Home / Manzil Shayari

Manzil Shayari

Aankh mein pani rakho honton pe chingari rakho..

Aankh mein paani rakho honton pe chingari rakho,
Zinda rahna hai to tarkiben bahut sari rakho.

Raah ke patthar se badh kar kuch nahi hain manzilen,
Raste aawaz dete hain safar jari rakho.

Ek hi nadi ke hain ye do kinare dosto,
Dostana zindagi se maut se yaari rakho.

Aate jate pal ye kehte hain humare kaan mein,
Kuch ka ailan hone ko hai tayyari rakho.

Ye zaruri hai ki aankhon ka bharam qayam rahe,
Nind rakho ya na rakho khwab mein yaari rakho.

Ye hawayen udd na jayen le ke kaghaz ka badan,
Dosto mujh par koi patthar zara bhaari rakho.

Le to aaye shayari bazaar mein “Rahat” Miyan,
Kya zaruri hai ki lehje ko bazari rakho. !!

आँख में पानी रखो होंठों पे चिंगारी रखो,
जिंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो !

राह के पत्थर से बढ़ कर कुछ नहीं हैं मंज़िलें,
रास्ते आवाज़ देते हैं सफर जारी रखो !

एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तों,
दोस्ताना ज़िन्दगी से मौत से यारी रखो !

आते जाते पल ये कहते हैं हमारे कान में,
कुछ का ऐलान होने को है तैयारी रखो !

ये ज़रूरी है की आँखों का भरम कायम रहे,
नींद रखो या न रखो ख्वाब मे यारी रखो !

ये हवाएं उड़ न जाएँ ले के काग़ज़ का बदन,
दोस्तों मुझ पर कोई पत्थर ज़रा भारी रखो !

ले तो आये शायरी बाजार में “राहत” मियाँ,
क्या जरूरी है कि लहजे को बाज़ारी रखो !!

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye..

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye,
Tera hath hath mein aa gaya ki charagh rah mein jal gaye.

Wo lajaye mere sawal par ki utha sake na jhuka ke sar,
Udi zulf chehre pe is tarah ki shabon ke raaz machal gaye.

Wahi baat jo wo na kah sake mere sher-o-naghma mein aa gayi,
Wahi lab na main jinhen chhu saka qadah-e-sharab mein dhal gaye.

Wahi aastan hai wahi jabin wahi ashk hai wahi aastin,
Dil-e-zar tu bhi badal kahin ki jahan ke taur badal gaye.

Tujhe chashm-e-mast pata bhi hai ki shabab garmi-e-bazm hai,
Tujhe chashm-e-mast khabar bhi hai ki sab aabgine pighal gaye.

Mere kaam aa gayi aakhirash yahi kawishen yahi gardishen,
Badhin is qadar meri manzilen ki qadam ke khar nikal gaye. !!

मुझे सहल हो गईं मंज़िलें वो हवा के रुख़ भी बदल गए,
तेरा हाथ हाथ में आ गया कि चराग़ राह में जल गए !

वो लजाए मेरे सवाल पर कि उठा सके न झुका के सर,
उड़ी ज़ुल्फ़ चेहरे पे इस तरह कि शबों के राज़ मचल गए !

वही बात जो वो न कह सके मेरे शेर-ओ-नग़्मा में आ गई,
वही लब न मैं जिन्हें छू सका क़दह-ए-शराब में ढल गए !

वही आस्ताँ है वही जबीं वही अश्क है वही आस्तीं,
दिल-ए-ज़ार तू भी बदल कहीं कि जहाँ के तौर बदल गए !

तुझे चश्म-ए-मस्त पता भी है कि शबाब गर्मी-ए-बज़्म है,
तुझे चश्म-ए-मस्त ख़बर भी है कि सब आबगीने पिघल गए !

मेरे काम आ गईं आख़िरश यही काविशें यही गर्दिशें,
बढ़ीं इस क़दर मेरी मंज़िलें कि क़दम के ख़ार निकल गए !!

Hamare shauq ki ye intiha thi..

Hamare shauq ki ye intiha thi,
Qadam rakkha ki manzil rasta thi.

Bichhad ke Dar se ban ban phira wo,
Hiran ko apni kasturi saza thi.

Kabhi jo khwab tha wo pa liya hai,
Magar jo kho gayi wo chiz kya thi.

Main bachpan mein khilaune todta tha,
Mere anjam ki wo ibtida thi.

Mohabbat mar gayi mujh ko bhi gham hai,
Mere achchhe dinon ki aashna thi.

Jise chhu lun main wo ho jaye sona,
Tujhe dekha to jaana bad-dua thi.

Mariz-e-khwab ko to ab shifa hai,
Magar duniya badi kadwi dawa thi. !!

हमारे शौक़ की ये इंतिहा थी,
क़दम रखा कि मंज़िल रास्ता थी !

बिछड़ के डार से बन बन फिरा वो,
हिरन को अपनी कस्तूरी सज़ा थी !

कभी जो ख़्वाब था वो पा लिया है,
मगर जो खो गई वो चीज़ क्या थी !

मैं बचपन में खिलौने तोड़ता था,
मेरे अंजाम की वो इब्तिदा थी !

मोहब्बत मर गई मुझ को भी ग़म है,
मेरे अच्छे दिनों की आश्ना थी !

जिसे छू लूँ मैं वो हो जाए सोना,
तुझे देखा तो जाना बद-दुआ थी !

मरीज़-ए-ख़्वाब को तो अब शिफ़ा है,
मगर दुनिया बड़ी कड़वी दवा थी !!

Ab to kuch aur bhi andhera hai..

Ab to kuch aur bhi andhera hai,
Ye meri raat ka sawera hai.

Rahzanon se to bhag nikla tha,
Ab mujhe rahbaron ne ghera hai.

Aage aage chalo tabar walo,
Abhi jangal bahut ghanera hai.

Qafila kis ki pairwi mein chale,
Kaun sab se bada lutera hai.

Sar pe rahi ke sarbarahi ne,
Kya safai ka hath phera hai.

Surma-alud khushk aansuon ne,
Nur-e-jaan khak par bikhera hai.

Rakh rakh ustukhwan safed safed,
Yahi manzil yahi basera hai.

Aye meri jaan apne ji ke siwa,
Kaun tera hai kaun mera hai.

So raho ab “Hafeez” ji tum bhi,
Ye nayi zindagi ka dera hai. !!

अब तो कुछ और भी अंधेरा है,
ये मेरी रात का सवेरा है !

रहज़नों से तो भाग निकला था,
अब मुझे रहबरों ने घेरा है !

आगे आगे चलो तबर वालो,
अभी जंगल बहुत घनेरा है !

क़ाफ़िला किस की पैरवी में चले,
कौन सब से बड़ा लुटेरा है !

सर पे राही के सरबराही ने,
क्या सफ़ाई का हाथ फेरा है !

सुरमा-आलूद ख़ुश्क आँसुओं ने,
नूर-ए-जाँ ख़ाक पर बिखेरा है !

राख राख उस्तुख़्वाँ सफ़ेद सफ़ेद,
यही मंज़िल यही बसेरा है !

ऐ मेरी जान अपने जी के सिवा,
कौन तेरा है कौन मेरा है !

सो रहो अब “हफ़ीज़” जी तुम भी,
ये नई ज़िंदगी का डेरा है !!

Wo bhi kya log the aasan thi raahen jinki..

Wo bhi kya log the aasan thi raahen jinki,
Band aankhe kiye ek simt chale jate the,
Akl-o-dil khwab-o-haqikat ki na uljhan na khalish,
Mukhtlif jalwe nigahon ko na bahlate the.

Ishq saada bhi tha bekhud bhi junupesha bhi,
Husn ko apni adaon pe hijab aata tha,
Phool khilte the to phoolon mein nasha hota tha,
Raat dhalti thi to shishon mein shabab aata tha.

Chandni kaifasar ruhafza hoti thi,
Abr aata tha to badmast bhi ho jate the,
Din mein shorish bhi hua karti thi hangame bhi,
Raat ki godh mein muh dhaanp ke so jate the.

Narm rou waqt ke dhaare pe safine the rwan,
Sahil-o-bah ke aain na badlate the kabhi,
Nakhudaon pe bharosa tha mukddar pe yakeen,
Chadar-e-aab se tufaan na ublate the kabhi,

Hum ke tufaanon ke paale bhi sataye bhi hai,
Brk-o-baaraan me wo hi shamme jalaye kaise,
Ye jo aatishkda duniya mein bhadak uthta hai,
Aansuon se use har baar bujhaye kaise.

Kar diya bark-o-bukharaat ne mahshar barpa,
Apne daftar mein litafat ke siwa kuch bhi nahi,
Ghir gaye waqt ki beraham kashakash me magar,
Pass tahjeeb ki doulat ke siwa kuch bhi nahi.

Ye andhera ye talatum ye hawaon ka kharosh,
Is mein taron ki subuk narm ziya kya karti,
Talkhi-e-jist se kadwa hua aashiq ka mizaz,
Nigah-e-yaar ki masoom ada kya karti.

Safar aasan tha to manzil bhi badi roushan thi,
Aaj kis darjaa purasrar hai raahen apni,
Kitni parchaiya aati hai tajlli ban kar,
Kitne jalwon se uljhati hai nigahe apni.

वो भी क्या लोग थे आसान थी राहें जिनकी,
बंद आँखे किये इक सिम्त चले जाते थे,
अक्ल-ओ-दिल ख्वाब-ओ-हक़ीक़त की न उलझन न खलिश,
मुख्तलिफ जलवे निगाहों को न बहलाते थे !

इश्क़ सादा भी था बेखुद भी जुनुपेशा भी,
हुस्न को अपनी अदाओं पे हिजाब आता था,
फूल खिलते थे तो फूलों में नशा होता था,
रात ढलती थी तो शीशों में शबाब आता था !

चांदनी कैफअसर रूहअफजा होती थी,
अब्र आता था तो बदमस्त भी हो जाते थे,
दिन में शोरीश भी हुआ करती थी हंगामे भी,
रात की गोद में मुह ढांप के सो जाते थे !

नरम रौ वक़्त के धारे पे सफीने थे रवां,
साहिल-ओ-बह के आइन न बदलते थे कभी,
नाख़ुदाओं पे भरोसा था मुकद्दर पे यकीन,
चादर-इ-आब से तूफ़ान न उबलते थे कभी !

हम के तुफानो के पाले भी सताए भी है,
बर्क-ओ-बारां में वो ही शम्मे जलाये कैसे,
ये जो आतिशकदा दुनिया में भड़क उठता है,
आंसुओं से उसे हर बार बुझाए कैसे !

कर दिया बारक-ओ-बुखरात ने महशर बरपा,
अपने दफ्तर में लताफत के सिवा कुछ भी नहीं,
घिर गए वक़्त की बेरहम कशाकश में मगर,
पास तहजीब की दौलत के सिवा कुछ भी नहीं !

ये अँधेरा ये तलातुम ये हवाओं का खरोश,
इस में तारों की सुबुक नरम जिया क्या करती,
तल्खी-ए-जीस्त से कड़वा हुआ आशिक़ का मिज़ाज़,
निगाह-ए-यार की मासूम अदा क्या करती !

सफर आसान था तो मंज़िल भी बड़ी रौशन थी,
आज किस दर्जा पूरअसरार है राहें अपनी,
कितनी परछाईया आती है तजल्ली बन कर,
कितने जलवों से उलझती है निगाहे अपनी !!