Home / Hawa Shayari

Hawa Shayari

Kuch To Hawa Bhi Sard Thi Kuch Tha Tera Khayal Bhi..

Kuch to hawa bhi sard thi kuch tha tera khayal bhi,
Dil ko khushi ke sath sath hota raha malal bhi.

Baat wo aadhi raat ki raat wo pure chaand ki,
Chaand bhi ain chait ka us pe tera jamal bhi.

Sab se nazar bacha ke wo mujh ko kuch aise dekhta,
Ek dafa to ruk gai gardish-e-mah-o-sal bhi.

Dil to chamak sakega kya phir bhi tarash ke dekh len,
Shisha-giran-e-shahr ke hath ka ye kamal bhi.

Us ko na pa sake the jab dil ka ajib haal tha,
Ab jo palat ke dekhiye baat thi kuch muhaal bhi.

Meri talab tha ek shakhs wo jo nahin mila to phir,
Hath dua se yun gira bhul gaya sawal bhi.

Us ki sukhan-taraaziyan mere liye bhi dhaal thi,
Us ki hansi mein chhup gaya apne ghamon ka haal bhi.

Gah qarib-e-shah-rag gah baid-e-wahm-o-khwab,
Us ki rafaqaton mein raat hijr bhi tha visal bhi.

Us ke hi bazuon mein aur us ko hi sochte rahe,
Jism ki khwahishon pe the ruh ke aur jal bhi.

Sham ki na-samajh hawa puch rahi hai ek pata,
Mauj-e-hawa-e-ku-e-yar kuch to mera khayal bhi. !!

कुछ तो हवा भी सर्द थी कुछ था तेरा ख़याल भी,
दिल को ख़ुशी के साथ साथ होता रहा मलाल भी !

बात वो आधी रात की रात वो पूरे चाँद की,
चाँद भी ऐन चैत का उस पे तेरा जमाल भी !

सब से नज़र बचा के वो मुझ को कुछ ऐसे देखता,
एक दफ़ा तो रुक गई गर्दिश-ए-माह-ओ-साल भी !

दिल तो चमक सकेगा क्या फिर भी तराश के देख लें,
शीशा-गिरान-ए-शहर के हाथ का ये कमाल भी !

उस को न पा सके थे जब दिल का अजीब हाल था,
अब जो पलट के देखिए बात थी कुछ मुहाल भी !

मेरी तलब था एक शख़्स वो जो नहीं मिला तो फिर,
हाथ दुआ से यूँ गिरा भूल गया सवाल भी !

उस की सुख़न-तराज़ियाँ मेरे लिए भी ढाल थीं,
उस की हँसी में छुप गया अपने ग़मों का हाल भी !

गाह क़रीब-ए-शाह-रग गाह बईद-ए-वहम-ओ-ख़्वाब,
उस की रफ़ाक़तों में रात हिज्र भी था विसाल भी !

उस के ही बाज़ुओं में और उस को ही सोचते रहे,
जिस्म की ख़्वाहिशों पे थे रूह के और जाल भी !

शाम की ना-समझ हवा पूछ रही है एक पता,
मौज-ए-हवा-ए-कू-ए-यार कुछ तो मिरा ख़याल भी !! -Parveen Shakir Ghazal

 

Mere Baare Mein Hawaaon Se Wo Kab Puchega..

Mere baare mein hawaaon se wo kab puchega,
Khaaq jab khaaq mein mil jayegi tab puchega.

Ghar basane mein ye khatra hai ki ghar ka malik,
Raat mein der se aane ka sabab puchega.

Apna gham sabko batana hai tamasha karna,
Haal-e-dil usko sunayenge wo jab puchega.

Jab bichadna bhi ho to hanste hue jana warna,
Har koi ruth jaane ka sabab puchega.

Hum ne lafzon ke jahan daam lage bech diya,
Shair puchega hamein ab na adab puchega. !!

मेरे बारे में हवाओं से वो कब पूछेगा,
खाक जब खाक में मिल जाऐगी तब पूछेगा !

घर बसाने में ये खतरा है कि घर का मालिक,
रात में देर से आने का सबब पूछेगा !

अपना गम सबको बताना है तमाशा करना,
हाल-ए-दिल उसको सुनाएँगे वो जब पूछेगा !

जब बिछडना भी तो हँसते हुए जाना वरना,
हर कोई रुठ जाने का सबब पूछेगा !

हमने लफजों के जहाँ दाम लगे बेच दिया,
शेर पूछेगा हमें अब न अदब पूछेगा !! -Bashir Badr Ghazal

 

Kise Khabar Thi Tujhe Is Tarah Sajaunga..

Kise khabar thi tujhe is tarah sajaunga,
Zamana dekhega aur main na dekh paunga.

Hayaat-o maut firaaq-o wisaal sab yakjaan,
Main ek raat mein kitne diye jalaunga.

Pala-bada hun abhi tak inhi andheron mein,
Main tez dhoop se kaise nazar milaunga.

Mere mizaaj ki ye maadrana fitrat hai,
Sawere saari azeeyat main bhool jaunga.

Tum ek pedd se wabasta ho magar main to,
Hawa ke saath bahut dur dur jaunga.

Mera ye ehad hai main aaj shaam hone tak,
Jahan se rizq likha hai wahin se launga. !!

किसे खबर थी तुझे इस तरह सजाऊंगा,
ज़माना देखेगा और मैं ना देख पाउँगा !

हयात-ओ मौत फ़िराक़-ओ विसाल सब एकजन,
मैं एक रात में कितने दिये जलाऊँगा !

पला-बड़ा हूँ अभी तक इन्ही अंधेरों में,
मैं तेज़ धुप से कैसे नज़र मिलाऊंगा !

मेरे मिज़ाज कि ये मादराना फितरत है,
सवेरे सारी अज़ीयत मैं भूल जाऊँगा !

तुम एक पेड़ से वाबस्ता हो मगर मैं तो,
हवा के साथ बहुत दूर दूर जाऊँगा !

मेरा ये अहद है मैं आज शाम होने तक,
जहाँ से रिज़क लिखा है वहीँ से लाऊंगा !! -Bashir Badr Ghazal

 

Khushboo Ki Tarah Aaya Wo Tez Hawaon Mein..

Khushboo ki tarah aaya wo tez hawaon mein

 

Khushboo ki tarah aaya wo tez hawaon mein,
Manga tha jise hum ne din raat duaon mein.

Tum chhat pe nahi aaye main ghar se nahi nikla,
Ye chand bahut bhatka saawan ki ghataon mein.

Is shehar mein ek ladki bilkul hai ghazal jaisi,
Bijli si ghataon mein khushboo si Adaon mein.

Mausam ka ishaara hai khush rahne do bachchon ko,
Masoom mohabbat hai phoolon ki khataon mein.

Hum chand sitaron ki rahon ke musafir hain,
Hum raat chamakte hain tarik khalaon mein.

Bhagwan hi bhejenge chawal se bhari thaali,
Mazloom parindon ki masoom sabhaon mein.

Dada bade bhole the sab se yahi kahte the,
Kuchh zehar bhi hota hai angrezi dawaon mein. !!

खुशबू कि तरह आया वो तेज़ हवाओं में,
मांगा था जिसे हमने दिन रात दुआओं में !

तुम छत पे नहीं आये में घर से नहीं निकला,
ये चाँद बहुत भटका सावन कि घटाओं में !

इस शहर में एक लड़की बिलकुल है ग़ज़ल जैसी,
बिजली सी घटाओं में खुशबू सी अदाओं में !

मौसम का इशारा है खुश रहने दो बच्चों को,
मासूम मोहब्बत है फूलों कि खताओं में !

हम चाँद सितारों की राहों के मुसाफ़िर हैं,
हम रात चमकते हैं तारीक ख़लाओं में !

भगवान् ही भेजेंगे चावल से भरी थाली,
मज़लूम परिंदों कि मासूम सभाओं में !

दादा बड़े भोले थे सब से यही कहते थे
कुछ ज़हर भी होता है अंग्रेजी दवाओं में !! -Bashir Badr Ghazal

 

Raat-Bhar Sard Hawa Chalti Rahi {Alaav Gulzar Nazm}

Raat-bhar sard hawa chalti rahi
Raat-bhar hum ne alaav taapa

Main ne maazi se kai khushk si shakhen katin
Tum ne bhi guzre hue lamhon ke patte tode
Main ne jebon se nikalin sabhi sukhi nazmen
Tum ne bhi hathon se murjhaye hue khat khole
Apni in aankhon se main ne kai manje tode
Aur hathon se kai baasi lakiren phenkin
Tum ne palkon pe nami sukh gai thi so gira di
Raat bhar jo bhi mila ugte badan par hum ko
Kat ke dal diya jalte alaav mein use

Raat-bhar phukon se har lau ko jagaye rakkha
Aur do jismon ke indhan ko jalaye rakkha
Raat-bhar bujhte hue rishte ko taapa hum ne..!!

रात-भर सर्द हवा चलती रही
रात-भर हम ने अलाव तापा

मैं ने माज़ी से कई ख़ुश्क सी शाख़ें काटीं
तुम ने भी गुज़रे हुए लम्हों के पत्ते तोड़े
मैं ने जेबों से निकालीं सभी सूखी नज़्में
तुम ने भी हाथों से मुरझाए हुए ख़त खोले
अपनी इन आँखों से मैं ने कई माँजे तोड़े
और हाथों से कई बासी लकीरें फेंकीं
तुम ने पलकों पे नमी सूख गई थी सो गिरा दी
रात भर जो भी मिला उगते बदन पर हम को
काट के डाल दिया जलते अलाव में उसे

रात-भर फूँकों से हर लौ को जगाए रक्खा
और दो जिस्मों के ईंधन को जलाए रक्खा
रात-भर बुझते हुए रिश्ते को तापा हम ने.. !! – Gulzar

 

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the..

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the,
Safine yun bhi kinare pe kab lagane the.

Khayal aata hai rah-rah ke laut jaane ka,
Safar se pahle humein apne ghar jalane the.

Guman tha ki samajh lenge mausamon ka mizaj,
Khuli jo aankh to zad pe sabhi thikane the.

Humein bhi aaj hi karna tha intezaar us ka,
Use bhi aaj hi sab wade bhul jaane the.

Talash jin ko hamesha buzurg karte rahe,
Na jaane kaun si duniya mein wo khazane the.

Chalan tha sab ke ghamon mein sharik rahne ka,
Ajib din the ajab sar-phire zamane the. !!

हवाएँ तेज़ थीं ये तो फ़क़त बहाने थे,
सफ़ीने यूँ भी किनारे पे कब लगाने थे !

ख़याल आता है रह-रह के लौट जाने का,
सफ़र से पहले हमें अपने घर जलाने थे !

गुमान था कि समझ लेंगे मौसमों का मिज़ाज,
खुली जो आँख तो ज़द पे सभी ठिकाने थे !

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का,
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे !

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे !

चलन था सब के ग़मों में शरीक रहने का,
अजीब दिन थे अजब सर-फिरे ज़माने थे !!

 

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai..

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai,
Misal-e-rang wo jhonka nazar bhi aata hai.

Tamam shab jahan jalta hai ek udas diya,
Hawa ki rah mein ek aisa ghar bhi aata hai.

Wo mujh ko tut ke chahega chhod jayega,
Mujhe khabar thi use ye hunar bhi aata hai.

Ujad ban mein utarta hai ek jugnu bhi,
Hawa ke sath koi ham-safar bhi aata hai.

Wafa ki kaun si manzil pe us ne chhoda tha,
Ki wo to yaad hamein bhul kar bhi aata hai.

Jahan lahu ke samundar ki had thaharti hai,
Wahin jazira-e-lal-o-guhar bhi aata hai.

Chale jo zikr farishton ki parsai ka,
To zer-e-bahs maqam-e-bashar bhi aata hai.

Abhi sinan ko sambhaale rahen adu mere,
Ki un safon mein kahin mera sar bhi aata hai.

Kabhi-kabhi mujhe milne bulandiyon se koi,
Shua-e-subh ki surat utar bhi aata hai.

Isi liye main kisi shab na so saka “Mohsin”,
Wo mahtab kabhi baam par bhi aata hai. !!

तेरे बदन से जो छू कर इधर भी आता है,
मिसाल-ए-रंग वो झोंका नज़र भी आता है !

तमाम शब जहाँ जलता है एक उदास दिया,
हवा की राह में एक ऐसा घर भी आता है !

वो मुझ को टूट के चाहेगा छोड़ जाएगा,
मुझे ख़बर थी उसे ये हुनर भी आता है !

उजाड़ बन में उतरता है एक जुगनू भी,
हवा के साथ कोई हम-सफ़र भी आता है !

वफ़ा की कौन सी मंज़िल पे उस ने छोड़ा था,
कि वो तो याद हमें भूल कर भी आता है !

जहाँ लहू के समुंदर की हद ठहरती है,
वहीं जज़ीरा-ए-लाल-ओ-गुहर भी आता है !

चले जो ज़िक्र फ़रिश्तों की पारसाई का,
तो ज़ेर-ए-बहस मक़ाम-ए-बशर भी आता है !

अभी सिनाँ को सँभाले रहें अदू मेरे,
कि उन सफ़ों में कहीं मेरा सर भी आता है !

कभी-कभी मुझे मिलने बुलंदियों से कोई,
शुआ-ए-सुब्ह की सूरत उतर भी आता है !

इसी लिए मैं किसी शब न सो सका “मोहसिन”,
वो माहताब कभी बाम पर भी आता है !