Wednesday , April 8 2020

Inteha Shayari

Apne Hamrah Khud Chala Karna..

Apne hamrah khud chala karna,
Kaun aayega mat ruka karna.

Khud ko pahchanne ki koshish mein,
Der tak aaina taka karna.

Rukh agar bastiyon ki jaanib hai,
Har taraf dekh kar chala karna.

Wo payambar tha bhul jata tha,
Sirf apne liye dua karna.

Yaar kya zindagi hai sooraj ki,
Subh se sham tak jala karna.

Kuch to apni khabar mile mujh ko,
Mere bare mein kuch kaha karna.

Main tumhein aazmaunga ab ke,
Tum mohabbat ki inteha karna.

Us ne sach bol kar bhi dekha hai,
Jis ki aadat hai chup raha karna. !!

अपने हमराह ख़ुद चला करना,
कौन आएगा मत रुका करना !

ख़ुद को पहचानने की कोशिश में,
देर तक आइना तका करना !

रुख़ अगर बस्तियों की जानिब है,
हर तरफ़ देख कर चला करना !

वो पयम्बर था भूल जाता था,
सिर्फ़ अपने लिए दुआ करना !

यार क्या ज़िंदगी है सूरज की,
सुब्ह से शाम तक जला करना !

कुछ तो अपनी ख़बर मिले मुझ को,
मेरे बारे में कुछ कहा करना !

मैं तुम्हें आज़माऊँगा अब के,
तुम मोहब्बत की इंतिहा करना !

उस ने सच बोल कर भी देखा है,
जिस की आदत है चुप रहा करना !!

Amir Qazalbash All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Tere Ishq Ki Inteha Chahta Hoon..

Tere ishq ki inteha chahta hoon,
Meri sadgi dekh kya chahta hoon.

Sitam ho ki ho wada-e-be-hijabi,
Koi baat sabr-azma chahta hoon.

Ye jannat mubaarak rahe zahidon ko,
Ki main aap ka samna chahta hoon.

Zara sa toh dil hoon magar shokh itna,
Wahi lan-taraani suna chahta hoon.

Koi dam ka mehmaan hoon aye ahl-e-mehfil,
Chiragh-e-sahar hoon bujha chahta hoon.

Bhari bazm mein raaz ki baat keh di,
Bada be-adab hoon saza chahta hoon. !!

तेरे इश्क की इन्तेहा चाहता हूँ,
मेरी सादगी देख क्या चाहता हूँ !

सितम हो की हो वादा-ए-बेहिजाबी,
कोई बात सब्र-आज़मा चाहता हूँ !

ये जन्नत मुबारक़ रहे ज़ाहिदों को,
की मैं आप का सामना चाहता हूँ !

ज़रा सा तो दिल हूँ मगर शोख़ इतना,
वही लान-तरानी सुना चाहता हूँ !

कोई दम का मेहमान हूँ ऐ अहल-ए-महफ़िल,
चिराग-ए-सहर हूँ बुझा चाहता हूँ !

भरी बज़्म में राज़ की बात कह दी,
बड़ा बे-अदब हूँ सजा चाहता हूँ !! -Allama Iqbal Ghazal

 

Matlab muamalat ka kuchh pa gaya hun main..

Matlab muamalat ka kuchh pa gaya hun main,
Hans kar fareb-e-chashm-e-karam kha gaya hun main.

Bas inteha hai chhodiye bas rahne dijiye,
Khud apne etimad se sharma gaya hun main.

Saqi zara nigah mila kar to dekhna,
Kambakht hosh mein to nahi aa gaya hun main.

Shayad mujhe nikal ke pachhta rahe hon aap,
Mehfil mein is khayal se phir aa gaya hun main.

Kya ab hisab bhi tu mera lega hashr mein,
Kya ye itab kam hai yahan aa gaya hun main.

Main ishq hun mera bhala kya kaam dar se,
Wo shara thi jise wahan latka gaya hun main.

Nikla tha mai-kade se ki ab ghar chalun “Adam”,
Ghabra ke su-e-mai-kada phir aa gaya hun main. !!

मतलब मुआ’मलात का कुछ पा गया हूँ मैं,
हँस कर फ़रेब-ए-चश्म-ए-करम खा गया हूँ मैं !

बस इंतिहा है छोड़िए बस रहने दीजिए,
ख़ुद अपने एतिमाद से शर्मा गया हूँ मैं

साक़ी ज़रा निगाह मिला कर तो देखना,
कम्बख़्त होश में तो नहीं आ गया हूँ मैं !

शायद मुझे निकाल के पछता रहे हों आप,
महफ़िल में इस ख़याल से फिर आ गया हूँ मैं !

क्या अब हिसाब भी तू मेरा लेगा हश्र में,
क्या ये इताब कम है यहाँ आ गया हूँ मैं !

मैं इश्क़ हूँ मेरा भला क्या काम दार से,
वो शरअ थी जिसे वहाँ लटका गया हूँ मैं !

निकला था मय-कदे से कि अब घर चलूँ “अदम”,
घबरा के सू-ए-मय-कदा फिर आ गया हूँ मैं !!

 

Aagahi mein ek khala maujud hai..

Aagahi mein ek khala maujud hai,
Is ka matlab hai khuda maujud hai.

Hai yaqinan kuch magar wazh nahi,
Aap ki aankhon mein kya maujud hai.

Baankpan mein aur koi shayy nahi,
Sadgi ki inteha maujud hai.

Hai mukammal baadshahi ki dalil,
Ghar mein gar ek boriya maujud hai.

Shauqiya koi nahi hota ghalat,
Is mein kuchh teri raza maujud hai.

Is liye tanha hun main garm-e safar,
Qafile mein rahnuma maujud hai.

Har mohabbat ki bina hai chashni,
Har lagan mein muddaa maujud hai.

Har jagah, har shehar, har iqlim mein
Dhoom hai us ki jo na-maujud hai.

Jis se chhupna chahta hun main “Adam”,
Wo sitamgar ja-ba-ja maujud hai. !!

आगाही में एक खला मौजूद है,
इस का मतलब है खुदा मौजूद है !

है यक़ीनन कुछ मगर वज़ह नहीं,
आप की आँखों में क्या मौजूद है !

बांकपन में और कोई श्रेय नहीं,
सादगी की इन्तहा मौजूद है !

है मुकम्मल बादशाही की दलील,
घर में गर एक बुढ़िया मौजूद है !

शौक़िया कोई नहीं होता ग़लत,
इस में कुछ तेरी रज़ा मौजूद है !

इस लिए तनहा हूँ मैं गर्म-ए सफर,
काफिले में रहनुमा मौजूद है !

हर मोहब्बत की बिना है चाश्नी,
हर लगन में मुद्दा मौजूद है !

हर जगह, हर शहर, हर इक़लीम में,
धूम है उस की जो न-मौजूद है !

जिस से छुपना चाहता हूँ मैं “अदम”,
वो सितमगर जा-बा-जा मौजूद है !!

 

Zaban rakhta hun lekin chup khada hun..

Zaban rakhta hun lekin chup khada hun,
Main aawazon ke ban mein ghir gaya hun.

Mere ghar ka daricha puchhta hai,
Main sara din kahan phirta raha hun.

Mujhe mere siwa sab log samjhen,
Main apne aap se kam bolta hun.

Sitaron se hasad ki intiha hai,
Main qabron par charaghan kar raha hun.

Sambhal kar ab hawaon se ulajhna,
Main tujh se pesh-tar bujhne laga hun.

Meri qurbat se kyun khaif hai duniya,
Samundar hun main khud mein gunjta hun.

Mujhe kab tak sametega wo “Mohsin”,
Main andar se bahut tuta hua hun. !!

ज़बाँ रखता हूँ लेकिन चुप खड़ा हूँ,
मैं आवाज़ों के बन में घिर गया हूँ !

मेरे घर का दरीचा पूछता है,
मैं सारा दिन कहाँ फिरता रहा हूँ !

मुझे मेरे सिवा सब लोग समझें,
मैं अपने आप से कम बोलता हूँ !

सितारों से हसद की इंतिहा है,
मैं क़ब्रों पर चराग़ाँ कर रहा हूँ !

सँभल कर अब हवाओं से उलझना,
मैं तुझ से पेश-तर बुझने लगा हूँ !

मेरी क़ुर्बत से क्यूँ ख़ाइफ़ है दुनिया,
समुंदर हूँ मैं ख़ुद में गूँजता हूँ !

मुझे कब तक समेटेगा वो “मोहसिन”,
मैं अंदर से बहुत टूटा हुआ हूँ !!

 

Wo bhi sarahne lage arbab-e-fan ke baad

Wo bhi sarahne lage arbab-e-fan ke baad,
Dad-e-sukhan mili mujhe tark-e-sukhan ke baad.

Diwana-war chaand se aage nikal gaye,
Thahra na dil kahin bhi teri anjuman ke baad.

Honton ko si ke dekhiye pachhtaiyega aap,
Hangame jag uthte hain aksar ghutan ke baad.

Ghurbat ki thandi chhanw mein yaad aayi us ki dhup,
Qadr-e-watan hui hamein tark-e-watan ke baad.

Elan-e-haq mein khatra-e-dar-o-rasan to hai,
Lekin sawal ye hai ki dar-o-rasan ke baad.

Insan ki khwahishon ki koi intiha nahi,
Do gaz zameen bhi chahiye do gaz kafan ke baad. !!

वो भी सराहने लगे अर्बाब-ए-फ़न के बाद,
दाद-ए-सुख़न मिली मुझे तर्क-ए-सुख़न के बाद !

दीवाना-वार चाँद से आगे निकल गए,
ठहरा न दिल कहीं भी तेरी अंजुमन के बाद !

होंटों को सी के देखिए पछ्ताइएगा आप,
हंगामे जाग उठते हैं अक्सर घुटन के बाद !

ग़ुर्बत की ठंडी छाँव में याद आई उस की धूप,
क़द्र-ए-वतन हुई हमें तर्क-ए-वतन के बाद !

एलान-ए-हक़ में ख़तरा-ए-दार-ओ-रसन तो है,
लेकिन सवाल ये है कि दार-ओ-रसन के बाद !

इंसान की ख़्वाहिशों की कोई इंतिहा नहीं,
दो गज़ ज़मीन भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद !!

 

famous two line poetry of aziz lakhnavi

Paida wo baat kar ki tujhe roye dusare,
Rona khud ye apne haal pe ye zaar zaar kya.

पैदा वो बात कर कि तुझे रोएँ दूसरे,
रोना खुद अपने हाल पे ये जार जार क्या !

Tumne cheda to kuchh khule hum bhi,
Baat par baat yaad aati hai.

तुम ने छेड़ा तो कुछ खुले हम भी,
बात पर बात याद आती है !

Zaban dil ki haqiqat ko kya bayan karti,
Kisi ka haal kisi se kaha nahi jata.

जबान दिल की हकीकत को क्या बयां करती,
किसी का हाल किसी से कहा नहीं जाता !

Unko sote huye dekha tha dame-subah kabhi,
Kya bataun jo in aankhon ne sama dekha tha.

उनको सोते हुए देखा था दमे-सुबह कभी,
क्या बताऊं जो इन आंखों ने समां देखा था !

Apne markaz ki taraf maaial-e-parwaz tha husan
Bhulta hi nahi aalam tiri angadaai ka.

अपने मरकज़ की तरफ माइल-ए-परवाज़ था हुस्न,
भूलता ही नहीं आलम तिरी अंगड़ाई का !

Itana to soch zalim jauro-jafa se pahale,
Yah rasm dosti ki duniya se uth jayegi.

इतना तो सोच जालिम जौरो-जफा से पहले,
यह रस्म दोस्ती की दुनिया से उठ जायेगी !

Hamesha tinke hi chunte gujar gayi apni,
Magar chaman mein kahi aashiyan bana na sake.

हमेशा तिनके ही चुनते गुजर गई अपनी,
मगर चमन में कहीं आशियाँ बना ना सके !

Ek majboor ki tamnna kya,
Roz jeeti hai, roz marti hai.

एक मजबूर की तमन्ना क्या,
रोज जीती है, रोज मरती है !

Kafas mein ji nahi lagta hai. aah phir bhi mera,
Yah janta hun ki tinka bhi aashiyan mein nahi.

कफस में जी नहीं लगता है, आह फिर भी मेरा,
यह जानता हूँ कि तिनका भी आशियाँ में नहीं !

Sitam hai lash par us bewafa ka yah kehana,
Ki aane ka bhi na kisi ne intezaar kiya.

सितम है लाश पर उस बेवफा का यह कहना,
कि आने का भी न किसी ने इंतज़ार किया !

Khuda ka kaam hai yun marizon ko shifa dena,
Munasib ho to ek din hathon se apne dawa dena.

खुदा का काम है यूँ तो मरीजों को शिफा देना,
मुनासिब हो तो इक दिन हाथों से अपने दवा देना !

Bhala zabat ki bhi koi inteha hai,
Kahan tak tabiyat ko apni sambhale.

भला जब्त की भी कोई इन्तहा है,
कहाँ तक तबियत को अपनी संभाले !

Jhoothe wadon par thi apni zindagi,
Ab to yah bhi aasara jata raha.

झूठे वादों पर थी अपनी जिन्दगी,
अब तो यह भी आसरा जाता रहा !

Suroore-shab ki nahi subah ka khumar hun main,
Nikal chuki hai jo gulshan se wah bahar hun main.

सुरूरे-शब की नहीं सुबह का खुमार हूँ मैं,
निकल चुकी है जो गुलशन से वह बहार हूँ मैं !

Dil samjhata tha ki khalwat mein wo tanha honge,
Maine parda jo uthaya to kayamat nikali.

दिल समझता था कि ख़ल्वत में वो तन्हा होंगे,
मैंने पर्दा जो उठाया तो क़यामत निकली !

Khud chale aao ya bula bhejo,
Raat akele basar nahi hoti.

ख़ुद चले आओ या बुला भेजो,
रात अकेले बसर नहीं होती !

Aaina chhod ke dekha kiye surat meri,
Dil-e-muztar ne mire un ko sanwarne na diya.

आईना छोड़ के देखा किए सूरत मेरी,
दिल-ए-मुज़्तर ने मिरे उन को सँवरने न दिया !

Hijr ki raat katne waale,
Kya karega agar sahar na huyi.

हिज्र की रात काटने वाले,
क्या करेगा अगर सहर न हुई !

Hai dil mein josh-e-hasrat rukte nahi hain aansoo,
Risti huyi surahi tuuta hua subu hun.

है दिल में जोश-ए-हसरत रुकते नहीं हैं आँसू,
रिसती हुई सुराही टूटा हुआ सुबू हूँ !

“Azīz” munh se wo apne naqab to ulten,
Karenge jabr agar dil pe ikhtiyar raha.

“अज़ीज़” मुँह से वो अपने नक़ाब तो उलटें,
करेंगे जब्र अगर दिल पे इख़्तियार रहा !

Be-piye waaiz ko meri raaye mein,
Masjid-e-jama mein jaana hi na tha.

बे-पिए वाइ’ज़ को मेरी राय में,
मस्जिद-ए-जामा में जाना ही न था !

Usi ko hashr kahte hain jahan duniya ho fariyadi,
Yahi ai mir-e-divan-e-jaza kya teri mahfil hai.

उसी को हश्र कहते हैं जहाँ दुनिया हो फ़रियादी,
यही ऐ मीर-ए-दीवान-ए-जज़ा क्या तेरी महफ़िल है !

Lutf-e-bahar kuchh nahi go hai wahi bahar,
Dil hi ujad gaya ki zamana ujad gaya.

लुत्फ़-ए-बहार कुछ नहीं गो है वही बहार,
दिल ही उजड़ गया कि ज़माना उजड़ गया !

Itna bhi bar-e-khatir-e-gulshan na ho koi,
Tuti wo shakh jis pe mira ashiyana tha.

इतना भी बार-ए-ख़ातिर-ए-गुलशन न हो कोई,
टूटी वो शाख़ जिस पे मिरा आशियाना था !

Batao aise marizon ka hai ilaaj koi,
Ki jin se haal bhi apna bayan nahi hota.

बताओ ऐसे मरीज़ों का है इलाज कोई,
कि जिन से हाल भी अपना बयाँ नहीं होता !

Be-khudi kucha-e-janan mein liye jaati hai,
Dekhiye kaun mujhe meri khabar deta hai.

बे-ख़ुदी कूचा-ए-जानाँ में लिए जाती है,
देखिए कौन मुझे मेरी ख़बर देता है !

Haaye kya chiiz thi jawani bhi,
Ab to din raat yaad aati hai.

हाए क्या चीज़ थी जवानी भी,
अब तो दिन रात याद आती है !

Maana ki bazm-e-husn ke adab hain bahut,
Jab dil pe ikhtiyar na ho kya kare koi.

माना कि बज़्म-ए-हुस्न के आदाब हैं बहुत,
जब दिल पे इख़्तियार न हो क्या करे कोई !

Naza ka waqt hai baitha hai sirhane koi,
Waqt ab wo hai ki marna hamein manzur nahi.

नज़्अ’ का वक़्त है बैठा है सिरहाने कोई,
वक़्त अब वो है कि मरना हमें मंज़ूर नहीं !

Qatal aur mujh se sakht-jan ka qatal,
Tegh dekho zara kamar dekho.

क़त्ल और मुझ से सख़्त-जाँ का क़त्ल,
तेग़ देखो ज़रा कमर देखो !

Jab se zulfon ka pada hai is mein aks,
Dil mira tuta hua aaina hai.

जब से ज़ुल्फ़ों का पड़ा है इस में अक्स,
दिल मिरा टूटा हुआ आईना है !

Dil nahi jab to khaak hai duniya,
Asal jo chiiz thi wahi na rahi.

दिल नहीं जब तो ख़ाक है दुनिया,
असल जो चीज़ थी वही न रही !

Tumhen hanste hue dekha hai jab se,
Mujhe rone ki aadat ho gayi hai.

तुम्हें हँसते हुए देखा है जब से,
मुझे रोने की आदत हो गई है !

Tamam anjuman-e-waz ho gayi barham,
Liye hue koi yun saghar-e-sharab aaya.

तमाम अंजुमन-ए-वाज़ हो गई बरहम,
लिए हुए कोई यूँ साग़र-ए-शराब आया !

Musibat thi hamare hi liye kyun,
Ye maana ham jiye lekin jiye kyun ?

मुसीबत थी हमारे ही लिए क्यूँ,
ये माना हम जिए लेकिन जिए क्यूँ ?

Tah mein dariya-e-mohabbat ke thi kya chiiz “Azīz”,
Jo koi dub gaya us ko ubharne na diya.

तह में दरिया-ए-मोहब्बत के थी क्या चीज़ “अज़ीज़”,
जो कोई डूब गया उस को उभरने न दिया !

Dil ki aludgi-e-zakhm badhi jaati hai,
Saans leta hun to ab khun ki bu aati hai.

दिल की आलूदगी-ए-ज़ख़्म बढ़ी जाती है,
साँस लेता हूँ तो अब ख़ून की बू आती है !

Phuut nikla zahr saare jism mein,
Jab kabhi aansoo hamare tham gaye.

फूट निकला ज़हर सारे जिस्म में,
जब कभी आँसू हमारे थम गए !

Udasi ab kisi ka rang jamne hi nahi deti,
Kahan tak phool barsaye koi gor-e-ghariban par.

उदासी अब किसी का रंग जमने ही नहीं देती,
कहाँ तक फूल बरसाए कोई गोर-ए-ग़रीबाँ पर !

Shisha-e-dil ko yun na uthao,
Dekho haath se chhota hota.

शीशा-ए-दिल को यूँ न उठाओ,
देखो हाथ से छोटा होता !