Thursday , April 9 2020

Khwaab Shayari

Gaye Mausam Mein Jo Khilte The Gulabon Ki Tarah..

Gaye mausam mein jo khilte the gulabon ki tarah,
Dil pe utrenge wahi khwab azabon ki tarah.

Rakh ke dher pe ab raat basar karni hai,
Jal chuke hain mere kheme mere khwabon ki tarah.

Saat-e-did ki aariz hain gulabi ab tak,
Awwalin lamhon ke gulnar hijabon ki tarah.

Wo samundar hai to phir ruh ko shadab kare,
Tishnagi kyun mujhe deta hai sharaabon ki tarah.

Ghair-mumkin hai tere ghar ke gulabon ka shumar,
Mere riste hue zakhmon ke hisabon ki tarah.

Yaad to hongi wo baaten tujhe ab bhi lekin,
Shelf mein rakkhi hui band kitabon ki tarah.

Kaun jaane ki naye sal mein tu kis ko padhe,
Tera mear badalta hai nisabon ki tarah.

Shokh ho jati hai ab bhi teri aankhon ki chamak,
Gahe gahe tere dilchasp jawabon ki tarah.

Hijr ki shab meri tanhai pe dastak degi,
Teri khush-bu mere khoye hue khwabon ki tarah. !!

गए मौसम में जो खिलते थे गुलाबों की तरह,
दिल पे उतरेंगे वही ख़्वाब अज़ाबों की तरह !

राख के ढेर पे अब रात बसर करनी है,
जल चुके हैं मेरे ख़ेमे मेरे ख़्वाबों की तरह !

साअत-ए-दीद कि आरिज़ हैं गुलाबी अब तक,
अव्वलीं लम्हों के गुलनार हिजाबों की तरह !

वो समुंदर है तो फिर रूह को शादाब करे,
तिश्नगी क्यूं मुझे देता है शराबों की तरह !

ग़ैर-मुमकिन है तेरे घर के गुलाबों का शुमार,
मेरे रिश्ते हुए ज़ख़्मों के हिसाबों की तरह !

याद तो होंगी वो बातें तुझे अब भी लेकिन,
शेल्फ़ में रक्खी हुई बंद किताबों की तरह !

कौन जाने कि नए साल में तू किस को पढ़े,
तेरा मेआर बदलता है निसाबों की तरह !

शोख़ हो जाती है अब भी तेरी आंखों की चमक,
गाहे गाहे तेरे दिलचस्प जवाबों की तरह !

हिज्र की शब मेरी तन्हाई पे दस्तक देगी,
तेरी ख़ुश-बू मेरे खोए हुए ख़्वाबों की तरह !!

Parveen Shakir Ghazal

 

Aaj Ki Raat Bhi Guzri Hai Meri Kal Ki Tarah..

Aaj ki raat bhi guzri hai meri kal ki tarah,
Hath aaye na sitare tere aanchal ki tarah.

Hadsa koi to guzra hai yakinan yaro,
Ek sannata hai mujh mein kisi maqtal ki tarah.

Phir na nikla koi ghar se ki hawa phirti thi,
Sang hathon mein uthaye kisi pagal ki tarah.

Tu ki dariya hai magar meri tarah pyasa hai,
Main tere pas chala aaunga baadal ki tarah.

Raat jalti hui ek aisi chita hai jis par,
Teri yaaden hain sulagte hue sandal ki tarah.

Main hun ek khwab magar jagti aankhon ka “Amir“,
Aaj bhi log ganwa den na mujhe kal ki tarah. !!

आज की रात भी गुज़री है मेरी कल की तरह,
हाथ आए न सितारे तेरे आँचल की तरह !

हादसा कोई तो गुज़रा है यक़ीनन यारो,
एक सन्नाटा है मुझ में किसी मक़्तल की तरह !

फिर न निकला कोई घर से कि हवा फिरती थी,
संग हाथों में उठाए किसी पागल की तरह !

तू कि दरिया है मगर मेरी तरह प्यासा है,
मैं तेरे पास चला आऊँगा बादल की तरह !

रात जलती हुई एक ऐसी चिता है जिस पर,
तेरी यादें हैं सुलगते हुए संदल की तरह !

मैं हूँ एक ख़्वाब मगर जागती आँखों का “अमीर“,
आज भी लोग गँवा दें न मुझे कल की तरह !!

 

Jisko Pa Na Sake Wo Janab Ho Aap

Jisko pa na sake wo janab ho aap,
Meri zindagi ka pehla khwab ho aap,
Log chahe kuch bhi kahe aapko,
Lekin mere liye sundar sa gulaab ho aap. !!

जिसको पा ना सके वो जनाब हो आप,
मेरी ज़िन्दगी का पहला ख्वाब हो आप,
लोग चाहे कुछ भी कहे आपको,
लेकिन मेरे लिए सुन्दर सा गुलाब हो आप !!

Rose Day Mubarak

 

Ab ke hum bichhde to shayad kabhi khwabon mein milen..

Ab ke hum bichhde to shayad kabhi khwabon mein milen,
Jis tarah sukhe hue phool kitabon mein milen

Dhundh ujde hue logon mein wafa ke moti,
Ye khazane tujhe mumkin hai kharabon mein milen,

Gham-e-duniya bhi gham-e-yar mein shamil kar lo,
Nashsha badhta hai sharaben jo sharabon mein milen.

Tu khuda hai na mera ishq farishton jaisa,
Donon insan hain to kyun itne hijabon mein milen.

Aaj hum dar pe khinche gaye jin baaton par,
Kya ajab kal wo zamane ko nisabon mein milen.

Ab na wo main na wo tu hai na wo mazi hai “faraz”,
Jaise do shakhs tamanna ke sarabon mein milen. !!

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें,
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें !

ढूँढ उजड़े हुए लोगों में वफ़ा के मोती,
ये ख़ज़ाने तुझे मुमकिन है ख़राबों में मिलें !

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो,
नश्शा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें !

तू ख़ुदा है न मेरा इश्क़ फ़रिश्तों जैसा,
दोनों इंसाँ हैं तो क्यूँ इतने हिजाबों में मिलें !

आज हम दार पे खींचे गए जिन बातों पर,
क्या अजब कल वो ज़माने को निसाबों में मिलें !

अब न वो मैं न वो तू है न वो माज़ी है “फ़राज़”,
जैसे दो शख़्स तमन्ना के सराबों में मिलें !!

 

Barson ke baad dekha ek shakhs dilruba sa..

Barson ke baad dekha ek shakhs dilruba sa

Barson ke baad dekha ek shakhs dilruba sa,
Ab zehan mein nahi hai par naam tha bhala sa.

Abro khinche khinche se aankhen jhuki jhuki si,
Baaten ruki ruki si lehja thaka thaka sa.

Alfaaz the ki jugnu aawaz ke safar mein,
Ban jaaye jungalon mein jis tarah rasta sa.

Khwabon mein khwab uske yaadon mein yaad uski,
Nindon mein ghul gaya ho jaise ki rat-jaga sa.

Pahle bhi log aaye kitne hi zindagi mein,
Woh har tarah se lekin auron se tha juda sa.

Kuch ye ki muddaton se hum bhi nahi the roye,
Kuch zahar mein ghula tha ahbaab ka dilasa.

Phir yun hua ki sawan aankhon mein aa base the,
Phir yun hua ki jaise dil bhi tha aablaa sa.

Ab sach kahen to yaaro hum ko khabar nahi thi,
Ban jayega qayaamat ek waaqiya zara sa.

Tewar the be-rukhi ke andaaz dosti ka,
Woh ajnabi tha lekin lagta tha aashna sa.

Hum dasht the ki dariya hum zahar the ki amrit,
Na haq the jaam hum ko jab wo nahi tha pyasa.

Humne bhi usko dekha kal shaam ittefaqan,
Apna bhi haal hai ab logo “Faraz” ka sa .

बरसों के बाद देखा एक शख्स दिलरुबा सा,
अब ज़हन में नहीं है पर नाम था भला सा !

अबरो खिंचे खिंचे से आखें झुकी झुकी सी,
बातें रुकी रुकी सी, लहजा थका थका सा !

अलफ़ाज़ थे की जुगनु आवाज़ के सफ़र में,
बन जाए जंगलों में जिस तरह रास्ता सा !

ख़्वाबों में ख्वाब उसके यादों में याद उसकी,
नींदों में घुल गया हो जैसे की रात-जगा सा !

पहले भी लोग आये कितने ही ज़िन्दगी में,
वह हर तरह से लेकिन औरों से था जुदा सा !

कुछ ये की मुद्दतों से हम भी नहीं थे रोये,
कुछ ज़हर में घुला था अहबाब का दिलासा !

फिर यूँ हुआ कि सावन आँखों में आ बसे थे,
फिर यूँ हुआ कि जैसे दिल भी था अबला सा !

अब सच कहें तो यारो हम को खबर नहीं थी,
बन जायेगा क़यामत एक वाकिया ज़रा सा !

तेवर थे बे-रुखी के अंदाज़ दोस्ती का,
वह अजनबी था लेकिन लगता था आशना सा !

हम दश्त थे की दरिया हम ज़हर थे कि अमृत,
ना हक़ थे ज़ाम हम को जब वो नहीं था प्यासा !

हमने भी उसको देखा कल शाम इत्तेफ़ाक़न,
अपना भी हाल है अब लोगो “फ़राज़” का सा !!

 

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa..

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa,
Dil ka aalam hai tere baad khalaon jaisa.

Kash duniya mere ehsas ko wapas kar de,
Khamushi ka wahi andaz sadaon jaisa.

Pas rah kar bhi hamesha wo bahut dur mila,
Us ka andaz-e-taghaful tha khudaon jaisa.

Kitni shiddat se bahaaron ko tha ehsas-e-maal,
Phool khil kar bhi raha zard khizaon jaisa.

Kya qayamat hai ki duniya use sardar kahe,
Jis ka andaz-e-sukhan bhi ho gadaon jaisa.

Phir teri yaad ke mausam ne jagaye mahshar,
Phir mere dil mein utha shor hawaon jaisa.

Barha khwab mein pa kar mujhe pyasa “Mohsin”,
Us ki zulfon ne kiya raqs ghataon jaisa. !!

अब वो तूफ़ाँ है न वो शोर हवाओं जैसा,
दिल का आलम है तेरे बाद ख़लाओं जैसा !

काश दुनिया मेरे एहसास को वापस कर दे,
ख़ामुशी का वही अंदाज़ सदाओं जैसा !

पास रह कर भी हमेशा वो बहुत दूर मिला,
उस का अंदाज़-ए-तग़ाफ़ुल था ख़ुदाओं जैसा !

कितनी शिद्दत से बहारों को था एहसास-ए-मआल,
फूल खिल कर भी रहा ज़र्द ख़िज़ाओं जैसा !

क्या क़यामत है कि दुनिया उसे सरदार कहे,
जिस का अंदाज़-ए-सुख़न भी हो गदाओं जैसा !

फिर तेरी याद के मौसम ने जगाए महशर,
फिर मेरे दिल में उठा शोर हवाओं जैसा !

बारहा ख़्वाब में पा कर मुझे प्यासा “मोहसिन”,
उस की ज़ुल्फ़ों ने किया रक़्स घटाओं जैसा !!

 

Hum kahan hain ye pata lo tum bhi..

Hum kahan hain ye pata lo tum bhi,
Baat aadhi to sambhaalo tum bhi.

Dil lagaya hi nahi tha tum ne,
Dil-lagi ki thi maza lo tum bhi.

Hum ko aankhon mein na aanjo lekin,
Khud ko khud par to saza lo tum bhi.

Jism ki nind mein sone walon,
Ruh mein khwab to palo tum bhi. !!

हम कहाँ हैं ये पता लो तुम भी,
बात आधी तो सँभालो तुम भी !

दिल लगाया ही नहीं था तुम ने,
दिल-लगी की थी मज़ा लो तुम भी !

हम को आँखों में न आँजो लेकिन,
ख़ुद को ख़ुद पर तो सजा लो तुम भी !

जिस्म की नींद में सोने वालों,
रूह में ख़्वाब तो पालो तुम भी !!