Wednesday , December 11 2019
Home / Munawwar Rana / Munawwar Rana “Maa” Shayari (Wah वह)

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Wah वह)

1.
Kisi bhi mod par tumse wafadari nahi hogi,
Humein maalum hai tum ko ye bimari nahi hogi.

किसी भी मोड़ पर तुमसे वफ़ादारी नहीं होगी,
हमें मालूम है तुम को ये बीमारी नहीं होगी !

2.
Neem ka ped tha barsaat thi aur jhula tha,
Gaon mein gujara jamana bhi ghazal jaisa tha.

नीम का पेड़ था बरसात थी और झूला था,
गाँव में गुज़रा ज़माना भी ग़ज़ल जैसा था !

3.
Hum kuch ase tere didar mein kho jate hain,
Jaise bachche bhare bazar mein kho jate hain.

हम कुछ ऐसे तेरे दीदार में खो जाते हैं,
जैसे बच्चे भरे बाज़ार में खो जाते हैं !

4.
Tujhe akele padhoon koi hum sabak na rahe,
Main chahata hun ki tujh par kisi ka haq na rahe.

तुझे अकेले पढ़ूँ कोई हम सबक न रहे,
मैं चाहता हूँ कि तुझ पर किसी का हक़ न रहे !

5.
Wo apne kandhon pe kunbe ka bojh rakhta hai,
Isiliye to qadam soch kar uthata hai.

वो अपने काँधों पे कुन्बे का बोझ रखता है,
इसीलिए तो क़दम सोच कर उठाता है !

6.
Aankhein to usko ghar se nikalne nahi deti,
Aansoo hai ki saamaan-e-safar baandhe hue hain.

आँखें तो उसको घर से निकलने नहीं देतीं,
आँसू हैं कि सामान-ए-सफ़र बाँधे हुए हैं !

7.
Safedi aa gayi baalon mein uske,
Wo baaizzat ghrana chahata tha.

सफ़ेदी आ गई बालों में उसके,
वो बाइज़्ज़त घराना चाहता था !

8.
Na jaane kaun si majburiyan pardes layi thi,
Wah jitni der tak zinda raha ghar yaad karta tha.

न जाने कौन सी मजबूरियाँ परदेस लाई थीं,
वह जितनी देर तक ज़िन्दा रहा घर याद करता था !

9.
Talash karte hain unko jaruraton wale,
Kahan gaye wo purane sharafaton wale.

तलाश करते हैं उनको ज़रूरतों वाले,
कहाँ गये वो पुराने शराफ़तों वाले !

10.
Wo khush hai ki bazar mein gali de di,
Main khush hun ehsan ki kimat nikal aayi.

वो ख़ुश है कि बाज़ार में गाली मुझे दे दी,
मैं ख़ुश हूँ एहसान की क़ीमत निकल आई !

11.
Use jali huyi lashein nazar nahi aati,
Magar wo sui se dhaga gujar deta hai.

उसे जली हुई लाशें नज़र नहीं आतीं,
मगर वो सूई से धागा गुज़ार देता है !

12.
Wo peharon baith kar tote se baatein karta rehta hai,
Chalo achcha hai ab nazarein badalna sikh jayega.

वो पहरों बैठ कर तोते से बातें करता रहता है,
चलो अच्छा है अब नज़रें बदलना सीख जायेगा !

13.
Use halat ne roka mujhe mere masayal ne,
Wafa ki rah mein dushwariyan dono taraf se hain.

उसे हालात ने रोका मुझे मेरे मसायल ने,
वफ़ा की राह में दुश्वारियाँ दोनों तरफ़ से हैं !

14.
Tujh se bichhada to pasand aa gayi betartibi,
Is se pehale mera kamara bhi ghazal jaisa tha.

तुझ से बिछड़ा तो पसंद आ गई बेतरतीबी,
इस से पहले मेरा कमरा भी ग़ज़ल जैसा था !

15.
Kahan ki hizaratein, kaisa safar, kaisa juda hona,
Kisi ki chah pairon mein duppata daal deti hai.

कहाँ की हिजरतें कैसा सफ़र कैसा जुदा होना,
किसी की चाह पैरों में दुपट्टा डाल देती है !

16.
Ghazal wo sinf-e-naajuk hai jise apni rafakat se,
Wo mahabuba bana leta hai main beti banata hun.

ग़ज़ल वो सिन्फ़-ए-नाज़ुक़ है जिसे अपनी रफ़ाक़त से,
वो महबूबा बना लेता है मैं बेटी बनाता हूँ !

17.
Wo ek gudiya jo mele mein kal dukan pe thi,
Dino ki baat hai pehale mere makan pe thi.

वो एक गुड़िया जो मेले में कल दुकान पे थी,
दिनों की बात है पहले मेरे मकान पे थी !

18.
Ladakpan mein kiye wade ki kimat kuch nahi hoti,
Anguthi hath mein rehti hai mangani tut jati hai.

लड़कपन में किए वादे की क़ीमत कुछ नहीं होती,
अँगूठी हाथ में रहती है मंगनी टूट जाती है !

19.
Wo jiske waaste pardesh ja raha hun main,
Bichhadte waqt usi ki taraf nahi dekha.

वो जिसके वास्ते परदेस जा रहा हूँ मैं,
बिछड़ते वक़्त उसी की तरफ़ नहीं देखा !

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Check Also

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bachche बच्चे)

1. Farishte aa ke unke jism par khushboo lagate hain, Wo bachche rail ke dibbe …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 + twenty =