Home / Ishq Shayari

Ishq Shayari

Matlab muamalat ka kuchh pa gaya hun main..

Matlab muamalat ka kuchh pa gaya hun main,
Hans kar fareb-e-chashm-e-karam kha gaya hun main.

Bas inteha hai chhodiye bas rahne dijiye,
Khud apne etimad se sharma gaya hun main.

Saqi zara nigah mila kar to dekhna,
Kambakht hosh mein to nahi aa gaya hun main.

Shayad mujhe nikal ke pachhta rahe hon aap,
Mehfil mein is khayal se phir aa gaya hun main.

Kya ab hisab bhi tu mera lega hashr mein,
Kya ye itab kam hai yahan aa gaya hun main.

Main ishq hun mera bhala kya kaam dar se,
Wo shara thi jise wahan latka gaya hun main.

Nikla tha mai-kade se ki ab ghar chalun “Adam”,
Ghabra ke su-e-mai-kada phir aa gaya hun main. !!

मतलब मुआ’मलात का कुछ पा गया हूँ मैं,
हँस कर फ़रेब-ए-चश्म-ए-करम खा गया हूँ मैं !

बस इंतिहा है छोड़िए बस रहने दीजिए,
ख़ुद अपने एतिमाद से शर्मा गया हूँ मैं

साक़ी ज़रा निगाह मिला कर तो देखना,
कम्बख़्त होश में तो नहीं आ गया हूँ मैं !

शायद मुझे निकाल के पछता रहे हों आप,
महफ़िल में इस ख़याल से फिर आ गया हूँ मैं !

क्या अब हिसाब भी तू मेरा लेगा हश्र में,
क्या ये इताब कम है यहाँ आ गया हूँ मैं !

मैं इश्क़ हूँ मेरा भला क्या काम दार से,
वो शरअ थी जिसे वहाँ लटका गया हूँ मैं !

निकला था मय-कदे से कि अब घर चलूँ “अदम”,
घबरा के सू-ए-मय-कदा फिर आ गया हूँ मैं !!

 

Dil to karta hai khair karta hai..

Dil to karta hai khair karta hai,
Aap ka zikr ghair karta hai.

Kyun na main dil se dun dua us ko,
Jabki wo mujh se bair karta hai.

Aap to hu-ba-hu wahi hain jo,
Mere sapnon mein sair karta hai.

Ishq kyun aap se ye dil mera,
Mujh se puchhe baghair karta hai.

Ek zarra duaen maa ki le,
Aasmanon ki sair karta hai. !!

दिल तो करता है ख़ैर करता है,
आप का ज़िक्र ग़ैर करता है !

क्यूँ न मैं दिल से दूँ दुआ उस को,
जबकि वो मुझ से बैर करता है !

आप तो हू-ब-हू वही हैं जो,
मेरे सपनों में सैर करता है !

इश्क़ क्यूँ आप से ये दिल मेरा,
मुझ से पूछे बग़ैर करता है !

एक ज़र्रा दुआएँ माँ की ले,
आसमानों की सैर करता है !!

 

Tumhein jine mein aasani bahut hai..

Tumhein jine mein aasani bahut hai,
Tumhare khoon mein pani bahut hai.

Kabutar ishq ka utre to kaise,
Tumhari chhat pe nigarani bahut hai.

Irada kar liya gar khud-kushi ka,
To khud ki aankh ka pani bahut hai.

Zahar suli ne gali goliyon ne,
Hamari zat pahchani bahut hai.

Tumhare dil ki man-mani meri jaan,
Hamare dil ne bhi mani bahut hai. !!

तुम्हें जीने में आसानी बहुत है,
तुम्हारे ख़ून में पानी बहुत है !

कबूतर इश्क़ का उतरे तो कैसे,
तुम्हारी छत पे निगरानी बहुत है !

इरादा कर लिया गर ख़ुद-कुशी का,
तो ख़ुद की आँख का पानी बहुत है !

ज़हर सूली ने गाली गोलियों ने,
हमारी ज़ात पहचानी बहुत है !

तुम्हारे दिल की मन-मानी मेरी जान,
हमारे दिल ने भी मानी बहुत है !!

 

Baat karni hai baat kaun kare..

Baat karni hai baat kaun kare,
Dard se do-do hath kaun kare.

Hum sitare tumhein bulate hain,
Chand na ho to raat kaun kare.

Ab tujhe rab kahen ya but samjhein,
Ishq mein zat-pat kaun kare.

Zindagi bhar ki the kamai tum,
Is se zyaada zakat kaun kare. !!

बात करनी है बात कौन करे,
दर्द से दो-दो हाथ कौन करे !

हम सितारे तुम्हें बुलाते हैं,
चाँद न हो तो रात कौन करे !

अब तुझे रब कहें या बुत समझें,
इश्क़ में ज़ात-पात कौन करे !

ज़िंदगी भर की थे कमाई तुम,
इस से ज़्यादा ज़कात कौन करे !!

Ishq ko be-naqab hona tha..

Ishq ko be-naqab hona tha,
Aap apna jawab hona tha.

Mast-e-jam-e-sharab hona tha,
Be-khud-e-iztirab hona tha.

Teri aankhon ka kuch qusur nahi,
Han mujhi ko kharab hona tha.

Aao mil jao muskura ke gale,
Ho chuka jo itab hona tha.

Kucha-e-ishq mein nikal aaya,
Jis ko khana-kharab hona tha.

Mast-e-jam-e-sharab khak hote,
Gharq-e-jam-e-sharab hona tha.

Dil ki jis par hain naqsh-e-ranga-rang,
Us ko sada kitab hona tha.

Hum ne nakaamiyon ko dhund liya,
Aakhirash kaamyab hona tha.

Haye wo lamha-e-sukun ki jise,
Mahshar-e-iztirab hona tha.

Nigah-e-yaar khud tadap uthti,
Shart-e-awwal kharab hona tha.

Kyun na hota sitam bhi be-payan,
Karam-e-be-hisab hona tha.

Kyun nazar hairaton mein dub gayi,
Mauj-e-sad-iztirab hona tha.

Ho chuka roz-e-awwali hi “Jigar”,
Jis ko jitna kharab hona tha. !!

इश्क़ को बे-नक़ाब होना था,
आप अपना जवाब होना था !

मस्त-ए-जाम-ए-शराब होना था,
बे-ख़ुद-ए-इज़्तिराब होना था !

तेरी आँखों का कुछ क़ुसूर नहीं,
हाँ मुझी को ख़राब होना था !

आओ मिल जाओ मुस्कुरा के गले,
हो चुका जो इताब होना था !

कूचा-ए-इश्क़ में निकल आया,
जिस को ख़ाना-ख़राब होना था !

मस्त-ए-जाम-ए-शराब ख़ाक होते,
ग़र्क़-ए-जाम-ए-शराब होना था !

दिल कि जिस पर हैं नक़्श-ए-रंगा-रंग,
उस को सादा किताब होना था !

हम ने नाकामियों को ढूँड लिया,
आख़िरश कामयाब होना था !

हाए वो लम्हा-ए-सुकूँ कि जिसे,
महशर-ए-इज़्तिराब होना था !

निगह-ए-यार ख़ुद तड़प उठती,
शर्त-ए-अव्वल ख़राब होना था !

क्यूँ न होता सितम भी बे-पायाँ,
करम-ए-बे-हिसाब होना था !

क्यूँ नज़र हैरतों में डूब गई,
मौज-ए-सद-इज़्तिराब होना था !

हो चुका रोज़-ए-अव्वली ही “जिगर”,
जिस को जितना ख़राब होना था !!