Wednesday , December 11 2019
Home / Munawwar Rana / Munawwar Rana “Maa” Shayari (Vividh विविध)

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Vividh विविध)

1.
Hum sayadar ped zamane ke kaam aaye,
Jab sukhne lage to jalane ke kaam aaye.

हम सायादार पेड़ ज़माने के काम आये,
जब सूखने लगे तो जलाने के काम आये !

2.
Koyal bole ya gaureyya achcha lagta hai,
Apne gaon mein sab kuch bhaiya achcha lagta hai.

कोयल बोले या गौरेय्या अच्छा लगता है,
अपने गाँव में सब कुछ भैया अच्छा लगता है !

3.
Khandani wirasat ke nilam par aap apne ko taiyaar karte hue,
Us haweli ke sare makin ro diye us haweli ko bazaar karte hue.

ख़ानदानी विरासत के नीलाम पर आप अपने को तैयार करते हुए,
उस हवेली के सारे मकीं रो दिये उस हवेली को बाज़ार करते हुए !

4.
Udane se parinde ko shzar rok raha hai,
Ghar wale to khamosh hain ghar rok raha hai.

उड़ने से परिंदे को शजर रोक रहा है,
घर वाले तो ख़ामोश हैं घर रोक रहा है !

5.
Wo chahati hai ki aangan mein maut ho meri,
Kahan ki mitti hai mujhko kahan bulaati hai.

वो चाहती है कि आँगन में मौत हो मेरी,
कहाँ की मिट्टी है मुझको कहाँ बुलाती है !

6.
Numaaish par badan ki yun koi taiyaar kyon hota,
Agar sab ghar ho jate to ye bazar kyon hota.

नुमाइश पर बदन की यूँ कोई तैयार क्यों होता,
अगर सब घर हो जाते तो ये बाज़ार क्यों होता !

7.
Kachcha samajh ke bech na dena makan ko,
Shayad kabhi ye sar ko chhupane ke kaam aaye.

कच्चा समझ के बेच न देना मकान को,
शायद कभी ये सर को छुपाने के काम आये !

8.
Andheri raat mein aksar sunhari mishalein lekar,
Parindo ki musibat ka pata jugnu lagate hain.

अँधेरी रात में अक्सर सुनहरी मिशअलें लेकर,
परिंदों की मुसीबत का पता जुगनू लगाते हैं !

9.
Tune saari bajiyan jiti hain mujhpe baith kar,
Ab main budha ho raha hun astbal bhi chahiye.

तूने सारी बाज़ियाँ जीती हैं मुझपे बैठ कर,
अब मैं बूढ़ा हो रहा हूँ अस्तबल भी चाहिए !

10.
Mohaaziro ! yahi tarikh hai makanon ki,
Banane wala hamesha baramdon mein raha.

मोहाजिरो ! यही तारीख़ है मकानों की,
बनाने वाला हमेशा बरामदों में रहा !

11.
Tumhari aankhon ki tauheen hai zara socho,
Tumhara chahane wala sharab pita hai.

तुम्हारी आँखों की तौहीन है ज़रा सोचो,
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है !

12.
Kisi dukh ka kisi chehare se andaza nahi hota,
Shazar to dekhne se sab hare malum hote hain.

किसी दुख का किसी चेहरे से अंदाज़ा नहीं होता,
शजर तो देखने में सब हरे मालूम होते हैं !

13.
Jarurat se anaa ka bhari patthar tut jata hai,
Magar phir aadami hi andar-andar tut jata hai.

ज़रूरत से अना का भारी पत्थर टूट जात है,
मगर फिर आदमी भी अंदर-अंदर टूट जाता है !

14.
Mohabbat ek aisa khel hai jismein mere bhai,
Hamesha jitane wale pareshani mein rehate hain.

मोहब्बत एक ऐसा खेल है जिसमें मेरे भाई,
हमेशा जीतने वाले परेशानी में रहते हैं !

15.
Phir kabutar ki wafadari pe shaq mat karna,
Wah to ghar ko isi minar se pehachanta hai.

फिर कबूतर की वफ़ादारी पे शक मत करना,
वह तो घर को इसी मीनार से पहचानता है !

16.
Anaa ki mohani surat bigad deti hai,
Bade-badon ki jarurat bigad deti hai.

अना की मोहनी सूरत बिगाड़ देती है,
बड़े-बड़ों को ज़रूरत बिगाड़ देती है !

17.
Banakar ghaunsala rehata tha ek joda kabootar ka,
Agar aandhi nahi aati to ye minar bach jata.

बनाकर घौंसला रहता था इक जोड़ा कबूतर का,
अगर आँधी नहीं आती तो ये मीनार बच जाता !

18.
Un gharon mein jahan mitti ke ghade rahte hain,
Kad mein chhote hon magar log bade rahte hain.

उन घरों में जहाँ मिट्टी के घड़े रहते हैं,
क़द में छोटे हों मगर लोग बड़े रहते हैं !

19.
Pyaas ki shiddat se munh khole parinda gir pada,
Sidhiyon par haanfte akhbar wale ki tarah.

प्यास की शिद्दत से मुँह खोले परिंदा गिर पड़ा,
सीढ़ियों पर हाँफ़ते अख़बार वाले की तरह !

20.
Wo chidiyaan thi duayein padh ke jo mujhko jagati thi,
Main aksar sochta tha ye tilawat kaun karta hai.

वो चिड़ियाँ थीं दुआएँ पढ़ के जो मुझको जगाती थीं,
मैं अक्सर सोचता था ये तिलावत कौन करता है !

21.
Parinde chonch mein tinke dabate jate hain.
Main sochta hun ki ab ghar basa liya jaye.

परिंदे चोंच में तिनके दबाते जाते हैं,
मैं सोचता हूँ कि अब घर बसा लिया जाये !

22.
Aye mere bhai mere khoon ka badla le le,
Hath mein roz ye talwar nahi aayegi.

ऐ मेरे भाई मेरे ख़ून का बदला ले ले,
हाथ में रोज़ ये तलवार नहीं आयेगी !

23.
Naye kamron mein ye chizein purani kaun rakhta hai,
Parindo ke liye sheharon mein paani kaun rakhta hai.

नये कमरों में ये चीज़ें पुरानी कौन रखता है,
परिंदों के लिए शहरों में पानी कौन रखता है !

24.
Jisko bachchon mein pahunchane ki bahut ujalat ho,
Us se kehiye na kabhi Car chalane ke liye.

जिसको बच्चों में पहुँचने की बहुत उजलत हो,
उस से कहिये न कभी कार चलाने के लिए !

25.
So jate hai footpaath pe akhbar bichha kar,
Majdur kabhi nind ki goli nahi khate.

सो जाते हैं फुट्पाथ पे अखबार बिछा कर,
मज़दूर कभी नींद की गोलॊ नहीं खते !

26.
Pet ki khatir phootpaathon pe bech raha hun tasvirein,
Main kya janu roza hai ya mera roza tut gaya.

पेट की ख़ातिर फुटपाथों पे बेच रहा हूँ तस्वीरें,
मैं क्या जानूँ रोज़ा है या मेरा रोज़ा टूट गया !

27.
Jab us se guftgu kar li to phir shazara nahi puncha,
Hunar bakhiyagiri ka ek turpai mein khulta hai.

जब उससे गुफ़्तगू कर ली तो फिर शजरा नहीं पूछा,
हुनर बख़ियागिरी का एक तुरपाई में खुलता है !

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Check Also

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bachche बच्चे)

1. Farishte aa ke unke jism par khushboo lagate hain, Wo bachche rail ke dibbe …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × 4 =