Wednesday , February 26 2020
Home / Kumar Vishwas / Ek Pagli Ladki Ke Bin..

Ek Pagli Ladki Ke Bin..

Ek Pagli Ladki Ke Bin

Amawas ki kaali raaton mein dil ka darwaja khulta hai,
Jab dard ki kaali raaton mein gham ansoon ke sang ghulta hain,
Jab pichwade ke kamre mein hum nipat akele hote hain,
Jab ghadiyan tik-tik chalti hain, sab sote hain, Hum rote hain,
Jab baar baar dohrane se sari yaadein chuk jati hain,
Jab unch-nich samjhane mein mathe ki nas dukh jati hain
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai..

अमावस की काली रातों में दिल का दरवाजा खुलता है,
जब दर्द की काली रातों में गम आंसू के संग घुलता है,
जब पिछवाड़े के कमरे में हम निपट अकेले होते हैं,
जब घड़ियाँ टिक-टिक चलती हैं, सब सोते हैं, हम रोते हैं,
जब बार-बार दोहराने से सारी यादें चुक जाती हैं,
जब ऊँच-नीच समझाने में माथे की नस दुःख जाती है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Jab pothe khali hote hain, jab harf sawali hote hain,
Jab ghazalein ras nahi aati, afsane gali hote hain
Jab basi fiki dhoop sametein din jaldi dhal jta hai,
Jab sooraj ka laskhar chhat se galiyon mein der se jata hai,
Jab jaldi ghar jane ki ichha man hi man ghut jati hai,
Jab college se ghar lane wali pahli bus chhut jati hai,
Jab be-man se khana khane par maa gussa ho jati hai,
Jab lakh mana karne par bhi paaro padhne aa jati hai,
Jab apna har man-chaha kaam koi lachari lagta hai,
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai..

जब पोथे खाली होते है, जब हर्फ़ सवाली होते हैं,
जब गज़लें रास नही आती, अफ़साने गाली होते हैं,
जब बासी फीकी धूप समेटे दिन जल्दी ढल जता है,
जब सूरज का लश्कर छत से गलियों में देर से जाता है,
जब जल्दी घर जाने की इच्छा मन ही मन घुट जाती है,
जब कालेज से घर लाने वाली पहली बस छुट जाती है,
जब बे-मन से खाना खाने पर माँ गुस्सा हो जाती है,
जब लाख मन करने पर भी पारो पढ़ने आ जाती है,
जब अपना हर मन-चाहा काम कोई लाचारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Jab kamre mein sannate ki aawaz sunai deti hai,
Jab darpan mein aankhon ke niche jhai dikhai deti hai
Jab badki bhabhi kahti hai, kuchh sehat ka bhi dhyan karo,
Kya likhte ho din-bhar, kuchh sapnon ka bhi samman karo,
Jab baba wali baithak mein kuchh rishte wale aate hain,
Jab baba hamein bulate hain, hum jate mein ghabrate hain,
Jab saari pahne ek ladki ka ek photo laya jata hai,
Jab bhabhi hamein manati hai, photo dikhlaya jata hai,
Jab sarein ghar ka samjhana humko fankari lagta hai,
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhaari lagta hai..

जब कमरे में सन्नाटे की आवाज़ सुनाई देती है,
जब दर्पण में आंखों के नीचे झाई दिखाई देती है,
जब बड़की भाभी कहती हैं, कुछ सेहत का भी ध्यान करो,
क्या लिखते हो दिन-भर, कुछ सपनों का भी सम्मान करो,
जब बाबा वाली बैठक में कुछ रिश्ते वाले आते हैं,
जब बाबा हमें बुलाते है, हम जाते में घबराते हैं,
जब साड़ी पहने एक लड़की का फोटो लाया जाता है,
जब भाभी हमें मनाती हैं, फोटो दिखलाया जाता है,
जब सारे घर का समझाना हमको फनकारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Didi kahti hai us pagli ladki ki kuchh aukat nahi,
Uske dil mein bhaiiya tere jaise pyare jazbat nahi,
Woh pagli ladki meri khatir nau din bhukhi rahti hai,
Chup-chup sare warat karti hai, magar mujhse kuchh na kahti hai,
Jo pagli ladki kahti hai, main pyar tumhi se karti hoon,
Lekin main hun majbur bahut, amma-baba se darti hun,
Us pagli ladki par apna kuchh bhi adhikar nahi baba,
Sab katha-kahani kisse hai, kuchh bhi to saar nahi baba
Bas us pagli ladki ke sang jina fulwari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai.. !!

दीदी कहती हैं उस पगली लडकी की कुछ औकात नहीं,
उसके दिल में भैया तेरे जैसे प्यारे जज़्बात नहीं,
वो पगली लड़की मेरी खातिर नौ दिन भूखी रहती है,
चुप चुप सारे व्रत करती है, मगर मुझसे कुछ ना कहती है,
जो पगली लडकी कहती है, मैं प्यार तुम्ही से करती हूँ,
लेकिन मैं हूँ मजबूर बहुत, अम्मा-बाबा से डरती हूँ,
उस पगली लड़की पर अपना कुछ भी अधिकार नहीं बाबा,
सब कथा-कहानी-किस्से हैं, कुछ भी तो सार नहीं बाबा,
बस उस पगली लडकी के संग जीना फुलवारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..!!

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Happy Promise Day Shayari In Hindi

यदि आप इस वैलेंटाइन डे पर अपने प्यार के लिए Happy Promise Day Shayari in …

Happy Teddy Day Shayari In HIndi

यदि आप इस वैलेंटाइन डे पर अपने प्यार के लिए Happy Teddy Bear Day Shayari …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 − 1 =