Friday , April 10 2020

Intezaar Poetry

Bite Saal Ke Baad Fir Se Rose Day Aaya Hai

Bite Saal Ke Baad Fir Se Rose Day Aaya Hai

Bite saal ke baad fir se Rose Day aaya hai
Meri aankho me sirf tera hi suroor chaya hai
Zara tum aakar toh dekho ek baar
Tumhare intezaar me pure ghar ko sajaya hai !!

बीते साल के बाद फिर से Rose Day आया है
मेरी आँखों में सिर्फ तेरा ही सुरूर छाया है
जरा तुम आकर तो देखो एक बार
तुम्हारे इंतज़ार में पुरे घर को सजाया है !!

Wish you a very Happy Rose Day

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the..

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the,
Safine yun bhi kinare pe kab lagane the.

Khayal aata hai rah-rah ke laut jaane ka,
Safar se pahle humein apne ghar jalane the.

Guman tha ki samajh lenge mausamon ka mizaj,
Khuli jo aankh to zad pe sabhi thikane the.

Humein bhi aaj hi karna tha intezaar us ka,
Use bhi aaj hi sab wade bhul jaane the.

Talash jin ko hamesha buzurg karte rahe,
Na jaane kaun si duniya mein wo khazane the.

Chalan tha sab ke ghamon mein sharik rahne ka,
Ajib din the ajab sar-phire zamane the. !!

हवाएँ तेज़ थीं ये तो फ़क़त बहाने थे,
सफ़ीने यूँ भी किनारे पे कब लगाने थे !

ख़याल आता है रह-रह के लौट जाने का,
सफ़र से पहले हमें अपने घर जलाने थे !

गुमान था कि समझ लेंगे मौसमों का मिज़ाज,
खुली जो आँख तो ज़द पे सभी ठिकाने थे !

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का,
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे !

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे !

चलन था सब के ग़मों में शरीक रहने का,
अजीब दिन थे अजब सर-फिरे ज़माने थे !!

 

Ye aur baat ki rang-e-bahaar kam hoga..

Ye aur baat ki rang-e-bahaar kam hoga,
Nayi ruton mein darakhton ka bar kam hoga.

Talluqat mein aayi hai bas ye tabdili,
Milenge ab bhi magar intezaar kam hoga.

Main sochta raha kal raat baith kar tanha,
Ki is hujum mein mera shumar kam hoga.

Palat to aayega shayad kabhi yahi mausam,
Tere baghair magar khush-gawar kam hoga.

Bahut tawil hai “Aanis” ye zindagi ka safar,
Bas ek shakhs pe dar-o-madar kam hoga. !!

ये और बात कि रंग-ए-बहार कम होगा,
नई रुतों में दरख़्तों का बार कम होगा !

तअल्लुक़ात में आई है बस ये तब्दीली,
मिलेंगे अब भी मगर इंतिज़ार कम होगा !

मैं सोचता रहा कल रात बैठ कर तन्हा,
कि इस हुजूम में मेरा शुमार कम होगा !

पलट तो आएगा शायद कभी यही मौसम,
तेरे बग़ैर मगर ख़ुश-गवार कम होगा !

बहुत तवील है “अनीस” ये ज़िंदगी का सफ़र,
बस एक शख़्स पे दार-ओ-मदार कम होगा !!

 

Wo mere haal pe roya bhi muskuraya bhi..

Wo mere haal pe roya bhi muskuraya bhi,
Ajib shakhs hai apna bhi hai paraya bhi.

Ye intezaar sahar ka tha ya tumhara tha,
Deeya jalaya bhi main ne deeya bujhaya bhi.

Main chahta hun thahar jaye chashm-e-dariya mein,
Larazta aks tumhara bhi mera saya bhi.

Bahut mahin tha parda larazti aankhon ka,
Mujhe dikhaya bhi tu ne mujhe chhupaya bhi.

Bayaz bhar bhi gayi aur phir bhi sada hai,
Tumhare naam ko likha bhi aur mitaya bhi. !!

वो मेरे हाल पे रोया भी मुस्कुराया भी,
अजीब शख़्स है अपना भी है पराया भी !

ये इंतिज़ार सहर का था या तुम्हारा था,
दीया जलाया भी मैं ने दीया बुझाया भी !

मैं चाहता हूँ ठहर जाए चश्म-ए-दरिया में,
लरज़ता अक्स तुम्हारा भी मेरा साया भी !

बहुत महीन था पर्दा लरज़ती आँखों का,
मुझे दिखाया भी तू ने मुझे छुपाया भी !

बयाज़ भर भी गई और फिर भी सादा है,
तुम्हारे नाम को लिखा भी और मिटाया भी !!

 

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai..

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai,
Tumhari yaadon ke saath tanha safar kiya hai.

Suna hai us rut ko dekh kar tum bhi ro pade the,
Suna hai barish ne pattharon par asar kiya hai.

Salib ka bar bhi uthao tamam jiwan,
Ye lab-kushai ka jurm tum ne agar kiya hai.

Tumhein khabar thi haqiqaten talkh hain jabhi to,
Tumhari aankhon ne khwab ko mo’atabar kiya hai.

Ghutan badhi hai to phir usi ko sadayen di hain,
Ki jis hawa ne har ek shajar be-samar kiya hai.

Hai tere andar basi hui ek aur duniya,
Magar kabhi tu ne itna lamba safar kiya hai.

Mere hi dam se to raunaqen tere shehar mein thin,
Mere hi qadmon ne dasht ko rah-guzar kiya hai.

Tujhe khabar kya mere labon ki khamoshiyon ne,
Tere fasane ko kis qadar mukhtasar kiya hai.

Bahut si aankhon mein tirgi ghar bana chuki hai,
bahut si aankhon ne intezaar-e-sahar kiya hai. !!

मिलन की साअत को इस तरह से अमर किया है,
तुम्हारी यादों के साथ तन्हा सफ़र किया है !

सुना है उस रुत को देख कर तुम भी रो पड़े थे,
सुना है बारिश ने पत्थरों पर असर किया है !

सलीब का बार भी उठाओ तमाम जीवन,
ये लब-कुशाई का जुर्म तुम ने अगर किया है !

तुम्हें ख़बर थी हक़ीक़तें तल्ख़ हैं जभी तो,
तुम्हारी आँखों ने ख़्वाब को मोतबर किया है !

घुटन बढ़ी है तो फिर उसी को सदाएँ दी हैं,
कि जिस हवा ने हर इक शजर बे-समर किया है !

है तेरे अंदर बसी हुई एक और दुनिया,
मगर कभी तूने इतना लम्बा सफ़र किया है !

मेरे ही दम से तो रौनक़ें तेरे शहर में थीं,
मेरे ही क़दमों ने दश्त को रह-गुज़र किया है !

तुझे ख़बर क्या मेरे लबों की ख़मोशियों ने,
तेरे फ़साने को किस क़दर मुख़्तसर किया है !

बहुत सी आँखों में तीरगी घर बना चुकी है,
बहुत सी आँखों ने इंतज़ार-ए-सहर किया है !!

 

Bichhad ke mujh se ye mashghala ikhtiyar karna..

Bichhad ke mujh se ye mashghala ikhtiyar karna,
Hawa se darna bujhe charaghon se pyar karna.

Khuli zaminon mein jab bhi sarson ke phool mahken,
Tum aisi rut mein sada mera intezar karna.

Jo log chahen to phir tumhein yaad bhi na aayen,
Kabhi kabhi tum mujhe bhi un mein shumar karna.

Kisi ko ilzam-e-bewafai kabhi na dena,
Meri tarah apne aap ko sogwar karna.

Tamam wade kahan talak yaad rakh sakoge,
Jo bhul jayen wo ahd bhi ustuwar karna.

Ye kis ki aankhon ne baadalon ko sikha diya hai,
Ki sina-e-sang se rawan aabshaar karna.

Main zindagi se na khul saka is liye bhi “Mohsin”,
Ki bahte pani pe kab talak etibar karna. !!

बिछड़ के मुझ से ये मश्ग़ला इख़्तियार करना,
हवा से डरना बुझे चराग़ों से प्यार करना !

खुली ज़मीनों में जब भी सरसों के फूल महकें,
तुम ऐसी रुत में सदा मेरा इंतिज़ार करना !

जो लोग चाहें तो फिर तुम्हें याद भी न आएँ,
कभी कभी तुम मुझे भी उन में शुमार करना !

किसी को इल्ज़ाम-ए-बेवफ़ाई कभी न देना,
मेरी तरह अपने आप को सोगवार करना !

तमाम वादे कहाँ तलक याद रख सकोगे,
जो भूल जाएँ वो अहद भी उस्तुवार करना !

ये किस की आँखों ने बादलों को सिखा दिया है,
कि सीना-ए-संग से रवाँ आबशार करना !

मैं ज़िंदगी से न खुल सका इस लिए भी “मोहसिन”,
कि बहते पानी पे कब तलक एतिबार करना !!

 

Jhuki jhuki si nazar be-qarar hai ki nahi..

Jhuki jhuki si nazar be-qarar hai ki nahi,
Daba-daba sa sahi dil mein pyaar hai ki nahi.

Tu apne dil ki jawan dhadkano ko gin ke bata,
Meri tarah tera dil be-qarar hai ki nahi.

Woh pal ki jis mein mohabbat jawan hoti hai,
Us ek pal ka tujhe intizar hai ki nahi.

Teri ummid pe thukra raha hun duniya ko,
Tujhe bhi apne pe ye aitbaar hai ki nahi. !!

झुकी झुकी सी नज़र बे-क़रार है कि नहीं,
दबा-दबा सा सही दिल में प्यार है कि नहीं !

तू अपने दिल की जवाँ धड़कनों को गिन के बता,
मेरी तरह तेरा दिल बे-क़रार है कि नहीं !

वो पल कि जिस में मोहब्बत जवान होती है,
उस एक पल का तुझे इंतिज़ार है कि नहीं !

तेरी उमीद पे ठुकरा रहा हूँ दुनिया को,
तुझे भी अपने पे ये ऐतबार है कि नहीं !!