Friday , April 10 2020

Khuda Poetry

Aisa Bana Diya Tujhe Qudrat Khuda Ki Hai..

Aisa bana diya tujhe qudrat khuda ki hai,
Kis husan ka hai husan ada kis ada ki hai.

Chashm-e-siyah-e-yaar se sazish haya ki hai,
Laila ke sath mein ye saheli bala ki hai.

Taswir kyun dikhayen tumhein naam kyun batayen,
Laye hain hum kahin se kisi bewafa ki hai.

Andaz mujh se aur hain dushman se aur dhang,
Pahchan mujh ko apni parai qaza ki hai.

Maghrur kyun hain aap jawani par is qadar,
Ye mere naam ki hai ye meri dua ki hai.

Dushman ke ghar se chal ke dikha do juda juda,
Ye bankpan ki chaal ye naz-o-ada ki hai.

Rah rah ke le rahi hai mere dil mein chutkiyan,
Phisli hui girah tere band-e-qaba ki hai.

Gardan mudi nigah ladi baat kuchh na ki,
Shokhi to khair aap ki tamkin bala ki hai.

Hoti hai roz baada-kashon ki dua qubul,
Aye mohtasib ye shan-e-karimi khuda ki hai.

Jitne gile the un ke wo sab dil se dhul gaye,
Jhepi hui nigah talafi jafa ki hai.

Chhupta hai khun bhi kahin mutthi to kholiye,
Rangat yahi hina ki yahi bu hina ki hai.

Kah do ki be-wazu na chhuye us ko mohtasib,
Botal mein band ruh kisi parsa ki hai.

Main imtihan de ke unhen kyun na mar gaya,
Ab ghair se bhi un ko tamanna wafa ki hai.

Dekho to ja ke hazrat-e-‘Bekhud’ na hun kahin,
Dawat sharab-khane mein ek parsa ki hai. !!

ऐसा बना दिया तुझे क़ुदरत ख़ुदा की है,
किस हुस्न का है हुस्न अदा किस अदा की है !

चश्म-ए-सियाह-ए-यार से साज़िश हया की है,
लैला के साथ में ये सहेली बला की है !

तस्वीर क्यूँ दिखाएँ तुम्हें नाम क्यूँ बताएँ,
लाए हैं हम कहीं से किसी बेवफ़ा की है !

अंदाज़ मुझ से और हैं दुश्मन से और ढंग,
पहचान मुझ को अपनी पराई क़ज़ा की है !

मग़रूर क्यूँ हैं आप जवानी पर इस क़दर,
ये मेरे नाम की है ये मेरी दुआ की है !

दुश्मन के घर से चल के दिखा दो जुदा जुदा,
ये बाँकपन की चाल ये नाज़-ओ-अदा की है !

रह रह के ले रही है मिरे दिल में चुटकियाँ,
फिसली हुई गिरह तिरे बंद-ए-क़बा की है !

गर्दन मुड़ी निगाह लड़ी बात कुछ न की,
शोख़ी तो ख़ैर आप की तम्कीं बला की है !

होती है रोज़ बादा-कशों की दुआ क़ुबूल,
ऐ मोहतसिब ये शान-ए-करीमी ख़ुदा की है !

जितने गिले थे उन के वो सब दिल से धुल गए,
झेपी हुई निगाह तलाफ़ी जफ़ा की है !

छुपता है ख़ून भी कहीं मुट्ठी तो खोलिए,
रंगत यही हिना की यही बू हिना की है !

कह दो कि बे-वज़ू न छुए उस को मोहतसिब,
बोतल में बंद रूह किसी पारसा की है !

मैं इम्तिहान दे के उन्हें क्यूँ न मर गया,
अब ग़ैर से भी उन को तमन्ना वफ़ा की है !

देखो तो जा के हज़रत-ए-‘बेख़ुद’ न हूँ कहीं,
दावत शराब-ख़ाने में इक पारसा की है !! -Bekhud Dehlvi Ghazal

 

Aansuon Se Dhuli Khushi Ki Tarah..

Aansuon se dhuli khushi ki tarah,
Rishte hote hain shayari ki tarah.

Hum khuda ban ke aayenge warna,
Hum se mil jao aadmi ki tarah.

Barf seene ki jaise jaise gali,
Aankh khulti gayi kali ki tarah.

Jab kabhi badlon mein ghirta hai,
Chaand lagta hai aadmi ki tarah.

Kisi rozan kisi dariche se,
Samne aao roshni ki tarah.

Sab nazar ka fareb hai warna,
Koi hota nahi kisi ki tarah.

Khubsurat udaas Khaufzada,
Woh bhi hai biswin sadi ki tarah.

Janta hun ki ek din mujhko,
Wo badal dega diary ki tarah. !!

आंसुओं से धूलि ख़ुशी कि तरह,
रिश्ते होते है शायरी कि तरह !

हम खुदा बन के आयेंगे वरना,
हम से मिल जाओ आदमी कि तरह !

बर्फ सीने कि जैसे-जैसे गली,
आँख खुलती गयी कली कि तरह !

जब कभी बादलों में घिरता हैं,
चाँद लगता है आदमी कि तरह !

किसी रोज़ किसी दरीचे से,
सामने आओ रोशनी कि तरह !

सब नज़र का फरेब है वरना,
कोई होता नहीं किसी कि तरह !

ख़ूबसूरत उदास ख़ौफ़ज़दा,
वो भी है बीसवीं सदी कि तरह !

जानता हूँ कि एक दिन मुझको
वो बदल देगा डायरी की तरह !! -Bashir Badr Ghazal

 

Karni Hai Khuda Se Guzarish Itni..

Karni Hai Khuda Se Guzarish Itni

Karni hai khuda se guzarish itni..
Tere pyar ke siva koi bandagi na mile,
Har janam me mile pyar tera..
Ya phir kabhi zindagi na mile.. !!

करनी है खुदा से गुज़ारिश इतनी..
तेरे प्यार के सिवा कोई बंदगी न मिले,
हर जन्म में मिले प्यार तेरा..
या फिर कभी जिंदगी न मिले.. !!

 

Happy Valentine’s Day Shayari in Hindi

Happy Valentine's Day Image Shayari

Ab to shaam-o-sahar mujhe rahata hain bas khayal tera
Kuchh is kadar duao sa mila hain mujhe saath tera
Ki ab koi shikava aur shikayat nahi us khuda se
Bas ek tumhe pakar khushiyo se bhar gaya ye daman mera. !!

अब तो शाम-ओ-सहर मुझे रहता हैं बस खयाल तेरा
कुछ इस कदर दुआओ सा मिला हैं मुझे साथ तेरा
की अब कोई शिकवा और शिकायत नही उस खुदा से
बस एक तुम्हे पाकर खुशियो से भर गया ये दामन मेरा !!

Happy Valentine’s Day

 

Har koi dil ki hatheli pe hai sahra rakkhe..

Har koi dil ki hatheli pe hai sahra rakkhe,
Kis ko sairab kare wo kise pyasa rakkhe.

Umar bhar kaun nibhata hai talluq itna,
Aye meri jaan ke dushman tujhe allah rakkhe.

Hum ko achchha nahi lagta koi hamnam tera,
Koi tujh sa ho to phir naam bhi tujh sa rakkhe.

Dil bhi pagal hai ki us shakhs se wabasta hai,
Jo kisi aur ka hone de na apna rakkhe.

Kam nahi tama-e-ibaadat bhi to hirs-e-zar se,
Faqr to wo hai ki jo din na duniya rakkhe.

Hans na itna bhi faqiron ke akele-pan par,
Ja khuda meri tarah tujh ko bhi tanha rakkhe.

Ye qanaat hai itaat hai ki chahat hai “Faraz”,
Hum to raazi hain wo jis haal mein jaisa rakkhe. !!

हर कोई दिल की हथेली पे है सहरा रक्खे,
किस को सैराब करे वो किसे प्यासा रक्खे !

उम्र भर कौन निभाता है तअल्लुक़ इतना,
ऐ मेरी जान के दुश्मन तुझे अल्लाह रक्खे !

हम को अच्छा नहीं लगता कोई हमनाम तेरा,
कोई तुझ सा हो तो फिर नाम भी तुझ सा रक्खे !

दिल भी पागल है कि उस शख़्स से वाबस्ता है,
जो किसी और का होने दे न अपना रक्खे !

कम नहीं तम-ए-इबादत भी तो हिर्स-ए-ज़र से,
फ़क़्र तो वो है कि जो दीन न दुनिया रक्खे !

हँस न इतना भी फ़क़ीरों के अकेले-पन पर,
जा ख़ुदा मेरी तरह तुझ को भी तन्हा रक्खे !

ये क़नाअत है इताअत है कि चाहत है “फ़राज़”,
हम तो राज़ी हैं वो जिस हाल में जैसा रक्खे !!

 

Is se pahle ki bewafa ho jayen..

Is se pahle ki be-wafa ho jayen,
Kyun na aye dost hum juda ho jayen.

Tu bhi hire se ban gaya patthar,
Hum bhi kal jaane kya se kya ho jayen.

Tu ki yakta tha be-shumar hua,
Hum bhi tuten to ja-ba-ja ho jayen.

Hum bhi majburiyon ka uzr karen,
Phir kahin aur mubtala ho jayen.

Hum agar manzilen na ban paye,
Manzilon tak ka rasta ho jayen.

Der se soch mein hain parwane,
Rakh ho jayen ya hawa ho jayen.

Ishq bhi khel hai nasibon ka,
Khak ho jayen kimiya ho jayen.

Ab ke gar tu mile to hum tujh se,
Aise lipten teri qaba ho jayen.

Bandagi hum ne chhod di hai “Faraz”,
Kya karen log jab khuda ho jayen. !!

इस से पहले कि बे-वफ़ा हो जाएँ,
क्यूँ न ऐ दोस्त हम जुदा हो जाएँ !

तू भी हीरे से बन गया पत्थर,
हम भी कल जाने क्या से क्या हो जाएँ !

तू कि यकता था बे-शुमार हुआ,
हम भी टूटें तो जा-ब-जा हो जाएँ !

हम भी मजबूरियों का उज़्र करें,
फिर कहीं और मुब्तला हो जाएँ !

हम अगर मंज़िलें न बन पाए,
मंज़िलों तक का रास्ता हो जाएँ !

देर से सोच में हैं परवाने,
राख हो जाएँ या हवा हो जाएँ !

इश्क़ भी खेल है नसीबों का,
ख़ाक हो जाएँ कीमिया हो जाएँ !

अब के गर तू मिले तो हम तुझ से,
ऐसे लिपटें तेरी क़बा हो जाएँ !

बंदगी हम ने छोड़ दी है “फ़राज़”,
क्या करें लोग जब ख़ुदा हो जाएँ !!

 

Ab ke hum bichhde to shayad kabhi khwabon mein milen..

Ab ke hum bichhde to shayad kabhi khwabon mein milen,
Jis tarah sukhe hue phool kitabon mein milen

Dhundh ujde hue logon mein wafa ke moti,
Ye khazane tujhe mumkin hai kharabon mein milen,

Gham-e-duniya bhi gham-e-yar mein shamil kar lo,
Nashsha badhta hai sharaben jo sharabon mein milen.

Tu khuda hai na mera ishq farishton jaisa,
Donon insan hain to kyun itne hijabon mein milen.

Aaj hum dar pe khinche gaye jin baaton par,
Kya ajab kal wo zamane ko nisabon mein milen.

Ab na wo main na wo tu hai na wo mazi hai “faraz”,
Jaise do shakhs tamanna ke sarabon mein milen. !!

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें,
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें !

ढूँढ उजड़े हुए लोगों में वफ़ा के मोती,
ये ख़ज़ाने तुझे मुमकिन है ख़राबों में मिलें !

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो,
नश्शा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें !

तू ख़ुदा है न मेरा इश्क़ फ़रिश्तों जैसा,
दोनों इंसाँ हैं तो क्यूँ इतने हिजाबों में मिलें !

आज हम दार पे खींचे गए जिन बातों पर,
क्या अजब कल वो ज़माने को निसाबों में मिलें !

अब न वो मैं न वो तू है न वो माज़ी है “फ़राज़”,
जैसे दो शख़्स तमन्ना के सराबों में मिलें !!