Wednesday , April 8 2020

Jannat Shayari

Munawwar Rana “Maa” Part 4

1.
Mera bachpan tha mera ghar tha khilaune the mere,
Sar pe Maa-Baap ka saaya bhi ghazal jaisa tha.

मेरा बचपन था मेरा घर था खिलौने थे मेरे,
सर पे माँ-बाप का साया भी ग़ज़ल जैसा था !

2.
Mukaddas muskurahat Maa ke honthon par larzati hai,
Kisi bacche ka jab pahala sipaara khtam hota hai.

मुक़द्दस मुस्कुराहट माँ के होंठों पर लरज़ती है,
किसी बच्चे का जब पहला सिपारा ख़त्म होता है !

3.
Main wo mele mein bhatakta hua ek baccha hun,
Jiske Maa-Baap ko rote hue mar jana hain.

मैं वो मेले में भटकता हुआ इक बच्चा हूँ,
जिसके माँ-बाप को रोते हुए मर जाना है !

4.
Milta-julta hai sabhi maaon se Maa ka chehara,
Gurudwaare ki bhi deewar na girne paye.

मिलता-जुलता हैं सभी माँओं से माँ का चेहरा,
गुरूद्वारे की भी दीवार न गिरने पाये !

5.
Maine kal shab chaahaton ki sab kitabein faad di,
Sirf ek kaagaz pe likha lafz-e-Maa rahane diya.

मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दीं,
सिर्फ़ इक काग़ज़ पे लिक्खा लफ़्ज़-ए-माँ रहने दिया !

6.
Gher lene ko mujhe jab bhi balaayein aa gayi,
Dhaal ban kar saamne Maa ki duayein aa gayi.

घेर लेने को मुझे जब भी बलाएँ आ गईं,
ढाल बन कर सामने माँ की दुआएँ आ गईं !

7.
Maidaan chhod dene se main bach to jaunga,
Lekin jo yah khabar meri Maa tak pahunch gayi.

मैदान छोड़ देने स्र मैं बच तो जाऊँगा,
लेकिन जो ये ख़बर मेरी माँ तक पहुँच गई !

8.
Munawwar ! Maa ke aage yun kabhi khul kar nahi rona,
Jahan buniyaad ho itani nami achchi nahi hoti.

मुनव्वर ! माँ के आगे यूँ कभी खुल कर नहीं रोना,
जहाँ बुनियाद हो इतनी नमी अच्छी नहीं होती !

9.
Mitti lipat-lipat gayi pairon mein isliye,
Taiyaar ho ke bhi kabhi hizrat na kar sake.

मिट्टी लिपट-लिपट गई पैरों से इसलिए,
तैयार हो के भी कभी हिजरत न कर सके !

10.
Muflisi ! bacche ko rone nahi dena warna,
Ek aansoo bhare bazaar ko kha jayega.

मुफ़्लिसी ! बच्चे को रोने नहीं देना वरना,
एक आँसू भरे बाज़ार को खा जाएगा !

11.
Mujhe khabar nahim jannat badi ki Maa lekin,
Log kehate hain ki jannat bashar ke niche hai.

मुझे खबर नहीम जन्नत बड़ी कि माँ लेकिन,
लोग कहते हैं कि जन्नत बशर के नीचे है !

12.
Mujhe kadhe hue takiye ki kya jaroorat hai,
Kisi ka haath abhi mere sar ke niche hai.

मुझे कढ़े हुए तकिये की क्या ज़रूरत है,
किसी का हाथ अभी मेरे सर के नीचे है !

13.
Bujurgon ka mere dil se abhi tak dar nahi jata,
Ki jab tak jagati rehati hai Maa main ghar nahi jata.

बुज़ुर्गों का मेरे दिल से अभी तक डर नहीं जाता,
कि जब तक जागती रहती है माँ मैं घर नहीं जाता !

14.
Mohabbat karte jaao bas yahi sachchi ibaadat hai,
Mohabbat Maa ko bhi Makka-Madina maan leti hai.

मोहब्बत करते जाओ बस यही सच्ची इबादत है,
मोहब्बत माँ को भी मक्का-मदीना मान लेती है !

15.
Maa ye kehati thi ki moti hain humare aansoo,
Isliye ashqon ka pina bhi bura lagta hai.

माँ ये कहती थी कि मोती हैं हमारे आँसू,
इसलिए अश्कों का पीना भी बुरा लगता है !

16.
Pardesh jane wale kabhi laut aayenge,
Lekin is intezaar mein aankhen chali gayi.

परदेस जाने वाले कभी लौट आयेंगे,
लेकिन इस इंतज़ार में आँखें चली गईं !

17.
Shehar ke raste hon chaahe gaon ki pagdandiyan,
Maa ki ungali thaam kar chalna mujhe achcha laga.

शहर के रस्ते हों चाहे गाँव की पगडंडियाँ,
माँ की उँगली थाम कर चलना मुझे अच्छा लगा !

18.
Main koi ehsaan maanu bhi to aakhir kisliye,
Shehar ne daulat agar di hai to beta le liya.

मैं कोई एहसान मानूँ भी तो आख़िर किसलिए,
शहर ने दौलत अगर दी है तो बेटा ले लिया !

19.
Ab bhi raushan hain teri yaad se ghar ke kamre,
Raushani deta hai ab tak tera saya mujhko.

अब भी रौशन हैं तेरी याद से घर के कमरे,
रौशनी देता है अब तक तेरा साया मुझको !

20.
Mere chehare pe mamta ki farawani chamakti hai,
Main budha ho raha hun phir bhi peshani chamakti hai.

मेरे चेहरे पे ममता की फ़रावानी चमकती है,
मैं बूढ़ा हो रहा हूँ फिर भी पेशानी चमकती है !