Friday , April 10 2020

Khat Shayari

Main dil pe jabr karunga tujhe bhula dunga..

Main dil pe jabr karunga tujhe bhula dunga,
Marunga khud bhi tujhe bhi kadi saza dunga.

Ye tirgi mere ghar ka hi kyun muqaddar ho,
Main tere shehar ke sare diye bujha dunga.

Hawa ka hath bataunga har tabahi mein,
Hare shajar se parinde main khud uda dunga.

Wafa karunga kisi sogwar chehre se,
Purani qabr pe katba naya saja dunga.

Isi khayal mein guzri hai sham-e-dard akasr,
Ki dard had se badhega to muskura dunga.

Tu aasman ki surat hai gar padega kabhi,
Zamin hun main bhi magar tujh ko aasra dunga.

Badha rahi hain mere dukh nishaniyan teri,
Main tere khat teri taswir tak jala dunga.

Bahut dinon se mera dil udas hai “Mohsin”,
Is aaine ko koi aks ab naya dunga. !!

मैं दिल पे जब्र करूँगा तुझे भुला दूँगा,
मरूँगा ख़ुद भी तुझे भी कड़ी सज़ा दूँगा !

ये तीरगी मेरे घर का ही क्यूँ मुक़द्दर हो,
मैं तेरे शहर के सारे दिए बुझा दूँगा !

हवा का हाथ बटाऊँगा हर तबाही में,
हरे शजर से परिंदे मैं ख़ुद उड़ा दूँगा !

वफ़ा करूँगा किसी सोगवार चेहरे से,
पुरानी क़ब्र पे कतबा नया सजा दूँगा !

इसी ख़याल में गुज़री है शाम-ए-दर्द अक्सर,
कि दर्द हद से बढ़ेगा तो मुस्कुरा दूँगा !

तू आसमान की सूरत है गर पड़ेगा कभी,
ज़मीं हूँ मैं भी मगर तुझ को आसरा दूँगा !

बढ़ा रही हैं मेरे दुख निशानियाँ तेरी,
मैं तेरे ख़त तेरी तस्वीर तक जला दूँगा !

बहुत दिनों से मेरा दिल उदास है “मोहसिन”,
इस आइने को कोई अक्स अब नया दूँगा !!

 

Do-chaar bar hum jo kabhi hans-hansa liye..

Do-chaar bar hum jo kabhi hans-hansa liye,
Sare jahan ne hath mein patthar utha liye.

Rahte hamare pas to ye tutate zarur,
Achchha kiya jo aapne sapne chura liye.

Chaha tha ek phool ne tadpen usi ke pas,
Hum ne khushi se pedon mein kante bichha liye.

Aankhon mein aaye ashk ne aankhon se ye kaha,
Ab roko ya girao hamein hum to aa liye.

Sukh jaise baadalon mein nahati hun bijliyan,
Dukh jaise bijliyon mein ye baadal naha liye.

Jab ho saki na baat to hum ne yahi kiya,
Apni ghazal ke sher kahin gunguna liye.

Ab bhi kisi daraaz mein mil jayenge tumhein,
Wo khat jo tum ko de na sake likh-likha liye. !!

दो-चार बार हम जो कभी हँस-हँसा लिए,
सारे जहाँ ने हाथ में पत्थर उठा लिए !

रहते हमारे पास तो ये टूटते ज़रूर,
अच्छा किया जो आपने सपने चुरा लिए !

चाहा था एक फूल ने तड़पें उसी के पास,
हम ने ख़ुशी से पेड़ों में काँटे बिछा लिए !

आँखों में आए अश्क ने आँखों से ये कहा,
अब रोको या गिराओ हमें हम तो आ लिए !

सुख जैसे बादलों में नहाती हूँ बिजलियाँ,
दुख जैसे बिजलियों में ये बादल नहा लिए !

जब हो सकी न बात तो हम ने यही किया,
अपनी ग़ज़ल के शेर कहीं गुनगुना लिए !

अब भी किसी दराज़ में मिल जाएँगे तुम्हें,
वो ख़त जो तुम को दे न सके लिख-लिखा लिए !!

Wo khat ke purze uda raha tha..

Wo khat ke purze uda raha tha,
Hawaon ka rukh dikha raha tha.

Bataun kaise wo bahta dariya,
Jab aa raha tha to ja raha tha.

Kuch aur bhi ho gaya numayan,
Main apna likha mita raha tha.

Dhuan dhuan ho gayi thi aankhen,
Charagh ko jab bujha raha tha.

Munder se jhuk ke chand kal bhi,
Padosiyon ko jaga raha tha.

Usi ka iman badal gaya hai,
Kabhi jo mera khuda raha tha.

Wo ek din ek ajnabi ko,
Meri kahani suna raha tha.

Wo umar kam kar raha tha meri,
Main saal apne badha raha tha.

Khuda ki shayad raza ho is mein,
Tumhara jo faisla raha tha. !!

वो ख़त के पुर्ज़े उड़ा रहा था,
हवाओं का रुख़ दिखा रहा था !

बताऊँ कैसे वो बहता दरिया,
जब आ रहा था तो जा रहा था !

कुछ और भी हो गया नुमायाँ,
मैं अपना लिखा मिटा रहा था !

धुआँ धुआँ हो गई थीं आँखें,
चराग़ को जब बुझा रहा था !

मुंडेर से झुक के चाँद कल भी,
पड़ोसियों को जगा रहा था !

उसी का ईमाँ बदल गया है,
कभी जो मेरा ख़ुदा रहा था !

वो एक दिन एक अजनबी को,
मेरी कहानी सुना रहा था !

वो उम्र कम कर रहा था मेरी,
मैं साल अपने बढ़ा रहा था !

ख़ुदा की शायद रज़ा हो इस में,
तुम्हारा जो फ़ैसला रहा था !!

Tumhare khat mein naya ek salam kis ka tha..

Tumhare khat mein naya ek salam kis ka tha,
Na tha raqib to aakhir wo naam kis ka tha.

Wo qatal kar ke mujhe har kisi se puchhte hain,
Ye kaam kis ne kiya hai ye kaam kis ka tha.

Wafa karenge nibahenge baat manenge,
Tumhein bhi yaad hai kuchh ye kalam kis ka tha.

Raha na dil mein wo bedard aur dard raha,
Muqim kaun hua hai maqam kis ka tha.

Na puchh-gachh thi kisi ki wahan na aaw-bhagat,
Tumhari bazm mein kal ehtimam kis ka tha.

Tamam bazm jise sun ke rah gayi mushtaq,
Kaho wo tazkira-e-na-tamam kis ka tha.

Hamare khat ke to purze kiye padha bhi nahi,
Suna jo tune ba-dil wo payam kis ka tha.

Uthai kyun na qayamat adu ke kuche mein,
Lihaz aap ko waqt-e-khiram kis ka tha.

Guzar gaya wo zamana kahun to kis se kahun,
Khayal dil ko mere subh o sham kis ka tha.

Hamein to hazrat-e-waiz ki zid ne pilwai,
Yahan irada-e-sharb-e-mudam kis ka tha.

Agarche dekhne wale tere hazaron the,
Tabah-haal bahut zer-e-baam kis ka tha.

Wo kaun tha ki tumhein jis ne bewafa jaana,
Khayal-e-kham ye sauda-e-kham kis ka tha.

Inhin sifat se hota hai aadmi mashhur,
Jo lutf aam wo karte ye naam kis ka tha.

Har ek se kahte hain kya “Daagh” bewafa nikla,
Ye puchhe unse koi wo ghulam kis ka tha. !!

तुम्हारे ख़त में नया इक सलाम किस का था,
न था रक़ीब तो आख़िर वो नाम किस का था !

वो क़त्ल कर के मुझे हर किसी से पूछते हैं,
ये काम किस ने किया है ये काम किस का था !

वफ़ा करेंगे निबाहेंगे बात मानेंगे,
तुम्हें भी याद है कुछ ये कलाम किस का था !

रहा न दिल में वो बेदर्द और दर्द रहा,
मुक़ीम कौन हुआ है मक़ाम किस का था !

न पूछ-गछ थी किसी की वहाँ न आव-भगत,
तुम्हारी बज़्म में कल एहतिमाम किस का था !

तमाम बज़्म जिसे सुन के रह गई मुश्ताक़,
कहो वो तज़्किरा-ए-ना-तमाम किस का था !

हमारे ख़त के तो पुर्ज़े किए पढ़ा भी नहीं,
सुना जो तूने ब-दिल वो पयाम किस का था !

उठाई क्यूँ न क़यामत अदू के कूचे में,
लिहाज़ आप को वक़्त-ए-ख़िराम किस का था !

गुज़र गया वो ज़माना कहूँ तो किस से कहूँ,
ख़याल दिल को मिरे सुब्ह ओ शाम किस का था !

हमें तो हज़रत-ए-वाइज़ की ज़िद ने पिलवाई,
यहाँ इरादा-ए-शर्ब-ए-मुदाम किस का था !

अगरचे देखने वाले तिरे हज़ारों थे,
तबाह-हाल बहुत ज़ेर-ए-बाम किस का था !

वो कौन था कि तुम्हें जिस ने बेवफ़ा जाना,
ख़याल-ए-ख़ाम ये सौदा-ए-ख़ाम किस का था !

इन्हीं सिफ़ात से होता है आदमी मशहूर,
जो लुत्फ़ आम वो करते ये नाम किस का था !

हर इक से कहते हैं क्या “दाग़” बेवफ़ा निकला,
ये पूछे उनसे कोई वो ग़ुलाम किस का था !!