Home / Khuda Poetry

Khuda Poetry

Kashti chala raha hai magar kis ada ke sath..

Kashti chala raha hai magar kis ada ke sath,
Hum bhi na dub jayen kahin na-khuda ke sath.

Dil ki talab padi hai to aaya hai yaad ab,
Wo to chala gaya tha kisi dilruba ke sath.

Jab se chali hai Adam-o-yazdan ki dastan,
Har ba-wafa ka rabt hai ek bewafa ke sath.

Mehman mezban hi ko bahka ke le uda,
Khushbu-e-gul bhi ghum rahi hai saba ke sath.

Pir-e-mughan se hum ko koi bair to nahi,
Thoda sa ikhtilaf hai mard-e-khuda ke sath.

Shaikh aur bahisht kitne tajjub ki baat hai,
Ya-rab ye zulm khuld ki aab-o-hawa ke sath.

Padhta namaz main bhi hun par ittifaq se,
Uthta hun nisf raat ko dil ki sada ke sath.

Mahshar ka khair kuchh bhi natija ho aye “Adam”,
Kuchh guftugu to khul ke karenge khuda ke sath. !!

कश्ती चला रहा है मगर किस अदा के साथ,
हम भी न डूब जाएँ कहीं ना-ख़ुदा के साथ !

दिल की तलब पड़ी है तो आया है याद अब,
वो तो चला गया था किसी दिलरुबा के साथ !

जब से चली है अदम-ओ-यज़्दाँ की दास्ताँ,
हर बा-वफ़ा का रब्त है एक बेवफ़ा के साथ !

मेहमान मेज़बाँ ही को बहका के ले उड़ा,
ख़ुश्बू-ए-गुल भी घूम रही है सबा के साथ !

पीर-ए-मुग़ाँ से हम को कोई बैर तो नहीं,
थोड़ा सा इख़्तिलाफ़ है मर्द-ए-ख़ुदा के साथ !

शैख़ और बहिश्त कितने तअ’ज्जुब की बात है,
या-रब ये ज़ुल्म ख़ुल्द की आब-ओ-हवा के साथ !

पढ़ता नमाज़ मैं भी हूँ पर इत्तिफ़ाक़ से,
उठता हूँ निस्फ़ रात को दिल की सदा के साथ !

महशर का ख़ैर कुछ भी नतीजा हो ऐ “अदम”,
कुछ गुफ़्तुगू तो खुल के करेंगे ख़ुदा के साथ !!

 

Aagahi mein ek khala maujud hai..

Aagahi mein ek khala maujud hai,
Is ka matlab hai khuda maujud hai.

Hai yaqinan kuch magar wazh nahi,
Aap ki aankhon mein kya maujud hai.

Baankpan mein aur koi shayy nahi,
Sadgi ki inteha maujud hai.

Hai mukammal baadshahi ki dalil,
Ghar mein gar ek boriya maujud hai.

Shauqiya koi nahi hota ghalat,
Is mein kuchh teri raza maujud hai.

Is liye tanha hun main garm-e safar,
Qafile mein rahnuma maujud hai.

Har mohabbat ki bina hai chashni,
Har lagan mein muddaa maujud hai.

Har jagah, har shehar, har iqlim mein
Dhoom hai us ki jo na-maujud hai.

Jis se chhupna chahta hun main “Adam”,
Wo sitamgar ja-ba-ja maujud hai. !!

आगाही में एक खला मौजूद है,
इस का मतलब है खुदा मौजूद है !

है यक़ीनन कुछ मगर वज़ह नहीं,
आप की आँखों में क्या मौजूद है !

बांकपन में और कोई श्रेय नहीं,
सादगी की इन्तहा मौजूद है !

है मुकम्मल बादशाही की दलील,
घर में गर एक बुढ़िया मौजूद है !

शौक़िया कोई नहीं होता ग़लत,
इस में कुछ तेरी रज़ा मौजूद है !

इस लिए तनहा हूँ मैं गर्म-ए सफर,
काफिले में रहनुमा मौजूद है !

हर मोहब्बत की बिना है चाश्नी,
हर लगन में मुद्दा मौजूद है !

हर जगह, हर शहर, हर इक़लीम में,
धूम है उस की जो न-मौजूद है !

जिस से छुपना चाहता हूँ मैं “अदम”,
वो सितमगर जा-बा-जा मौजूद है !!

 

Suna karo meri jaan in se un se afsaane

Suna karo meri jaan in se un se afsaane,
Sab ajnabi hain yahan kaun kis ko pehchane.

Yahan se jald guzar jao qafile walo,
Hain meri pyas ke phunke hue ye virane.

Meri junun-e-parastish se tang aa gaye log,
Suna hai band kiye ja rahe hain but-khane.

Jahan se pichhle pehar koi tishna-kaam utha,
Wahin pe tode hain yaron ne aaj paimane.

Bahar aaye to mera salam keh dena,
Mujhe to aaj talab kar liya hai sahra ne.

Hua hai hukm ki “kaifi” ko sangsar karo,
Masih baithe hain chhup ke kahan khuda jaane. !!

सुना करो मेरी जान इन से उन से अफ़्साने,
सब अजनबी हैं यहाँ कौन किस को पहचाने !

यहाँ से जल्द गुज़र जाओ क़ाफ़िले वालो,
हैं मेरी प्यास के फूँके हुए ये वीराने !

मेरी जुनून-ए-परस्तिश से तंग आ गए लोग,
सुना है बंद किए जा रहे हैं बुत-ख़ाने !

जहाँ से पिछले पहर कोई तिश्ना-काम उठा,
वहीं पे तोड़े हैं यारों ने आज पैमाने !

बहार आए तो मेरा सलाम कह देना,
मुझे तो आज तलब कर लिया है सहरा ने !

हुआ है हुक्म कि “कैफ़ी” को संगसार करो,
मसीह बैठे हैं छुप के कहाँ ख़ुदा जाने !!

 

Hath aa kar laga gaya koi..

Haath aa kar laga gaya koi,
Mera chhappar utha gaya koi.

Lag gaya ek masheen mein main bhi,
Shehar mein le ke aa gaya koi.

Main khada tha ki peeth par meri,
Ishtihaar ek laga gaya koi.

Ye sadi dhoop ko tarasti hai,
Jaise sooraj ko kha gaya koi.

Aisi mehangaai hai ki chehra bhi,
Bech ke apna kha gaya koi.

Ab woh armaan hain na woh sapne,
Sab kabootar uda gaya koi.

Woh gaye jab se aisa lagta hai,
Chhota mota khuda gaya koi.

Mera bachpan bhi saath le gaya,
Gaaon se jab bhi aa gaya koi. !!

हाथ आ कर लगा गया कोई,
मेरा छप्पर उठा गया कोई !

लग गया एक मशीन में मैं भी,
शहर में ले के आ गया कोई !

मैं खड़ा था कि पीठ पर मेरी,
इश्तिहार एक लगा गया कोई !

ये सदी धूप को तरसती है,
जैसे सूरज को खा गया कोई !

ऐसी महँगाई है कि चेहरा भी,
बेच के अपना खा गया कोई !

अब वो अरमान हैं न वो सपने,
सब कबूतर उड़ा गया कोई !

वो गए जब से ऐसा लगता है,
छोटा मोटा ख़ुदा गया कोई !

मेरा बचपन भी साथ ले आया,
गाँव से जब भी आ गया कोई !!

 

Patthar ke khuda wahan bhi paaye..

Patthar ke khuda wahan bhi paaye,
Hum chaand se aaj laut aaye.

Deewaren to har taraf khadi hain,
Kya ho gaye meharaban saaye.

Jungal ki hawayen aa rahi hain,
Kaghaz ka ye shehar ud na jaye.

Laila ne naya janam liya hai,
Hai qais koi jo dil lagaye.

Hai aaj zameen ka ghusl-e-sehat,
Jis dil mein ho jitna khoon laaye.

Sehra sehra lahoo ke kheme,
Phir pyaase lab-e-furaat aaye. !!

पत्थर के ख़ुदा वहाँ भी पाए,
हम चाँद से आज लौट आए !

दीवारें तो हर तरफ़ खड़ी हैं,
क्या हो गए मेहरबान साए

जंगल की हवाएँ आ रही हैं,
काग़ज़ का ये शहर उड़ न जाए !

लैला ने नया जनम लिया है,
है क़ैस कोई जो दिल लगाए !

है आज ज़मीं का ग़ुस्ल-ए-सेह्हत,
जिस दिल में हो जितना ख़ून लाए !

सहरा-सहरा लहू के खे़मे,
फिर प्यासे लब-ए-फ़ुरात आए !!

 

Koi anees koi aashna nahi rakhte..

Koi anees koi aashna nahi rakhte,
Kisi ki aas baghair az khuda nahi rakhte.

Kisi ko kya ho dilon ki shikastagi ki khabar,
Ki tutne mein ye shishe sada nahi rakhte.

Faqir dost jo ho hum ko sarfaraaz kare,
Kuch aur farsh ba-juz boriya nahi rakhte.

Musafiro shab-e-awwal bahut hai tera-o- tar,
Charagh-e-qabr abhi se jala nahi rakhte.

Wo log kaun se hain ai khuda-e-kaun-o-makan,
Sukhan se kan ko jo aashna nahi rakhte.

Musafiran-e-adam ka pata mile kyunkar,
Wo yun gaye ki kahin naqsh-e-pa nahi rakhte.

Tap-e-darun gham-e-furqat waram-e-payada-rawi,
Maraz to itne hain aur kuch dawa nahi rakhte.

Khulega haal unhen jab ki aankh band hui,
Jo log ulfat-e-mushkil-kusha nahi rakhte.

Jahan ki lazzat-o-khwahish se hai bashar ka khamir,
Wo kaun hain ki jo hirs-o-hawa nahi rakhte.

“Anees” bech ke jaan apni hind se niklo,
Jo tosha-e-safar-e-karbala nahi rakhte. !!

कोई अनीस कोई आश्ना नहीं रखते,
किसी की आस बग़ैर अज़ ख़ुदा नहीं रखते !

किसी को क्या हो दिलों की शिकस्तगी की ख़बर,
कि टूटने में ये शीशे सदा नहीं रखते !

फ़क़ीर दोस्त जो हो हम को सरफ़राज़ करे,
कुछ और फ़र्श ब-जुज़ बोरिया नहीं रखते !

मुसाफ़िरो शब-ए-अव्वल बहुत है तेरा-ओ-तार,
चराग़-ए-क़ब्र अभी से जला नहीं रखते !

वो लोग कौन से हैं ऐ ख़ुदा-ए-कौन-ओ-मकाँ,
सुख़न से कान को जो आश्ना नहीं रखते !

मुसाफ़िरान-ए-अदम का पता मिले क्यूँकर,
वो यूँ गए कि कहीं नक़्श-ए-पा नहीं रखते !

तप-ए-दरूँ ग़म-ए-फ़ुर्क़त वरम-ए-पयादा-रवी,
मरज़ तो इतने हैं और कुछ दवा नहीं रखते !

खुलेगा हाल उन्हें जब कि आँख बंद हुई,
जो लोग उल्फ़त-ए-मुश्किल-कुशा नहीं रखते !

जहाँ की लज़्ज़त-ओ-ख़्वाहिश से है बशर का ख़मीर,
वो कौन हैं कि जो हिर्स-ओ-हवा नहीं रखते !

“अनीस” बेच के जाँ अपनी हिन्द से निकलो,
जो तोशा-ए-सफ़र-ए-कर्बला नहीं रखते !!

Main dhundta hun jise wo jahan nahi milta..

Main dhundta hun jise wo jahan nahi milta,
Nayi zamin naya aasman nahi milta.

Nayi zamin naya aasman bhi mil jaye,
Naye bashar ka kahin kuch nishan nahi milta.

Wo tegh mil gayi jis se hua hai qatl mera,
Kisi ke hath ka us par nishan nahi milta.

Wo mera ganw hai wo mere ganw ke chulhe,
Ki jin mein shole to shole dhuan nahi milta.

Jo ek khuda nahi milta to itna matam kyun,
Yahan to koi mera ham-zaban nahi milta.

Khada hun kab se main chehron ke ek jangal mein,
Tumhare chehre ka kuch bhi yahan nahi milta. !!

मैं ढूँडता हूँ जिसे वो जहाँ नहीं मिलता,
नई ज़मीन नया आसमाँ नहीं मिलता !

नई ज़मीन नया आसमाँ भी मिल जाए,
नए बशर का कहीं कुछ निशाँ नहीं मिलता !

वो तेग़ मिल गई जिस से हुआ है क़त्ल मेरा,
किसी के हाथ का उस पर निशाँ नहीं मिलता !

वो मेरा गाँव है वो मेरे गाँव के चूल्हे,
कि जिन में शोले तो शोले धुआँ नहीं मिलता !

जो इक ख़ुदा नहीं मिलता तो इतना मातम क्यूँ,
यहाँ तो कोई मेरा हम-ज़बाँ नहीं मिलता !

खड़ा हूँ कब से मैं चेहरों के एक जंगल में,
तुम्हारे चेहरे का कुछ भी यहाँ नहीं मिलता !!