Wednesday , February 26 2020
Home / Jaam Shayari

Jaam Shayari

Aashiqi mein “Mir” jaise khwab mat dekha karo..

Aashiqi mein “Mir” jaise khwab mat dekha karo,
Bawle ho jaoge mahtab mat dekha karo.

Jasta jasta padh liya karna mazamin-e-wafa,
Par kitab-e-ishq ka har bab mat dekha karo.

Is tamashe mein ulat jati hain aksar kashtiyan,
Dubne walon ko zer-e-ab mat dekha karo.

Mai-kade mein kya takalluf mai-kashi mein kya hijab,
Bazm-e-saqi mein adab aadab mat dekha karo.

Hum se durweshon ke ghar aao to yaron ki tarah,
Har jagah khas-khana o barfab mat dekha karo.

Mange-tange ki qabayen der tak rahti nahi,
Yar logon ke laqab-alqab mat dekha karo.

Tishnagi mein lab bhigo lena bhi kafi hai “Faraz”,
Jaam mein sahba hai ya zahrab mat dekha karo. !!

आशिक़ी में “मीर” जैसे ख़्वाब मत देखा करो,
बावले हो जाओगे महताब मत देखा करो !

जस्ता जस्ता पढ़ लिया करना मज़ामीन-ए-वफ़ा,
पर किताब-ए-इश्क़ का हर बाब मत देखा करो !

इस तमाशे में उलट जाती हैं अक्सर कश्तियाँ,
डूबने वालों को ज़ेर-ए-आब मत देखा करो !

मय-कदे में क्या तकल्लुफ़ मय-कशी में क्या हिजाब,
बज़्म-ए-साक़ी में अदब आदाब मत देखा करो !

हम से दरवेशों के घर आओ तो यारों की तरह,
हर जगह ख़स-ख़ाना ओ बर्फ़ाब मत देखा करो !

माँगे-ताँगे की क़बाएँ देर तक रहती नहीं,
यार लोगों के लक़ब-अलक़ाब मत देखा करो !

तिश्नगी में लब भिगो लेना भी काफ़ी है “फ़राज़”,
जाम में सहबा है या ज़हराब मत देखा करो !!

 

Hans hans ke jaam jaam ko chhalka ke pi gaya..

Hans hans ke jaam jaam ko chhalka ke pi gaya,
Wo khud pila rahe the main lahra ke pi gaya.

Tauba ke tutne ka bhi kuchh kuchh malal tha,
Tham tham ke soch soch ke sharma ke pi gaya.

Saghar-ba-dast baithi rahi meri aarzoo,
Saqi shafaq se jaam ko takra ke pi gaya.

Wo dushmanon ke tanz ko thukra ke pi gaye,
Main doston ke ghaiz ko bhadka ke pi gaya.

Sadha mutalibaat ke baad ek jaam-e-talkh,
Duniya-e-jabr-o-sabr ko dhadka ke pi gaya.

Sau bar laghzishon ki kasam kha ke chhod di,
Sau bar chhodne ki kasam kha ke pi gaya.

Pita kahan tha subh-e-azal main bhala “Adam”,
Saqi ke etibar pe lahra ke pi gaya. !!

हँस हँस के जाम जाम को छलका के पी गया,
वो ख़ुद पिला रहे थे मैं लहरा के पी गया !

तौबा के टूटने का भी कुछ कुछ मलाल था,
थम थम के सोच सोच के शर्मा के पी गया !

साग़र-ब-दस्त बैठी रही मेरी आरज़ू,
साक़ी शफ़क़ से जाम को टकरा के पी गया !

वो दुश्मनों के तंज़ को ठुकरा के पी गए,
मैं दोस्तों के ग़ैज़ को भड़का के पी गया !

सदहा मुतालिबात के बाद एक जाम-ए-तल्ख़,
दुनिया-ए-जब्र-ओ-सब्र को धड़का के पी गया !

सौ बार लग़्ज़िशों की क़सम खा के छोड़ दी,
सौ बार छोड़ने की क़सम खा के पी गया !

पीता कहाँ था सुब्ह-ए-अज़ल मैं भला “अदम”,
साक़ी के एतिबार पे लहरा के पी गया !!

 

Mai-khana-e-hasti mein aksar hum apna thikana bhul gaye..

Mai-khana-e-hasti mein aksar hum apna thikana bhul gaye,
Ya hosh mein jaana bhul gaye ya hosh mein aana bhul gaye.

Asbab to ban hi jaate hain taqdir ki zid ko kya kahiye,
Ek jaam lo pahuncha tha hum tak hum jaam uthana bhul gaye.

Aaye the bikhere zulfon ko ek roz humare marqad par,
Do ashk to tapke aankhon se do phool chadhana bhul gaye.

Chaha tha ki un ki aankhon se kuch rang-e-bahaaran le jiye,
Taqrib to achchhi thi lekin do aankh milana bhul gaye.

Malum nahi aaine mein chupke se hansaa tha kaun “Adam”,
Hum jaam uthana bhul gaye wo saaz bajana bhul gaye. !!

मय-खाना-ए-हस्ति में अक्सर हम अपना ठिकाना भूल गए,
या होश में जाना भूल गए या होश में आना भूल गए !

अस्बाब तो बन ही जाते हैं तक़दीर की ज़िद को क्या कहिये,
एक जाम लो पहुंचा था हम तक हम जाम उठाना भूल गए !

आये थे बिखरे ज़ुल्फ़ों को एक रोज़ हमारे मरक़द पर,
दो अश्क तो टपके आँखों से, दो फूल चढ़ाना भूल गए !

चाहा था कि उन की आँखों से कुछ रंग-ए-बहारां ले लीजे,
तक़रीब तो अच्छी थी लेकिन दो आँख मिलाना भूल गए.

मालूम नहीं आईने में चुपके से हँसा था कौन “अदम”,
हम जाम उठाना भूल गए, वो साज़ बजाना भूल गए !!

 

Aankhon se teri zulf ka saya nahi jata..

Aankhon se teri zulf ka saya nahi jata,
Aaram jo dekha hai bhulaya nahi jata.

Allah-re nadan jawani ki umangen,
Jaise koi bazaar sajaya nahi jata.

Aankhon se pilate raho saghar mein na dalo,
Ab hum se koi jaam uthaya nahi jata.

Bole koi hans kar to chhidak dete hain jaan bhi,
Lekin koi ruthe to manaya nahi jata.

Jis tar ko chheden wahi fariyaad-ba-lab hai,
Ab hum se “Adam” saaz bajaya nahi jata. !!

आँखों से तेरी ज़ुल्फ़ का साया नहीं जाता,
आराम जो देखा है भुलाया नहीं जाता !

अल्लाह-रे नादान जवानी की उमंगें,
जैसे कोई बाज़ार सजाया नहीं जाता !

आँखों से पिलाते रहो साग़र में न डालो,
अब हम से कोई जाम उठाया नहीं जाता !

बोले कोई हँस कर तो छिड़क देते हैं जाँ भी,
लेकिन कोई रूठे तो मनाया नहीं जाता !

जिस तार को छेड़ें वही फ़रियाद-ब-लब है,
अब हम से “अदम” साज़ बजाया नहीं जाता !!

 

Khali hai abhi jaam main kuch soch raha hun..

Khali hai abhi jaam main kuch soch raha hun,
Aye gardish-e-ayyam main kuchh soch raha hun.

Saaki tujhe ek thodi si taklif to hogi,
Saghar ko zara tham main kuchh soch raha hun.

Pahle badi raghbat thi tere naam se mujh ko,
Ab sun ke tera naam main kuchh soch raha hun.

Idrak abhi pura taawun nahi karta,
Dai bada-e-gulfam main kuchh soch raha hun.

Hal kuch to nikal aayega halat ki zid ka,
Aye kasrat-e-aalam main kuchh soch raha hun.

Phir aaj “Adam” sham se ghamgin hai tabiyat,
Phir aaj sar-e-sham main kuchh soch raha hun. !!

खाली है अभी जाम मैं कुछ सोच रहा हूँ,
ऐ गर्दिश-ए-अय्याम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

साक़ी तुझे एक थोड़ी सी तकलीफ तो होगी,
सागर को ज़रा थाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

पहले बड़ी रग़बत थी तेरे नाम से मुझको,
अब सुन के तेरा नाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

इदराक अभी पूरा तआवुन नहीं करता,
दय बादा-ए-गुलफ़ाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

हल कुछ तो निकल आएगा हालात की ज़िद्द का,
ऐ कसरत-ए-आलम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

फिर आज “अदम” शाम से ग़मगीन है तबियत,
फिर आज सर-ए-शाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !!