Wednesday , December 11 2019
Home / Munawwar Rana / Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bhai भाई)

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bhai भाई)

1.
Main itani bebasi mein qaid-e-dushman mein nahi marta,
Agar mera bhi ek Bhai ladkpan mein nahi marta.

मैं इतनी बेबसी में क़ैद-ए-दुश्मन में नहीं मरता,
अगर मेरा भी एक भाई लड़कपन में नहीं मरता !

2.
Kanton se bach gaya tha magar phool chubh gaya,
Mere badan mein Bhai ka trishool chubh gaya.

काँटों से बच गया था मगर फूल चुभ गया,
मेरे बदन में भाई का त्रिशूल चुभ गया !

3.
Aye khuda thodi karam farmaai hona chahiye,
Itani Behane hai to phir ek Bhai hona chahiye.

ऐ ख़ुदा थोड़ी करम फ़रमाई होना चाहिए,
इतनी बहनें हैं तो फिर एक भाई होना चाहिए !

4.
Baap ki daulat se yun dono ne hissa le liya,
Bhai ne dastaar le lee maine juta le liya.

बाप की दौलत से यूँ दोनों ने हिस्सा ले लिया,
भाई ने दस्तार ले ली मैंने जूता ले लिया !

5.
Nihatha dekh kar mujhko ladaai karta hai,
Jo kaam usne kiya hai wo Bhai karta hai.

निहत्था देख कर मुझको लड़ाई करता है,
जो काम उसने किया है वो भाई करता है !

6.
Yahi tha ghar jahan mil-jul ke sab ek sath rehate the,
Yahi hai ghar alag Bhai ki aftaari nikalti hai.

यही था घर जहाँ मिल-जुल के सब एक साथ रहते थे,
यही है घर अलग भाई की अफ़्तारी निकलती है !

7.
Wah apne ghar mein raushan saari shmayein ginata rehta hai,
Akela Bhai khamoshi se Behane ginta rehata hai.

वह अपने घर में रौशन सारी शमएँ गिनता रहता है,
अकेला भाई ख़ामोशी से बहनें गिनता रहता है !

8.
Main apne Bhaiyon ke sath jab ghar se bahar nikalata hun,
Mujhe Yusuf ke jani dushmano ki yaad aati hai.

मैं अपने भाइयों के साथ जब बाहर निकलता हूँ,
मुझे यूसुफ़ के जानी दुश्मनों की याद आती है !

9.
Mere Bhai wahan paani se roza kholte honge,
Hata lo saamne se mujhse aftaari nahi hogi.

मेरे भाई वहाँ पानी से रोज़ा खोलते होंगे,
हटा लो सामने से मुझसे अफ़्तारी नहीं होगी !

10.
Jahan par gin ke roti Bhaiyon ko bhai dete ho,
Sabhi chizein wahin dekhi magar barkat nahi dekhi.

जहाँ पर गिन के रोटी भाइयों को भाई देते हों,
सभी चीज़ें वहाँ देखीं मगर बरकत नहीं देखी !

11.
Raat dekha hai bahaaron pe khizaan ko hanste,
Koi tohafaa mujhe shayad mera Bhai dega.

रात देखा है बहारों पे खिज़ाँ को हँसते,
कोई तोहफ़ा मुझे शायद मेरा भाई देगा !

12.
Tumhein aye Bhaiyon yun chhodna achcha nahi lekin,
Humein ab shaam se pehale thikaana dhund lena hai.

तुम्हें ऐ भाइयो यूँ छोड़ना अच्छा नहीं लेकिन,
हमें अब शाम से पहले ठिकाना ढूँढ लेना है !

13.
Gham se Lakshman ki tarah Bhai ka rishta hai mera,
Mujhko jangal mein akela nahi rehane deta.

ग़म से लछमन की तरह भाई का रिश्ता है मेरा,
मुझको जंगल में अकेला नहीं रहने देता !

14.
Jo log kam ho to kaandha jaroor de dena,
Sarhaane aake magar Bhai-Bhai na kehana.

जो लोग कम हों तो काँधा ज़रूर दे देना,
सरहाने आके मगर भाई-भाई मत कहना !

15.
Mohabbat ka ye jajba khuda ki den hai Bhai,
To mere raaste se kyun ye duniya hat nahi jati.

मोहब्बत का ये जज़्बा ख़ुदा की देन है भाई,
तो मेरे रास्ते से क्यूँ ये दुनिया हट नहीं जाती !

16.
Ye kurbe-qyaamat hai lahu kaisa “Munawwar”,
Paani bhi tujhe tera biraadar nahi dega.

ये कुर्बे-क़यामत है लहू कैसा “मुनव्वर”,
पानी भी तुझे तेरा बिरादर नहीं देगा !

17.
Aapne khul ke mohabbat nahi ki hai humse,
Aapn Bhai nahi kehate hai Miyaan kehate hain.

आपने खुल के मोहब्बत नहीं की है हमसे,
आप भाई नहीं कहते हैं मियाँ कहते हैं !

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Check Also

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Wah वह)

1. Kisi bhi mod par tumse wafadari nahi hogi, Humein maalum hai tum ko ye …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

13 − 4 =