Wednesday , February 26 2020
Home / Maikada Shayari

Maikada Shayari

Charaghon Ko Uchhala Ja Raha Hai..

Charaghon ko uchhala ja raha hai,
Hawa par raub dala ja raha hai.

Na haar apni na apni jeet hogi,
Magar sikka uchhala ja raha hai.

Woh dekho maikade ke raste mein,
Koi allaah wala ja raha hai.

The pehle hi kayi saanp aastin mein,
Ab ek bichchhu bhi pala ja raha hai.

Mere jhute gilason ki chhaka kar,
Behakton ko sambhaala ja raha hai.

Hamin buniyaad ka patthar hain lekin,
Hamein ghar se nikala ja raha hai.

Janaze par mere likh dena yaro,
Mohabbat karne wala ja raha hai. !!

चराग़ों को उछाला जा रहा है,
हवा पर रोब डाला जा रहा है !

न हार अपनी न अपनी जीत होगी,
मगर सिक्का उछाला जा रहा है !

वो देखो मय-कदे के रास्ते में,
कोई अल्लाह-वाला जा रहा है !

थे पहले ही कई साँप आस्तीं में,
अब इक बिच्छू भी पाला जा रहा है !

मेरे झूटे गिलासों की छका कर,
बहकतों को सँभाला जा रहा है !

हमीं बुनियाद का पत्थर हैं लेकिन,
हमें घर से निकाला जा रहा है !

जनाज़े पर मेरे लिख देना यारो
मोहब्बत करने वाला जा रहा है !! -Rahat Indori Ghazal

 

Log Har Mod Pe Ruk Ruk Ke Sambhalte Kyun Hain..

Log har mod pe ruk ruk ke sambhalte kyun hain,
Itna darte hain to phir ghar se nikalte kyun hain.

Mai-kada zarf ke mear ka paimana hai,
Khali shishon ki tarah log uchhalte kyun hain.

Main na jugnu hun diya hun na koi tara hun,
Raushni wale mere naam se jalte kyun hain.

Nind se mera taalluq hi nahi barson se,
Khwab aa aa ke meri chhat pe tahalte kyun hain.

Mod hota hai jawani ka sambhalne ke liye,
Aur sab log yahin aa ke phisalte kyun hain. !!

लोग हर मोड़ पर रुक-रुक के संभलते क्यूँ है,
इतना डरते है तो फिर घर से निकलते क्यूँ है !

मय-कदा ज़र्फ़ के मेआ’र का पैमाना है,
ख़ाली शीशों की तरह लोग उछलते क्यूँ हैं !

मैं ना जुगनू हूँ दिया हूँ ना कोई तारा हूँ,
रौशनी वाले मेरे नाम से जलते क्यूँ हैं !

नींद से मेरा ताल्लुक ही नहीं बरसों से,
ख्वाब आ-आ के मेरी छत पे टहलते क्यूँ हैं !

मोड़ तो होता हैं जवानी का संभलने के लिये,
और सब लोग यही आकर फिसलते क्यूँ हैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Aashiqi mein “Mir” jaise khwab mat dekha karo..

Aashiqi mein “Mir” jaise khwab mat dekha karo,
Bawle ho jaoge mahtab mat dekha karo.

Jasta jasta padh liya karna mazamin-e-wafa,
Par kitab-e-ishq ka har bab mat dekha karo.

Is tamashe mein ulat jati hain aksar kashtiyan,
Dubne walon ko zer-e-ab mat dekha karo.

Mai-kade mein kya takalluf mai-kashi mein kya hijab,
Bazm-e-saqi mein adab aadab mat dekha karo.

Hum se durweshon ke ghar aao to yaron ki tarah,
Har jagah khas-khana o barfab mat dekha karo.

Mange-tange ki qabayen der tak rahti nahi,
Yar logon ke laqab-alqab mat dekha karo.

Tishnagi mein lab bhigo lena bhi kafi hai “Faraz”,
Jaam mein sahba hai ya zahrab mat dekha karo. !!

आशिक़ी में “मीर” जैसे ख़्वाब मत देखा करो,
बावले हो जाओगे महताब मत देखा करो !

जस्ता जस्ता पढ़ लिया करना मज़ामीन-ए-वफ़ा,
पर किताब-ए-इश्क़ का हर बाब मत देखा करो !

इस तमाशे में उलट जाती हैं अक्सर कश्तियाँ,
डूबने वालों को ज़ेर-ए-आब मत देखा करो !

मय-कदे में क्या तकल्लुफ़ मय-कशी में क्या हिजाब,
बज़्म-ए-साक़ी में अदब आदाब मत देखा करो !

हम से दरवेशों के घर आओ तो यारों की तरह,
हर जगह ख़स-ख़ाना ओ बर्फ़ाब मत देखा करो !

माँगे-ताँगे की क़बाएँ देर तक रहती नहीं,
यार लोगों के लक़ब-अलक़ाब मत देखा करो !

तिश्नगी में लब भिगो लेना भी काफ़ी है “फ़राज़”,
जाम में सहबा है या ज़हराब मत देखा करो !!

 

Mai-kada tha chandni thi main na tha..

Mai-kada tha chandni thi main na tha,
Ek mujassam be-khudi thi main na tha.

Ishq jab dam todta tha tum na the,
Maut jab sar dhun rahi thi main na tha.

Tur par chheda tha jis ne aap ko,
Wo meri diwangi thi main na tha.

Wo hasin baitha tha jab mere qarib,
Lazzat-e-hum-sayegi thi main na tha.

Mai-kade ke mod par rukti hui,
Muddaton ki tishnagi thi main na tha.

Thi haqiqat kuchh meri to is qadar,
Us hasin ki dil-lagi thi main na tha.

Main aur us ghuncha-dahan ki aarzoo,
Aarzoo ki sadgi thi main na tha.

Jis ne mah-paron ke dil pighla diye,
Wo to meri shayari thi main na tha.

Gesuon ke saye mein aaram-kash,
Sar-barahna zindagi thi main na tha.

Dair o kaba mein “Adam” hairat-farosh,
Do-jahan ki bad-zani thi main na tha. !!

मय-कदा था चाँदनी थी मैं न था
एक मुजस्सम बे-ख़ुदी थी मैं न था !

इश्क़ जब दम तोड़ता था तुम न थे,
मौत जब सर धुन रही थी मैं न था !

तूर पर छेड़ा था जिस ने आप को,
वो मेरी दीवानगी थी मैं न था !

वो हसीं बैठा था जब मेरे क़रीब,
लज़्ज़त-हम-सायगी थी मैं न था !

मय-कदे के मोड़ पर रुकती हुई,
मुद्दतों की तिश्नगी थी मैं न था !

थी हक़ीक़त कुछ मेरी तो इस क़दर,
उस हसीं की दिल-लगी थी मैं न था !

मैं और उस ग़ुंचा-दहन की आरज़ू,
आरज़ू की सादगी थी मैं न था !

जिस ने मह-पारों के दिल पिघला दिए,
वो तो मेरी शाएरी थी मैं न था !

गेसुओं के साए में आराम-कश,
सर-बरहना ज़िंदगी थी मैं न था !

दैर ओ काबा में “अदम” हैरत-फ़रोश,
दो-जहाँ की बद-ज़नी थी मैं न था !!

 

Zulf-e-barham sambhaal kar chaliye..

Zulf-e-barham sambhaal kar chaliye,
Rasta dekh-bhaal kar chaliye.

Mausam-e-gul hai apni banhon ko,
Meri banhon mein dal kar chaliye.

Mai-kade mein na baithiye taham,
Kuchh tabiat bahaal kar chaliye.

Kuchh na denge to kya ziyan hoga,
Harj kya hai sawal kar chaliye.

Hai agar qatl-e-am ki niyyat,
Jism ki chhab nikal kar chaliye.

Kisi nazuk-badan se takra kar,
Koi kasb-e-kamal kar chaliye.

Ya dupatta na lijiye sar par,
Ya dupatta sambhaal kar chaliye.

Yar dozakh mein hain muqim “Adam”,
Khuld se intiqal kar chaliye. !!

ज़ुल्फ़-ए-बरहम सँभाल कर चलिए,
रास्ता देख-भाल कर चलिए !

मौसम-ए-गुल है अपनी बाँहों को,
मेरी बाँहों में डाल कर चलिए !

मय-कदे में न बैठिए ताहम,
कुछ तबीअत बहाल कर चलिए !

कुछ न देंगे तो क्या ज़ियाँ होगा,
हर्ज क्या है सवाल कर चलिए !

है अगर क़त्ल-ए-आम की निय्यत,
जिस्म की छब निकाल कर चलिए !

किसी नाज़ुक-बदन से टकरा कर,
कोई कस्ब-ए-कमाल कर चलिए !

या दुपट्टा न लीजिए सर पर,
या दुपट्टा सँभाल कर चलिए !

यार दोज़ख़ में हैं मुक़ीम “अदम”,
ख़ुल्द से इंतिक़ाल कर चलिए !!

 

Lahra ke jhum jhum ke la muskura ke la..

Lahra ke jhum jhum ke la muskura ke la,
Phoolon ke ras mein chand ki kirnen mila ke la.

Kahte hain umar-e-rafta kabhi lauti nahi,
Ja mai-kade se meri jawani utha ke la.

Saghar-shikan hai shaikh-e-bala-nosh ki nazar,
Shishe ko zer-e-daman-e-rangin chhupa ke la.

Kyun ja rahi hai ruth ke rangini-e-bahaar,
Ja ek martaba use phir warghala ke la.

Dekhi nahi hai tu ne kabhi zindagi ki lahr,
Achchha to ja “Adam” ki surahi utha ke la. !!

लहरा के झूम झूम के ला मुस्कुरा के ला,
फूलों के रस में चाँद की किरनें मिला के ला !

कहते हैं उम्र-ए-रफ़्ता कभी लौटती नहीं,
जा मय-कदे से मेरी जवानी उठा के ला !

साग़र-शिकन है शैख़-ए-बला-नोश की नज़र,
शीशे को ज़ेर-ए-दामन-ए-रंगीं छुपा के ला !

क्यूँ जा रही है रूठ के रंगीनी-ए-बहार,
जा एक मर्तबा उसे फिर वर्ग़ला के ला !

देखी नहीं है तू ने कभी ज़िंदगी की लहर,
अच्छा तो जा “अदम” की सुराही उठा के ला !!

 

Halka halka surur hai saqi..

Halka halka surur hai saqi,
Baat koi zarur hai saqi.

Teri aankhon ko kar diya sajda,
Mera pahla qusur hai saqi,

Tere rukh par hai ye pareshani,
Ek andhere mein nur hai saqi.

Teri aankhen kisi ko kya dengi,
Apna apna surur hai saqi.

Pine walon ko bhi nahi malum,
Mai-kada kitni dur hai saqi. !!

हल्का हल्का सुरूर है साक़ी,
बात कोई ज़रूर है साक़ी !

तेरी आँखों को कर दिया सज्दा,
मेरा पहला क़ुसूर है साक़ी !

तेरे रुख़ पर है ये परेशानी,
एक अँधेरे में नूर है साक़ी !

तेरी आँखें किसी को क्या देंगी,
अपना अपना सुरूर है साक़ी !

पीने वालों को भी नहीं मालूम,
मय-कदा कितनी दूर है साक़ी !!