Home / Judaai Shayari

Judaai Shayari

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya..

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya,
Wo juda hote hue kuchh phool basi de gaya.

Noch kar shakhon ke tan se khushk patton ka libas,
Zard mausam banjh-rut ko be-libasi de gaya.

Subh ke tare meri pahli dua tere liye,
Tu dil-e-be-sabr ko taskin zara si de gaya.

Log malbon mein dabe saye bhi dafnane lage,
Zalzala ahl-e-zamin ko bad-hawasi de gaya.

Tund jhonke ki ragon mein ghol kar apna dhuan,
Ek diya andhi hawa ko khud-shanasi de gaya.

Le gaya “Mohsin” wo mujh se abr banta aasman,
Us ke badle mein zamin sadiyon ki pyasi de gaya. !!

एक पल में ज़िंदगी भर की उदासी दे गया,
वो जुदा होते हुए कुछ फूल बासी दे गया !

नोच कर शाख़ों के तन से ख़ुश्क पत्तों का लिबास,
ज़र्द मौसम बाँझ-रुत को बे-लिबासी दे गया !

सुब्ह के तारे मेरी पहली दुआ तेरे लिए,
तू दिल-ए-बे-सब्र को तस्कीं ज़रा सी दे गया !

लोग मलबों में दबे साए भी दफ़नाने लगे,
ज़लज़ला अहल-ए-ज़मीं को बद-हवासी दे गया !

तुंद झोंके की रगों में घोल कर अपना धुआँ,
एक दिया अंधी हवा को ख़ुद-शनासी दे गया !

ले गया “मोहसिन” वो मुझ से अब्र बनता आसमाँ,
उस के बदले में ज़मीं सदियों की प्यासी दे गया !!

 

Zindagi jab bhi teri bazm mein lati hai hamein

Zindagi jab bhi teri bazm mein lati hai hamein,
Ye zameen chand se behtar nazar aati hai hamein.

Surkh phoolon se mahak uthti hain dil ki raahein,
Din dhale yun teri aawaz bulati hai hamein.

Yaad teri kabhi dastak kabhi sargoshi se,
Raat ke pichhle pahar roz jagati hai hamein.

Har mulaqat ka anjam judai kyon hai,
Ab to har waqt yehi baat satati hai hamein. !!

ज़िन्दगी जब भी तेरी बज़्म में लाती है हमें,
ये ज़मीन चाँद से बेहतर नज़र आती है हमें !

सुर्ख फूलों से महक उठती हैं दिल की राहें,
दिन ढले यूँ तेरी आवाज़ बुलाती है हमें !

याद तेरी कभी दस्तक कभी सरगोशी से,
रात के पिछले पहर रोज़ जगाती है हमें !

हर मुलाक़ात का अंजाम जुदाई क्यों है,
अब तो हर वक़्त यही बात सताती है हमें !!

 

Tu ne dekha hai kabhi ek nazar sham ke baad..

Tu ne dekha hai kabhi ek nazar sham ke baad,
Kitne chup-chap se lagte hain shajar sham ke baad.

Itne chup-chap ki raste bhi rahenge la-ilm,
Chhod jayenge kisi roz nagar sham ke baad.

Main ne aise hi gunah teri judai mein kiye,
Jaise tufan mein koi chhod de ghar sham ke baad.

Sham se pahle wo mast apni udanon mein raha,
Jis ke hathon mein the tute hue par sham ke baad.

Raat biti to gine aable aur phir socha,
Kaun tha bais-e-aghaz-e-safar sham ke baad.

Tu hai suraj tujhe malum kahan raat ka dukh,
Tu kisi roz mere ghar mein utar sham ke baad.

Laut aaye na kisi roz wo aawara-mizaj,
Khol rakhte hain isi aas pe dar sham ke baad. !!

तू ने देखा है कभी एक नज़र शाम के बाद,
कितने चुप-चाप से लगते हैं शजर शाम के बाद !

इतने चुप-चाप कि रस्ते भी रहेंगे ला-इल्म,
छोड़ जाएँगे किसी रोज़ नगर शाम के बाद !

मैं ने ऐसे ही गुनह तेरी जुदाई में किए,
जैसे तूफ़ाँ में कोई छोड़ दे घर शाम के बाद !

शाम से पहले वो मस्त अपनी उड़ानों में रहा,
जिस के हाथों में थे टूटे हुए पर शाम के बाद !

रात बीती तो गिने आबले और फिर सोचा,
कौन था बाइस-ए-आग़ाज़-ए-सफ़र शाम के बाद !

तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात का दुख,
तू किसी रोज़ मेरे घर में उतर शाम के बाद !

लौट आए न किसी रोज़ वो आवारा-मिज़ाज,
खोल रखते हैं इसी आस पे दर शाम के बाद !!

Kuch toh apni nishaniya rakh ja..

Kuch toh apni nishaniya rakh ja,
In kitabo mein titliya rakh ja.

Log thak haar kar lout na jaye,
Raste mein kahaniya rakh ja.

Muntzir koi toh mile mujhko,
Ghar ke baahar udasiyan rakh ja.

In darkhton se fal nahi girte,
Inke najdik aandhiyan rakh ja.

Ho raha hai agar juda mujhse,
Meri aankho pe ungliyan rakh ja.

Aaj tufaan bhi akela hai,
Tu bhi sahil pe kashtiya rakh ja. !!

कुछ तो अपनी निशानिया रख जा,
इन किताबो में तितलिया रख जा !

लोग थक हर कर लौट न जाये,
रास्ते में कहानिया रख जा !

मुंतज़िर कोई तो मिले मुझको,
घर के बाहर उदासियाँ रख जा !

इन दरख्तों से फल नहीं गिरते,
इनके नजदीक आँधियाँ रख जा !

हो रहा है अगर जुदा मुझसे,
मेरी आँखों पे उँगलियाँ रख जा !

आज तूफ़ान भी अकेला है,
तू भी साहिल पे कश्तियाँ रख जा !!

Ranjish hi sahi dil hi dukhane ke liye aa..

Ranjish hi sahi dil hi dukhane ke liye aa,
Aa phir se mujhe chhod ke jaane ke liye aa.

Phale se marasim na sahi phir bhi kabhi to,
Rasm-o-rahe duniya hi nibhane ke liye aa.

Kis kis ko batayenge judaai ka sabab hum,
Tu mujh se khafa hai to zamaane ke liye aa.

Kuch to mere pindar-e-mohabbat ka bharam rakh,
Tu bhi to kabhi mujh ko manaane ke liye aa.

Ek umar se hun lazzat-e-giriya se bhi maharum,
Aye rahat-e-jaan mujh ko rulaane ke liye aa.

Ab tak dil-e-khushfaham ko tujh se hain ummiden,
Ye aakhiri shammen bhi bujhane ke liye aa.

Mana ki mohabbat ka chipana hai mohabbat,
Chupke se kisi roz jatane ke liye aa.

Jaise tujhe aate hain na aane ke bahane,
Aise hi kisi roz na jaane ke liye aa !!

रंजिश ही सही, दिल ही दुखाने के लिए आ,
आ फिर से मुझे छोड़ के जाने के लिए आ !

पहले से मरासिम न सही, फिर भी कभी तो,
रस्म-ओ-रहे दुनिया ही निभाने के लिए आ !

किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम,
तू मुझ से ख़फ़ा है, तो ज़माने के लिए आ !

कुछ तो मेरे पिन्दार-ए-मोहब्बत का भरम रख,
तू भी तो कभी मुझको मनाने के लिए आ !

इक उम्र से हूँ लज़्ज़त-ए-गिरिया से भी महरूम,
ऐ राहत-ए-जान मुझको रुलाने के लिए आ !

अब तक दिल-ए-ख़ुशफ़हम को तुझ से हैं उम्मीदें,
ये आखिरी शमएँ भी बुझाने के लिए आ !

माना की मोहब्बत का छिपाना है मोहब्बत,
चुपके से किसी रोज़ जताने के लिए आ !

जैसे तुझे आते हैं न आने के बहाने,
ऐसे ही किसी रोज़ न जाने के लिए आ !

Ghar ka rasta bhi mila tha shayad..

Ghar ka rasta bhi mila tha shayad,
Raah mein sang-e-wafa tha shayad.

Is qadar tez hawa ke jhonke,
Shaakh par phool khila tha shayad.

Jis ki baaton ke fasaane likhe,
Us ne to kuch na kaha tha shayad.

Log be-mehr na hote honge,
Waham sa dil ko hua tha shayad.

Tujh ko bhule to dua tak bhule,
Aur wohi waqt-e-dua tha shayad.

Khoon-e-dil mein to duboya tha qalam,
Aur phir kuch na likha tha shayad.

Dil ka jo rang hai yeh rang-e-ada,
Pehle ankhon mei rachaa tha shayad !!

घर का रास्ता भी मिला था शायद,
राह में संग-ए-वफ़ा था शायद !

इस क़दर तेज़ हवा के झोंके,
शाख पर फूल खिला था शायद !

जिस की बातों के फ़साने लिखे,
उस ने तो कुछ न कहा था शायद !

लोग बे-मैहर न होते होंगे,
वहम सा दिल को हुआ था शायद !

तुझ को भूले तो दुआ तक भूले,
और वही वक़्त-ए-दुआ था शायद !

खून-ए-दिल में तो डुबोया था क़लम,
और फिर कुछ न लिखा था शायद !

दिल का जो रंग है यह रंग-ए-अदा,
पहले आँखों में रचा था शायद !!