Wednesday , April 8 2020

Mulk Shayari

Munawwar Rana “Maa” Part 3

1.
Ab dekhiye kaun aaye janaze ko uthane,
Yun taar to mere sabhi beton ko milega.

अब देखिये कौन आए जनाज़े को उठाने,
यूँ तार तो मेरे सभी बेटों को मिलेगा !

2.
Ab andhera mustaqil rehta hai is dehleez par,
Jo humari muntazir rehti thi aankhen bujh gayi.

अब अँधेरा मुस्तक़िल रहता है इस दहलीज़ पर,
जो हमारी मुन्तज़िर रहती थीं आँखें बुझ गईं !

3.
Agar kisi ki dua mein asar nahi hota,
To mere paas se kyon teer aa ke laut gaya.

अगर किसी की दुआ में असर नहीं होता,
तो मेरे पास से क्यों तीर आ के लौट गया !

4.
Abhi zinda hai Maa meri mujhe kuch bhi nahi hoga,
Main jab ghar se nikalta hun dua bhi saath chalti hai.

अभी ज़िन्दा है माँ मेरी मुझे कु्छ भी नहीं होगा,
मैं जब घर से निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है !

5.
Kahin benoor na ho jayen wo budhi aankhen,
Ghar mein darte the khabar bhi mere bhai dete.

कहीं बे्नूर न हो जायें वो बूढ़ी आँखें,
घर में डरते थे ख़बर भी मेरे भाई देते !

6.
Kya jane kahan hote mere phool-se bachche,
Wirse mein agar maa ki dua bhi nahi milti.

क्या जाने कहाँ होते मेरे फूल-से बच्चे,
विरसे में अगर माँ की दुआ भी नहीं मिलती !

7.
Kuch nahi hoga to aanchal mein chhupa legi mujhe,
Maa kabhi sar pe khuli chhat nahi rahne degi.

कुछ नहीं होगा तो आँचल में छुपा लेगी मुझे,
माँ कभी सर पे खुली छत नहीं रहने देगी !

8.
Kadamon mein laa ke daal di sab nematen magar,
Sauteli Maa ko bachche se nafarat wahi rahi.

क़दमों में ला के डाल दीं सब नेमतें मगर,
सौतेली माँ को बच्चे से नफ़रत वही रही !

9.
Dhnsati hui qabron ki taraf dekh liya tha,
Maa-Baap ke chehron ki taraf dekh liya tha.

धँसती हुई क़ब्रों की तरफ़ देख लिया था,
माँ बाप के चेहरों की तरफ़ देख लिया था !

10.
Koi dukhi ho kabhi kehna nahi padta uss se,
Wo zaroorat ko talabagaar se pehchanta hai.

कोई दुखी हो कभी कहना नहीं पड़ता उससे,
वो ज़रूरत को तलबगार से पहचानता है !

11.
Kisi ko dekh kar rote hue hansna nahi achha,
Ye wo aansoo hain jinse takhte-sultaani palatata hai.

किसी को देख कर रोते हुए हँसना नहीं अच्छा,
ये वो आँसू हैं जिनसे तख़्ते-सुल्तानी पलटता है !

12.
Din bhar ki mashkkat se badan chur hain lekin,
Maa ne mujhe dekha to thakan bhool gayi.

दिन भर की मशक़्क़त से बदन चूर है लेकिन,
माँ ने मुझे देखा तो थकन भूल गई है !

13.
Duayen Maa ki pahunchane ko milon meel jati hain.
Ki jab pardesh jane ke liye beta nikalata hai,

दुआएँ माँ की पहुँचाने को मीलों मील जाती हैं,
कि जब परदेस जाने के लिए बेटा निकलता है !

14.
Diya hai Maa ne mujhe dudh bhi wajoo karke,
Mahaaze-jang se main laut kar na jaunga.

दिया है माँ ने मुझे दूध भी वज़ू करके,
महाज़े-जंग से मैं लौट कर न जाऊँगा !

15.
Khilaunon ki taraf bachhe ko Maa jane nahi deti,
Magar aage khilono ki dukaan jane nahi deti.

खिलौनों की तरफ़ बच्चे को माँ जाने नहीं देती,
मगर आगे खिलौनों की दुकाँ जाने नहीं देती !

16.
Dikhate hai padosi mulk aankhen to dikhane do,
Kahin bachhon ke bose se bhi Maa ka gaal katata hai.

दिखाते हैं पड़ोसी मुल्क आँखें तो दिखाने दो,
कहीं बच्चों के बोसे से भी माँ का गाल कटता है !

17.
Bahan ka pyar Maa ki mamta do chikhti aankhen,
Yahi tohafein the wo jinko main aksar yaad karta tha.

बहन का प्यार माँ की मामता दो चीखती आँखें,
यही तोहफ़े थे वो जिनको मैं अक्सर याद करता था !

18.
Barbaad kar diya humen pardesh ne magar,
Maa sabse keh rahi hai ki beta maje mein hai.

बरबाद कर दिया हमें परदेस ने मगर,
माँ सबसे कह रही है कि बेटा मज़े में है !

19.
Badi bechaaragi se lauti baaraat taqte hain,
Bahadur ho ke bhi majboor hote hain dulhan wale.

बड़ी बेचारगी से लौटती बारात तकते हैं,
बहादुर हो के भी मजबूर होते हैं दुल्हन वाले !

20.
Khane ki cheezein Maa ne jo bheji hain gaon se,
Baasi bhi ho gayi hain to lazzat wahi rahi.

खाने की चीज़ें माँ ने जो भेजी हैं गाँव से,
बासी भी हो गई हैं तो लज़्ज़त वही रही !

Munawwar Rana “Maa” Part 1

1.
Hanste hue Maa-Baap ki gaali nahi khaate,
Bachche hain to kyon shauq se mitti nahi khaate.

हँसते हुए माँ-बाप की गाली नहीं खाते,
बच्चे हैं तो क्यों शौक़ से मिट्टी नहीं खाते !

2.
Ho chaahe jis ilaaqe ki zaban bachche samajhte hain,
Sagi hai ya ki sauteli hai Maa bachche samajhte hain.

हो चाहे जिस इलाक़े की ज़बाँ बच्चे समझते हैं,
सगी है या कि सौतेली है माँ बच्चे समझते हैं !

3.
Hawa dukhon ki jab aayi kabhi khizaan ki tarah,
Mujhe chhupa liya mitti ne meri Maa ki tarah.

हवा दुखों की जब आई कभी ख़िज़ाँ की तरह,
मुझे छुपा लिया मिट्टी ने मेरी माँ की तरह !

4.
Sisakiyaan uski na dekhi gayi mujhse “Rana”,
Ro pada main bhi use pehli kamaayi dete.

सिसकियाँ उसकी न देखी गईं मुझसे “राना”,
रो पड़ा मैं भी उसे पहली कमाई देते !

5.
Sar-phire log humein dushman-e-jaan kehte hain,
Hum jo is mulk ki mitti ko bhi Maa kehte hain.

सर फिरे लोग हमें दुश्मन-ए-जाँ कहते हैं,
हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी माँ कहते हैं !

6.
Mujhe bas is liye achchhi bahaar lagati hai,
Ki ye bhi Maa ki tarah khush-gawaar lagati hai.

मुझे बस इस लिए अच्छी बहार लगती है,
कि ये भी माँ की तरह ख़ुशगवार लगती है !

7.
Maine rote hue ponchhe the kisi din aansoo,
Muddaton Maa ne nahi dhoya dupatta apna.

मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आँसू,
मुद्दतों माँ ने नहीं धोया दुपट्टा अपना !

8.
Bheje gaye farishte humaare bachaav ko,
Jab haadsaat Maa ki dua se ulajh pade.

भेजे गए फ़रिश्ते हमारे बचाव को,
जब हादसात माँ की दुआ से उलझ पड़े !

9.
Labon pe us ke kabhi bad-dua nahi hoti,
Bas ek Maa hai jo mujh se khafa nahi hoti.

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती,
बस एक माँ है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती !

10.
Taar par bathi hui chidiyon ko sota dekh kar,
Farsh par sota hua beta bahut achchha laga.

तार पर बैठी हुई चिड़ियों को सोता देख कर,
फ़र्श पर सोता हुआ बेटा बहुत अच्छा लगा !!

11.
Is chehre mein poshida hai ek kaum ka chehra,
Chehre ka utar jana munasib nahi hoga.

इस चेहरे में पोशीदा है इक क़ौम का चेहरा,
चेहरे का उतर जाना मुनासिब नहीं होगा !

12.
Ab bhi chalti hai jab aandhi kabhi gham ki “Rana”,
Maa ki mamta mujhe baahon mein chhupa leti hai.

अब भी चलती है जब आँधी कभी ग़म की “राना”,
माँ की ममता मुझे बाहों में छुपा लेती है !

13.
Musibat ke dinon mein humesha sath rahti hai,
Payambar kya pareshaani mein ummat chhod sakta hai ?

मुसीबत के दिनों में हमेशा साथ रहती है,
पयम्बर क्या परेशानी में उम्मत छोड़ सकता है ?

14.
Puraana ped buzurgon ki tarah hota hai,
Yahi bahut hai ki taaza hawayen deta hai.

पुराना पेड़ बुज़ुर्गों की तरह होता है,
यही बहुत है कि ताज़ा हवाएँ देता है !

15.
Kisi ke paas aate hain to dariya sukh jate hain,
Kisi ke ediyon se ret ka chashma nikalta hai.

किसी के पास आते हैं तो दरिया सूख जाते हैं,
किसी के एड़ियों से रेत का चश्मा निकलता है !

16.
Jab tak raha hun dhoop mein chadar bana raha,
Main apni Maa ka aakhiri jevar bana raha.

जब तक रहा हूँ धूप में चादर बना रहा,
मैं अपनी माँ का आखिरी ज़ेवर बना रहा !

17.
Dekh le zalim shikaari ! Maa ki mamata dekh le,
Dekh le chidiya tere daane talak to aa gayi.

देख ले ज़ालिम शिकारी ! माँ की ममता देख ले,
देख ले चिड़िया तेरे दाने तलक तो आ गई !

18.
Mujhe bhi us ki judai satate rehti hai,
Use bhi khwaab mein beta dikhaayi deta hai.

मुझे भी उसकी जुदाई सताती रहती है,
उसे भी ख़्वाब में बेटा दिखाई देता है !

19.
Muflisi ghar mein theharne nahi deti usko,
Aur pardesh mein beta nahi rahne deta.

मुफ़लिसी घर में ठहरने नहीं देती उसको,
और परदेस में बेटा नहीं रहने देता !

20.
Agar school mein bachche hon ghar achchha nahi lagta,
Parindon ke na hone par shajar achchha nahi lagta.

अगर स्कूल में बच्चे हों घर अच्छा नहीं लगता,
परिन्दों के न होने पर शजर अच्छा नहीं लगता !