Wednesday , December 11 2019
Home / Munawwar Rana / Khud Se Chalkar Nahi Ye Tarz-E-Sukhan Aaya Hai

Khud Se Chalkar Nahi Ye Tarz-E-Sukhan Aaya Hai

1.
Khud se chalkar nahi ye tarz-e-sukhan aaya hai,
Paanv daabe hain buzargon ke to fan aaya hai.

ख़ुद से चलकर नहीं ये तर्ज़-ए-सुखन आया है,
पाँव दाबे हैं बुज़र्गों के तो फ़न आया है !

2.
Humein buzurgon ki shafkat kabhi na mil paai,
Natija yah hai ki hum lofaron ke bich rahe.

हमें बुज़ुर्गों की शफ़क़त कभी न मिल पाई,
नतीजा यह है कि हम लोफ़रों के बीच रहे !

3.
Humeen girti hui deewar ko thaame rahe warna,
Salike se buzurgon ki nishani kaun rakhta hai.

हमीं गिरती हुई दीवार को थामे रहे वरना,
सलीके से बुज़ुर्गों की निशानी कौन रखता है !

4.
Ravish buzurgon ki shamil hai meri ghutti mein,
Jarurtan bhi Sakhi ki taraf nahi dekha.

रविश बुज़ुर्गों की शामिल है मेरी घुट्टी में,
ज़रूरतन भी सख़ी की तरफ़ नहीं देखा !

5.
Sadak se gujarte hain to bachche ped ginte hain,
Bade budhe bhi ginte hain wo sukhe ped ginte hain.

सड़क से जब गुज़रते हैं तो बच्चे पेड़ गिनते हैं,
बड़े बूढ़े भी गिनते हैं वो सूखे पेड़ गिनते हैं !

6.
Haweliyon ki chhatein gir gayi magar ab tak,
Mere buzurgon ka nasha nahi utarta hai.

हवेलियों की छतें गिर गईं मगर अब तक,
मेरे बुज़ुर्गों का नश्शा नहीं उतरता है !

7.
Bilakh rahe hain zamino pe bhukh se bachche,
Mere buzurgon ki daulat khandr ke niche hai.

बिलख रहे हैं ज़मीनों पे भूख से बच्चे,
मेरे बुज़ुर्गों की दौलत खण्डर के नीचे है !

8.
Mere buzurgon ko iski khabar nahi shayad,
Panap nahi saka jo ped bargadon mein raha.

मेरे बुज़ुर्गों को इसकी ख़बर नहीं शायद,
पनप नहीं सका जो पेड़ बरगदों में रहा !

9.
Ishq mein raay buzurgon se nahi li jati,
Aag bujhte huye chulhon se nahi li jati.

इश्क़ में राय बुज़ुर्गों से नहीं ली जाती,
आग बुझते हुए चूल्हों से नहीं ली जाती !

10.
Mere buzurgon ka saya tha jab talak mujh par,
Main apni umar se chhota dikhaai deta tha.

मेरे बुज़ुर्गों का साया था जब तलक मुझ पर,
मैं अपनी उम्र से छोटा दिखाई देता था !

11.
Bade-budhe kuyen mein nekiyaan kyon fenk aate hain,
Kuyen mein chhup ke aakhir kyon ye neki baith jati hai.

बड़े-बूढ़े कुएँ में नेकियाँ क्यों फेंक आते हैं,
कुएँ में छुप के आख़िर क्यों ये नेकी बैठ जाती है !

12.
Mujhe itna sataya hai mere apne ajijon ne,
Ki ab jangle bhala lagta hai ghar achcha nahi lagta.

मुझे इतना सताया है मरे अपने अज़ीज़ों ने,
कि अब जंगल भला लगता है घर अच्छा नहीं लगता !

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Check Also

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Wah वह)

1. Kisi bhi mod par tumse wafadari nahi hogi, Humein maalum hai tum ko ye …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten + twenty =