Thursday , April 9 2020

Khata Shayari

Barbaad-E-Mohabbat Ki Dua Sath Liye Ja..

Barbaad-e-mohabbat ki dua sath liye ja,
Tuta hua iqrar-e-wafa sath liye ja.

Ek dil tha jo pahle hi tujhe saunp diya tha,
Ye jaan bhi aye jaan-e-ada sath liye ja.

Tapti hui rahon se tujhe aanch na pahunche,
Diwanon ke ashkon ki ghata sath liye ja.

Shamil hai mera khun-e-jigar teri hina mein,
Ye kam ho to ab khun-e-wafa sath liye ja.

Hum jurm-e-mohabbat ki saza payenge tanha,
Jo tujh se hui ho wo khata sath liye ja. !!

बरबाद-ए-मोहब्बत की दुआ साथ लिए जा,
टूटा हुआ इक़रार-ए-वफ़ा साथ लिए जा !

एक दिल था जो पहले ही तुझे सौंप दिया था,
ये जान भी ऐ जान-ए-अदा साथ लिए जा !

तपती हुई राहों से तुझे आँच न पहुँचे,
दीवानों के अश्कों की घटा साथ लिए जा !

शामिल है मेरा ख़ून-ए-जिगर तेरी हिना में,
ये कम हो तो अब ख़ून-ए-वफ़ा साथ लिए जा !

हम जुर्म-ए-मोहब्बत की सज़ा पाएँगे तन्हा,
जो तुझ से हुई हो वो ख़ता साथ लिए जा !!

 

Ki hai koi hasin khata har khata ke sath..

Ki hai koi hasin khata har khata ke sath,
Thoda sa pyar bhi mujhe de do saza ke sath.

Gar dubna hi apna muqaddar hai to suno,
Dubenge hum zaroor magar na-khuda ke sath.

Lau de uthe hawa ko bhi daaman to kya ghazab,
Yun hi chiraagh uljhate rahe gar hawa ke sath.

Manzil se woh bhi door tha aur hum bhi door the,
Hum ne bhi dhool udaayi bahut rahnuma ke sath.

Raqs-e-saba ke jashn mein hum tum bhi naachte,
Aye kash tum bhi aa gaye hote saba ke sath.

Ikkiswin sadi ki taraf hum chale to hain,
Fitne bhi jaag uthe hain aawaz-e-paa ke sath.

Aisa laga ghareebi ki rekha se hun buland,
Puchha kisi ne haal kuchh aisi adaa ke sath. !!

की है कोई हसीन ख़ता हर ख़ता के साथ,
थोड़ा सा प्यार भी मुझे दे दो सज़ा के साथ !

गर डूबना ही अपना मुक़द्दर है तो सुनो,
डूबेंगे हम ज़रूर मगर नाख़ुदा के साथ !

लौ दे उठे हवा को भी दामन तो क्या ग़ज़ब,
यूँ ही चिराग़ उलझते रहे गर हवा के साथ !

मंज़िल से वो भी दूर था और हम भी दूर थे,
हम ने भी धूल उड़ाई बहुत रहनुमा के साथ !

रक़्स-ए-सबा के जश्न में हम तुम भी नाचते,
ऐ काश तुम भी आ गए होते सबा के साथ !

इक्कीसवीं सदी की तरफ़ हम चले तो हैं,
फ़ित्ने भी जाग उट्ठे हैं आवाज़-ए-पा के साथ !

ऐसा लगा ग़रीबी की रेखा से हूँ बुलंद,
पूछा किसी ने हाल कुछ ऐसी अदा के साथ !!