Home / Ghar Shayari

Ghar Shayari

Ab Bhala Chhod Ke Ghar Kya Karte..

Ab bhala chhod ke ghar kya karte,
Sham ke waqt safar kya karte.

Teri masrufiyaten jante hain,
Apne aane ki khabar kya karte.

Jab sitare hi nahi mil paye,
Le ke hum shams-o-qamar kya karte.

Wo musafir hi khuli dhup ka tha,
Saye phaila ke shajar kya karte.

Khak hi awwal o aakhir thahri,
Kar ke zarre ko guhar kya karte.

Rae pahle se bana li tu ne,
Dil mein ab hum tere ghar kya karte.

Ishq ne sare saliqe bakhshe,
Husn se kasb-e-hunar kya karte. !!

अब भला छोड़ के घर क्या करते,
शाम के वक़्त सफ़र क्या करते !

तेरी मसरूफ़ियतें जानते हैं,
अपने आने की ख़बर क्या करते !

जब सितारे ही नहीं मिल पाए,
ले के हम शम्स-ओ-क़मर क्या करते !

वो मुसाफ़िर ही खुली धूप का था,
साए फैला के शजर क्या करते !

ख़ाक ही अव्वल ओ आख़िर ठहरी,
कर के ज़र्रे को गुहर क्या करते !

राय पहले से बना ली तू ने,
दिल में अब हम तेरे घर क्या करते !

इश्क़ ने सारे सलीक़े बख़्शे,
हुस्न से कस्ब-ए-हुनर क्या करते !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Tumhari Raah Mein Mitti Ke Ghar Nahi Aate..

Tumhari raah mein mitti ke ghar nahi aate,
Is liye to tumhein hum nazar nahi aate.

Mohabbaton ke dinon ki yehi kharabi hai,
Ye ruth jayen to laut kar nahi aate.

Jinhen saliqa hai tehzib-e-gham samajhne ka,
Unhin ke rone mein aansoo nazar nahi aate.

Khushi ki aankh mein aansoo ki bhi jagah rakhna,
Bure zamane kabhi puchh kar nahi aate.

Bisat-e-ishq pe badhna kise nahi aata,
Ye aur baat ki bachne ke ghar nahi aate.

“Wasim” zehan banate hain to wahi akhabaar,
Jo le ke ek bhi achchhi khabar nahi aate. !!

तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते,
इसीलिए तुम्हे हम नज़र नहीं आते !

मोहब्बतो के दिनों की यही खराबी है,
ये रूठ जाएँ तो लौट कर नहीं आते !

जिन्हें सलीका है तहजीब-ए-गम समझाने का,
उन्ही के रोने में आंसू नज़र नहीं आते !

खुशी की आँख में आंसू की भी जगह रखना,
बुरे ज़माने कभी पूछ कर नहीं आते !

बिसात-ए-इश्क़ पे बढ़ना किसे नहीं आता,
यह और बात कि बचने के घर नहीं आते !

“वसीम” जहन बनाते हैं तो वही अख़बार,
जो ले के एक भी अच्छी ख़बर नहीं आते !! -Wasim Barelvi Ghazal

 

Mere Baare Mein Hawaaon Se Wo Kab Puchega..

Mere baare mein hawaaon se wo kab puchega,
Khaaq jab khaaq mein mil jayegi tab puchega.

Ghar basane mein ye khatra hai ki ghar ka malik,
Raat mein der se aane ka sabab puchega.

Apna gham sabko batana hai tamasha karna,
Haal-e-dil usko sunayenge wo jab puchega.

Jab bichadna bhi ho to hanste hue jana warna,
Har koi ruth jaane ka sabab puchega.

Hum ne lafzon ke jahan daam lage bech diya,
Shair puchega hamein ab na adab puchega. !!

मेरे बारे में हवाओं से वो कब पूछेगा,
खाक जब खाक में मिल जाऐगी तब पूछेगा !

घर बसाने में ये खतरा है कि घर का मालिक,
रात में देर से आने का सबब पूछेगा !

अपना गम सबको बताना है तमाशा करना,
हाल-ए-दिल उसको सुनाएँगे वो जब पूछेगा !

जब बिछडना भी तो हँसते हुए जाना वरना,
हर कोई रुठ जाने का सबब पूछेगा !

हमने लफजों के जहाँ दाम लगे बेच दिया,
शेर पूछेगा हमें अब न अदब पूछेगा !! -Bashir Badr Ghazal

 

Bahar Na Aao Ghar Mein Raho Tum Nashe Mein Ho..

Bahar na aao ghar mein raho tum nashe mein ho,
So jaao din ko raat karo tum nashe mein ho.

Dariya se ikhtelaaf ka anjaam soch lo,
Lehron ke saath saath baho tum nashe mein ho.

Behad shareef logon se kuch faasla rakho,
Pi lo magar kabhi na kaho tum nashe mein ho.

Kaghaz ka ye libas chiraghon ke shehar mein,
Zara sambhal sambhal ke chalo tum nashe mein ho.

Kya dosto ne tum ko pilayi hai raat bhar,
Ab dushmano ke saath raho tum nashe mein ho. !!

बाहर ना आओ घर में रहो तुम नशे में हो,
सो जाओ दिन को रात करो तुम नशे में हो !

दरिया से इख्तेलाफ़ का अंजाम सोच लो,
लहरों के साथ साथ बहो तुम नशे में हो !

बेहद शरीफ लोगो से कुछ फासला रखो,
पी लो मगर कभी ना कहो तुम नशे में हो !

कागज का ये लिबास चिरागों के शहर में,
जरा संभल संभल कर चलो तुम नशे में हो !

क्या दोस्तों ने तुम को पिलाई है रात भर,
अब दुश्मनों के साथ रहो तुम नशे में हो !! -Bashir Badr Ghazal

 

Yun Hi Be-Sabab Na Phira Karo Koi Sham Ghar Mein Raha Karo..

Yun hi be-sabab na phira karo koi sham ghar mein raha karo,
Wo ghazal ki sachchi kitab hai use chupke chupke padha karo.

Koi hath bhi na milayega jo gale miloge tapak se,
Ye naye mizaj ka shehar hai zara fasle se mila karo.

Abhi raah mein kayi mod hain koi ayega koi jayega,
Tumhein jis ne dil se bhula diya use bhulne ki dua karo.

Mujhe ishtihaar si lagti hain ye mohabbaton ki kahaniyan,
Jo kaha nahin wo suna karo jo suna nahin wo kaha karo.

Kabhi husn-e parda-nashin bhi ho zara aashiqana libas mein,
Jo main ban sanwar ke kahin chalun mere sath tum bhi chala karo.

Nahin be-hijab wo chand sa ki nazar ka koi asar na ho,
Use itni garmi-e-shauq se badi der tak na taka karo.

Ye khizan ki zard si shaal mein jo udas ped ke pas hai
Ye tumhaare ghar ki bahaar hai use aansuon se hara karo. !!

यूं ही बे-सबब न फिरा करो कोई शाम घर में रहा करो,
वो ग़ज़ल की सच्ची किताब है उसे चुपके-चुपके पढ़ा करो !

कोई हाथ भी न मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से,
ये नए मिज़ाज का शहर है ज़रा फ़ासले से मिला करो !

अभी राह में कई मोड़ हैं कोई आएगा कोई जाएगा,
तुम्हें जिसने दिल से भुला दिया उसे भूलने की दुआ करो !

मुझे इश्तिहार-सी लगती हैं ये मोहब्बतों की कहानियां,
जो कहा नहीं, वो सुना करो जो सुना नहीं वो कहा करो !

नहीं बे हिजाब वो चाँद सा कि नज़र का कोई असर न हो,
उसे इतनी गर्मी-ए-शौक़ से बड़ी देर तक न तका करो !

ये ख़िज़ां की ज़र्द-सी शाल में जो उदास पेड़ के पास है
ये तुम्हारे घर की बहार है उसे आंसुओं से हरा करो !! -Bashir Badr Ghazal

 

Log Toot Jate Hain Ek Ghar Banane Mein..

Log toot jate hain ek ghar banane mein,
Tum taras nahin khate bastiyan jalane mein.

Aur jaam tootenge is sharaab-khaane mein,
Mausamon ke aane mein mausamon ke jane mein.

Har dhadakte patthar ko log dil samajhte hain,
Umaren bit jati hain dil ko dil banane mein.

Fakhta ki majburi ye bhi kah nahin sakti,
Kaun saanp rakhta hain uske aashiyane mein.

Dusri koi ladki zindagi mein aayegi,
Kitni der lagti hain us ko bhul jane mein. !!

लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में,
तुम तरस नहीं खाते बस्तियाँ जलाने में !

और जाम टूटेंगे इस शराब-ख़ाने में,
मौसमों के आने में मौसमों के जाने में !

हर धड़कते पत्थर को, लोग दिल समझते हैं,
उम्र बीत जाती है दिल को दिल बनाने में !

फ़ाख़्ता की मजबूरी ये भी कह नहीं सकती,
कौन साँप रखता है उसके आशियाने में !

दूसरी कोई लड़की ज़िंदगी में आएगी,
कितनी देर लगती है उसको भूल जाने में !! -Bashir Badr Ghazal

 

Ghar Se Ye Soch Ke Nikla Hun Ki Mar Jaana Hai

Ghar se ye soch ke nikla hun ki mar jaana hai,
Ab koi raah dikha de ki kidhar jaana hai.

Jism se saath nibhane ki mat ummid rakho,
Is musafir ko to raste mein thahar jaana hai.

Maut lamhe ki sada zindagi umron ki pukar,
Main yahi soch ke zinda hun ki mar jaana hai.

Nashsha aisa tha ki mai-khane ko duniya samjha,
Hosh aaya to khayal aaya ki ghar jaana hai.

Mere jazbe ki badi qadar hai logon mein magar,
Mere jazbe ko mere sath hi mar jaana hai. !!

घर से ये सोच के निकला हूँ कि मर जाना है,
अब कोई राह दिखा दे कि किधर जाना है !

जिस्म से साथ निभाने की मत उम्मीद रखो,
इस मुसाफिर को तो रास्ते में ठहर जाना है !

मौत लम्हे की सदा ज़िंदगी उम्रों की पुकार,
मैं यही सोच के ज़िंदा हूँ की मर जाना है !

नश्शा ऐसा था की मय-खाने को दुनिया समझा,
होश आया तो ख़याल आया की घर जाना है !

मेरे जज़्बे की बड़ी कद्र हैं लोगों में मगर,
मेरे ज़ज्बें को मेरे साथ ही मर जाना है !! -Rahat Indori Ghazal