana,
Usne bhi bichhad kar kabhi jewar nahi phana.

कानों में कोई फूल भी हँस कर नहीं पहना,
उसने भी बिछड़ कर कभी ज़ेवर नहीं पहना !

8.
Mohabbat bhi ajeeb shay hai koi pardesh mein roye,
To fauran hath ki ek-aadh chudi tut jati hai.

मोहब्बत भी अजब शय है कोई परदेस में रोये,
तो फ़ौरन हाथ की एक-आध चूड़ी टूट जाती है !

9.
Bade sheharon mein rahkar bhi barabar yaad karta tha,
Main ek chhote se station ka manzar yaad karta tha.

बड़े शहरों में रहकर भी बराबर याद करता था,
मैं एक छोटे से स्टेशन का मंज़र याद करता था !

10.
Kisko fursat us mehfil mein gham ki kahani padhne ki,
Suni kalaai dekh ke lekin chudi wala tut gaya.

किसको फ़ुर्सत उस महफ़िल में ग़म की कहानी पढ़ने की,
सूनी कलाई देख के लेकिन चूड़ी वाला टूट गया !

11.
Mujhe bulata hai maqtal main kis tarah jaun,
Ki meri god se bachcha nahi utarta hai.

मुझे बुलाता है मक़्तल मैं किस तरह जाऊँ,
कि मेरी गोद से बच्चा नहीं उतरता है !

12.
Kahin koi kalaai ek chudi ko tarsati hai,
Kahin kangan ke jhatke se kalaai tut jati hai.

कहीं कोई कलाई एक चूड़ी को तरसती है,
कहीं कंगन के झटके से कलाई टूट जाती है !

13.
Us waqt bhi aksar tujhe hum dhundne nikale,
Jis dhoop mein majdur bhi chhat par nahi jate.

उस वक़्त भी अक्सर तुझे हम ढूँढने निकले,
जिस धूप में मज़दूर भी छत पर नहीं जाते !

14.
Sharm aati hai majduri batate hue humko,
Itane mein to bachchon ka gubara nahi milta.

शर्म आती है मज़दूरी बताते हुए हमको,
इतने में तो बच्चों का ग़ुबारा नहीं मिलता !

15.
Hum ne baazar mein dekhe hain ghrelu chehare,
Muflisi tujhse bade log bhi dab jate hain.

हमने बाज़ार में देखे हैं घरेलू चेहरे,
मुफ़्लिसी तुझसे बड़े लोग भी दब जाते हैं !

16.
Bhatkti hai hawas din-raat sone ki dukaano mein,
Gareebi kaan chhidwaati hai tinka daal deti hai.

भटकती है हवस दिन-रात सोने की दुकानों में,
ग़रीबी कान छिदवाती है तिनका डाल देती है !

17.
Ameere-shahar ka riste mein koi kuch nahi lagta,
Gareebi chand ko bhi apna mama maan leti hai.

अमीरे-शहर का रिश्ते में कोई कुछ नहीं लगता,
ग़रीबी चाँद को भी अपना मामा मान लेती है !

18.
To kya majburiyan bejaan chizein bhi samjhati hain,
Gale se jab utarta hai to jewar kuch nahi kehata.

तो क्या मजबूरियाँ बेजान चीज़ें भी समझती हैं,
गले से जब उतरता है तो ज़ेवर कुछ नहीं कहता !

19.
Kahin bhi chhod ke apni zameen nahi jate,
Humein bulati hai duniya humin nahi jate.

कहीं भी छोड़ के अपनी ज़मीं नहीं जाते,
हमें बुलाती है दुनिया हमीं नहीं जाते !

20.
Zameen banjar bhi ho jaye to chahat kam nahi hoti,
Kahin koi watan se bhi mohabbat chhod sakta hai.

ज़मीं बंजर भी हो जाए तो चाहत कम नहीं होती,
कहीं कोई वतन से भी मुहब्बत छोड़ सकता है !

21.
Jarurat roz hizrat ke liye aawaz deti hai,
Mohabbat chhod ke hindustan jane nahi deti.

ज़रूरत रोज़ हिजरत के लिए आवाज़ देती है,
मुहब्बत छोड़कर हिंदुस्तान जाने नहीं देती !

22.
Paida yahin hua hun yahin par marunga main,
Wo aur log the jo Karachi chale gaye.

पैदा यहीं हुआ हूँ यहीं पर मरूँगा मैं,
वो और लोग थे जो कराची चले गये !

23.
Main marunga to yahin dafan kiya jaunga,
Meri mitti bhi Karachi nahi jane wali.

मैं मरूँगा तो यहीं दफ़्न किया जाऊँगा,
मेरी मिट्टी भी कराची नहीं जाने वाली !

24.
Watan ki raah mein deni padegi jaan agar,
Khuda ne chaha to sabit kadam hi niklenge.

वतन की राह में देनी पड़ेगी जान अगर,
ख़ुदा ने चाहा तो साबित क़दम ही निकलेंगे !

25.
Watan se dur bhi ya rab wahan pe dam nikale,
Jahan se mulk ki sarhad dikhaai dene lage.

वतन से दूर भी या रब वहाँ पे दम निकले,
जहाँ से मुल्क की सरहद दिखाई देने लगे !

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Check Also

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Vividh विविध)

1. Hum sayadar ped zamane ke kaam aaye, Jab sukhne lage to jalane ke kaam …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven − 5 =