Friday , April 10 2020

Kashti Shayari

Ishq Hai To Ishq Ka Izhaar Hona Chahiye..

Ishq hai to ishq ka izhaar hona chahiye

Ishq hai to ishq ka izhaar hona chahiye,
Aap ko chehre se bhi bimar hona chahiye.

Aap dariya hain to is waqt hum khatre mein hain,
Aap kashti hain to hum ko paar hona chahiye.

Aire-gaire log bhi padhne lage hain in dino,
Aap ko aurat nahi akhbar hona chahiye.

Zindagi kab talak dar-dar phirayegi hamein,
Tuta phuta hi sahi ghar bar hona chahiye.

Apni yaadon se kaho ek din ki chhutti de mujhe.
Ishq ke hisse mein bhi itwaar hona chahiye. !!

आप को चेहरे से भी बीमार होना चाहिए,
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए !

आप दरिया हैं तो फिर इस वक़्त हम ख़तरे में हैं,
आप कश्ती हैं तो हम को पार होना चाहिए !

ऐरे-ग़ैरे लोग भी पढ़ने लगे हैं इन दिनों,
आप को औरत नहीं अख़बार होना चाहिए !

ज़िंदगी तू कब तलक दर-दर फिराएगी हमें,
टूटा-फूटा ही सही घर-बार होना चाहिए !

अपनी यादों से कहो इक दिन की छुट्टी दे मुझे,
इश्क़ के हिस्से में भी इतवार होना चाहिए !!

Munawwar Rana All Poetry, Ghazal, Ishq Shayari & Nazms Collection

 

Kashti Tera Naseeb Chamkdaar kar diya..

Kashti tera naseeb chamkdaar kar diya,
Is paar ke thapedon ne us paar kar diya.

Afwaah thi ki meri tabiyat kharaab hai,
Logon ne punchh punchh ke bimar kar diya.

Raaton ko chandni ke bharose na chhodna,
Sooraj ne jugnuon ko khabardar kar diya.

Ruk ruk ke log dekh rahe hai meri taraf,
Tumne zara si baat ko akhbaar kar diya.

Is bar ek aur bhi deewar gir gayi,
Baarish ne mere ghar ko hawa daar kar diya.

Bola tha sach to zahar pilaya gaya mujhe,
Acchhaiyon ne mujhko gunhgaar kar diya.

Do gaj sahi magar ye meri malkiyat to hain,
Aye mout tune mujhko zamindar kar diya. !!

कश्ती तेरा नसीब चमकदार कर दिया,
इस पार के थपेड़ों ने उस पार कर दिया !

अफवाह थी की मेरी तबियत ख़राब हैं,
लोगो ने पूछ पूछ के बीमार कर दिया !

रातों को चांदनी के भरोसें ना छोड़ना,
सूरज ने जुगनुओं को ख़बरदार कर दिया !

रुक रुक के लोग देख रहे है मेरी तरफ,
तुमने ज़रा सी बात को अखबार कर दिया !

इस बार एक और भी दीवार गिर गयी,
बारिश ने मेरे घर को हवादार कर दिया !

बोला था सच तो ज़हर पिलाया गया मुझे,
अच्छाइयों ने मुझे गुनहगार कर दिया !

दो गज सही ये मेरी मिलकियत तो हैं,
ऐ मौत तूने मुझे ज़मींदार कर दिया !! -Rahat Indori Ghazal

 

Kuch toh apni nishaniya rakh ja..

Kuch toh apni nishaniya rakh ja,
In kitabo mein titliya rakh ja.

Log thak haar kar lout na jaye,
Raste mein kahaniya rakh ja.

Muntzir koi toh mile mujhko,
Ghar ke baahar udasiyan rakh ja.

In darkhton se fal nahi girte,
Inke najdik aandhiyan rakh ja.

Ho raha hai agar juda mujhse,
Meri aankho pe ungliyan rakh ja.

Aaj tufaan bhi akela hai,
Tu bhi sahil pe kashtiya rakh ja. !!

कुछ तो अपनी निशानिया रख जा,
इन किताबो में तितलिया रख जा !

लोग थक हर कर लौट न जाये,
रास्ते में कहानिया रख जा !

मुंतज़िर कोई तो मिले मुझको,
घर के बाहर उदासियाँ रख जा !

इन दरख्तों से फल नहीं गिरते,
इनके नजदीक आँधियाँ रख जा !

हो रहा है अगर जुदा मुझसे,
मेरी आँखों पे उँगलियाँ रख जा !

आज तूफ़ान भी अकेला है,
तू भी साहिल पे कश्तियाँ रख जा !!