Home / Mulaqaat Shayari

Mulaqaat Shayari

Barson ke baad dekha ek shakhs dilruba sa..

Barson ke baad dekha ek shakhs dilruba sa,
Ab zehan mein nahi hai par naam tha bhala sa.

Abro khinche khinche se aankhen jhuki jhuki si,
Baaten ruki ruki si lehja thaka thaka sa.

Alfaaz the ki jugnu aawaz ke safar mein,
Ban jaaye jungalon mein jis tarah rasta sa.

Khwabon mein khwab uske yaadon mein yaad uski,
Nindon mein ghul gaya ho jaise ki rat-jaga sa.

Pahle bhi log aaye kitne hi zindagi mein,
Woh har tarah se lekin auron se tha juda sa.

Kuch ye ki muddaton se hum bhi nahi the roye,
Kuch zahar mein ghula tha ahbaab ka dilasa.

Phir yun hua ki sawan aankhon mein aa base the,
Phir yun hua ki jaise dil bhi tha aablaa sa.

Ab sach kahen to yaaro hum ko khabar nahi thi,
Ban jayega qayaamat ek waaqiya zara sa.

Tewar the be-rukhi ke andaaz dosti ka,
Woh ajnabi tha lekin lagta tha aashna sa.

Hum dasht the ki dariya hum zahar the ki amrit,
Na haq the jaam hum ko jab wo nahi tha pyasa.

Humne bhi usko dekha kal shaam ittefaqan,
Apna bhi haal hai ab logo “Faraz” ka sa .

बरसों के बाद देखा एक शख्स दिलरुबा सा,
अब ज़हन में नहीं है पर नाम था भला सा !

अबरो खिंचे खिंचे से आखें झुकी झुकी सी,
बातें रुकी रुकी सी, लहजा थका थका सा !

अलफ़ाज़ थे की जुगनु आवाज़ के सफ़र में,
बन जाए जंगलों में जिस तरह रास्ता सा !

ख़्वाबों में ख्वाब उसके यादों में याद उसकी,
नींदों में घुल गया हो जैसे की रात-जगा सा !

पहले भी लोग आये कितने ही ज़िन्दगी में,
वह हर तरह से लेकिन औरों से था जुदा सा !

कुछ ये की मुद्दतों से हम भी नहीं थे रोये,
कुछ ज़हर में घुला था अहबाब का दिलासा !

फिर यूँ हुआ कि सावन आँखों में आ बसे थे,
फिर यूँ हुआ कि जैसे दिल भी था अबला सा !

अब सच कहें तो यारो हम को खबर नहीं थी,
बन जायेगा क़यामत एक वाकिया ज़रा सा !

तेवर थे बे-रुखी के अंदाज़ दोस्ती का,
वह अजनबी था लेकिन लगता था आशना सा !

हम दश्त थे की दरिया हम ज़हर थे कि अमृत,
ना हक़ थे ज़ाम हम को जब वो नहीं था प्यासा !

हमने भी उसको देखा कल शाम इत्तेफ़ाक़न,
अपना भी हाल है अब लोगो “फ़राज़” का सा !!

 

Aakhiri mulaqat..

Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Do panv bane hariyali par
Ek titli baithi dali par
Kuch jagmag jugnu jangal se
Kuch jhumte hathi baadal se
Ye ek kahani nind bhari
Ek takht pe baithi ek pari
Kuch gin gin karte parwane
Do nanhe nanhe dastane
Kuch udte rangin ghubare
Babbu ke dupatte ke tare
Ye chehra banno budhi ka
Ye tukda maa ki chudi ka
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Alsai hui rut sawan ki
Kuch saundhi khushbu aangan ki
Kuch tuti rassi jhule ki
Ek chot kasakti kulhe ki
Sulgi si angithi jadon mein
Ek chehra kitni aadon mein
Kuch chandni raatein garmi ki
Ek lab par baaten narmi ki
Kuch rup hasin kashanon ka
Kuch rang hare maidanon ka
Kuch haar mahakti kaliyon ke
Kuch nasm watan ki galiyon ke
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch chand chamakte galon ke
Kuch bhanwre kale baalon ke
Kuch nazuk shiknen aanchal ki
Kuch narm lakiren kajal ki
Ek khoi kadi afsanon ki
Do aankhein raushan-danon ki
Ek surkh dulai got lagi
Kya jaane kab ki chot lagi
Ek chhalla phiki rangat ka
Ek loket dil ki surat ka
Rumal kayi resham se kadhe
Wo khat jo kabhi main ne na padhe
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch ujdi mangen shamon ki
Aawaz shikasta jamon ki
Kuch tukde khali botal ke
Kuch ghungru tuti pael ke
Kuch bikhre tinke chilman ke
Kuch purze apne daman ke
Ye tare kuch tharraye hue
Ye git kabhi ke gaye hue
Kuch sher purani ghazlon ke
Unwan adhuri nazmon ke
Tuti huyi ek ashkon ki ladi
Ek khushk qalam ek band ghadi
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch rishte tute tute se
Kuch sathi chhute chhute se
Kuch bigdi bigdi taswirein
Kuch dhundli dhundli tahrirein
Kuch aansu chhalke chhalke se
Kuch moti dhalke dhalke se
Kuch naqsh ye hairan hairan se
Kuch aks ye larzan larzan se
Kuch ujdi ujdi duniya mein
Kuch bhatki bhatki aashaein
Kuch bikhre bikhre sapne hain
Ye ghair nahi sab apne hain
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain. !!

मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

दो पाँव बने हरियाली पर
एक तितली बैठी डाली पर
कुछ जगमग जुगनू जंगल से
कुछ झूमते हाथी बादल से
ये एक कहानी नींद भरी
इक तख़्त पे बैठी एक परी
कुछ गिन गिन करते परवाने
दो नन्हे नन्हे दस्ताने
कुछ उड़ते रंगीं ग़ुबारे
बब्बू के दुपट्टे के तारे
ये चेहरा बन्नो बूढ़ी का
ये टुकड़ा माँ की चूड़ी का
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

अलसाई हुई रुत सावन की
कुछ सौंधी ख़ुश्बू आँगन की
कुछ टूटी रस्सी झूले की
इक चोट कसकती कूल्हे की
सुलगी सी अँगीठी जाड़ों में
इक चेहरा कितनी आड़ों में
कुछ चाँदनी रातें गर्मी की
इक लब पर बातें नरमी की
कुछ रूप हसीं काशानों का
कुछ रंग हरे मैदानों का
कुछ हार महकती कलियों के
कुछ नाम वतन की गलियों के
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ चाँद चमकते गालों के
कुछ भँवरे काले बालों के
कुछ नाज़ुक शिकनें आँचल की
कुछ नर्म लकीरें काजल की
इक खोई कड़ी अफ़्सानों की
दो आँखें रौशन-दानों की
इक सुर्ख़ दुलाई गोट लगी
क्या जाने कब की चोट लगी
इक छल्ला फीकी रंगत का
इक लॉकेट दिल की सूरत का
रूमाल कई रेशम से कढ़े
वो ख़त जो कभी मैंने न पढ़े
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
में ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ उजड़ी माँगें शामों की
आवाज़ शिकस्ता जामों की
कुछ टुकड़े ख़ाली बोतल के
कुछ घुँगरू टूटी पायल के
कुछ बिखरे तिनके चिलमन के
कुछ पुर्ज़े अपने दामन के
ये तारे कुछ थर्राए हुए
ये गीत कभी के गाए हुए
कुछ शेर पुरानी ग़ज़लों के
उनवान अधूरी नज़्मों के
टूटी हुई इक अश्कों की लड़ी
इक ख़ुश्क क़लम इक बंद घड़ी
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ रिश्ते टूटे टूटे से
कुछ साथी छूटे छूटे से
कुछ बिगड़ी बिगड़ी तस्वीरें
कुछ धुँदली धुँदली तहरीरें
कुछ आँसू छलके छलके से
कुछ मोती ढलके ढलके से
कुछ नक़्श ये हैराँ हैराँ से
कुछ अक्स ये लर्ज़ां लर्ज़ां से
कुछ उजड़ी उजड़ी दुनिया में
कुछ भटकी भटकी आशाएँ
कुछ बिखरे बिखरे सपने हैं
ये ग़ैर नहीं सब अपने हैं
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं !!