Home / Khafa Shayari

Khafa Shayari

Zakhm kya kya na zindagi se mile..

Zakhm kya kya na zindagi se mile,
Khwaab palkon se berukhi se mile.

Aap ko mil gaye hain kismat se,
Hum zamaane mein kab kisi ko mile ?

Aise khushbu se mil raha hai gulaab,
Jis tarah raat roshani se mile.

Hum faqeeron se dosti hai magar,
Uss se kehna ki saadagi se mile.

Dil mein rakhte hain ehtiyaat se hum,
Zakhm jo jo bhi jis kisi se mile.

Zindagi se gale mile to laga,
Ajnabi jaise ajnabi se mile.

Uss ke seene mein dil nahi tha “Batool”,
Hum ne socha tha aadmi se mile.

ज़ख्म क्या क्या न ज़िन्दगी से मिले,
ख्वाब पलकों से बेरुखी से मिले !

आप को मिल गए हैं किस्मत से,
हम ज़माने में कब किसी को मिले ?

ऐसे खुशबु से मिल रहा है गुलाब,
जिस तरह रात रोशनी से मिले !

हम फ़क़ीरों से दोस्ती है मगर,
उस से कहना की सादगी से मिले !

दिल में रखते हैं एहतियात से हम,
ज़ख्म जो जो भी जिस किसी से मिले !

ज़िन्दगी से गले मिले तो लगा,
अजनबी जैसे अजनबी से मिले !

उस के सीने में दिल नहीं था “बैतूल”,
हम ने सोचा था आदमी से मिले. !!

Is martaba bhi aaye hain number tere to kam..

Is martaba bhi aaye hain number tere to kam,
Ruswaiyon ka kya meri daftar banega tu,
Bete ke munh pe de ke chapat bap ne kaha,
Phir fail ho gaya hai minister banega tu. !!

इस मर्तबा भी आए हैं नंबर तेरे तो कम,
रुस्वाइयों का क्या मेरी दफ़्तर बनेगा तू,
बेटे के मुँह पे दे के चपत बाप ने कहा,
फिर फ़ेल हो गया है मिनिस्टर बनेगा तू !!

Yun na mil mujh se khafa ho jaise..

Yun na mil mujh se khafa ho jaise,
Sath chal mauj-e-saba ho jaise.

Log yun dekh ke hans dete hain,
Tu mujhe bhul gaya ho jaise.

Ishq ko shirk ki had tak na badha,
Yun na mil hum se khuda ho jaise.

Maut bhi aayi to is naaz ke sath,
Mujh pe ehsan kiya ho jaise.

Aise anjan bane baithe ho,
Tum ko kuchh bhi na pata ho jaise.

Hichkiyan raat ko aati hi rahi,
Tu ne phir yaad kiya ho jaise.

Zindagi bit rahi hai “Danish”,
Ek be-jurm saza ho jaise.

यूँ न मिल मुझ से ख़फ़ा हो जैसे,
साथ चल मौज-ए-सबा हो जैसे !

लोग यूँ देख के हँस देते हैं,
तू मुझे भूल गया हो जैसे !

इश्क़ को शिर्क की हद तक न बढ़ा,
यूँ न मिल हम से ख़ुदा हो जैसे !

मौत भी आई तो इस नाज़ के साथ,
मुझ पे एहसान किया हो जैसे !

ऐसे अंजान बने बैठे हो,
तुम को कुछ भी न पता हो जैसे !

हिचकियाँ रात को आती ही रहीं,
तू ने फिर याद किया हो जैसे !

ज़िंदगी बीत रही है “दानिश”,
एक बे-जुर्म सज़ा हो जैसे !

Aashiq samajh rahe hain mujhe dil lagi se aap..

Aashiq samajh rahe hain mujhe dil lagi se aap,
Waqif nahi abhi mere dil ki lagi se aap.

Dil bhi kabhi mila ke mile hain kisi se aap,
Milne ko roz milte hain yun to sabhi se aap.

Sab ko jawab degi nazar hasb-e-muddaa,
Sun lije sab ki baat na kije kisi se aap.

Marna mera ilaj to be-shak hai soch lun,
Ye dosti se kahte hain ya dushmani se aap.

Hoga juda ye hath na gardan se wasl mein,
Darta hun ud na jayen kahin nazuki se aap.

Zahid khuda gawah hai hote falak par aaj,
Lete khuda ka naam agar aashiqi se aap.

Ab ghurne se fayeda bazm-e-raqib mein,
Dil par chhuri to pher chuke be-rukhi se aap.

Dushman ka zikr kya hai jawab us ka dijiye,
Raste mein kal mile the kisi aadmi se aap.

Shohrat hai mujh se husan ki is ka mujhe hai rashk,
Hote hain mustafiz meri zindagi se aap.

Dil to nahi kisi ka tujhe todte hain hum,
Pahle chaman mein puchh len itna kali se aap.

Main bewafa hun ghair nihayat wafa shiar,
Mera salam lije milein ab usi se aap.

Aadhi to intezar hi mein shab guzar gayi,
Us par ye turra so bhi rahenge abhi se aap.

Badla ye rup aap ne kya bazm-e-ghair mein,
Ab tak meri nigah mein hain ajnabi se aap.

Parde mein dosti ke sitam kis qadar huye,
Main kya bataun puchhiye ye apne ji se aap.

Ai shaikh aadmi ke bhi darje hain mukhtalif,
Insan hain zarur magar wajibi se aap.

Mujh se salah li na ijazat talab huyi,
Be-wajh ruth baithe hain apni khushi se aap.

“Bekhud” yahi to umar hai aish o nashat ki,
Dil mein na apne tauba ki thanen abhi se aap. !!

आशिक़ समझ रहे हैं मुझे दिल लगी से आप,
वाक़िफ़ नहीं अभी मिरे दिल की लगी से आप !

दिल भी कभी मिला के मिले हैं किसी से आप,
मिलने को रोज़ मिलते हैं यूँ तो सभी से आप !

सब को जवाब देगी नज़र हस्ब-ए-मुद्दआ,
सुन लीजे सब की बात न कीजे किसी से आप !

मरना मिरा इलाज तो बे-शक है सोच लूँ,
ये दोस्ती से कहते हैं या दुश्मनी से आप !

होगा जुदा ये हाथ न गर्दन से वस्ल में,
डरता हूँ उड़ न जाएँ कहीं नाज़ुकी से आप !

ज़ाहिद ख़ुदा गवाह है होते फ़लक पर आज,
लेते ख़ुदा का नाम अगर आशिक़ी से आप !

अब घूरने से फ़ाएदा बज़्म-ए-रक़ीब में,
दिल पर छुरी तो फेर चुके बे-रुख़ी से आप !

दुश्मन का ज़िक्र क्या है जवाब उस का दीजिए,
रस्ते में कल मिले थे किसी आदमी से आप !

शोहरत है मुझ से हुस्न की इस का मुझे है रश्क,
होते हैं मुस्तफ़ीज़ मिरी ज़िंदगी से आप !

दिल तो नहीं किसी का तुझे तोड़ते हैं हम,
पहले चमन में पूछ लें इतना कली से आप !

मैं बेवफ़ा हूँ ग़ैर निहायत वफ़ा शिआर,
मेरा सलाम लीजे मिलें अब उसी से आप !

आधी तो इंतिज़ार ही में शब गुज़र गई,
उस पर ये तुर्रा सो भी रहेंगे अभी से आप !

बदला ये रूप आप ने क्या बज़्म-ए-ग़ैर में,
अब तक मिरी निगाह में हैं अजनबी से आप !

पर्दे में दोस्ती के सितम किस क़दर हुए,
मैं क्या बताऊँ पूछिए ये अपने जी से आप !

ऐ शैख़ आदमी के भी दर्जे हैं मुख़्तलिफ़,
इंसान हैं ज़रूर मगर वाजिबी से आप !

मुझ से सलाह ली न इजाज़त तलब हुई,
बे-वजह रूठ बैठे हैं अपनी ख़ुशी से आप !

“बेख़ुद” यही तो उम्र है ऐश ओ नशात की,
दिल में न अपने तौबा की ठानें अभी से आप !!

Ranjish hi sahi dil hi dukhane ke liye aa..

Ranjish hi sahi dil hi dukhane ke liye aa,
Aa phir se mujhe chhod ke jaane ke liye aa.

Phale se marasim na sahi phir bhi kabhi to,
Rasm-o-rahe duniya hi nibhane ke liye aa.

Kis kis ko batayenge judaai ka sabab hum,
Tu mujh se khafa hai to zamaane ke liye aa.

Kuch to mere pindar-e-mohabbat ka bharam rakh,
Tu bhi to kabhi mujh ko manaane ke liye aa.

Ek umar se hun lazzat-e-giriya se bhi maharum,
Aye rahat-e-jaan mujh ko rulaane ke liye aa.

Ab tak dil-e-khushfaham ko tujh se hain ummiden,
Ye aakhiri shammen bhi bujhane ke liye aa.

Mana ki mohabbat ka chipana hai mohabbat,
Chupke se kisi roz jatane ke liye aa.

Jaise tujhe aate hain na aane ke bahane,
Aise hi kisi roz na jaane ke liye aa !!

रंजिश ही सही, दिल ही दुखाने के लिए आ,
आ फिर से मुझे छोड़ के जाने के लिए आ !

पहले से मरासिम न सही, फिर भी कभी तो,
रस्म-ओ-रहे दुनिया ही निभाने के लिए आ !

किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम,
तू मुझ से ख़फ़ा है, तो ज़माने के लिए आ !

कुछ तो मेरे पिन्दार-ए-मोहब्बत का भरम रख,
तू भी तो कभी मुझको मनाने के लिए आ !

इक उम्र से हूँ लज़्ज़त-ए-गिरिया से भी महरूम,
ऐ राहत-ए-जान मुझको रुलाने के लिए आ !

अब तक दिल-ए-ख़ुशफ़हम को तुझ से हैं उम्मीदें,
ये आखिरी शमएँ भी बुझाने के लिए आ !

माना की मोहब्बत का छिपाना है मोहब्बत,
चुपके से किसी रोज़ जताने के लिए आ !

जैसे तुझे आते हैं न आने के बहाने,
ऐसे ही किसी रोज़ न जाने के लिए आ !