Wednesday , December 11 2019
Home / Munawwar Rana / Hamare Kuch Gunaho Ki Saza Bhi Saath Chalti Hai

Hamare Kuch Gunaho Ki Saza Bhi Saath Chalti Hai

1.
Hamare kuch gunahon ki saza bhi saath chalti hai,
Hum ab tanha nahi chalte dawa bhi saath chalti hai.

हमारे कुछ गुनाहों की सज़ा भी साथ चलती है,
हम अब तन्हा नहीं चलते दवा भी साथ चलती है !

2.
Kachche samar shzar se alag kar diye gaye,
Hum kamsini mein ghar se alag kar diye gaye.

कच्चे समर शजर से अलग कर दिये गये,
हम कमसिनी में घर से अलग कर दिये गये !

3.
Gautam ki tarah ghar se nikal kar nahi jate,
Hum raat mein chhup kar kahin baahar nahi jate.

गौतम की तरह घर से निकल कर नहीं जाते,
हम रात में छुप कर कहीं बाहर नहीं जाते !

4.
Humare saath chal kar dekh lein ye bhi chaman wale,
Yahan ab koyla chunte hain phoolon se badan wale.

हमारे साथ चल कर देख लें ये भी चमन वाले,
यहाँ अब कोयला चुनते हैं फूलों-से बदन वाले !

5.
Itna roye the lipat kar dar-o-deewar se hum,
Shehar mein aa ke bahut din rahe bimar se hum.

इतना रोये थे लिपट कर दर-ओ-दीवार से हम,
शहर में आके बहुत दिन रहे बीमार-से हम !

6.
Main apne bachchon se aankhen mila nahi sakta,
Main khali jeb liye apne ghar na jaunga.

मैं अपने बच्चों से आँखें मिला नहीं सकता,
मैं ख़ाली जेब लिए अपने घर न जाऊँगा !

7.
Hum ek titali ki khatir bhatkte firte the,
Kabhi na aayenge wo din shararton wale.

हम एक तितली की ख़ातिर भटकते फिरते थे,
कभी न आयेंगे वो दिन शरारतों वाले !

8.
Mujhe sabhalne wala kahan se aayega,
Main gir raha hun purani imaarton ki tarah.

मुझे सँभालने वाला कहाँ से आयेगा,
मैं गिर रहा हूँ पुरानी इमारतों की तरह !

9.
Pairon ko mere deeda-e-tar banndhe hue hai,
Zanjeer ki surat mujhe ghar baandhe hue hai.

पैरों को मेरे दीदा-ए-तर बाँधे हुए है,
ज़ंजीर की सूरत मुझे घर बाँधे हुए है !

10.
Dil aisa ki sidhe kiye jute bhi badon ke,
Jid itani ki khud taj utha kar nahi pehana.

दिल ऐसा कि सीधे किए जूते भी बड़ों के,
ज़िद इतनी कि खुद ताज उठा कर नहीं पहना !

11.
Chamak aise nahi aati hai khuddari ke chehare par,
Ana ko humne do-do waqt ka faaka karaaya hai.

चमक ऐसे नहीं आती है ख़ुद्दारी के चेहरे पर,
अना को हमने दो-दो वक़्त का फ़ाक़ा कराया है !

12.
Zara si baat par aankhein barsne lagti thi,
Kahan chale gaye mausam wo chahaton wale.

ज़रा-सी बात पे आँखें बरसने लगती थीं,
कहाँ चले गये मौसम वो चाहतों वाले !

13.
Main is khyaal se jata nahi hun gaon kabhi,
Wahan ke logon ne dekha hai bachpan mera.

मैं इस ख़याल से जाता नहीं हूँ गाँव कभी,
वहाँ के लोगों ने देखा है बचपना मेरा !

14.
Hum na Dilli the na majdur ki beti lekin,
Qaafile jo bhi idhar aaye humein lut gaye.

हम न दिल्ली थे न मज़दूर की बेटी लेकिन,
क़ाफ़िले जो भी इधर आये हमें लूट गये !

15.
Ab mujhe apne hareefo se zara bhi dar nahi,
Mere kapde bhaiyon ke jism par aane lage.

अब मुझे अपने हरीफ़ों से ज़रा भी डर नहीं,
मेरे कपड़े भाइयों के जिस्म पर आने लगे !

16.
Tanha mujhe kabhi na samjhana mere hareef,
Ek bhai mar chuka hai magar ek ghar mein hai.

तन्हा मुझे कभी न समझना मेरे हरीफ़,
इक भाई मर चुका है मगर एक घर में है !

17.
Maidaan se ab laut ke jana bhi dushwaar,
Kis mod pe dushman se karaabat nikal gayi.

मैदान से अब लौट के जाना भी है दुश्वार,
किस मोड़ पे दुश्मन से क़राबत निकल गई !

18.
Muqaddar mein likha kar laye hain hum dar-b-dar firna,
Parinde koi mausam ho pareshani mein rehate hai.

मुक़द्दर में लिखा कर लाये हैं हम दर-ब-दर फिरना,
परिंदे कोई मौसम हो परेशानी में रहते हैं !

19.
Main patriyon ki tarah zameen par pada raha,
Seene se gham gujarte rahe rail ki tarah.

मैं पटरियों की तरह ज़मीं पर पड़ा रहा,
सीने से ग़म गुज़रते रहे रेल की तरह !

20.
Main hun mitti to mujhe kuzagaron tak pahuncha,
Main khilauna hun to bachchon ke hawale kar de.

मैं हूँ मिट्टी तो मुझे कूज़ागरों तक पहुँचा,
मैं खिलौना हूँ तो बच्चों के हवाले कर दे !

21.
Humari zindagi ka is tarah har saal katata hai,
Kabhi gaadi paltati hai kabhi tirpaal katata hai.

हमारी ज़िन्दगी का इस तरह हर साल कटता है,
कभी गाड़ी पलटती है कभी तिरपाल कटता है !

22.
Shayad humare paanv mein til hai ki aaj tak,
Ghar mein kabhi sukoon se do din nahi rahe.

शायद हमारे पाँव में तिल है कि आज तक,
घर में कभी सुकून से दो दिन नहीं रहे !

23.
Main wasiyat kar na saka na koi wada le saka,
Maine socha bhi nahi tha haadasa ho jayega.

मैं वसीयत कर सका न कोई वादा ले सका,
मैंने सोचा भी नहीं था हादसा हो जायेगा !

24.
Hum thak haar ke laute the lekin jane kyon,
Rengti badhti sarkti chitiyaan achchi lagi.

हम बहुत थक हार के लौटे थे लेकिन जाने क्यों,
रेंगती बढ़ती सरकती चीटियां अच्छी लगीं !

25.
Muddaton baad koi shakhs hai aane wala,
Aye mere aansuon ! tum deeda-e-tar mein rehana.

मुद्दतों बाद कोई शख्स है आने वाला,
ऐ मेरे आँसुओ ! तुम दीदा-ए-तर में रहना !

26.
Takllufaat ne zakhmon ko kar diya nasur,
Kabhi mujhe kabhi takhir chaaragar ko huyi.

तक़ल्लुफ़ात ने ज़ख़्मों को कर दिया नासूर,
कभी मुझे कभी ताख़ीर चारागर को हुई !

27.
Apne bikane ka bahut dukh hai humein bhi lekin,
Muskurate huye milte hai kharidar se hum.

अपने बिकने का बहुत दुख है हमें भी लेकिन,
मुस्कुराते हुए मिलते हैं ख़रीदार से हम !

28.
Humein din tarikh to yaad nahi bas isse andaza kar lo,
Hum us mausam mein bichhade the jab gaon mein jhula padta hai.

हमें दिन तारीख़ तो याद नहीं बस इससे अंदाज़ा कर लो,
हम उस मौसम में बिछ्ड़े थे जब गाँव में झूला पड़ता है !

29.
Main ek faqeer ke honthon ki muskurahat hun,
Kisi se bhi meri kimat ada nahi hoti.

मैं इक फ़क़ीर के होंठों की मुस्कुराहट हूँ,
किसी से भी मेरी क़ीमत अदा नहीं होती !

30.
Hum to ek akhbaar se kati huyi tasvir hai,
Jisko kagaz chunne wale kal utha le jayenge.

हम तो एक अख़बार से काटी हुई तस्वीर हैं,
जिसको काग़ज़ चुनने वाले कल उठा ले जाएँगे !

31.
Ana ne mere bachchon ki hansi bhi chhin li mujhse,
Yaha jane nahi deti wahn jane nahi deti.

अना ने मेरे बच्चों की हँसी भी छीन ली मुझसे,
यहाँ जाने नहीं देती वहाँ जाने नहीं देती !

32.
Jane ab kitna safar baaki bacha hai umar ka,
Zindagi ubale huye khane talak to aa gayi.

जाने अब कितना सफ़र बाक़ी बचा है उम्र का,
ज़िन्दगी उबले हुए खाने तलक तो आ गई !

33.
Hume bachchon ka mustkabil liye firta hai sadkon par,
Nahi to garmiyon mein kab koi ghar se nikalta hai.

हमें बच्चों का मुस्तक़बिल लिए फिरता है सड़कों पर,
नहीं तो गर्मियों में कब कोई घर से निकलता है !

34.
Sone ke kharidaar na dhundo ki yahan par,
Ek umar huyi logo ne pital nahi dekha.

सोने के ख़रीदार न ढूँढो कि यहाँ पर,
एक उम्र हुई लोगों ने पीतल नहीं देखा !

35.
Main apne gaon ka mukhiya bhi hun bachcho ka qaatil bhi,
Jala kar dudh kuch logo ki khatir ghee banata hun.

मैं अपने गाँव का मुखिया भी हूँ बच्चों का क़ातिल भी,
जला कर दूध कुछ लोगों की ख़ातिर घी बनाता हूँ !

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Check Also

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Vividh विविध)

1. Hum sayadar ped zamane ke kaam aaye, Jab sukhne lage to jalane ke kaam …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

13 − eight =