Home / Imtihaan Shayari

Imtihaan Shayari

Tum lakh chahe meri aafat mein jaan rakhna..

Tum lakh chahe meri aafat mein jaan rakhna,
Par apne waste bhi kuchh imtihaan rakhna.

Wo shakhs kaam ka hai do aib bhi hain us mein,
Ek sar uthana duja munh mein zaban rakhna.

Pagli si ek ladki se shehar ye khafa hai,
Wo chahti hai palkon pe aasman rakhna.

Kewal faqiron ko hai ye kaamyabi hasil,
Masti se jina aur khush sara jahan rakhna. !!

तुम लाख चाहे मेरी आफ़त में जान रखना,
पर अपने वास्ते भी कुछ इम्तिहान रखना !

वो शख़्स काम का है दो ऐब भी हैं उस में,
एक सर उठाना दूजा मुँह में ज़बान रखना !

पगली सी एक लड़की से शहर ये ख़फ़ा है,
वो चाहती है पलकों पे आसमान रखना !

केवल फ़क़ीरों को है ये कामयाबी हासिल,
मस्ती से जीना और ख़ुश सारा जहान रखना !!

 

Umar guzregi imtihan mein kya..

Umar guzregi imtihan mein kya,
Dagh hi denge mujhko dan mein kya.

Meri har baat be-asar hi rahi,
Naqs hai kuchh mere bayan mein kya.

Mujhko to koi tokta bhi nahi,
Yahi hota hai khandan mein kya.

Apni mahrumiyan chhupate hain,
Hum gharibon ki aan-ban mein kya.

Khud ko jana juda zamane se,
Aa gaya tha mere guman mein kya.

Sham hi se dukan-e-did hai band,
Nahi nuqsan tak dukaan mein kya.

Aye mere subh-o-sham-e-dil ki shafaq,
Tu nahati hai ab bhi ban mein kya.

Bolte kyun nahi mere haq mein,
Aable pad gaye zaban mein kya.

Khamoshi kah rahi hai kan mein kya,
Aa raha hai mere guman mein kya.

Dil ki aate hain jis ko dhyan bahut,
Khud bhi aata hai apne dhyan mein kya.

Wo mile to ye puchhna hai mujhe,
Ab bhi hun main teri aman mein kya.

Yun jo takta hai aasman ko tu,
Koi rahta hai aasman mein kya.

Hai nasim-e-bahaar gard-alud,
Khak udti hai us makan mein kya.

Ye mujhe chain kyun nahi padta,
Ek hi shakhs tha jahan mein kya. !!

उम्र गुज़रेगी इम्तिहान में क्या,
दाग़ ही देंगे मुझको दान में क्या !

मेरी हर बात बे-असर ही रही,
नक़्स है कुछ मेरे बयान में क्या !

मुझको तो कोई टोकता भी नहीं,
यही होता है ख़ानदान में क्या !

अपनी महरूमियाँ छुपाते हैं,
हम ग़रीबों की आन-बान में क्या !

ख़ुद को जाना जुदा ज़माने से,
आ गया था मेरे गुमान में क्या !

शाम ही से दुकान-ए-दीद है बंद,
नहीं नुक़सान तक दुकान में क्या !

ऐ मेरे सुब्ह-ओ-शाम-ए-दिल की शफ़क़,
तू नहाती है अब भी बान में क्या !

बोलते क्यूँ नहीं मेरे हक़ में,
आबले पड़ गए ज़बान में क्या !

ख़ामुशी कह रही है कान में क्या,
आ रहा है मेरे गुमान में क्या !

दिल कि आते हैं जिस को ध्यान बहुत,
ख़ुद भी आता है अपने ध्यान में क्या !

वो मिले तो ये पूछना है मुझे,
अब भी हूँ मैं तेरी अमान में क्या !

यूँ जो तकता है आसमान को तू,
कोई रहता है आसमान में क्या !

है नसीम-ए-बहार गर्द-आलूद,
ख़ाक उड़ती है उस मकान में क्या !

ये मुझे चैन क्यूँ नहीं पड़ता,
एक ही शख़्स था जहान में क्या !!

 

Is martaba bhi aaye hain number tere to kam..

Is martaba bhi aaye hain number tere to kam,
Ruswaiyon ka kya meri daftar banega tu,
Bete ke munh pe de ke chapat bap ne kaha,
Phir fail ho gaya hai minister banega tu. !!

इस मर्तबा भी आए हैं नंबर तेरे तो कम,
रुस्वाइयों का क्या मेरी दफ़्तर बनेगा तू,
बेटे के मुँह पे दे के चपत बाप ने कहा,
फिर फ़ेल हो गया है मिनिस्टर बनेगा तू !!

Sitaaron se aage jahan aur bhi hain..

Sitaaron se aage jahan aur bhi hain,
Abhi ishq ke imtihaan aur bhi hain.

Tahi zindagi se nahin ye fazayein,
Yahan saikadon Carvaan aur bhi hain.

Qanaa’at na kar aalam-e-rang-o-buu par,
Chaman aur bhi aashiyaan aur bhi hain.

Agar kho gaya ek nasheman toh kya gham,
Maqaamaat-e-aah-o-fughaan aur bhi hain.

Tu shaaheen hai parwaaz hai kaam tera,
Tere saamne aasmaan aur bhi hain.

Issi roz-o-shab mein ulajh kar na reh jaa,
Ki tere zameen-o-makaan aur bhi hain.

Gaye din ki tanha tha main anjuman mein,
Yahan ab mere raazdaan aur bhi hain. !!

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं,
अभी इश्क के इम्तिहान और भी हैं !

तही ज़िन्दगी से नहीं ये फ़ज़ायें,
यहाँ सैकड़ों कारवाँ और भी हैं !

क़ना’अत न कर आलम-ए-रंग-ओ-बू पर,
चमन और भी, आशियाँ और भी हैं !

अगर खो गया एक नशेमन तो क्या ग़म,
मक़ामात-ए-आह-ओ-फ़ुग़ाँ और भी हैं !

तू शाहीं है परवाज़ है काम तेरा,
तेरे सामने आसमाँ और भी हैं !

इसी रोज़-ओ-शब में उलझ कर न रह जा,
के तेरे ज़मीन-ओ-मकाँ और भी हैं !

गए दिन के तन्हा था मैं अंजुमन में,
यहाँ अब मेरे राज़दाँ और भी हैं !!