Wednesday , April 8 2020

Muflisi Shayari

Muskura kar khitab karte ho..

Muskura kar khitab karte ho,
Aadaten kyun kharab karte ho.

Mar do mujh ko rahm-dil ho kar,
Kya ye kar-e-sawab karte ho.

Muflisi aur kis ko kahte hain,
Daulaton ka hisab karte ho.

Sirf ek iltija hai chhoti si,
Kya use baryab karte ho.

Hum to tum ko pasand kar baithe,
Tum kise intikhab karte ho.

Khar ki nok ko lahu de kar,
Intizar-e-gulab karte ho.

Ye nai ehtiyat dekhi hai,
Aaine se hijab karte ho.

Kya zarurat hai bahs karne ki,
Kyun kaleja kabab karte ho.

Ho chuka jo hisab hona tha,
Aur ab kya hisab karte ho.

Ek din aye “Adam” na pi to kya,
Roz shaghl-e-sharab karte ho.

Kitne be-rahm ho “Adam” tum bhi,
Zikr-e-ahd-e-shabab karte ho.

Ho kisi ki khushi gar is mein “Adam”,
Jurm ka irtikab karte ho. !!

मुस्कुरा कर ख़िताब करते हो,
आदतें क्यूँ ख़राब करते हो !

मार दो मुझ को रहम-दिल हो कर,
क्या ये कार-ए-सवाब करते हो !

मुफ़्लिसी और किस को कहते हैं,
दौलतों का हिसाब करते हो !

सिर्फ़ एक इल्तिजा है छोटी सी,
क्या उसे बारयाब करते हो !

हम तो तुम को पसंद कर बैठे,
तुम किसे इंतिख़ाब करते हो !

ख़ार की नोक को लहू दे कर,
इंतिज़ार-ए-गुलाब करते हो !

ये नई एहतियात देखी है,
आइने से हिजाब करते हो !

क्या ज़रूरत है बहस करने की,
क्यूँ कलेजा कबाब करते हो !

हो चुका जो हिसाब होना था,
और अब क्या हिसाब करते हो !

एक दिन ऐ “अदम” न पी तो क्या,
रोज़ शग़्ल-ए-शराब करते हो !

कितने बे-रहम हो “अदम” तुम भी,
ज़िक्र-ए-अहद-ए-शबाब करते हो !

हो किसी की ख़ुशी गर इस में “अदम”,
जुर्म का इर्तिकाब करते हो !!

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Gurabat गुरबत)

1.
Ghar ki diwar pe kauve nahi achche lagte,
Muflisi mein ye tamashe nahi achche lagte.

घर की दीवार पे कौवे नहीं अच्छे लगते,
मुफ़लिसी में ये तमाशे नहीं अच्छे लगते !

2.
Muflisi ne sare aangan mein andhera kar diya,
Bhai khali hath laute aur Behane bujh gayi.

मुफ़लिसी ने सारे आँगन में अँधेरा कर दिया,
भाई ख़ाली हाथ लौटे और बहनें बुझ गईं !

3.
Amiri resham-o-kamkhwab mein nangi nazar aayi,
Garibi shaan se ek taat ke parde mein rehati hai.

अमीरी रेशम-ओ-कमख़्वाब में नंगी नज़र आई,
ग़रीबी शान से इक टाट के पर्दे में रहती है !

4.
Isi gali mein wo bhukha kisan rahata hai,
Ye wo zameen hai jahan aasman rahata hai.

इसी गली में वो भूखा किसान रहता है,
ये वो ज़मीं है जहाँ आसमान रहता है !

5.
Dehleez pe sar khole khadi hogi jarurat,
Ab ase ghar mein jana munasib nahi hoga.

दहलीज़ पे सर खोले खड़ी होगी ज़रूरत,
अब ऐसे घर में जाना मुनासिब नहीं होगा !

6.
Eid ke khauf ne rozon ka maza chhin liya,
Muflisi mein ye mahina bhi bura lagta hai.

ईद के ख़ौफ़ ने रोज़ों का मज़ा छीन लिया,
मुफ़लिसी में ये महीना भी बुरा लगता है !

7.
Apne ghar mein sar jhukaye is liye aaya hun main,
Itani majduri to bachchon ki dua kha jayegi.

अपने घर में सर झुकाये इस लिए आया हूँ मैं,
इतनी मज़दूरी तो बच्चे की दुआ खा जायेगी !

8.
Allaah gareebon ka madadgar hai “Rana”,
Hum logon ke bachche kabhi sardi nahi khate.

अल्लाह ग़रीबों का मददगार है “राना”,
हम लोगों के बच्चे कभी सर्दी नहीं खाते !

9.
Bojh uthana shauk kahan hai majburi ka suda hai,
Rehate-rehate station par log kuli ho jate hain.

बोझ उठाना शौक़ कहाँ है मजबूरी का सौदा है,
रहते-रहते स्टेशन पर लोग कुली हो जाते हैं !

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bachche बच्चे)

1.
Farishte aa ke unke jism par khushboo lagate hain,
Wo bachche rail ke dibbe mein jo jhaadu lagaate hain.

फ़रिश्ते आ के उनके जिस्म पर ख़ुशबू लगाते हैं,
वो बच्चे रेल के डिब्बे में जो झाड़ू लगाते हैं !

2.
Humakte khelte bachchon ki shaitaani nahi jati,
Magar phir bhi humare ghar ki veeraani nahi jati.

हुमकते खेलते बच्चों की शैतानी नहीं जाती,
मगर फिर भी हमारे घर की वीरानी नहीं जाती !

3.
Apne mustkbil ki chaadar par rafu karte huye,
Maszidon mein dekhiye bachche waju karte huye.

अपने मुस्तक़्बिल की चादर पर रफ़ू करते हुए,
मस्जिदों में देखिये बच्चे वज़ू करते हुए !

4.
Mujhe is shehar ki sab ladkiyaan aadaab karti hain,
Main bachchon ki kalaai ke liye raakhi banata hun.

मुझे इस शहर की सब लड़कियाँ आदाब करती हैं,
मैं बच्चों की कलाई के लिए राखी बनाता हूँ !

5.
Ghar ka bhojh uthane wale bachche ki taqdeer na punchh,
Bachpan ghar se baahar nikala aur khilauna tut gaya.

घर का बोझ उठाने वाले बच्चे की तक़दीर न पूछ,
बचपन घर से बाहर निकला और खिलौना टूट गया !

6.
Jo ashq gunge the wo arje-haal karne lage,
Humare bachche humin par sawal karne lage.

जो अश्क गूँगे थे वो अर्ज़े-हाल करने लगे,
हमारे बच्चे हमीं पर सवाल करने लगे !

7.
Jab ek waakya bachpan ka humko yaad aaya,
Hum un parindo ko phir se gharon mein chhod aaye.

जब एक वाक़्या बचपन का हमको याद आया,
हम उन परिंदों को फिर से घरों में छोड़ आए !

8.
Bhare sheharon mein kurbaani ka mausam jab se aaya hai,
Mere bachche kabhi holi mein pichkaari nahi late.

भरे शहरों में क़ुर्बानी का मौसम जबसे आया है,
मेरे बच्चे कभी होली में पिचकारी नहीं लाते !

9.
Maszid ki chataai pe ye sote hue bachche,
In bachchon ko dekho kabhi resham nahi dekha.

मस्जिद की चटाई पे ये सोते हुए बच्चे,
इन बच्चों को देखो, कभी रेशम नहीं देखा !

10.
Bhukh se behaal bachche to nahi roye magar,
Ghar ka chulha muflisi ki chugliyaan khane laga.

भूख से बेहाल बच्चे तो नहीं रोये मगर,
घर का चूल्हा मुफ़लिसी की चुग़लियाँ खाने लगा !

11.
Talwaar to kya meri nazar tak nahi uththi,
Us shakhs ke bachche ki taraf dekh liya tha.

तलवार तो क्या मेरी नज़र तक नहीं उठ्ठी,
उस शख़्स के बच्चों की तरफ़ देख लिया था !

12.
Ret par khelte bachchon ko abhi kya maalum,
Koi sailaab gharaunda nahi rehane deta.

रेत पर खेलते बच्चों को अभी क्या मालूम,
कोई सैलाब घरौंदा नहीं रहने देता !

13.
Dhuaan baadal nahi hota ki bachpan daud padta hai,
Khushi se kaun bachcha karkhane tak pahunchta hai.

धुआँ बादल नहीं होता कि बचपन दौड़ पड़ता है,
ख़ुशी से कौन बच्चा कारखाने तक पहुँचता है !

14.
Main chahun to mithaai ki dukane khol sakta hun,
Magar bachpan humesha ramdane tak phunchata hai.

मैं चाहूँ तो मिठाई की दुकानें खोल सकता हूँ,
मगर बचपन हमेशा रामदाने तक पहुँचता है !

15.
Hawa ke rukh pe rehane do ye chalana sikh jayega,
Ki bachcha ladkhadayega to chalana sikh jayega.

हवा के रुख़ पे रहने दो ये चलना सीख जाएगा,
कि बच्चा लड़खड़ाएगा तो चलना सीख जाएगा !

16.
Ek sulgate shehar mein bachcha mila hansta hua,
Sehame-sehame-se charagon ke ujale ki tarah.

इक सुलगते शहर में बच्चा मिला हँसता हुआ,
सहमे-सहमे-से चराग़ों के उजाले की तरह !

17.
Maine Ek muddat se maszid nahi dekhi magar,
Ek bachche ka ajan dena bahut achcha laga.

मैंने इक मुद्दत से मस्जिद नहीं देखी मगर,
एक बच्चे का अज़ाँ देना बहुत अच्छा लगा !

18.
Inhen apni jarurat ke thikaane yaad rehate hain,
Kahan par hai khilauno ki dukan bachche samjhte hain.

इन्हें अपनी ज़रूरत के ठिकाने याद रहते हैं,
कहाँ पर है खिलौनों की दुकाँ बच्चे समझते हैं !

19.
Zamaana ho gaya dange mein is ghar ko jale lekin,
Kisi bachche ke rone ki sadaayein roz aati hain.

ज़माना हो गया दंगे में इस घर को जले लेकिन,
किसी बच्चे के रोने की सदाएँ रोज़ आती हैं !

 

Sabke Kahne Se Iraada Nahi Badla Jata..

1.
Sabke kahne se iraada nahi badla jata,
Har saheli se dupatta nahi badla jata.

सबके कहने से इरादा नहीं बदला जाता,
हर सहेली से दुपट्टा नहीं बदला जाता !

2.
Kam se kam bachchon ki honthon ki hansi ki khatir,
Ayse mitti mein milana ki khilauna ho jaun.

कम से कम बच्चों के होंठों की हँसी की ख़ातिर,
ऐसे मिट्टी में मिलाना कि खिलौना हो जाऊँ !

3.
Kasam deta hai bachchon ki bahane se bulata hai,
Dhuan chimani ka humko karkhane se bulata hai.

क़सम देता है बच्चों की बहाने से बुलाता है,
धुआँ चिमनी का हमको कारख़ाने से बुलाता है !

4.
Bachche bhi gareebi ko samjhane lage shayad,
Ab jaag bhi jate hain to sahari nahi khate.

बच्चे भी ग़रीबी को समझने लगे शायद,
अब जाग भी जाते हैं तो सहरी नहीं खाते !

5.
Inhein firka parasti mat sikha dena ki ye bachche,
Zameen se choom kar titali ke tute par uthate hain.

इन्हें फ़िरक़ा-परस्ती मत सिखा देना कि ये बच्चे,
ज़मी से चूम कर तितली के टूटे पर उठाते हैं !

6.
Bichhadte waqt bhi chehara nahi utarta hai,
Yhaan saron se dupatta nahi utarta hai.

बिछड़ते वक़्त भी चेहरा नहीं उतरता है,
यहाँ सरों से दुपट्टा नहीं उतरता है !

7.
Kaano mein koi phool bhi hans kar nahi phana,
Usne bhi bichhad kar kabhi jewar nahi phana.

कानों में कोई फूल भी हँस कर नहीं पहना,
उसने भी बिछड़ कर कभी ज़ेवर नहीं पहना !

8.
Mohabbat bhi ajeeb shay hai koi pardesh mein roye,
To fauran hath ki ek-aadh chudi tut jati hai.

मोहब्बत भी अजब शय है कोई परदेस में रोये,
तो फ़ौरन हाथ की एक-आध चूड़ी टूट जाती है !

9.
Bade sheharon mein rahkar bhi barabar yaad karta tha,
Main ek chhote se station ka manzar yaad karta tha.

बड़े शहरों में रहकर भी बराबर याद करता था,
मैं एक छोटे से स्टेशन का मंज़र याद करता था !

10.
Kisko fursat us mehfil mein gham ki kahani padhne ki,
Suni kalaai dekh ke lekin chudi wala tut gaya.

किसको फ़ुर्सत उस महफ़िल में ग़म की कहानी पढ़ने की,
सूनी कलाई देख के लेकिन चूड़ी वाला टूट गया !

11.
Mujhe bulata hai maqtal main kis tarah jaun,
Ki meri god se bachcha nahi utarta hai.

मुझे बुलाता है मक़्तल मैं किस तरह जाऊँ,
कि मेरी गोद से बच्चा नहीं उतरता है !

12.
Kahin koi kalaai ek chudi ko tarsati hai,
Kahin kangan ke jhatke se kalaai tut jati hai.

कहीं कोई कलाई एक चूड़ी को तरसती है,
कहीं कंगन के झटके से कलाई टूट जाती है !

13.
Us waqt bhi aksar tujhe hum dhundne nikale,
Jis dhoop mein majdur bhi chhat par nahi jate.

उस वक़्त भी अक्सर तुझे हम ढूँढने निकले,
जिस धूप में मज़दूर भी छत पर नहीं जाते !

14.
Sharm aati hai majduri batate hue humko,
Itane mein to bachchon ka gubara nahi milta.

शर्म आती है मज़दूरी बताते हुए हमको,
इतने में तो बच्चों का ग़ुबारा नहीं मिलता !

15.
Hum ne baazar mein dekhe hain ghrelu chehare,
Muflisi tujhse bade log bhi dab jate hain.

हमने बाज़ार में देखे हैं घरेलू चेहरे,
मुफ़्लिसी तुझसे बड़े लोग भी दब जाते हैं !

16.
Bhatkti hai hawas din-raat sone ki dukaano mein,
Gareebi kaan chhidwaati hai tinka daal deti hai.

भटकती है हवस दिन-रात सोने की दुकानों में,
ग़रीबी कान छिदवाती है तिनका डाल देती है !

17.
Ameere-shahar ka riste mein koi kuch nahi lagta,
Gareebi chand ko bhi apna mama maan leti hai.

अमीरे-शहर का रिश्ते में कोई कुछ नहीं लगता,
ग़रीबी चाँद को भी अपना मामा मान लेती है !

18.
To kya majburiyan bejaan chizein bhi samjhati hain,
Gale se jab utarta hai to jewar kuch nahi kehata.

तो क्या मजबूरियाँ बेजान चीज़ें भी समझती हैं,
गले से जब उतरता है तो ज़ेवर कुछ नहीं कहता !

19.
Kahin bhi chhod ke apni zameen nahi jate,
Humein bulati hai duniya humin nahi jate.

कहीं भी छोड़ के अपनी ज़मीं नहीं जाते,
हमें बुलाती है दुनिया हमीं नहीं जाते !

20.
Zameen banjar bhi ho jaye to chahat kam nahi hoti,
Kahin koi watan se bhi mohabbat chhod sakta hai.

ज़मीं बंजर भी हो जाए तो चाहत कम नहीं होती,
कहीं कोई वतन से भी मुहब्बत छोड़ सकता है !

21.
Jarurat roz hizrat ke liye aawaz deti hai,
Mohabbat chhod ke hindustan jane nahi deti.

ज़रूरत रोज़ हिजरत के लिए आवाज़ देती है,
मुहब्बत छोड़कर हिंदुस्तान जाने नहीं देती !

22.
Paida yahin hua hun yahin par marunga main,
Wo aur log the jo Karachi chale gaye.

पैदा यहीं हुआ हूँ यहीं पर मरूँगा मैं,
वो और लोग थे जो कराची चले गये !

23.
Main marunga to yahin dafan kiya jaunga,
Meri mitti bhi Karachi nahi jane wali.

मैं मरूँगा तो यहीं दफ़्न किया जाऊँगा,
मेरी मिट्टी भी कराची नहीं जाने वाली !

24.
Watan ki raah mein deni padegi jaan agar,
Khuda ne chaha to sabit kadam hi niklenge.

वतन की राह में देनी पड़ेगी जान अगर,
ख़ुदा ने चाहा तो साबित क़दम ही निकलेंगे !

25.
Watan se dur bhi ya rab wahan pe dam nikale,
Jahan se mulk ki sarhad dikhaai dene lage.

वतन से दूर भी या रब वहाँ पे दम निकले,
जहाँ से मुल्क की सरहद दिखाई देने लगे !

Munawwar Rana “Maa” Part 5

1.
Wo ja raha hai ghar se janaza bujurg ka,
Aangan mein ek darkhat purana nahi raha.

वो जा रहा है घर से जनाज़ा बुज़ुर्ग का,
आँगन में एक दरख़्त पुराना नहीं रहा !

2.
Wo to likha ke layi hai kismat mein jagana,
Maa kaise so sakegi ki beta safar mein hai.

वो तो लिखा के लाई है क़िस्मत में जागना,
माँ कैसे सो सकेगी कि बेटा सफ़र में है !

3.
Shahzaade ko ye maloom nahi hai shayad,
Maa nahi janti dastaar ka bosa lena.

शाहज़ादे को ये मालूम नहीं है शायद,
माँ नहीं जानती दस्तार का बोसा लेना !

4.
Aankhon se mangane lage paani wajoo ka hum,
Kagaz pe jab bhi dekh liya Maa likha hua.

आँखों से माँगने लगे पानी वज़ू का हम,
काग़ज़ पे जब भी देख लिया माँ लिखा हुआ !

5.
Abhi to meri jaroorat hai mere bachchon ko,
Bade hue to ye khud intezaam kar lenge.

अभी तो मेरी ज़रूरत है मेरे बच्चों को,
बड़े हुए तो ये ख़ुद इन्त्ज़ाम कर लेंगे !

6.
Main hun mera bachcha hai khilauno ki dukaan hai,
Ab koi mere paas bahana bhi nahi hai.

मैं हूँ मेरा बच्चा है खिलौनों की दुकाँ है,
अब कोई मेरे पास बहाना भी नहीं है !

7.
Aye khuda ! tu fees ke paise ataa kar de mujhe,
Mere bachchon ko bhi University achchi lagi.

ऐ ख़ुदा ! तू फ़ीस के पैसे अता कर दे मुझे,
मेरे बच्चों को भी यूनिवर्सिटी अच्छी लगी !

8.
Bhikh se to bhukh achchi gaon ko waapas chalo,
Shehar mein rehane se ye bachcha bura ho jayega.

भीख से तो भूख अच्छी गाँव को वापस चलो,
शहर में रहने से ये बच्चा बुरा हो जाएगा !

9.
Khilaunon ke liye bachche abhi tak jagte honge,
Tujhe aye muflisi koi bahana dhund lena hai.

खिलौनों के लिए बच्चे अभी तक जागते होंगे,
तुझे ऐ मुफ़्लिसी कोई बहाना ढूँढ लेना है !

10.
Mamata ki aabroo ko bachaaya hai neend ne,
Bachcha Zameen pe so bhi gaya khelte hue.

ममता की आबरू को बचाया है नींद ने,
बच्चा ज़मीं पे सो भी गया खेलते हुए !

11.
Mere bachche naamuraadi mein jawaan bhi ho gaye,
Meri khwaahish sirf baazaaron ki taaqat rah gayi.

मेरे बच्चे नामुरादी में जवाँ भी हो गये,
मेरी ख़्वाहिश सिर्फ़ बाज़ारों को तकती रह गई !

12.
Bachchon ki fees unki kitaabein kalam dawaat,
Meri gareeb aankhon mein school chubh gaya.

बच्चों की फ़ीस उनकी किताबें क़लम दवात,
मेरी ग़रीब आँखों में स्कूल चुभ गया !

13.
Wo samjhate hi nahi hain meri majboori ko,
Isliye bachchon pe gussa bhi nahi aata hai.

वो समझते ही नहीं हैं मेरी मजबूरी को,
इसलिए बच्चों पे ग़ुस्सा भी नहीं आता है !

14.
Kisi bhi rang ko pehchanana mushqil nahi hota,
Mere bachche ki soorat dekh isko jard kehate hain.

किसी भी रंग को पहचानना मुश्किल नहीं होता,
मेरे बच्चे की सूरत देख इसको ज़र्द कहते हैं !

15.
Dhoop se mil gaye hain ped humare ghar ke,
Main samjhati thi ki kaam aayega beta apna.

धूप से मिल गये हैं पेड़ हमारे घर के,
मैं समझती थी कि काम आएगा बेटा अपना !

16.
Phir usko mar ke bhi khud se juda hone nahi deti,
Ye mitti jab kisi ko apna beta maan leti hai.

फिर उसको मर के भी ख़ुद से जुदा होने नहीं देती,
यह मिट्टी जब किसी को अपना बेटा मान लेती है !

17.
Tamaam umar salaamat rahein dua hai meri,
Humare sar pe hain jo haath barkaton wale.

तमाम उम्र सलामत रहें दुआ है मेरी,
हमारे सर पे हैं जो हाथ बरकतों वाले !

18.
Humari muflisi humko izaazat to nahi deti,
Magar hum teri khaatir koi shahzaada bhi dekhenge.

हमारी मुफ़्लिसी हमको इजाज़त तो नहीं देती,
मगर हम तेरी ख़ातिर कोई शहज़ादा भी देखेंगे !

19.
Maa-Baap ki budhi aankhon mein ek fikr-si chaai rehati hai,
Jis kambal mein sab sote the ab wo bhi chhota padta hai.

माँ-बाप की बूढ़ी आँखों में एक फ़िक़्र-सी छाई रहती है,
जिस कम्बल में सब सोते थे अब वो भी छोटा पड़ता है !

20.
Dosti dushmani dono shaamil rahin doston ki nawaazish thi kuch is tarah,
Kaat le shookh bachcha koi jis tarah Maa ke rukhsaar par pyar karte hue.

दोस्ती दुश्मनी दोनों शामिल रहीं दोस्तों की नवाज़िश थी कुछ इस तरह,
काट ले शोख़ बच्चा कोई जिस तरह माँ के रुख़सार पर प्यार करते हुए !

Munawwar Rana “Maa” Part 4

1.
Mera bachpan tha mera ghar tha khilaune the mere,
Sar pe Maa-Baap ka saaya bhi ghazal jaisa tha.

मेरा बचपन था मेरा घर था खिलौने थे मेरे,
सर पे माँ-बाप का साया भी ग़ज़ल जैसा था !

2.
Mukaddas muskurahat Maa ke honthon par larzati hai,
Kisi bacche ka jab pahala sipaara khtam hota hai.

मुक़द्दस मुस्कुराहट माँ के होंठों पर लरज़ती है,
किसी बच्चे का जब पहला सिपारा ख़त्म होता है !

3.
Main wo mele mein bhatakta hua ek baccha hun,
Jiske Maa-Baap ko rote hue mar jana hain.

मैं वो मेले में भटकता हुआ इक बच्चा हूँ,
जिसके माँ-बाप को रोते हुए मर जाना है !

4.
Milta-julta hai sabhi maaon se Maa ka chehara,
Gurudwaare ki bhi deewar na girne paye.

मिलता-जुलता हैं सभी माँओं से माँ का चेहरा,
गुरूद्वारे की भी दीवार न गिरने पाये !

5.
Maine kal shab chaahaton ki sab kitabein faad di,
Sirf ek kaagaz pe likha lafz-e-Maa rahane diya.

मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दीं,
सिर्फ़ इक काग़ज़ पे लिक्खा लफ़्ज़-ए-माँ रहने दिया !

6.
Gher lene ko mujhe jab bhi balaayein aa gayi,
Dhaal ban kar saamne Maa ki duayein aa gayi.

घेर लेने को मुझे जब भी बलाएँ आ गईं,
ढाल बन कर सामने माँ की दुआएँ आ गईं !

7.
Maidaan chhod dene se main bach to jaunga,
Lekin jo yah khabar meri Maa tak pahunch gayi.

मैदान छोड़ देने स्र मैं बच तो जाऊँगा,
लेकिन जो ये ख़बर मेरी माँ तक पहुँच गई !

8.
Munawwar ! Maa ke aage yun kabhi khul kar nahi rona,
Jahan buniyaad ho itani nami achchi nahi hoti.

मुनव्वर ! माँ के आगे यूँ कभी खुल कर नहीं रोना,
जहाँ बुनियाद हो इतनी नमी अच्छी नहीं होती !

9.
Mitti lipat-lipat gayi pairon mein isliye,
Taiyaar ho ke bhi kabhi hizrat na kar sake.

मिट्टी लिपट-लिपट गई पैरों से इसलिए,
तैयार हो के भी कभी हिजरत न कर सके !

10.
Muflisi ! bacche ko rone nahi dena warna,
Ek aansoo bhare bazaar ko kha jayega.

मुफ़्लिसी ! बच्चे को रोने नहीं देना वरना,
एक आँसू भरे बाज़ार को खा जाएगा !

11.
Mujhe khabar nahim jannat badi ki Maa lekin,
Log kehate hain ki jannat bashar ke niche hai.

मुझे खबर नहीम जन्नत बड़ी कि माँ लेकिन,
लोग कहते हैं कि जन्नत बशर के नीचे है !

12.
Mujhe kadhe hue takiye ki kya jaroorat hai,
Kisi ka haath abhi mere sar ke niche hai.

मुझे कढ़े हुए तकिये की क्या ज़रूरत है,
किसी का हाथ अभी मेरे सर के नीचे है !

13.
Bujurgon ka mere dil se abhi tak dar nahi jata,
Ki jab tak jagati rehati hai Maa main ghar nahi jata.

बुज़ुर्गों का मेरे दिल से अभी तक डर नहीं जाता,
कि जब तक जागती रहती है माँ मैं घर नहीं जाता !

14.
Mohabbat karte jaao bas yahi sachchi ibaadat hai,
Mohabbat Maa ko bhi Makka-Madina maan leti hai.

मोहब्बत करते जाओ बस यही सच्ची इबादत है,
मोहब्बत माँ को भी मक्का-मदीना मान लेती है !

15.
Maa ye kehati thi ki moti hain humare aansoo,
Isliye ashqon ka pina bhi bura lagta hai.

माँ ये कहती थी कि मोती हैं हमारे आँसू,
इसलिए अश्कों का पीना भी बुरा लगता है !

16.
Pardesh jane wale kabhi laut aayenge,
Lekin is intezaar mein aankhen chali gayi.

परदेस जाने वाले कभी लौट आयेंगे,
लेकिन इस इंतज़ार में आँखें चली गईं !

17.
Shehar ke raste hon chaahe gaon ki pagdandiyan,
Maa ki ungali thaam kar chalna mujhe achcha laga.

शहर के रस्ते हों चाहे गाँव की पगडंडियाँ,
माँ की उँगली थाम कर चलना मुझे अच्छा लगा !

18.
Main koi ehsaan maanu bhi to aakhir kisliye,
Shehar ne daulat agar di hai to beta le liya.

मैं कोई एहसान मानूँ भी तो आख़िर किसलिए,
शहर ने दौलत अगर दी है तो बेटा ले लिया !

19.
Ab bhi raushan hain teri yaad se ghar ke kamre,
Raushani deta hai ab tak tera saya mujhko.

अब भी रौशन हैं तेरी याद से घर के कमरे,
रौशनी देता है अब तक तेरा साया मुझको !

20.
Mere chehare pe mamta ki farawani chamakti hai,
Main budha ho raha hun phir bhi peshani chamakti hai.

मेरे चेहरे पे ममता की फ़रावानी चमकती है,
मैं बूढ़ा हो रहा हूँ फिर भी पेशानी चमकती है !

Munawwar Rana “Maa” Part 2

1.
Gale milne ko aapas mein duayein roz aati hain,
Abhi masjid ke darwaze pe maayen roz aati hain.

गले मिलने को आपस में दुआयें रोज़ आती हैं,
अभी मस्जिद के दरवाज़े पे माएँ रोज़ आती हैं !

2.
Kabhi-kabhi mujhe yun bhi azaan bulaati hai,
Shareer bachche ko jis tarah Maa bulaati hai.

कभी-कभी मुझे यूँ भी अज़ाँ बुलाती है,
शरीर बच्चे को जिस तरह माँ बुलाती है !

3.
Kisi ko ghar mila hisse mein ya koi dukaan aayi,
Main ghar mein sab se chhota tha mere hisse mein Maa aayi.

किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकाँ आई,
मैं घर में सब से छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई !

4.
Aye andhere ! dekh le munh tera kala ho gaya,
Maa ne aankhen khol di ghar mein ujala ho gaya.

ऐ अँधेरे ! देख ले मुँह तेरा काला हो गया,
माँ ने आँखें खोल दीं घर में उजाला हो गया !

5.
Is tarah mere gunahon ko wo dho deti hai,
Maa bahut gusse mein hoti hai to ro deti hai.

इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है,
माँ बहुत ग़ुस्से में होती है तो रो देती है !

6.
Meri khwaahish hai ki main phir se farishta ho jaun,
Maa se is tarah lipat jaun ki bachcha ho jaun.

मेरी ख़्वाहिश है कि मैं फिर से फ़रिश्ता हो जाऊँ,
माँ से इस तरह लिपट जाऊँ कि बच्चा हो जाऊँ !

7.
Mera khuloos to purab ke gaaon jaisa hai,
Sulooq duniya ka sauteli Maaon jaisa hai.

मेरा खुलूस तो पूरब के गाँव जैसा है,
सुलूक दुनिया का सौतेली माओं जैसा है !

8.
Roshni deti hui sab laltenen bujh gayi,
Khat nahi aaya jo beton ka to Maayen bujh gayi.

रौशनी देती हुई सब लालटेनें बुझ गईं,
ख़त नहीं आया जो बेटों का तो माएँ बुझ गईं !

9.
Wo maila sa boseeda sa aanchal nahi dekha,
Barason huye humne koi pipal nahi dekha.

वो मैला-सा बोसीदा-सा आँचल नहीं देखा,
बरसों हुए हमने कोई पीपल नहीं देखा !

10.
Kayi batein mohabbat sabko buniyadi batati hai,
Jo pardadi batati thi wahi dadi batati hai.

कई बातें मुहब्बत सबको बुनियादी बताती है,
जो परदादी बताती थी वही दादी बताती है !

11.
Haadson ki gard se khud ko bachane ke liye,
Maa ! hum apne sath bas teri dua le jayenge.

हादसों की गर्द से ख़ुद को बचाने के लिए,
माँ ! हम अपने साथ बस तेरी दुआ ले जायेंगे !

12.
Hawa udaye liye ja rahi hai har chaadar,
Purane log sabhi inteqal karne lage.

हवा उड़ाए लिए जा रही है हर चादर,
पुराने लोग सभी इन्तेक़ाल करने लगे !

13.
Aye khuda ! phool-se bachchon ki hifaazat karna,
Muflisi chaah rahi hai mere ghar mein rahna.

ऐ ख़ुदा ! फूल-से बच्चों की हिफ़ाज़त करना,
मुफ़लिसी चाह रही है मेरे घर में रहना !

14.
Humen hareefon ki tadaad kyon batate ho,
Humare saath bhi beta jawan rehta hai.

हमें हरीफ़ों की तादाद क्यों बताते हो,
हमारे साथ भी बेटा जवान रहता है !

15.
Khud ko is bhid mein tanha nahi hone denge,
Maa tujhe hum abhi budha nahi hone denge.

ख़ुद को इस भीड़ में तन्हा नहीं होने देंगे,
माँ तुझे हम अभी बूढ़ा नहीं होने देंगे !

16.
Jab bhi dekha mere kirdaar pe dhabba koi,
Der tak baith ke tanhai mein roya koi.

जब भी देखा मेरे किरदार पे धब्बा कोई,
देर तक बैठ के तन्हाई में रोया कोई !

17.
Khuda kare ki ummidon ke hath pile hon,
Abhi talak to guzari hai iddaton ki tarah.

ख़ुदा करे कि उम्मीदों के हाथ पीले हों,
अभी तलक तो गुज़ारी है इद्दतों की तरह !

18.
Ghar ki dehleez pe roshan hain wo bujhti aankhein,
Mujhko mat rok mujhe laut ke ghar jana hai.

घर की दहलीज़ पे रौशन हैं वो बुझती आँखें,
मुझको मत रोक मुझे लौट के घर जाना है !

19.
Yahin rahunga kahin umar bhar na jaunga,
Zameen Maa hai ise chhod kar na jaunga.

यहीं रहूँगा कहीं उम्र भर न जाउँगा,
ज़मीन माँ है इसे छोड़ कर न जाऊँगा !

20.
Station se waapas aa kar budhi aankhen sochti hain,
Pattey dehaati rahte hain phal shehri ho jate hain.

स्टेशन से वापस आकर बूढ़ी आँखें सोचती हैं,
पत्ते देहाती रहते हैं फल शहरी हो जाते हैं !