Home / Khamoshi Shayari

Khamoshi Shayari

Bahar bhi ab andar jaisa sannata hai..

Bahar bhi ab andar jaisa sannata hai,
Dariya ke us par bhi gehra sannata hai.

Shor thame to shayad sadiyan bit chuki hain,
Ab tak lekin sahma sahma sannata hai.

Kis se bolun ye to ek sahra hai jahan par,
Main hun ya phir gunga behra sannata hai.

Jaise ek tufan se pehle ki khamoshi,
Aaj meri basti mein aisa sannata hai.

Nayi sehar ki chap na jaane kab ubhregi,
Chaaron jaanib raat ka gahra sannata hai.

Soch rahe ho socho lekin bol na padna,
Dekh rahe ho shehar mein kitna sannata hai.

Mehv-e-khwab hain sari dekhne wali aankhen,
Jagne wala bas ek andha sannata hai.

Darna hai to anjaani aawaaz se darna,
Ye to “Aanis” dekha-bhaala sannata hai. !!

बाहर भी अब अंदर जैसा सन्नाटा है,
दरिया के उस पार भी गहरा सन्नाटा है !

शोर थमे तो शायद सदियाँ बीत चुकी हैं,
अब तक लेकिन सहमा सहमा सन्नाटा है !

किस से बोलूँ ये तो एक सहरा है जहाँ पर,
मैं हूँ या फिर गूँगा बहरा सन्नाटा है !

जैसे एक तूफ़ान से पहले की ख़ामोशी,
आज मेरी बस्ती में ऐसा सन्नाटा है !

नई सहर की चाप न जाने कब उभरेगी,
चारों जानिब रात का गहरा सन्नाटा है !

सोच रहे हो सोचो लेकिन बोल न पड़ना,
देख रहे हो शहर में कितना सन्नाटा है !

महव-ए-ख़्वाब हैं सारी देखने वाली आँखें,
जागने वाला बस एक अंधा सन्नाटा है !

डरना है तो अन-जानी आवाज़ से डरना,
ये तो “आनिस” देखा-भाला सन्नाटा है !!

 

Umar guzregi imtihan mein kya..

Umar guzregi imtihan mein kya,
Dagh hi denge mujhko dan mein kya.

Meri har baat be-asar hi rahi,
Naqs hai kuchh mere bayan mein kya.

Mujhko to koi tokta bhi nahi,
Yahi hota hai khandan mein kya.

Apni mahrumiyan chhupate hain,
Hum gharibon ki aan-ban mein kya.

Khud ko jana juda zamane se,
Aa gaya tha mere guman mein kya.

Sham hi se dukan-e-did hai band,
Nahi nuqsan tak dukaan mein kya.

Aye mere subh-o-sham-e-dil ki shafaq,
Tu nahati hai ab bhi ban mein kya.

Bolte kyun nahi mere haq mein,
Aable pad gaye zaban mein kya.

Khamoshi kah rahi hai kan mein kya,
Aa raha hai mere guman mein kya.

Dil ki aate hain jis ko dhyan bahut,
Khud bhi aata hai apne dhyan mein kya.

Wo mile to ye puchhna hai mujhe,
Ab bhi hun main teri aman mein kya.

Yun jo takta hai aasman ko tu,
Koi rahta hai aasman mein kya.

Hai nasim-e-bahaar gard-alud,
Khak udti hai us makan mein kya.

Ye mujhe chain kyun nahi padta,
Ek hi shakhs tha jahan mein kya. !!

उम्र गुज़रेगी इम्तिहान में क्या,
दाग़ ही देंगे मुझको दान में क्या !

मेरी हर बात बे-असर ही रही,
नक़्स है कुछ मेरे बयान में क्या !

मुझको तो कोई टोकता भी नहीं,
यही होता है ख़ानदान में क्या !

अपनी महरूमियाँ छुपाते हैं,
हम ग़रीबों की आन-बान में क्या !

ख़ुद को जाना जुदा ज़माने से,
आ गया था मेरे गुमान में क्या !

शाम ही से दुकान-ए-दीद है बंद,
नहीं नुक़सान तक दुकान में क्या !

ऐ मेरे सुब्ह-ओ-शाम-ए-दिल की शफ़क़,
तू नहाती है अब भी बान में क्या !

बोलते क्यूँ नहीं मेरे हक़ में,
आबले पड़ गए ज़बान में क्या !

ख़ामुशी कह रही है कान में क्या,
आ रहा है मेरे गुमान में क्या !

दिल कि आते हैं जिस को ध्यान बहुत,
ख़ुद भी आता है अपने ध्यान में क्या !

वो मिले तो ये पूछना है मुझे,
अब भी हूँ मैं तेरी अमान में क्या !

यूँ जो तकता है आसमान को तू,
कोई रहता है आसमान में क्या !

है नसीम-ए-बहार गर्द-आलूद,
ख़ाक उड़ती है उस मकान में क्या !

ये मुझे चैन क्यूँ नहीं पड़ता,
एक ही शख़्स था जहान में क्या !!

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bhai भाई)

1.
Main itani bebasi mein qaid-e-dushman mein nahi marta,
Agar mera bhi ek Bhai ladkpan mein nahi marta.

मैं इतनी बेबसी में क़ैद-ए-दुश्मन में नहीं मरता,
अगर मेरा भी एक भाई लड़कपन में नहीं मरता !

2.
Kanton se bach gaya tha magar phool chubh gaya,
Mere badan mein Bhai ka trishool chubh gaya.

काँटों से बच गया था मगर फूल चुभ गया,
मेरे बदन में भाई का त्रिशूल चुभ गया !

3.
Aye khuda thodi karam farmaai hona chahiye,
Itani Behane hai to phir ek Bhai hona chahiye.

ऐ ख़ुदा थोड़ी करम फ़रमाई होना चाहिए,
इतनी बहनें हैं तो फिर एक भाई होना चाहिए !

4.
Baap ki daulat se yun dono ne hissa le liya,
Bhai ne dastaar le lee maine juta le liya.

बाप की दौलत से यूँ दोनों ने हिस्सा ले लिया,
भाई ने दस्तार ले ली मैंने जूता ले लिया !

5.
Nihatha dekh kar mujhko ladaai karta hai,
Jo kaam usne kiya hai wo Bhai karta hai.

निहत्था देख कर मुझको लड़ाई करता है,
जो काम उसने किया है वो भाई करता है !

6.
Yahi tha ghar jahan mil-jul ke sab ek sath rehate the,
Yahi hai ghar alag Bhai ki aftaari nikalti hai.

यही था घर जहाँ मिल-जुल के सब एक साथ रहते थे,
यही है घर अलग भाई की अफ़्तारी निकलती है !

7.
Wah apne ghar mein raushan saari shmayein ginata rehta hai,
Akela Bhai khamoshi se Behane ginta rehata hai.

वह अपने घर में रौशन सारी शमएँ गिनता रहता है,
अकेला भाई ख़ामोशी से बहनें गिनता रहता है !

8.
Main apne Bhaiyon ke sath jab ghar se bahar nikalata hun,
Mujhe Yusuf ke jani dushmano ki yaad aati hai.

मैं अपने भाइयों के साथ जब बाहर निकलता हूँ,
मुझे यूसुफ़ के जानी दुश्मनों की याद आती है !

9.
Mere Bhai wahan paani se roza kholte honge,
Hata lo saamne se mujhse aftaari nahi hogi.

मेरे भाई वहाँ पानी से रोज़ा खोलते होंगे,
हटा लो सामने से मुझसे अफ़्तारी नहीं होगी !

10.
Jahan par gin ke roti Bhaiyon ko bhai dete ho,
Sabhi chizein wahin dekhi magar barkat nahi dekhi.

जहाँ पर गिन के रोटी भाइयों को भाई देते हों,
सभी चीज़ें वहाँ देखीं मगर बरकत नहीं देखी !

11.
Raat dekha hai bahaaron pe khizaan ko hanste,
Koi tohafaa mujhe shayad mera Bhai dega.

रात देखा है बहारों पे खिज़ाँ को हँसते,
कोई तोहफ़ा मुझे शायद मेरा भाई देगा !

12.
Tumhein aye Bhaiyon yun chhodna achcha nahi lekin,
Humein ab shaam se pehale thikaana dhund lena hai.

तुम्हें ऐ भाइयो यूँ छोड़ना अच्छा नहीं लेकिन,
हमें अब शाम से पहले ठिकाना ढूँढ लेना है !

13.
Gham se Lakshman ki tarah Bhai ka rishta hai mera,
Mujhko jangal mein akela nahi rehane deta.

ग़म से लछमन की तरह भाई का रिश्ता है मेरा,
मुझको जंगल में अकेला नहीं रहने देता !

14.
Jo log kam ho to kaandha jaroor de dena,
Sarhaane aake magar Bhai-Bhai na kehana.

जो लोग कम हों तो काँधा ज़रूर दे देना,
सरहाने आके मगर भाई-भाई मत कहना !

15.
Mohabbat ka ye jajba khuda ki den hai Bhai,
To mere raaste se kyun ye duniya hat nahi jati.

मोहब्बत का ये जज़्बा ख़ुदा की देन है भाई,
तो मेरे रास्ते से क्यूँ ये दुनिया हट नहीं जाती !

16.
Ye kurbe-qyaamat hai lahu kaisa “Munawwar”,
Paani bhi tujhe tera biraadar nahi dega.

ये कुर्बे-क़यामत है लहू कैसा “मुनव्वर”,
पानी भी तुझे तेरा बिरादर नहीं देगा !

17.
Aapne khul ke mohabbat nahi ki hai humse,
Aapn Bhai nahi kehate hai Miyaan kehate hain.

आपने खुल के मोहब्बत नहीं की है हमसे,
आप भाई नहीं कहते हैं मियाँ कहते हैं !