Wednesday , April 8 2020

Judaai Shayari

Aate Aate Mera Naam Sa Rah Gaya..

Aate aate mera naam sa rah gaya,
Us ke honton pe kuchh kanpta rah gaya.

Raat mujrim thi daman bacha le gayi,
Din gawahon ki saf mein khada rah gaya.

Wo mere samne hi gaya aur main,
Raste ki tarah dekhta rah gaya.

Jhuth wale kahin se kahin badh gaye,
Aur main tha ki sach bolta rah gaya.

Aandhiyon ke irade to achchhe na the,
Ye diya kaise jalta hua rah gaya.

Us ko kandhon pe le ja rahe hain ‘Wasim’,
Aur wo jine ka haq mangta rah gaya. !!

आते आते मेरा नाम सा रह गया,
उस के होंटों पे कुछ काँपता रह गया !

रात मुजरिम थी दामन बचा ले गई,
दिन गवाहों की सफ़ में खड़ा रह गया !

वो मेरे सामने ही गया और मैं,
रास्ते की तरह देखता रह गया !

झूठ वाले कहीं से कहीं बढ़ गए,
और मैं था कि सच बोलता रह गया !

आँधियों के इरादे तो अच्छे न थे,
ये दीया कैसे जलता हुआ रह गया !

उस को काँधों पे ले जा रहे हैं ‘वसीम’,
और वो जीने का हक़ माँगता रह गया !! -Wasim Barelvi Ghazal

 

Qurbat bhi nahi dil se utar bhi nahi jata..

Qurbat bhi nahi dil se utar bhi nahi jata,
Wo shakhs koi faisla kar bhi nahi jata.

Aankhen hain ki khali nahi rahti hain lahu se,
Aur zakhm-e-judai hai ki bhar bhi nahi jata.

Wo rahat-e-jaan hai magar is dar-badri mein,
Aisa hai ki ab dhyan udhar bhi nahi jata.

Hum dohri aziyyat ke giraftar musafir,
Panw bhi hain shal shauq-e-safar bhi nahi jata.

Dil ko teri chahat pe bharosa bhi bahut hai,
Aur tujh se bichhad jaane ka dar bhi nahi jata.

Pagal hue jate ho “Faraz” us se mile kya,
Itni si khushi se koi mar bhi nahi jata. !!

क़ुर्बत भी नहीं दिल से उतर भी नहीं जाता,
वो शख़्स कोई फ़ैसला कर भी नहीं जाता !

आँखें हैं कि ख़ाली नहीं रहती हैं लहू से,
और ज़ख़्म-ए-जुदाई है कि भर भी नहीं जाता !

वो राहत-ए-जाँ है मगर इस दर-बदरी में,
ऐसा है कि अब ध्यान उधर भी नहीं जाता !

हम दोहरी अज़िय्यत के गिरफ़्तार मुसाफ़िर,
पाँव भी हैं शल शौक़-ए-सफ़र भी नहीं जाता !

दिल को तेरी चाहत पे भरोसा भी बहुत है,
और तुझ से बिछड़ जाने का डर भी नहीं जाता !

पागल हुए जाते हो “फ़राज़” उस से मिले क्या,
इतनी सी ख़ुशी से कोई मर भी नहीं जाता !!

 

Abhi kuchh aur karishme ghazal ke dekhte hain..

Abhi kuchh aur karishme ghazal ke dekhte hain,
“Faraz” ab zara lahja badal ke dekhte hain.

Judaiyan to muqaddar hain phir bhi jaan-e-safar,
Kuchh aur dur zara sath chal ke dekhte hain.

Rah-e-wafa mein harif-e-khiram koi to ho,
So apne aap se aage nikal ke dekhte hain.

Tu samne hai to phir kyun yaqin nahi aata,
Ye bar bar jo aankhon ko mal ke dekhte hain.

Ye kaun log hain maujud teri mehfil mein,
Jo lalachon se tujhe mujh ko jal ke dekhte hain.

Ye qurb kya hai ki yak-jaan hue na dur rahe,
Hazar ek hi qalib mein dhal ke dekhte hain.

Na tujh ko mat hui hai na mujh ko mat hui,
So ab ke donon hi chaalen badal ke dekhte hain.

Ye kaun hai sar-e-sahil ki dubne wale,
Samundaron ki tahon se uchhal ke dekhte hain.

Abhi talak to na kundan hue na rakh hue,
Hum apni aag mein har roz jal ke dekhte hain.

Bahut dinon se nahi hai kuchh us ki khair khabar,
Chalo “Faraz” ku-e-yar chal ke dekhte hain. !!

अभी कुछ और करिश्मे ग़ज़ल के देखते हैं,
“फ़राज़” अब ज़रा लहजा बदल के देखते हैं !

जुदाइयाँ तो मुक़द्दर हैं फिर भी जान-ए-सफ़र,
कुछ और दूर ज़रा साथ चल के देखते हैं !

रह-ए-वफ़ा में हरीफ़-ए-ख़िराम कोई तो हो,
सो अपने आप से आगे निकल के देखते हैं !

तू सामने है तो फिर क्यूँ यक़ीं नहीं आता,
ये बार बार जो आँखों को मल के देखते हैं !

ये कौन लोग हैं मौजूद तेरी महफ़िल में,
जो लालचों से तुझे मुझ को जल के देखते हैं !

ये क़ुर्ब क्या है कि यक-जाँ हुए न दूर रहे,
हज़ार एक ही क़ालिब में ढल के देखते हैं !

न तुझ को मात हुई है न मुझ को मात हुई,
सो अब के दोनों ही चालें बदल के देखते हैं !

ये कौन है सर-ए-साहिल कि डूबने वाले,
समुंदरों की तहों से उछल के देखते हैं !

अभी तलक तो न कुंदन हुए न राख हुए,
हम अपनी आग में हर रोज़ जल के देखते हैं !

बहुत दिनों से नहीं है कुछ उस की ख़ैर ख़बर,
चलो “फ़राज़” कू-ए-यार चल के देखते हैं !!

 

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya..

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya,
Wo juda hote hue kuchh phool basi de gaya.

Noch kar shakhon ke tan se khushk patton ka libas,
Zard mausam banjh-rut ko be-libasi de gaya.

Subh ke tare meri pahli dua tere liye,
Tu dil-e-be-sabr ko taskin zara si de gaya.

Log malbon mein dabe saye bhi dafnane lage,
Zalzala ahl-e-zamin ko bad-hawasi de gaya.

Tund jhonke ki ragon mein ghol kar apna dhuan,
Ek diya andhi hawa ko khud-shanasi de gaya.

Le gaya “Mohsin” wo mujh se abr banta aasman,
Us ke badle mein zamin sadiyon ki pyasi de gaya. !!

एक पल में ज़िंदगी भर की उदासी दे गया,
वो जुदा होते हुए कुछ फूल बासी दे गया !

नोच कर शाख़ों के तन से ख़ुश्क पत्तों का लिबास,
ज़र्द मौसम बाँझ-रुत को बे-लिबासी दे गया !

सुब्ह के तारे मेरी पहली दुआ तेरे लिए,
तू दिल-ए-बे-सब्र को तस्कीं ज़रा सी दे गया !

लोग मलबों में दबे साए भी दफ़नाने लगे,
ज़लज़ला अहल-ए-ज़मीं को बद-हवासी दे गया !

तुंद झोंके की रगों में घोल कर अपना धुआँ,
एक दिया अंधी हवा को ख़ुद-शनासी दे गया !

ले गया “मोहसिन” वो मुझ से अब्र बनता आसमाँ,
उस के बदले में ज़मीं सदियों की प्यासी दे गया !!

 

Zindagi jab bhi teri bazm mein lati hai hamein

Zindagi jab bhi teri bazm mein lati hai hamein,
Ye zameen chand se behtar nazar aati hai hamein.

Surkh phoolon se mahak uthti hain dil ki raahein,
Din dhale yun teri aawaz bulati hai hamein.

Yaad teri kabhi dastak kabhi sargoshi se,
Raat ke pichhle pahar roz jagati hai hamein.

Har mulaqat ka anjam judai kyon hai,
Ab to har waqt yehi baat satati hai hamein. !!

ज़िन्दगी जब भी तेरी बज़्म में लाती है हमें,
ये ज़मीन चाँद से बेहतर नज़र आती है हमें !

सुर्ख फूलों से महक उठती हैं दिल की राहें,
दिन ढले यूँ तेरी आवाज़ बुलाती है हमें !

याद तेरी कभी दस्तक कभी सरगोशी से,
रात के पिछले पहर रोज़ जगाती है हमें !

हर मुलाक़ात का अंजाम जुदाई क्यों है,
अब तो हर वक़्त यही बात सताती है हमें !!

 

Tu ne dekha hai kabhi ek nazar sham ke baad..

Tu ne dekha hai kabhi ek nazar sham ke baad,
Kitne chup-chap se lagte hain shajar sham ke baad.

Itne chup-chap ki raste bhi rahenge la-ilm,
Chhod jayenge kisi roz nagar sham ke baad.

Main ne aise hi gunah teri judai mein kiye,
Jaise tufan mein koi chhod de ghar sham ke baad.

Sham se pahle wo mast apni udanon mein raha,
Jis ke hathon mein the tute hue par sham ke baad.

Raat biti to gine aable aur phir socha,
Kaun tha bais-e-aghaz-e-safar sham ke baad.

Tu hai suraj tujhe malum kahan raat ka dukh,
Tu kisi roz mere ghar mein utar sham ke baad.

Laut aaye na kisi roz wo aawara-mizaj,
Khol rakhte hain isi aas pe dar sham ke baad. !!

तू ने देखा है कभी एक नज़र शाम के बाद,
कितने चुप-चाप से लगते हैं शजर शाम के बाद !

इतने चुप-चाप कि रस्ते भी रहेंगे ला-इल्म,
छोड़ जाएँगे किसी रोज़ नगर शाम के बाद !

मैं ने ऐसे ही गुनह तेरी जुदाई में किए,
जैसे तूफ़ाँ में कोई छोड़ दे घर शाम के बाद !

शाम से पहले वो मस्त अपनी उड़ानों में रहा,
जिस के हाथों में थे टूटे हुए पर शाम के बाद !

रात बीती तो गिने आबले और फिर सोचा,
कौन था बाइस-ए-आग़ाज़-ए-सफ़र शाम के बाद !

तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात का दुख,
तू किसी रोज़ मेरे घर में उतर शाम के बाद !

लौट आए न किसी रोज़ वो आवारा-मिज़ाज,
खोल रखते हैं इसी आस पे दर शाम के बाद !!

Kuch toh apni nishaniya rakh ja..

Kuch toh apni nishaniya rakh ja,
In kitabo mein titliya rakh ja.

Log thak haar kar lout na jaye,
Raste mein kahaniya rakh ja.

Muntzir koi toh mile mujhko,
Ghar ke baahar udasiyan rakh ja.

In darkhton se fal nahi girte,
Inke najdik aandhiyan rakh ja.

Ho raha hai agar juda mujhse,
Meri aankho pe ungliyan rakh ja.

Aaj tufaan bhi akela hai,
Tu bhi sahil pe kashtiya rakh ja. !!

कुछ तो अपनी निशानिया रख जा,
इन किताबो में तितलिया रख जा !

लोग थक हर कर लौट न जाये,
रास्ते में कहानिया रख जा !

मुंतज़िर कोई तो मिले मुझको,
घर के बाहर उदासियाँ रख जा !

इन दरख्तों से फल नहीं गिरते,
इनके नजदीक आँधियाँ रख जा !

हो रहा है अगर जुदा मुझसे,
मेरी आँखों पे उँगलियाँ रख जा !

आज तूफ़ान भी अकेला है,
तू भी साहिल पे कश्तियाँ रख जा !!