Home / Hindi Shayari

Hindi Shayari

Koi deewana kehta hain koi pagal samjhta hai..

Koi deewana kehta hain koi pagal samjhta hai,
Magar dharti ki bechani ko bas badal samjhta hai,
Main tujhse dur kaisa hu, tu mujhse dur kaisi hai,
Yeh tera dil samjhta hain ya mera dil samjhta hai.

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है,
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है,
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर कैसी है,
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है !

Mohobbat ek ehsaason ki paawan si kahani hain,
Kabhi kabira deewana tha kabhi meera deewani hain,
Yahaan sab log kehte hain meri aakho mein aansoo hain,
Jo tu samjhe toh moti hain jo na samjhe toh paani hain.

मोहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है,
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है,
यहाँ सब लोग कहते हैं, मेरी आंखों में आँसू हैं,
जो तू समझे तो मोती है, जो ना समझे तो पानी है !

Badalne ko toh in aankhon ke manzar kam nahi badle,
Tumhari yaad ke mausam humhare gham nahi badle,
Tu agle janm mein humse milogi tab toh manogi,
Jamane aur sadi ki is badal mein hum nahi badle.

बदलने को तो इन आंखों के मंजर कम नहीं बदले,
तुम्हारी याद के मौसम हमारे गम नहीं बदले,
तुम अगले जन्म में हमसे मिलोगी तब तो मानोगी,
जमाने और सदी की इस बदल में हम नहीं बदले !

Humein maloom hai do dil judaai seh nahi sakte,
Magar rasmein-wafa ye hai ki ye bhi kah nahi sakte,
Zara kuchh der tum un sahilon ki chikh sun bhar lo,
Jo lahron mein toh dube hai magar sang bah nahi sakte.

हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते,
मगर रस्मे-वफ़ा ये है कि ये भी कह नहीं सकते,
जरा कुछ देर तुम उन साहिलों कि चीख सुन भर लो,
जो लहरों में तो डूबे हैं, मगर संग बह नहीं सकते !

Samandar peer ka andar hain lekin ro nahi sakta,
Yeh aansu pyaar ka moti hain isko kho nahi sakta,
Meri chahat ko dulhan tu bana lena magar sun le,
Jo mera ho nahi paya woh tera ho nahi sakta.

समंदर पीर का अन्दर है, लेकिन रो नही सकता,
यह आँसू प्यार का मोती है, इसको खो नही सकता,
मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना, मगर सुन ले,
जो मेरा हो नही पाया, वो तेरा हो नही सकता !

 

Ek Pagli Ladki Ke Bin..

Amawas ki kaali raaton mein dil ka darwaja khulta hai,
Jab dard ki kaali raaton mein gham ansoon ke sang ghulta hain,
Jab pichwade ke kamre mein hum nipat akele hote hain,
Jab ghadiyan tik-tik chalti hain, sab sote hain, Hum rote hain,
Jab baar baar dohrane se sari yaadein chuk jati hain,
Jab unch-nich samjhane mein mathe ki nas dukh jati hain
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai..

अमावस की काली रातों में दिल का दरवाजा खुलता है,
जब दर्द की काली रातों में गम आंसू के संग घुलता है,
जब पिछवाड़े के कमरे में हम निपट अकेले होते हैं,
जब घड़ियाँ टिक-टिक चलती हैं, सब सोते हैं, हम रोते हैं,
जब बार-बार दोहराने से सारी यादें चुक जाती हैं,
जब ऊँच-नीच समझाने में माथे की नस दुःख जाती है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Jab pothe khali hote hain, jab harf sawali hote hain,
Jab ghazalein ras nahi aati, afsane gali hote hain
Jab basi fiki dhoop sametein din jaldi dhal jta hai,
Jab sooraj ka laskhar chhat se galiyon mein der se jata hai,
Jab jaldi ghar jane ki ichha man hi man ghut jati hai,
Jab college se ghar lane wali pahli bus chhut jati hai,
Jab be-man se khana khane par maa gussa ho jati hai,
Jab lakh mana karne par bhi paaro padhne aa jati hai,
Jab apna har man-chaha kaam koi lachari lagta hai,
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai..

जब पोथे खाली होते है, जब हर्फ़ सवाली होते हैं,
जब गज़लें रास नही आती, अफ़साने गाली होते हैं,
जब बासी फीकी धूप समेटे दिन जल्दी ढल जता है,
जब सूरज का लश्कर छत से गलियों में देर से जाता है,
जब जल्दी घर जाने की इच्छा मन ही मन घुट जाती है,
जब कालेज से घर लाने वाली पहली बस छुट जाती है,
जब बे-मन से खाना खाने पर माँ गुस्सा हो जाती है,
जब लाख मन करने पर भी पारो पढ़ने आ जाती है,
जब अपना हर मन-चाहा काम कोई लाचारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Jab kamre mein sannate ki aawaz sunai deti hai,
Jab darpan mein aankhon ke niche jhai dikhai deti hai
Jab badki bhabhi kahti hai, kuchh sehat ka bhi dhyan karo,
Kya likhte ho din-bhar, kuchh sapnon ka bhi samman karo,
Jab baba wali baithak mein kuchh rishte wale aate hain,
Jab baba hamein bulate hain, hum jate mein ghabrate hain,
Jab saari pahne ek ladki ka ek photo laya jata hai,
Jab bhabhi hamein manati hai, photo dikhlaya jata hai,
Jab sarein ghar ka samjhana humko fankari lagta hai,
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhaari lagta hai..

जब कमरे में सन्नाटे की आवाज़ सुनाई देती है,
जब दर्पण में आंखों के नीचे झाई दिखाई देती है,
जब बड़की भाभी कहती हैं, कुछ सेहत का भी ध्यान करो,
क्या लिखते हो दिन-भर, कुछ सपनों का भी सम्मान करो,
जब बाबा वाली बैठक में कुछ रिश्ते वाले आते हैं,
जब बाबा हमें बुलाते है, हम जाते में घबराते हैं,
जब साड़ी पहने एक लड़की का फोटो लाया जाता है,
जब भाभी हमें मनाती हैं, फोटो दिखलाया जाता है,
जब सारे घर का समझाना हमको फनकारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Didi kahti hai us pagli ladki ki kuchh aukat nahi,
Uske dil mein bhaiiya tere jaise pyare jazbat nahi,
Woh pagli ladki meri khatir nau din bhukhi rahti hai,
Chup-chup sare warat karti hai, magar mujhse kuchh na kahti hai,
Jo pagli ladki kahti hai, main pyar tumhi se karti hoon,
Lekin main hun majbur bahut, amma-baba se darti hun,
Us pagli ladki par apna kuchh bhi adhikar nahi baba,
Sab katha-kahani kisse hai, kuchh bhi to saar nahi baba
Bas us pagli ladki ke sang jina fulwari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai.. !!

दीदी कहती हैं उस पगली लडकी की कुछ औकात नहीं,
उसके दिल में भैया तेरे जैसे प्यारे जज़्बात नहीं,
वो पगली लड़की मेरी खातिर नौ दिन भूखी रहती है,
चुप चुप सारे व्रत करती है, मगर मुझसे कुछ ना कहती है,
जो पगली लडकी कहती है, मैं प्यार तुम्ही से करती हूँ,
लेकिन मैं हूँ मजबूर बहुत, अम्मा-बाबा से डरती हूँ,
उस पगली लड़की पर अपना कुछ भी अधिकार नहीं बाबा,
सब कथा-कहानी-किस्से हैं, कुछ भी तो सार नहीं बाबा,
बस उस पगली लडकी के संग जीना फुलवारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..!!

 

Main to jhonka hun hawaon ka uda le jaunga..

Main to jhonka hun hawaon ka uda le jaunga,
Jagti rahna tujhe tujh se chura le jaunga.

Ho ke qadmon pe nichhawar phool ne but se kaha,
Khak mein mil kar bhi main khushbu bacha le jaunga.

Kaun si shai mujh ko pahunchayegi tere shahr tak,
Ye pata to tab chalega jab pata le jaunga.

Koshishen mujh ko mitane ki bhale hon kaamyab,
Mitte mitte bhi main mitne ka maza le jaunga.

Shohraten jin ki wajh se dost dushman ho gaye,
Sab yahin rah jayengi main sath kya le jaunga. !!

मैं तो झोंका हूँ हवाओं का उड़ा ले जाऊँगा,
जागती रहना तुझे तुझ से चुरा ले जाऊँगा !

हो के क़दमों पे निछावर फूल ने बुत से कहा,
ख़ाक में मिल कर भी मैं ख़ुशबू बचा ले जाऊँगा !

कौन सी शय मुझ को पहुँचाएगी तेरे शहर तक,
ये पता तो तब चलेगा जब पता ले जाऊँगा !

कोशिशें मुझ को मिटाने की भले हों कामयाब,
मिटते मिटते भी मैं मिटने का मज़ा ले जाऊँगा !

शोहरतें, जिन की वज्ह से दोस्त दुश्मन हो गए,
सब यहीं रह जाएँगी मैं साथ क्या ले जाऊँगा !!

Do-chaar bar hum jo kabhi hans-hansa liye..

Do-chaar bar hum jo kabhi hans-hansa liye,
Sare jahan ne hath mein patthar utha liye.

Rahte hamare pas to ye tutate zarur,
Achchha kiya jo aapne sapne chura liye.

Chaha tha ek phool ne tadpen usi ke pas,
Hum ne khushi se pedon mein kante bichha liye.

Aankhon mein aaye ashk ne aankhon se ye kaha,
Ab roko ya girao hamein hum to aa liye.

Sukh jaise baadalon mein nahati hun bijliyan,
Dukh jaise bijliyon mein ye baadal naha liye.

Jab ho saki na baat to hum ne yahi kiya,
Apni ghazal ke sher kahin gunguna liye.

Ab bhi kisi daraaz mein mil jayenge tumhein,
Wo khat jo tum ko de na sake likh-likha liye. !!

दो-चार बार हम जो कभी हँस-हँसा लिए,
सारे जहाँ ने हाथ में पत्थर उठा लिए !

रहते हमारे पास तो ये टूटते ज़रूर,
अच्छा किया जो आपने सपने चुरा लिए !

चाहा था एक फूल ने तड़पें उसी के पास,
हम ने ख़ुशी से पेड़ों में काँटे बिछा लिए !

आँखों में आए अश्क ने आँखों से ये कहा,
अब रोको या गिराओ हमें हम तो आ लिए !

सुख जैसे बादलों में नहाती हूँ बिजलियाँ,
दुख जैसे बिजलियों में ये बादल नहा लिए !

जब हो सकी न बात तो हम ने यही किया,
अपनी ग़ज़ल के शेर कहीं गुनगुना लिए !

अब भी किसी दराज़ में मिल जाएँगे तुम्हें,
वो ख़त जो तुम को दे न सके लिख-लिखा लिए !!

Wo khat ke purze uda raha tha..

Wo khat ke purze uda raha tha,
Hawaon ka rukh dikha raha tha.

Bataun kaise wo bahta dariya,
Jab aa raha tha to ja raha tha.

Kuch aur bhi ho gaya numayan,
Main apna likha mita raha tha.

Dhuan dhuan ho gayi thi aankhen,
Charagh ko jab bujha raha tha.

Munder se jhuk ke chand kal bhi,
Padosiyon ko jaga raha tha.

Usi ka iman badal gaya hai,
Kabhi jo mera khuda raha tha.

Wo ek din ek ajnabi ko,
Meri kahani suna raha tha.

Wo umar kam kar raha tha meri,
Main saal apne badha raha tha.

Khuda ki shayad raza ho is mein,
Tumhara jo faisla raha tha. !!

वो ख़त के पुर्ज़े उड़ा रहा था,
हवाओं का रुख़ दिखा रहा था !

बताऊँ कैसे वो बहता दरिया,
जब आ रहा था तो जा रहा था !

कुछ और भी हो गया नुमायाँ,
मैं अपना लिखा मिटा रहा था !

धुआँ धुआँ हो गई थीं आँखें,
चराग़ को जब बुझा रहा था !

मुंडेर से झुक के चाँद कल भी,
पड़ोसियों को जगा रहा था !

उसी का ईमाँ बदल गया है,
कभी जो मेरा ख़ुदा रहा था !

वो एक दिन एक अजनबी को,
मेरी कहानी सुना रहा था !

वो उम्र कम कर रहा था मेरी,
मैं साल अपने बढ़ा रहा था !

ख़ुदा की शायद रज़ा हो इस में,
तुम्हारा जो फ़ैसला रहा था !!

Is martaba bhi aaye hain number tere to kam..

Is martaba bhi aaye hain number tere to kam,
Ruswaiyon ka kya meri daftar banega tu,
Bete ke munh pe de ke chapat bap ne kaha,
Phir fail ho gaya hai minister banega tu. !!

इस मर्तबा भी आए हैं नंबर तेरे तो कम,
रुस्वाइयों का क्या मेरी दफ़्तर बनेगा तू,
बेटे के मुँह पे दे के चपत बाप ने कहा,
फिर फ़ेल हो गया है मिनिस्टर बनेगा तू !!

Yun na mil mujh se khafa ho jaise..

Yun na mil mujh se khafa ho jaise,
Sath chal mauj-e-saba ho jaise.

Log yun dekh ke hans dete hain,
Tu mujhe bhul gaya ho jaise.

Ishq ko shirk ki had tak na badha,
Yun na mil hum se khuda ho jaise.

Maut bhi aayi to is naaz ke sath,
Mujh pe ehsan kiya ho jaise.

Aise anjan bane baithe ho,
Tum ko kuchh bhi na pata ho jaise.

Hichkiyan raat ko aati hi rahi,
Tu ne phir yaad kiya ho jaise.

Zindagi bit rahi hai “Danish”,
Ek be-jurm saza ho jaise.

यूँ न मिल मुझ से ख़फ़ा हो जैसे,
साथ चल मौज-ए-सबा हो जैसे !

लोग यूँ देख के हँस देते हैं,
तू मुझे भूल गया हो जैसे !

इश्क़ को शिर्क की हद तक न बढ़ा,
यूँ न मिल हम से ख़ुदा हो जैसे !

मौत भी आई तो इस नाज़ के साथ,
मुझ पे एहसान किया हो जैसे !

ऐसे अंजान बने बैठे हो,
तुम को कुछ भी न पता हो जैसे !

हिचकियाँ रात को आती ही रहीं,
तू ने फिर याद किया हो जैसे !

ज़िंदगी बीत रही है “दानिश”,
एक बे-जुर्म सज़ा हो जैसे !