Home / Hijr Poetry

Hijr Poetry

Ujad ujad ke sanwarti hai tere hijr ki sham..

Ujad ujad ke sanwarti hai tere hijr ki sham,
Na puchh kaise guzarti hai tere hijr ki sham.

Ye barg barg udasi bikhar rahi hai meri,
Ki shakh shakh utarti hai tere hijr ki sham.

Ujad ghar mein koi chand kab utarta hai,
Sawal mujh se ye karti hai tere hijr ki sham.

Mere safar mein ek aisa bhi mod aata hai,
Jab apne aap se darti hai tere hijr ki sham.

Bahut aziz hain dil ko ye zakhm zakhm ruten,
Inhi ruton mein nikharti hai tere hijr ki sham.

Ye mera dil ye sarasar nigar-khana-e-gham,
Sada isi mein utarti hai tere hijr ki sham.

Jahan jahan bhi milen teri qurbaton ke nishan,
Wahan wahan se ubharti hai tere hijr ki sham.

Ye hadisa tujhe shayad udas kar dega,
Ki mere sath hi marti hai tere hijr ki sham. !!

उजड़ उजड़ के सँवरती है तेरे हिज्र की शाम,
न पूछ कैसे गुज़रती है तेरे हिज्र की शाम !

ये बर्ग बर्ग उदासी बिखर रही है मेरी,
कि शाख़ शाख़ उतरती है तेरे हिज्र की शाम !

उजाड़ घर में कोई चाँद कब उतरता है,
सवाल मुझ से ये करती है तेरे हिज्र की शाम !

मेरे सफ़र में एक ऐसा भी मोड़ आता है,
जब अपने आप से डरती है तेरे हिज्र की शाम !

बहुत अज़ीज़ हैं दिल को ये ज़ख़्म ज़ख़्म रुतें,
इन्ही रुतों में निखरती है तेरे हिज्र की शाम !

ये मेरा दिल ये सरासर निगार-खाना-ए-ग़म,
सदा इसी में उतरती है तेरे हिज्र की शाम !

जहाँ जहाँ भी मिलें तेरी क़ुर्बतों के निशाँ,
वहाँ वहाँ से उभरती है तेरे हिज्र की शाम !

ये हादिसा तुझे शायद उदास कर देगा,
कि मेरे साथ ही मरती है तेरे हिज्र की शाम !!

 

Aadmi waqt par gaya hoga..

Aadmi waqt par gaya hoga,
Waqt pahle guzar gaya hoga.

Wo hamari taraf na dekh ke bhi,
Koi ehsan dhar gaya hoga.

Khud se mayus ho ke baitha hun,
Aaj har shakhs mar gaya hoga.

Sham tere dayar mein aakhir,
Koi to apne ghar gaya hoga.

Marham-e-hijr tha ajab iksir,
Ab to har zakhm bhar gaya hoga. !!

आदमी वक़्त पर गया होगा,
वक़्त पहले गुज़र गया होगा !

वो हमारी तरफ़ न देख के भी,
कोई एहसान धर गया होगा !

ख़ुद से मायूस हो के बैठा हूँ,
आज हर शख़्स मर गया होगा !

शाम तेरे दयार में आख़िर,
कोई तो अपने घर गया होगा !

मरहम-ए-हिज्र था अजब इक्सीर,
अब तो हर ज़ख़्म भर गया होगा !!

Hum un se agar mil baithe hain kya dosh hamara hota hai..

Hum un se agar mil baithe hain kya dosh hamara hota hai,
Kuch apni jasarat hoti hai kuch un ka ishaara hota hai.

Katne lagi raaten aankhon mein dekha nahi palkon par aksar,
Ya sham-e-ghariban ka jugnu ya subh ka tara hota hai.

Hum dil ko liye har desh phire is jins ke gahak mil na sake,
Aye banjaro hum log chale hum ko to khasara hota hai.

Hum apni zaban se kuch bhi kahein shayar hai khayalon se khelen,
Aa jao to baham mil baithe kabhi hijr bhi pyara hota hai.

Daftar se uthe kaife mein gaye kuch sher kahe kuch coffee pi,
Puchho jo maash ka “inshaJi” yun apna guzara hota hai. !!

हम उन से अगर मिल बैठे हैं क्या दोश हमारा होता है,
कुछ अपनी जसारत होती है कुछ उन का इशारा होता है !

कटने लगीं रातें आँखों में देखा नहीं पलकों पर अक्सर,
या शाम-ए-ग़रीबाँ का जुगनू या सुब्ह का तारा होता है !

हम दिल को लिए हर देस फिरे इस जिंस के गाहक मिल न सके,
ऐ बंजारो हम लोग चले हम को तो ख़सारा होता है !

हम अपनी ज़बान से कुछ भी कहें शायर है ख्यालों से खेलें,
आ जाओ तो बहम मिल बैठे कभी हिज्र भी प्यारा होता है !

दफ़्तर से उठे कैफ़े में गए कुछ शेर कहे कुछ कॉफ़ी पी,
पूछो जो मआश का “इंशाजी” यूँ अपना गुज़ारा होता है !!

famous two line poetry of aziz lakhnavi

Paida wo baat kar ki tujhe roye dusare,
Rona khud ye apne haal pe ye zaar zaar kya.

पैदा वो बात कर कि तुझे रोएँ दूसरे,
रोना खुद अपने हाल पे ये जार जार क्या !

Tumne cheda to kuchh khule hum bhi,
Baat par baat yaad aati hai.

तुम ने छेड़ा तो कुछ खुले हम भी,
बात पर बात याद आती है !

Zaban dil ki haqiqat ko kya bayan karti,
Kisi ka haal kisi se kaha nahi jata.

जबान दिल की हकीकत को क्या बयां करती,
किसी का हाल किसी से कहा नहीं जाता !

Unko sote huye dekha tha dame-subah kabhi,
Kya bataun jo in aankhon ne sama dekha tha.

उनको सोते हुए देखा था दमे-सुबह कभी,
क्या बताऊं जो इन आंखों ने समां देखा था !

Apne markaz ki taraf maaial-e-parwaz tha husan
Bhulta hi nahi aalam tiri angadaai ka.

अपने मरकज़ की तरफ माइल-ए-परवाज़ था हुस्न,
भूलता ही नहीं आलम तिरी अंगड़ाई का !

Itana to soch zalim jauro-jafa se pahale,
Yah rasm dosti ki duniya se uth jayegi.

इतना तो सोच जालिम जौरो-जफा से पहले,
यह रस्म दोस्ती की दुनिया से उठ जायेगी !

Hamesha tinke hi chunte gujar gayi apni,
Magar chaman mein kahi aashiyan bana na sake.

हमेशा तिनके ही चुनते गुजर गई अपनी,
मगर चमन में कहीं आशियाँ बना ना सके !

Ek majboor ki tamnna kya,
Roz jeeti hai, roz marti hai.

एक मजबूर की तमन्ना क्या,
रोज जीती है, रोज मरती है !

Kafas mein ji nahi lagta hai. aah phir bhi mera,
Yah janta hun ki tinka bhi aashiyan mein nahi.

कफस में जी नहीं लगता है, आह फिर भी मेरा,
यह जानता हूँ कि तिनका भी आशियाँ में नहीं !

Sitam hai lash par us bewafa ka yah kehana,
Ki aane ka bhi na kisi ne intezaar kiya.

सितम है लाश पर उस बेवफा का यह कहना,
कि आने का भी न किसी ने इंतज़ार किया !

Khuda ka kaam hai yun marizon ko shifa dena,
Munasib ho to ek din hathon se apne dawa dena.

खुदा का काम है यूँ तो मरीजों को शिफा देना,
मुनासिब हो तो इक दिन हाथों से अपने दवा देना !

Bhala zabat ki bhi koi inteha hai,
Kahan tak tabiyat ko apni sambhale.

भला जब्त की भी कोई इन्तहा है,
कहाँ तक तबियत को अपनी संभाले !

Jhoothe wadon par thi apni zindagi,
Ab to yah bhi aasara jata raha.

झूठे वादों पर थी अपनी जिन्दगी,
अब तो यह भी आसरा जाता रहा !

Suroore-shab ki nahi subah ka khumar hun main,
Nikal chuki hai jo gulshan se wah bahar hun main.

सुरूरे-शब की नहीं सुबह का खुमार हूँ मैं,
निकल चुकी है जो गुलशन से वह बहार हूँ मैं !

Dil samjhata tha ki khalwat mein wo tanha honge,
Maine parda jo uthaya to kayamat nikali.

दिल समझता था कि ख़ल्वत में वो तन्हा होंगे,
मैंने पर्दा जो उठाया तो क़यामत निकली !

Khud chale aao ya bula bhejo,
Raat akele basar nahi hoti.

ख़ुद चले आओ या बुला भेजो,
रात अकेले बसर नहीं होती !

Aaina chhod ke dekha kiye surat meri,
Dil-e-muztar ne mire un ko sanwarne na diya.

आईना छोड़ के देखा किए सूरत मेरी,
दिल-ए-मुज़्तर ने मिरे उन को सँवरने न दिया !

Hijr ki raat katne waale,
Kya karega agar sahar na huyi.

हिज्र की रात काटने वाले,
क्या करेगा अगर सहर न हुई !

Hai dil mein josh-e-hasrat rukte nahi hain aansoo,
Risti huyi surahi tuuta hua subu hun.

है दिल में जोश-ए-हसरत रुकते नहीं हैं आँसू,
रिसती हुई सुराही टूटा हुआ सुबू हूँ !

“Azīz” munh se wo apne naqab to ulten,
Karenge jabr agar dil pe ikhtiyar raha.

“अज़ीज़” मुँह से वो अपने नक़ाब तो उलटें,
करेंगे जब्र अगर दिल पे इख़्तियार रहा !

Be-piye waaiz ko meri raaye mein,
Masjid-e-jama mein jaana hi na tha.

बे-पिए वाइ’ज़ को मेरी राय में,
मस्जिद-ए-जामा में जाना ही न था !

Usi ko hashr kahte hain jahan duniya ho fariyadi,
Yahi ai mir-e-divan-e-jaza kya teri mahfil hai.

उसी को हश्र कहते हैं जहाँ दुनिया हो फ़रियादी,
यही ऐ मीर-ए-दीवान-ए-जज़ा क्या तेरी महफ़िल है !

Lutf-e-bahar kuchh nahi go hai wahi bahar,
Dil hi ujad gaya ki zamana ujad gaya.

लुत्फ़-ए-बहार कुछ नहीं गो है वही बहार,
दिल ही उजड़ गया कि ज़माना उजड़ गया !

Itna bhi bar-e-khatir-e-gulshan na ho koi,
Tuti wo shakh jis pe mira ashiyana tha.

इतना भी बार-ए-ख़ातिर-ए-गुलशन न हो कोई,
टूटी वो शाख़ जिस पे मिरा आशियाना था !

Batao aise marizon ka hai ilaaj koi,
Ki jin se haal bhi apna bayan nahi hota.

बताओ ऐसे मरीज़ों का है इलाज कोई,
कि जिन से हाल भी अपना बयाँ नहीं होता !

Be-khudi kucha-e-janan mein liye jaati hai,
Dekhiye kaun mujhe meri khabar deta hai.

बे-ख़ुदी कूचा-ए-जानाँ में लिए जाती है,
देखिए कौन मुझे मेरी ख़बर देता है !

Haaye kya chiiz thi jawani bhi,
Ab to din raat yaad aati hai.

हाए क्या चीज़ थी जवानी भी,
अब तो दिन रात याद आती है !

Maana ki bazm-e-husn ke adab hain bahut,
Jab dil pe ikhtiyar na ho kya kare koi.

माना कि बज़्म-ए-हुस्न के आदाब हैं बहुत,
जब दिल पे इख़्तियार न हो क्या करे कोई !

Naza ka waqt hai baitha hai sirhane koi,
Waqt ab wo hai ki marna hamein manzur nahi.

नज़्अ’ का वक़्त है बैठा है सिरहाने कोई,
वक़्त अब वो है कि मरना हमें मंज़ूर नहीं !

Qatal aur mujh se sakht-jan ka qatal,
Tegh dekho zara kamar dekho.

क़त्ल और मुझ से सख़्त-जाँ का क़त्ल,
तेग़ देखो ज़रा कमर देखो !

Jab se zulfon ka pada hai is mein aks,
Dil mira tuta hua aaina hai.

जब से ज़ुल्फ़ों का पड़ा है इस में अक्स,
दिल मिरा टूटा हुआ आईना है !

Dil nahi jab to khaak hai duniya,
Asal jo chiiz thi wahi na rahi.

दिल नहीं जब तो ख़ाक है दुनिया,
असल जो चीज़ थी वही न रही !

Tumhen hanste hue dekha hai jab se,
Mujhe rone ki aadat ho gayi hai.

तुम्हें हँसते हुए देखा है जब से,
मुझे रोने की आदत हो गई है !

Tamam anjuman-e-waz ho gayi barham,
Liye hue koi yun saghar-e-sharab aaya.

तमाम अंजुमन-ए-वाज़ हो गई बरहम,
लिए हुए कोई यूँ साग़र-ए-शराब आया !

Musibat thi hamare hi liye kyun,
Ye maana ham jiye lekin jiye kyun ?

मुसीबत थी हमारे ही लिए क्यूँ,
ये माना हम जिए लेकिन जिए क्यूँ ?

Tah mein dariya-e-mohabbat ke thi kya chiiz “Azīz”,
Jo koi dub gaya us ko ubharne na diya.

तह में दरिया-ए-मोहब्बत के थी क्या चीज़ “अज़ीज़”,
जो कोई डूब गया उस को उभरने न दिया !

Dil ki aludgi-e-zakhm badhi jaati hai,
Saans leta hun to ab khun ki bu aati hai.

दिल की आलूदगी-ए-ज़ख़्म बढ़ी जाती है,
साँस लेता हूँ तो अब ख़ून की बू आती है !

Phuut nikla zahr saare jism mein,
Jab kabhi aansoo hamare tham gaye.

फूट निकला ज़हर सारे जिस्म में,
जब कभी आँसू हमारे थम गए !

Udasi ab kisi ka rang jamne hi nahi deti,
Kahan tak phool barsaye koi gor-e-ghariban par.

उदासी अब किसी का रंग जमने ही नहीं देती,
कहाँ तक फूल बरसाए कोई गोर-ए-ग़रीबाँ पर !

Shisha-e-dil ko yun na uthao,
Dekho haath se chhota hota.

शीशा-ए-दिल को यूँ न उठाओ,
देखो हाथ से छोटा होता !