Home / Maikhana Shayari

Maikhana Shayari

Mai-khana-e-hasti mein aksar hum apna thikana bhul gaye..

Mai-khana-e-hasti mein aksar hum apna thikana bhul gaye,
Ya hosh mein jaana bhul gaye ya hosh mein aana bhul gaye.

Asbab to ban hi jaate hain taqdir ki zid ko kya kahiye,
Ek jaam lo pahuncha tha hum tak hum jaam uthana bhul gaye.

Aaye the bikhere zulfon ko ek roz humare marqad par,
Do ashk to tapke aankhon se do phool chadhana bhul gaye.

Chaha tha ki un ki aankhon se kuch rang-e-bahaaran le jiye,
Taqrib to achchhi thi lekin do aankh milana bhul gaye.

Malum nahi aaine mein chupke se hansaa tha kaun “Adam”,
Hum jaam uthana bhul gaye wo saaz bajana bhul gaye. !!

मय-खाना-ए-हस्ति में अक्सर हम अपना ठिकाना भूल गए,
या होश में जाना भूल गए या होश में आना भूल गए !

अस्बाब तो बन ही जाते हैं तक़दीर की ज़िद को क्या कहिये,
एक जाम लो पहुंचा था हम तक हम जाम उठाना भूल गए !

आये थे बिखरे ज़ुल्फ़ों को एक रोज़ हमारे मरक़द पर,
दो अश्क तो टपके आँखों से, दो फूल चढ़ाना भूल गए !

चाहा था कि उन की आँखों से कुछ रंग-ए-बहारां ले लीजे,
तक़रीब तो अच्छी थी लेकिन दो आँख मिलाना भूल गए.

मालूम नहीं आईने में चुपके से हँसा था कौन “अदम”,
हम जाम उठाना भूल गए, वो साज़ बजाना भूल गए !!

 

famous two line poetry of Asghar Gondvi

Chala jaata hun hansta khelta mauj-e-havadis se,
Agar aasaniyan hon zindagi dushwaar ho jaaye.

चला जाता हूँ हँसता खेलता मौज-ए-हवादिस से,
अगर आसानियाँ हों ज़िंदगी दुश्वार हो जाए !

Aks kis cheez ka aaina-e-hairat mein nahi,
Teri surat mein hai kya jo meri surat mein nahi.

अक्स किस चीज़ का आईना-ए-हैरत में नहीं,
तेरी सूरत में है क्या जो मेरी सूरत में नहीं !

Zahid ne mira hasil-e-iman nahi dekha,
Ruḳh par tiri zulfon ko pareshan nahi dekha.

ज़ाहिद ने मिरा हासिल-ए-ईमाँ नहीं देखा,
रुख़ पर तिरी ज़ुल्फ़ों को परेशाँ नहीं देखा !

Yahan to umar guzari hai mauj-e-talaatum mein,
Wo koi aur honge sair-e-saahil dekhne wale.

यहाँ तो उम्र गुजरी है मौजे- तलातुम में,
वो कोई और होंगे सैरे-साहिल देखने वाले !

Yun muskuraye jaan si kaliyon mein pad gayi,
Yun lab-kusha hue ki gulistan bana diya.

यूँ मुस्कुराए जान सी कलियों में पड़ गई,
यूँ लब-कुशा हुए कि गुलिस्ताँ बना दिया !

Ek aisi bhi tajalli aaj mai-ḳhane mein hai,
Lutf peene mein nahi hai balki kho jaane mein hai.

एक ऐसी भी तजल्ली आज मय-ख़ाने में है,
लुत्फ़ पीने में नहीं है बल्कि खो जाने में है !

Bulbulo-gul pe jo guzari humko us se kya garaz,
Hum to gulshan mein fakat rang-e-chaman dekha kiye.

बुलबुलो-गुल पै जो गुजरी हमको उससे क्या गरज,
हम तो गुलशन में फकत रंगे-चमन देखा किए !

Ik ada, ik hijab, ik shokhi,
Nichi nazron mein kya nahi hota.

इक अदा, इक हिजाब, इक शोख़ी,
नीची नज़रों में क्या नहीं होता !

Pahli nazar bhi aap ki uff kis bala ki thi,
Hum aaj tak wo chot hain dil par liye hue.

पहली नज़र भी आप की उफ़ किस बला की थी,
हम आज तक वो चोट हैं दिल पर लिए हुए !

Bana leta hai mauj-e-ḳhun-e-dil se ik chaman apna,
Wo paband-e-qafas jo fitratan azad hota hai.

बना लेता है मौज-ए-ख़ून-ए-दिल से इक चमन अपना,
वो पाबंद-ए-क़फ़स जो फ़ितरतन आज़ाद होता है !

Dastan un ki adaon ki hai rangin lekin,
Is mein kuchh ḳhun-e-tamanna bhi hai shamil apna.

दास्ताँ उन की अदाओं की है रंगीं लेकिन,
इस में कुछ ख़ून-ए-तमन्ना भी है शामिल अपना !

Sunta hun bade ghaur se afsana-e-hasti,
Kuchh khwab hai kuchh asl hai kuchh tarz-e-ada hai.

सुनता हूँ बड़े ग़ौर से अफ़्साना-ए-हस्ती,
कुछ ख़्वाब है कुछ अस्ल है कुछ तर्ज़-ए-अदा है !

Jina bhi aa gaya mujhe marna bhi aa gaya,
Pahchanne laga hun tumhari nazar ko main.

जीना भी आ गया मुझे मरना भी आ गया,
पहचानने लगा हूँ तुम्हारी नज़र को मैं !

Aalam se be-khabar bhi hun aalam mein bhi hun main,
Saaqi ne is maqam ko asan bana diya.

आलम से बे-ख़बर भी हूँ आलम में भी हूँ मैं,
साक़ी ने इस मक़ाम को आसाँ बना दिया !

Mujhse jo chahiye wo dars-e-basirat lije,
Main khud awaz hun meri koi awaz nahi.

मुझसे जो चाहिए वो दर्स-ए-बसीरत लीजे,
मैं ख़ुद आवाज़ हूँ मेरी कोई आवाज़ नहीं !

Zulf thi jo bikhar gayi rukh tha ki jo nikhar gaya,
Haaye wo shaam ab kahan haaye wo ab sahar kahan.

ज़ुल्फ़ थी जो बिखर गई रुख़ था कि जो निखर गया,
हाए वो शाम अब कहाँ हाए वो अब सहर कहाँ !

Main kya kahun kahan hai mohabbat kahan nahi,
Rag rag mein daudi phirti hai nashtar liye hue.

मैं क्या कहूँ कहाँ है मोहब्बत कहाँ नहीं,
रग रग में दौड़ी फिरती है नश्तर लिए हुए !

Allah-re chashm-e-yar ki mojiz-bayaniyan,
Har ik ko hai guman ki mukhatab hamin rahe.

अल्लाह-रे चश्म-ए-यार की मोजिज़-बयानियाँ,
हर इक को है गुमाँ कि मुख़ातब हमीं रहे !

Sau baar tira daman hathon mein mire aaya,
Jab aankh khulī dekha apna hī gareban tha.

सौ बार तिरा दामन हाथों में मिरे आया,
जब आँख खुली देखा अपना ही गरेबाँ था !

Nahi dair o haram se kaam ham ulfat ke bande hain,
Wahi kaaba hai apna aarzu dil ki jahan nikle.

नहीं दैर ओ हरम से काम हम उल्फ़त के बंदे हैं,
वही काबा है अपना आरज़ू दिल की जहाँ निकले !

“Asghar” ghazal mein chahiye wo mauj-e-zindagi,
Jo husan hai buton mein jo masti sharab mein.

“असग़र” ग़ज़ल में चाहिए वो मौज-ए-ज़िंदगी,
जो हुस्न है बुतों में जो मस्ती शराब में !

Niyaz-e-ishq ko samjha hai kya ai waaiz-e-nadan,
Hazaaron ban gaye kaabe jabin maine jahan rakh di.

नियाज़-ए-इश्क़ को समझा है क्या ऐ वाइज़-ए-नादाँ,
हज़ारों बन गए काबे जबीं मैंने जहाँ रख दी !

Log marte bhi hain jite bhi hain betab bhi hain,
Kaun sa sehr tiri chashm-e-inayat mein nahi.

लोग मरते भी हैं जीते भी हैं बेताब भी हैं,
कौन सा सेहर तिरी चश्म-ए-इनायत में नहीं !

Rind jo zarf utha len wahi saghar ban jaye,
Jis jagah baith ke pi len wahi mai-khana bane.

रिंद जो ज़र्फ़ उठा लें वही साग़र बन जाए,
जिस जगह बैठ के पी लें वही मय-ख़ाना बने !

Ye bhi fareb se hain kuchh dard ashiqī ke,
Ham mar ke kya karenge kya kar liya hai jī ke.

ये भी फ़रेब से हैं कुछ दर्द आशिक़ी के,
हम मर के क्या करेंगे क्या कर लिया है जी के !

Hal kar liya majaz haqiqat ke raaz ko,
Payi hai maine khwab kī tabir khwab mein.

हल कर लिया मजाज़ हक़ीक़त के राज़ को,
पाई है मैंने ख़्वाब की ताबीर ख़्वाब में !

Ishq ki betabiyon par husan ko rahm aa gaya,
Jab nigah-e-shauq tadpi parda-e-mahmil na tha.

इश्क़ की बेताबियों पर हुस्न को रहम आ गया,
जब निगाह-ए-शौक़ तड़पी पर्दा-ए-महमिल न था !

Ishvon ki hai na us nigah-e-fitna-za ki hai,
Saari khata mire dil-e-shorish-ada ki hai.

इश्वों की है न उस निगह-ए-फ़ित्ना-ज़ा की है,
सारी ख़ता मिरे दिल-ए-शोरिश-अदा की है !

Kuchh milte hain ab pukhtagi-e-ishq ke asar,
Nalon mein rasaai hai na aahon mein asar hai.

कुछ मिलते हैं अब पुख़्तगी-ए-इश्क़ के आसार,
नालों में रसाई है न आहों में असर है !

Kya mastiyan chaman mein hain josh-e-bahar se,
Har shakh-e-gul hai haath mein saghar liye hue.

क्या मस्तियाँ चमन में हैं जोश-ए-बहार से,
हर शाख़-ए-गुल है हाथ में साग़र लिए हुए !

Ye astan-e-yar hai sehn-e-haram nahi,
Jab rakh diya hai sar to uthana na chahiye.

ये आस्तान-ए-यार है सेहन-ए-हरम नहीं,
जब रख दिया है सर तो उठाना न चाहिए !

Ham us nigah-e-naz ko samjhe the neshtar,
Tumne to muskura ke rag-e-jan bana diya.

हम उस निगाह-ए-नाज़ को समझे थे नेश्तर,
तुमने तो मुस्कुरा के रग-ए-जाँ बना दिया !

Har ik jagah tiri barq-e-nigah daud gayi,
Gharaz ye hai ki kisi cheez ko qarar na ho.

हर इक जगह तिरी बर्क़-ए-निगाह दौड़ गई,
ग़रज़ ये है कि किसी चीज़ को क़रार न हो !

Wo shorishen nizam-e-jahan jin ke dam se hai,
Jab mukhtasar kiya unhen insan bana diya.

वो शोरिशें निज़ाम-ए-जहाँ जिन के दम से है,
जब मुख़्तसर किया उन्हें इंसाँ बना दिया !

Chhut jaye agar daman-e-kaunain to kya gham,
Lekin na chhute haath se daman-e-mohammad.

छुट जाए अगर दामन-ए-कौनैन तो क्या ग़म,
लेकिन न छुटे हाथ से दामान-ए-मोहम्मद !

“Asghar” harim-e-ishq mein hasti hi jurm hai,
Rakhna kabhi na paanv yahan sar liye hue.

‘असग़र’ हरीम-ए-इश्क़ में हस्ती ही जुर्म है,
रखना कभी न पाँव यहाँ सर लिए हुए !

Maail-e-sher-o-ghazal phir hai tabiat “asghar”,
Abhi kuchh aur muqaddar mein hai ruswa hona.

माइल-ए-शेर-ओ-ग़ज़ल फिर है तबीअत “असग़र”,
अभी कुछ और मुक़द्दर में है रुस्वा होना !

Yahan kotahi-e-zauq-e-amal hai khud giraftari,
Jahan baazu simatte hain wahin sayyad hota hai.

यहाँ कोताही-ए-ज़ौक़-ए-अमल है ख़ुद गिरफ़्तारी,
जहाँ बाज़ू सिमटते हैं वहीं सय्याद होता है !

Bistar-e-khak pe baitha hun na masti hai na hosh,
Zarre sab sakit-o-samit hain sitare khamosh.

बिस्तर-ए-ख़ाक पे बैठा हूँ न मस्ती है न होश,
ज़र्रे सब साकित-ओ-सामित हैं सितारे ख़ामोश !

Kya kya hain dard-e-ishq ki fitna-taraziyan,
Ham iltifat-e-khas se bhi bad-guman rahe.

क्या क्या हैं दर्द-ए-इश्क़ की फ़ित्ना-तराज़ियाँ,
हम इल्तिफ़ात-ए-ख़ास से भी बद-गुमाँ रहे !

Alam-e-rozgar ko asan bana diya,
Jo gham hua use gham-e-janan bana diya.

आलाम-ए-रोज़गार को आसाँ बना दिया,
जो ग़म हुआ उसे ग़म-ए-जानाँ बना दिया !

Mujhko khabar rahi na rukh-e-be-naqab ki,
Hai khud numud husan mein shan-e-hijab ki.

मुझको ख़बर रही न रुख़-ए-बे-नक़ाब की,
है ख़ुद नुमूद हुस्न में शान-ए-हिजाब की !

Wahin se ishq ne bhi shorishen udaai hain,
Jahan se tune liye ḳhanda-ha-e-zer-e-labi.

वहीं से इश्क़ ने भी शोरिशें उड़ाई हैं,
जहाँ से तूने लिए ख़ंदा-हा-ए-ज़ेर-ए-लबी !

Wo naghma bulbul-e-rangin-nava ik baar ho jaye,
Kali ki aankh khul jaye chaman bedar ho jaye.

वो नग़्मा बुलबुल-ए-रंगीं-नवा इक बार हो जाए,
कली की आँख खुल जाए चमन बेदार हो जाए !

“Asghar” se mile lekin “asghar” ko nahi dekha,
Ashaar mein sunte hain kuchh kuchh wo numayan hai.

“असग़र” से मिले लेकिन “असग़र” को नहीं देखा,
अशआर में सुनते हैं कुछ कुछ वो नुमायाँ है !

Main kamyab-e-did bhi mahrum-e-did bhi,
Jalwon ke izhdiham ne hairan bana diya.

मैं कामयाब-ए-दीद भी महरूम-ए-दीद भी,
जल्वों के इज़दिहाम ने हैराँ बना दिया !

Miri wahshat pe bahs-araaiyan achchhi nahi zahid,
Bahut se bandh rakkhe hain gareban maine daman mein.

मिरी वहशत पे बहस-आराइयाँ अच्छी नहीं ज़ाहिद,
बहुत से बाँध रक्खे हैं गरेबाँ मैंने दामन में !

Be-mahaba ho agar husan to wo baat kahan,
Chhup ke jis shaan se hota hai numayan koi.

बे-महाबा हो अगर हुस्न तो वो बात कहाँ,
छुप के जिस शान से होता है नुमायाँ कोई !

Qahr hai thodi si bhi ghaflat tariq-e-ishq mein,
Aankh jhapki qais ki aur samne mahmil na tha.

क़हर है थोड़ी सी भी ग़फ़लत तरीक़-ए-इश्क़ में,
आँख झपकी क़ैस की और सामने महमिल न था !

Ariz-e-nazuk pe unke rang sa kuchh aa gaya,
In gulon ko chhed kar hamne gulistan kar diya.

आरिज़-ए-नाज़ुक पे उनके रंग सा कुछ आ गया,
इन गुलों को छेड़ कर हमने गुलिस्ताँ कर दिया !

Lazzat-e-sajda-ha-e-shauq na puchh,
Haye wo ittisal-e-naz-o-niyaz.

लज़्ज़त-ए-सज्दा-हा-ए-शौक़ न पूछ,
हाए वो इत्तिसाल-ए-नाज़-ओ-नियाज़ !

Us jalva-gah-e-husan mein chhaya hai har taraf,
Aisa hijab chashm-e-tamasha kahen jise.

उस जल्वा-गाह-ए-हुस्न में छाया है हर तरफ़,
ऐसा हिजाब चश्म-ए-तमाशा कहें जिसे !

Ai shaikh wo basit haqiqat hai kufr ki,
Kuchh qaid-e-rasm ne jise iman bana diya.

ऐ शैख़ वो बसीत हक़ीक़त है कुफ़्र की,
कुछ क़ैद-ए-रस्म ने जिसे ईमाँ बना दिया !

Rudad-e-chaman sunta hun is tarah qafas mein,
Jaise kabhi ankhon se gulistan nahi dekha.

रूदाद-ए-चमन सुनता हूँ इस तरह क़फ़स में,
जैसे कभी आँखों से गुलिस्ताँ नहीं देखा !