Home / Khwaab Shayari

Khwaab Shayari

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa..

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa,
Dil ka aalam hai tere baad khalaon jaisa.

Kash duniya mere ehsas ko wapas kar de,
Khamushi ka wahi andaz sadaon jaisa.

Pas rah kar bhi hamesha wo bahut dur mila,
Us ka andaz-e-taghaful tha khudaon jaisa.

Kitni shiddat se bahaaron ko tha ehsas-e-maal,
Phool khil kar bhi raha zard khizaon jaisa.

Kya qayamat hai ki duniya use sardar kahe,
Jis ka andaz-e-sukhan bhi ho gadaon jaisa.

Phir teri yaad ke mausam ne jagaye mahshar,
Phir mere dil mein utha shor hawaon jaisa.

Barha khwab mein pa kar mujhe pyasa “Mohsin”,
Us ki zulfon ne kiya raqs ghataon jaisa. !!

अब वो तूफ़ाँ है न वो शोर हवाओं जैसा,
दिल का आलम है तेरे बाद ख़लाओं जैसा !

काश दुनिया मेरे एहसास को वापस कर दे,
ख़ामुशी का वही अंदाज़ सदाओं जैसा !

पास रह कर भी हमेशा वो बहुत दूर मिला,
उस का अंदाज़-ए-तग़ाफ़ुल था ख़ुदाओं जैसा !

कितनी शिद्दत से बहारों को था एहसास-ए-मआल,
फूल खिल कर भी रहा ज़र्द ख़िज़ाओं जैसा !

क्या क़यामत है कि दुनिया उसे सरदार कहे,
जिस का अंदाज़-ए-सुख़न भी हो गदाओं जैसा !

फिर तेरी याद के मौसम ने जगाए महशर,
फिर मेरे दिल में उठा शोर हवाओं जैसा !

बारहा ख़्वाब में पा कर मुझे प्यासा “मोहसिन”,
उस की ज़ुल्फ़ों ने किया रक़्स घटाओं जैसा !!

 

Hum kahan hain ye pata lo tum bhi..

Hum kahan hain ye pata lo tum bhi,
Baat aadhi to sambhaalo tum bhi.

Dil lagaya hi nahi tha tum ne,
Dil-lagi ki thi maza lo tum bhi.

Hum ko aankhon mein na aanjo lekin,
Khud ko khud par to saza lo tum bhi.

Jism ki nind mein sone walon,
Ruh mein khwab to palo tum bhi. !!

हम कहाँ हैं ये पता लो तुम भी,
बात आधी तो सँभालो तुम भी !

दिल लगाया ही नहीं था तुम ने,
दिल-लगी की थी मज़ा लो तुम भी !

हम को आँखों में न आँजो लेकिन,
ख़ुद को ख़ुद पर तो सजा लो तुम भी !

जिस्म की नींद में सोने वालों,
रूह में ख़्वाब तो पालो तुम भी !!

 

Bimar ko maraz ki dawa deni chahiye..

Bimar ko maraz ki dawa deni chahiye,
Main pina chahta hun pila deni chahiye.

Allah barkaton se nawazega ishq mein,
Hai jitni punji pas laga deni chahiye.

Dil bhi kisi faqir ke hujre se kam nahi,
Duniya yahin pe la ke chhupa deni chahiye.

Main khud bhi karna chahta hun apna samna,
Tujh ko bhi ab naqab utha deni chahiye.

Main phool hun to phool ko gul-dan ho nasib,
Main aag hun to aag bujha deni chahiye.

Main taj hun to taj ko sar par sajayen log,
Main khak hun to khak uda deni chahiye.

Main jabr hun to jabr ki taid band ho,
Main sabr hun to mujh ko dua deni chahiye.

Main khwab hun to khwab se chaunkaiye mujhe,
Main nind hun to nind uda deni chahiye.

Sach baat kaun hai jo sar-e-am kah sake,
Main kah raha hun mujh ko saza deni chahiye. !!

बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए,
मैं पीना चाहता हूँ पिला देनी चाहिए !

अल्लाह बरकतों से नवाज़ेगा इश्क़ में,
है जितनी पूँजी पास लगा देनी चाहिए !

दिल भी किसी फ़क़ीर के हुजरे से कम नहीं,
दुनिया यहीं पे ला के छुपा देनी चाहिए !

मैं ख़ुद भी करना चाहता हूँ अपना सामना,
तुझ को भी अब नक़ाब उठा देनी चाहिए !

मैं फूल हूँ तो फूल को गुल-दान हो नसीब,
मैं आग हूँ तो आग बुझा देनी चाहिए !

मैं ताज हूँ तो ताज को सर पर सजाएँ लोग,
मैं ख़ाक हूँ तो ख़ाक उड़ा देनी चाहिए !

मैं जब्र हूँ तो जब्र की ताईद बंद हो,
मैं सब्र हूँ तो मुझ को दुआ देनी चाहिए !

मैं ख़्वाब हूँ तो ख़्वाब से चौंकाइए मुझे,
मैं नींद हूँ तो नींद उड़ा देनी चाहिए !

सच बात कौन है जो सर-ए-आम कह सके,
मैं कह रहा हूँ मुझ को सज़ा देनी चाहिए !!

 

Aam hukm-e-sharab karta hun..

Aam hukm-e-sharab karta hun,
Mohtasib ko kabab karta hun.

Tuk to rah ai bina-e-hasti tu,
Tujh ko kaisa kharab karta hun.

Bahs karta hun ho ke abjad-khwan,
Kis qadar be-hisab karta hun.

Koi bujhti hai ye bhadak mein abas,
Tishnagi par itab karta hun.

Sar talak aab-e-tegh mein hun gharq,
Ab tain aab aab karta hun.

Ji mein phirta hai “mir” wo mere,
Jagta hun ki khwab karta hun. !!

आम हुक्म-ए-शराब करता हूँ,
मोहतसिब को कबाब करता हूँ !

टुक तो रह ऐ बिना-ए-हस्ती तू,
तुझ को कैसा ख़राब करता हूँ !

बहस करता हूँ हो के अबजद-ख़्वाँ,
किस क़दर बे-हिसाब करता हूँ !

कोई बुझती है ये भड़क में अबस,
तिश्नगी पर इताब करता हूँ !

सर तलक आब-ए-तेग़ में हूँ ग़र्क़,
अब तईं आब आब करता हूँ !

जी में फिरता है “मीर” वो मेरे,
जागता हूँ कि ख़्वाब करता हूँ !!

Hamare shauq ki ye intiha thi..

Hamare shauq ki ye intiha thi,
Qadam rakkha ki manzil rasta thi.

Bichhad ke Dar se ban ban phira wo,
Hiran ko apni kasturi saza thi.

Kabhi jo khwab tha wo pa liya hai,
Magar jo kho gayi wo chiz kya thi.

Main bachpan mein khilaune todta tha,
Mere anjam ki wo ibtida thi.

Mohabbat mar gayi mujh ko bhi gham hai,
Mere achchhe dinon ki aashna thi.

Jise chhu lun main wo ho jaye sona,
Tujhe dekha to jaana bad-dua thi.

Mariz-e-khwab ko to ab shifa hai,
Magar duniya badi kadwi dawa thi. !!

हमारे शौक़ की ये इंतिहा थी,
क़दम रखा कि मंज़िल रास्ता थी !

बिछड़ के डार से बन बन फिरा वो,
हिरन को अपनी कस्तूरी सज़ा थी !

कभी जो ख़्वाब था वो पा लिया है,
मगर जो खो गई वो चीज़ क्या थी !

मैं बचपन में खिलौने तोड़ता था,
मेरे अंजाम की वो इब्तिदा थी !

मोहब्बत मर गई मुझ को भी ग़म है,
मेरे अच्छे दिनों की आश्ना थी !

जिसे छू लूँ मैं वो हो जाए सोना,
तुझे देखा तो जाना बद-दुआ थी !

मरीज़-ए-ख़्वाब को तो अब शिफ़ा है,
मगर दुनिया बड़ी कड़वी दवा थी !!

Ek nazar hi dekha tha shauq ne shabab un ka..

Ek nazar hi dekha tha shauq ne shabab un ka,
Din ko yaad hai un ki raat ko hai khwab un ka.

Gir gaye nigahon se phul bhi sitare bhi,
Main ne jab se dekha hai aalam-e-shabab un ka.

Nasehon ne shayad ye baat hi nahi sochi,
Ek taraf hai dil mera ek taraf shabab un ka.

Ai dil un ke chehre tak kis tarah nazar jati,
Nur un ke chehre ka ban gaya hijab un ka.

Ab kahun to main kis se mere dil pe kya guzri,
Dekh kar un aankhon mein dard-e-iztirab un ka.

Hashr ke muqabil mein hashr hi saf-ara hai,
Is taraf junun mera us taraf shabab un ka. !!

एक नज़र ही देखा था शौक़ ने शबाब उन का,
दिन को याद है उन की रात को है ख़्वाब उन का !

गिर गए निगाहों से फूल भी सितारे भी,
मैं ने जब से देखा है आलम-ए-शबाब उन का !

नासेहों ने शायद ये बात ही नहीं सोची,
एक तरफ़ है दिल मेरा एक तरफ़ शबाब उन का !

ऐ दिल उन के चेहरे तक किस तरह नज़र जाती,
नूर उन के चेहरे का बन गया हिजाब उन का !

अब कहूँ तो मैं किस से मेरे दिल पे क्या गुज़री,
देख कर उन आँखों में दर्द-ए-इज़्तिराब उन का !

हश्र के मुक़ाबिल में हश्र ही सफ़-आरा है,
इस तरफ़ जुनूँ मेरा उस तरफ़ शबाब उन का !!

Chandni chhat pe chal rahi hogi..

Chandni chhat pe chal rahi hogi,
Ab akeli tahal rahi hogi.

Phir mera zikr aa gaya hoga,
Barf si wo pighal rahi hogi.

Kal ka sapna bahut suhana tha,
Ye udasi na kal rahi hogi.

Sochta hun ki band kamre mein,
Ek shama si jal rahi hogi.

Shahr ki bhid-bhad se bach kar,
Tu gali se nikal rahi hogi.

Aaj buniyaad thartharaati hai,
Wo dua phul-phal rahi hogi.

Tere gahnon si khankhanati thi,
Bajre ki fasal rahi hogi.

Jin hawaon ne tujh ko dulraya,
Un mein meri ghazal rahi hogi. !!

चाँदनी छत पे चल रही होगी,
अब अकेली टहल रही होगी !

फिर मेरा ज़िक्र आ गया होगा,
बर्फ़ सी वो पिघल रही होगी !

कल का सपना बहुत सुहाना था,
ये उदासी न कल रही होगी !

सोचता हूँ कि बंद कमरे में,
एक शमा सी जल रही होगी !

शहर की भीड़-भाड़ से बच कर,
तू गली से निकल रही होगी !

आज बुनियाद थरथराती है,
वो दुआ फूल-फल रही होगी !

तेरे गहनों सी खनखनाती थी,
बाजरे की फ़सल रही होगी !

जिन हवाओं ने तुझ को दुलराया,
उन में मेरी ग़ज़ल रही होगी !!