Home / Mitti Shayari

Mitti Shayari

Zehan mein pani ke badal agar aaye hote..

Zehan mein pani ke badal agar aaye hote,
Maine mitti ke gharaunde na banaye hote.

Dhup ke ek hi mausam ne jinhen tod diya,
Itne nazuk bhi ye rishte na banaye hote.

Dubte shehar mein mitti ka makan girta hi,
Tum ye sab soch ke meri taraf aaye hote.

Dhup ke shehar mein ek umar na jalna padta,
Hum bhi aye kash kisi pedd ke saye hote.

Phal padosi ke darakhton pe na pakte toh “Wasim”,
Mere aangan mein ye patther bhi na aaye hote. !!

ज़हन में पानी के बादल अगर आये होते,
मैंने मिटटी के घरोंदे ना बनाये होते !

धूप के एक ही मौसम ने जिन्हें तोड़ दिया,
इतने नाज़ुक भी ये रिश्ते न बनाये होते !

डूबते शहर मैं मिटटी का मकान गिरता ही,
तुम ये सब सोच के मेरी तरफ आये होते !

धूप के शहर में इक उम्र ना जलना पड़ता,
हम भी ए काश किसी पेड के साये होते !

फल पडोसी के दरख्तों पे ना पकते तो “वसीम”,
मेरे आँगन में ये पत्थर भी ना आये होते !!

 

Sabke Kahne Se Iraada Nahi Badla Jata..

1.
Sabke kahne se iraada nahi badla jata,
Har saheli se dupatta nahi badla jata.

सबके कहने से इरादा नहीं बदला जाता,
हर सहेली से दुपट्टा नहीं बदला जाता !

2.
Kam se kam bachchon ki honthon ki hansi ki khatir,
Ayse mitti mein milana ki khilauna ho jaun.

कम से कम बच्चों के होंठों की हँसी की ख़ातिर,
ऐसे मिट्टी में मिलाना कि खिलौना हो जाऊँ !

3.
Kasam deta hai bachchon ki bahane se bulata hai,
Dhuan chimani ka humko karkhane se bulata hai.

क़सम देता है बच्चों की बहाने से बुलाता है,
धुआँ चिमनी का हमको कारख़ाने से बुलाता है !

4.
Bachche bhi gareebi ko samjhane lage shayad,
Ab jaag bhi jate hain to sahari nahi khate.

बच्चे भी ग़रीबी को समझने लगे शायद,
अब जाग भी जाते हैं तो सहरी नहीं खाते !

5.
Inhein firka parasti mat sikha dena ki ye bachche,
Zameen se choom kar titali ke tute par uthate hain.

इन्हें फ़िरक़ा-परस्ती मत सिखा देना कि ये बच्चे,
ज़मी से चूम कर तितली के टूटे पर उठाते हैं !

6.
Bichhadte waqt bhi chehara nahi utarta hai,
Yhaan saron se dupatta nahi utarta hai.

बिछड़ते वक़्त भी चेहरा नहीं उतरता है,
यहाँ सरों से दुपट्टा नहीं उतरता है !

7.
Kaano mein koi phool bhi hans kar nahi phana,
Usne bhi bichhad kar kabhi jewar nahi phana.

कानों में कोई फूल भी हँस कर नहीं पहना,
उसने भी बिछड़ कर कभी ज़ेवर नहीं पहना !

8.
Mohabbat bhi ajeeb shay hai koi pardesh mein roye,
To fauran hath ki ek-aadh chudi tut jati hai.

मोहब्बत भी अजब शय है कोई परदेस में रोये,
तो फ़ौरन हाथ की एक-आध चूड़ी टूट जाती है !

9.
Bade sheharon mein rahkar bhi barabar yaad karta tha,
Main ek chhote se station ka manzar yaad karta tha.

बड़े शहरों में रहकर भी बराबर याद करता था,
मैं एक छोटे से स्टेशन का मंज़र याद करता था !

10.
Kisko fursat us mehfil mein gham ki kahani padhne ki,
Suni kalaai dekh ke lekin chudi wala tut gaya.

किसको फ़ुर्सत उस महफ़िल में ग़म की कहानी पढ़ने की,
सूनी कलाई देख के लेकिन चूड़ी वाला टूट गया !

11.
Mujhe bulata hai maqtal main kis tarah jaun,
Ki meri god se bachcha nahi utarta hai.

मुझे बुलाता है मक़्तल मैं किस तरह जाऊँ,
कि मेरी गोद से बच्चा नहीं उतरता है !

12.
Kahin koi kalaai ek chudi ko tarsati hai,
Kahin kangan ke jhatke se kalaai tut jati hai.

कहीं कोई कलाई एक चूड़ी को तरसती है,
कहीं कंगन के झटके से कलाई टूट जाती है !

13.
Us waqt bhi aksar tujhe hum dhundne nikale,
Jis dhoop mein majdur bhi chhat par nahi jate.

उस वक़्त भी अक्सर तुझे हम ढूँढने निकले,
जिस धूप में मज़दूर भी छत पर नहीं जाते !

14.
Sharm aati hai majduri batate hue humko,
Itane mein to bachchon ka gubara nahi milta.

शर्म आती है मज़दूरी बताते हुए हमको,
इतने में तो बच्चों का ग़ुबारा नहीं मिलता !

15.
Hum ne baazar mein dekhe hain ghrelu chehare,
Muflisi tujhse bade log bhi dab jate hain.

हमने बाज़ार में देखे हैं घरेलू चेहरे,
मुफ़्लिसी तुझसे बड़े लोग भी दब जाते हैं !

16.
Bhatkti hai hawas din-raat sone ki dukaano mein,
Gareebi kaan chhidwaati hai tinka daal deti hai.

भटकती है हवस दिन-रात सोने की दुकानों में,
ग़रीबी कान छिदवाती है तिनका डाल देती है !

17.
Ameere-shahar ka riste mein koi kuch nahi lagta,
Gareebi chand ko bhi apna mama maan leti hai.

अमीरे-शहर का रिश्ते में कोई कुछ नहीं लगता,
ग़रीबी चाँद को भी अपना मामा मान लेती है !

18.
To kya majburiyan bejaan chizein bhi samjhati hain,
Gale se jab utarta hai to jewar kuch nahi kehata.

तो क्या मजबूरियाँ बेजान चीज़ें भी समझती हैं,
गले से जब उतरता है तो ज़ेवर कुछ नहीं कहता !

19.
Kahin bhi chhod ke apni zameen nahi jate,
Humein bulati hai duniya humin nahi jate.

कहीं भी छोड़ के अपनी ज़मीं नहीं जाते,
हमें बुलाती है दुनिया हमीं नहीं जाते !

20.
Zameen banjar bhi ho jaye to chahat kam nahi hoti,
Kahin koi watan se bhi mohabbat chhod sakta hai.

ज़मीं बंजर भी हो जाए तो चाहत कम नहीं होती,
कहीं कोई वतन से भी मुहब्बत छोड़ सकता है !

21.
Jarurat roz hizrat ke liye aawaz deti hai,
Mohabbat chhod ke hindustan jane nahi deti.

ज़रूरत रोज़ हिजरत के लिए आवाज़ देती है,
मुहब्बत छोड़कर हिंदुस्तान जाने नहीं देती !

22.
Paida yahin hua hun yahin par marunga main,
Wo aur log the jo Karachi chale gaye.

पैदा यहीं हुआ हूँ यहीं पर मरूँगा मैं,
वो और लोग थे जो कराची चले गये !

23.
Main marunga to yahin dafan kiya jaunga,
Meri mitti bhi Karachi nahi jane wali.

मैं मरूँगा तो यहीं दफ़्न किया जाऊँगा,
मेरी मिट्टी भी कराची नहीं जाने वाली !

24.
Watan ki raah mein deni padegi jaan agar,
Khuda ne chaha to sabit kadam hi niklenge.

वतन की राह में देनी पड़ेगी जान अगर,
ख़ुदा ने चाहा तो साबित क़दम ही निकलेंगे !

25.
Watan se dur bhi ya rab wahan pe dam nikale,
Jahan se mulk ki sarhad dikhaai dene lage.

वतन से दूर भी या रब वहाँ पे दम निकले,
जहाँ से मुल्क की सरहद दिखाई देने लगे !

Abhi Maujood Hai Is Gaon Ki Mitti Mein Khuddari

1.
Abhi maujood hai is gaon ki mitti mein khuddari,
Abhi bewa ki gairat se mahajan haar jata hai.

अभी मौजूद है इस गाँव की मिट्टी में ख़ुद्दारी,
अभी बेवा की ग़ैरत से महाजन हार जाता है !

2.
Maa ki mamta ghane badalon ki tarah sar pe saya kiye sath chalti rahi,
Ek bachcha kitaabein liye hath mein khamoshi se sadak paar karte hue.

माँ की ममता घने बादलों की तरह सर पे साया किए साथ चलती रही,
एक बच्चा किताबें लिए हाथ में ख़ामुशी से सड़क पार करते हुए !

3.
Dukh bugurgon ne kaafi uthaye magar mera bachpan bahut hi suhana raha,
Umar bhar dhoop mein ped jalte rahe apni shaakhe samardaar karte hue.

दुख बुज़ुर्गों ने काफ़ी उठाए मगर मेरा बचपन बहुत ही सुहाना रहा,
उम्र भर धूप में पेड़ जलते रहे अपनी शाख़ें-समरदार करते हुए !

4.
Chalo mana ki shahnaai masarat ki nishani hai,
Magar wo shakhs jiski aa ke beti baith jati hai.

चलो माना कि शहनाई मसर्रत की निशानी है,
मगर वो शख़्स जिसकी आ के बेटी बैठ जाती है !

5.
Maloom nahi kaise jaroorat nikal aayi,
Sar kholte hue ghar se sharafat nikal aayi.

मालूम नहीं कैसे ज़रूरत निकल आई,
सर खोले हुए घर से शराफ़त निकल आई !

6.
Ismein bachchon ki jali laashon ki tasvirein hain,
Dekhna hath se akhbaar na girne paye.

इसमें बच्चों की जली लाशों की तस्वीरें हैं,
देखना हाथ से अख़बार न गिरने पाये !

7.
Odhe hue badan pe gareebi chale gaye,
Bahano ko rota chhod ke bhai chale gaye.

ओढ़े हुए बदन पे ग़रीबी चले गये,
बहनों को रोता छोड़ के भाई चले गये !

8.
Kisi budhe ki laathi chhin gayi hai,
Wo dekho ik janaja jaa raha hai.

किसी बूढ़े की लाठी छिन गई है,
वो देखो एक जनाज़ा जा रहा है !

9.
Aangan ki taksim ka kissa,
Mein jaanu ya baba jane.

आँगन की तक़सीम का क़िस्सा,
मैं जानूँ या बाबा जानें !

10.
Humari cheekhti aankhon ne jalte shehar dekhe hain.
Bure lagte hain ab kisse humein Bhai-Bahan wale.

हमारी चीखती आँखों ने जलते शहर देखे हैं,
बुरे लगते हैं अब क़िस्से हमें भाई-बहन वाले !

11.
Isliye maine bujurgon ki zameene chhod di,
Mera ghar jis din basega tera ghar gir jayega.

इसलिए मैंने बुज़ुर्गों की ज़मीनें छोड़ दीं,
मेरा घर जिस दिन बसेगा तेरा घर गिर जाएगा !

12.
Bachpan mein kisi baat pe hum ruth gaye the,
Us din se isi shehar mein hain ghar nahi jate.

बचपन में किसी बात पे हम रूठ गये थे,
उस दिन से इसी शहर में हैं घर नहीं जाते !

13.
Bichhad ke tujh se teri yaad bhi nahi aayi,
Humare kaam ye aulaad bhi nahi aayi.

बिछड़ के तुझ से तेरी याद भी नहीं आई,
हमारे काम ये औलाद भी नहीं आई !

14.
Mujhko har haal mein bkhshega ujala apna,
Chand rishte mein nahi lagta hai mama apna.

मुझको हर हाल में बख़्शेगा उजाला अपना,
चाँद रिश्ते में नहीं लगता है मामा अपना !

15.
Main narm mitti hun tum raund kar gujar jaao,
Ki mere naaz to bas kujagar uthata hai.

मैं नर्म मिट्टी हूँ तुम रौंद कर गुज़र जाओ,
कि मेरे नाज़ तो बस क़ूज़ागर उठाता है !

16.
Masaayal ne humein budha kya hai waqt se pahale,
Gharelu uljhane aksar jawani chhin leti hain.

मसायल नें हमें बूढ़ा किया है वक़्त से पहले,
घरेलू उलझनें अक्सर जवानी छीन लेती हैं !

17.
Uchhale-khelte bachpan mein beta dhundti hogi,
Tabhi to dekh kar pote ko dadi muskurati hai.

उछलते-खेलते बचपन में बेटा ढूँढती होगी,
तभी तो देख कर पोते को दादी मुस्कुराती है !

18.
Kuch khilaune kabhi aangan mein dikhaai dete,
Kash hum bhi kisi bachche ko mithaai dete.

कुछ खिलौने कभी आँगन में दिखाई देते,
काश हम भी किसी बच्चे को मिठाई देते !

19.
Daulat se mohabbat to nahi thi mujhe lekin,
Bachchon ne khilaunon ki taraf dekh liya tha.

दौलत से मुहब्बत तो नहीं थी मुझे लेकिन,
बच्चों ने खिलौनों की तरफ़ देख लिया था !

20.
Jism par mere bahut shffaaf kapde the magar,
Dhul mitti mein aata beta bahut achcha laga.

जिस्म पर मेरे बहुत शफ़्फ़ाफ़ कपड़े थे मगर,
धूल मिट्टी में आता बेटा बहुत अच्छा लगा !

Munawwar Rana “Maa” Part 4

1.
Mera bachpan tha mera ghar tha khilaune the mere,
Sar pe Maa-Baap ka saaya bhi ghazal jaisa tha.

मेरा बचपन था मेरा घर था खिलौने थे मेरे,
सर पे माँ-बाप का साया भी ग़ज़ल जैसा था !

2.
Mukaddas muskurahat Maa ke honthon par larzati hai,
Kisi bacche ka jab pahala sipaara khtam hota hai.

मुक़द्दस मुस्कुराहट माँ के होंठों पर लरज़ती है,
किसी बच्चे का जब पहला सिपारा ख़त्म होता है !

3.
Main wo mele mein bhatakta hua ek baccha hun,
Jiske Maa-Baap ko rote hue mar jana hain.

मैं वो मेले में भटकता हुआ इक बच्चा हूँ,
जिसके माँ-बाप को रोते हुए मर जाना है !

4.
Milta-julta hai sabhi maaon se Maa ka chehara,
Gurudwaare ki bhi deewar na girne paye.

मिलता-जुलता हैं सभी माँओं से माँ का चेहरा,
गुरूद्वारे की भी दीवार न गिरने पाये !

5.
Maine kal shab chaahaton ki sab kitabein faad di,
Sirf ek kaagaz pe likha lafz-e-Maa rahane diya.

मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दीं,
सिर्फ़ इक काग़ज़ पे लिक्खा लफ़्ज़-ए-माँ रहने दिया !

6.
Gher lene ko mujhe jab bhi balaayein aa gayi,
Dhaal ban kar saamne Maa ki duayein aa gayi.

घेर लेने को मुझे जब भी बलाएँ आ गईं,
ढाल बन कर सामने माँ की दुआएँ आ गईं !

7.
Maidaan chhod dene se main bach to jaunga,
Lekin jo yah khabar meri Maa tak pahunch gayi.

मैदान छोड़ देने स्र मैं बच तो जाऊँगा,
लेकिन जो ये ख़बर मेरी माँ तक पहुँच गई !

8.
Munawwar ! Maa ke aage yun kabhi khul kar nahi rona,
Jahan buniyaad ho itani nami achchi nahi hoti.

मुनव्वर ! माँ के आगे यूँ कभी खुल कर नहीं रोना,
जहाँ बुनियाद हो इतनी नमी अच्छी नहीं होती !

9.
Mitti lipat-lipat gayi pairon mein isliye,
Taiyaar ho ke bhi kabhi hizrat na kar sake.

मिट्टी लिपट-लिपट गई पैरों से इसलिए,
तैयार हो के भी कभी हिजरत न कर सके !

10.
Muflisi ! bacche ko rone nahi dena warna,
Ek aansoo bhare bazaar ko kha jayega.

मुफ़्लिसी ! बच्चे को रोने नहीं देना वरना,
एक आँसू भरे बाज़ार को खा जाएगा !

11.
Mujhe khabar nahim jannat badi ki Maa lekin,
Log kehate hain ki jannat bashar ke niche hai.

मुझे खबर नहीम जन्नत बड़ी कि माँ लेकिन,
लोग कहते हैं कि जन्नत बशर के नीचे है !

12.
Mujhe kadhe hue takiye ki kya jaroorat hai,
Kisi ka haath abhi mere sar ke niche hai.

मुझे कढ़े हुए तकिये की क्या ज़रूरत है,
किसी का हाथ अभी मेरे सर के नीचे है !

13.
Bujurgon ka mere dil se abhi tak dar nahi jata,
Ki jab tak jagati rehati hai Maa main ghar nahi jata.

बुज़ुर्गों का मेरे दिल से अभी तक डर नहीं जाता,
कि जब तक जागती रहती है माँ मैं घर नहीं जाता !

14.
Mohabbat karte jaao bas yahi sachchi ibaadat hai,
Mohabbat Maa ko bhi Makka-Madina maan leti hai.

मोहब्बत करते जाओ बस यही सच्ची इबादत है,
मोहब्बत माँ को भी मक्का-मदीना मान लेती है !

15.
Maa ye kehati thi ki moti hain humare aansoo,
Isliye ashqon ka pina bhi bura lagta hai.

माँ ये कहती थी कि मोती हैं हमारे आँसू,
इसलिए अश्कों का पीना भी बुरा लगता है !

16.
Pardesh jane wale kabhi laut aayenge,
Lekin is intezaar mein aankhen chali gayi.

परदेस जाने वाले कभी लौट आयेंगे,
लेकिन इस इंतज़ार में आँखें चली गईं !

17.
Shehar ke raste hon chaahe gaon ki pagdandiyan,
Maa ki ungali thaam kar chalna mujhe achcha laga.

शहर के रस्ते हों चाहे गाँव की पगडंडियाँ,
माँ की उँगली थाम कर चलना मुझे अच्छा लगा !

18.
Main koi ehsaan maanu bhi to aakhir kisliye,
Shehar ne daulat agar di hai to beta le liya.

मैं कोई एहसान मानूँ भी तो आख़िर किसलिए,
शहर ने दौलत अगर दी है तो बेटा ले लिया !

19.
Ab bhi raushan hain teri yaad se ghar ke kamre,
Raushani deta hai ab tak tera saya mujhko.

अब भी रौशन हैं तेरी याद से घर के कमरे,
रौशनी देता है अब तक तेरा साया मुझको !

20.
Mere chehare pe mamta ki farawani chamakti hai,
Main budha ho raha hun phir bhi peshani chamakti hai.

मेरे चेहरे पे ममता की फ़रावानी चमकती है,
मैं बूढ़ा हो रहा हूँ फिर भी पेशानी चमकती है !

Munawwar Rana “Maa” Part 1

1.
Hanste hue Maa-Baap ki gaali nahi khaate,
Bachche hain to kyon shauq se mitti nahi khaate.

हँसते हुए माँ-बाप की गाली नहीं खाते,
बच्चे हैं तो क्यों शौक़ से मिट्टी नहीं खाते !

2.
Ho chaahe jis ilaaqe ki zaban bachche samajhte hain,
Sagi hai ya ki sauteli hai Maa bachche samajhte hain.

हो चाहे जिस इलाक़े की ज़बाँ बच्चे समझते हैं,
सगी है या कि सौतेली है माँ बच्चे समझते हैं !

3.
Hawa dukhon ki jab aayi kabhi khizaan ki tarah,
Mujhe chhupa liya mitti ne meri Maa ki tarah.

हवा दुखों की जब आई कभी ख़िज़ाँ की तरह,
मुझे छुपा लिया मिट्टी ने मेरी माँ की तरह !

4.
Sisakiyaan uski na dekhi gayi mujhse “Rana”,
Ro pada main bhi use pehli kamaayi dete.

सिसकियाँ उसकी न देखी गईं मुझसे “राना”,
रो पड़ा मैं भी उसे पहली कमाई देते !

5.
Sar-phire log humein dushman-e-jaan kehte hain,
Hum jo is mulk ki mitti ko bhi Maa kehte hain.

सर फिरे लोग हमें दुश्मन-ए-जाँ कहते हैं,
हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी माँ कहते हैं !

6.
Mujhe bas is liye achchhi bahaar lagati hai,
Ki ye bhi Maa ki tarah khush-gawaar lagati hai.

मुझे बस इस लिए अच्छी बहार लगती है,
कि ये भी माँ की तरह ख़ुशगवार लगती है !

7.
Maine rote hue ponchhe the kisi din aansoo,
Muddaton Maa ne nahi dhoya dupatta apna.

मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आँसू,
मुद्दतों माँ ने नहीं धोया दुपट्टा अपना !

8.
Bheje gaye farishte humaare bachaav ko,
Jab haadsaat Maa ki dua se ulajh pade.

भेजे गए फ़रिश्ते हमारे बचाव को,
जब हादसात माँ की दुआ से उलझ पड़े !

9.
Labon pe us ke kabhi bad-dua nahi hoti,
Bas ek Maa hai jo mujh se khafa nahi hoti.

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती,
बस एक माँ है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती !

10.
Taar par bathi hui chidiyon ko sota dekh kar,
Farsh par sota hua beta bahut achchha laga.

तार पर बैठी हुई चिड़ियों को सोता देख कर,
फ़र्श पर सोता हुआ बेटा बहुत अच्छा लगा !!

11.
Is chehre mein poshida hai ek kaum ka chehra,
Chehre ka utar jana munasib nahi hoga.

इस चेहरे में पोशीदा है इक क़ौम का चेहरा,
चेहरे का उतर जाना मुनासिब नहीं होगा !

12.
Ab bhi chalti hai jab aandhi kabhi gham ki “Rana”,
Maa ki mamta mujhe baahon mein chhupa leti hai.

अब भी चलती है जब आँधी कभी ग़म की “राना”,
माँ की ममता मुझे बाहों में छुपा लेती है !

13.
Musibat ke dinon mein humesha sath rahti hai,
Payambar kya pareshaani mein ummat chhod sakta hai ?

मुसीबत के दिनों में हमेशा साथ रहती है,
पयम्बर क्या परेशानी में उम्मत छोड़ सकता है ?

14.
Puraana ped buzurgon ki tarah hota hai,
Yahi bahut hai ki taaza hawayen deta hai.

पुराना पेड़ बुज़ुर्गों की तरह होता है,
यही बहुत है कि ताज़ा हवाएँ देता है !

15.
Kisi ke paas aate hain to dariya sukh jate hain,
Kisi ke ediyon se ret ka chashma nikalta hai.

किसी के पास आते हैं तो दरिया सूख जाते हैं,
किसी के एड़ियों से रेत का चश्मा निकलता है !

16.
Jab tak raha hun dhoop mein chadar bana raha,
Main apni Maa ka aakhiri jevar bana raha.

जब तक रहा हूँ धूप में चादर बना रहा,
मैं अपनी माँ का आखिरी ज़ेवर बना रहा !

17.
Dekh le zalim shikaari ! Maa ki mamata dekh le,
Dekh le chidiya tere daane talak to aa gayi.

देख ले ज़ालिम शिकारी ! माँ की ममता देख ले,
देख ले चिड़िया तेरे दाने तलक तो आ गई !

18.
Mujhe bhi us ki judai satate rehti hai,
Use bhi khwaab mein beta dikhaayi deta hai.

मुझे भी उसकी जुदाई सताती रहती है,
उसे भी ख़्वाब में बेटा दिखाई देता है !

19.
Muflisi ghar mein theharne nahi deti usko,
Aur pardesh mein beta nahi rahne deta.

मुफ़लिसी घर में ठहरने नहीं देती उसको,
और परदेस में बेटा नहीं रहने देता !

20.
Agar school mein bachche hon ghar achchha nahi lagta,
Parindon ke na hone par shajar achchha nahi lagta.

अगर स्कूल में बच्चे हों घर अच्छा नहीं लगता,
परिन्दों के न होने पर शजर अच्छा नहीं लगता !

Ab dil ki taraf dard ki yalgaar bahut hai..

Ab dil ki taraf dard ki yalgaar bahut hai,
Duniya mere zakhmon ki talabgar bahut hai.

Ab toot raha hai meri hasti ka tasawwur,
Is waqt mujhe tujh se sarokar bahut hai.

Mitti ki ye deewar kahin toot na jaaye,
Roko ki mere khoon ki raftar bahut hai.

Har saans ukhad jaane ki koshish mein pareshan.
Seene mein koi hai jo giraftar bahut hai.

Paani se ulajhte hue insan ka ye shor,
Uss par bhi hoga magar is paar bahut hai. !!

अब दिल की तरफ़ दर्द की यलग़ार बहुत है,
दुनिया मेरे ज़ख़्मों की तलबगार बहुत है !

अब टूट रहा है मेरी हस्ती का तसव्वुर,
इस वक़्त मुझे तुझ से सरोकार बहुत है !

मिट्टी की ये दीवार कहीं टूट न जाए,
रोको कि मेरे ख़ून की रफ़्तार बहुत है !

हर साँस उखड़ जाने की कोशिश में परेशाँ,
सीने में कोई है जो गिरफ़्तार बहुत है !

पानी से उलझते हुए इंसान का ये शोर,
उस पार भी होगा मगर इस पार बहुत है !!