Home / Ghar Shayari

Ghar Shayari

Kis ki talash hai hamein kis ke asar mein hain..

Kis ki talash hai hamein kis ke asar mein hain,
Jab se chale hain ghar se musalsal safar mein hain.

Sare tamashe khatm hue log ja chuke,
Ek hum hi rah gaye jo fareb-e-sahar mein hain.

Aisi to koi khas khata bhi nahi hui,
Han ye samajh liya tha ki hum apne ghar mein hain.

Ab ke bahaar dekhiye kya naqsh chhod jaye,
Aasar baadalon ke na patte shajar mein hain.

Tujh se bichhadna koi naya hadsa nahi,
Aise hazaron kisse hamari khabar mein hain.

“Aashufta” sab guman dhara rah gaya yahan,
Kahte na the ki khamiyan tere hunar mein hain. !!

किस की तलाश है हमें किस के असर में हैं,
जब से चले हैं घर से मुसलसल सफ़र में हैं !

सारे तमाशे ख़त्म हुए लोग जा चुके,
एक हम ही रह गए जो फ़रेब-ए-सहर में हैं !

ऐसी तो कोई ख़ास ख़ता भी नहीं हुई,
हाँ ये समझ लिया था कि हम अपने घर में हैं !

अब के बहार देखिए क्या नक़्श छोड़ जाए,
आसार बादलों के न पत्ते शजर में हैं !

तुझ से बिछड़ना कोई नया हादसा नहीं,
ऐसे हज़ारों क़िस्से हमारी ख़बर में हैं !

“आशुफ़्ता” सब गुमान धरा रह गया यहाँ,
कहते न थे कि ख़ामियाँ तेरे हुनर में हैं !!

 

Aangan mein chhod aaye the jo ghaar dekh le..

Aangan mein chhod aaye the jo ghaar dekh le,
Kis haal mein hai in dinon ghar-bar dekh le.

Jab aa gaye hain shehar-e-tilismat ke qarib,
Kya chahti hai nargis-e-bimar dekh le.

Hansna-hansana chhute hue muddaten hui,
Bas thodi dur rah gayi diwar dekh le.

Arse se is dayar ki koi khabar nahi,
Mohlat mile to aaj ka akhbar dekh le.

Mushkil hai tera sath nibhana tamam umar,
Bikna hai na-guzir to bazaar dekh le.

Aashuftagi hamari yahan layi bar-bar,
Hai kya zarur tujh ko bhi har bar dekh le. !!

आँगन में छोड़ आए थे जो ग़ार देख लें,
किस हाल में है इन दिनों घर-बार देख लें !

जब आ गए हैं शहर-ए-तिलिस्मात के क़रीब,
क्या चाहती है नर्गिस-ए-बीमार देख लें !

हँसना-हँसाना छूटे हुए मुद्दतें हुईं,
बस थोड़ी दूर रह गई दीवार देख लें !

अर्से से इस दयार की कोई ख़बर नहीं,
मोहलत मिले तो आज का अख़बार देख लें !

मुश्किल है तेरा साथ निभाना तमाम उम्र,
बिकना है ना-गुज़ीर तो बाज़ार देख लें !

आशुफ़्तगी हमारी यहाँ लाई बार-बार,
है क्या ज़रूर तुझ को भी हर बार देख लें !!

 

Zaban rakhta hun lekin chup khada hun..

Zaban rakhta hun lekin chup khada hun,
Main aawazon ke ban mein ghir gaya hun.

Mere ghar ka daricha puchhta hai,
Main sara din kahan phirta raha hun.

Mujhe mere siwa sab log samjhen,
Main apne aap se kam bolta hun.

Sitaron se hasad ki intiha hai,
Main qabron par charaghan kar raha hun.

Sambhal kar ab hawaon se ulajhna,
Main tujh se pesh-tar bujhne laga hun.

Meri qurbat se kyun khaif hai duniya,
Samundar hun main khud mein gunjta hun.

Mujhe kab tak sametega wo “Mohsin”,
Main andar se bahut tuta hua hun. !!

ज़बाँ रखता हूँ लेकिन चुप खड़ा हूँ,
मैं आवाज़ों के बन में घिर गया हूँ !

मेरे घर का दरीचा पूछता है,
मैं सारा दिन कहाँ फिरता रहा हूँ !

मुझे मेरे सिवा सब लोग समझें,
मैं अपने आप से कम बोलता हूँ !

सितारों से हसद की इंतिहा है,
मैं क़ब्रों पर चराग़ाँ कर रहा हूँ !

सँभल कर अब हवाओं से उलझना,
मैं तुझ से पेश-तर बुझने लगा हूँ !

मेरी क़ुर्बत से क्यूँ ख़ाइफ़ है दुनिया,
समुंदर हूँ मैं ख़ुद में गूँजता हूँ !

मुझे कब तक समेटेगा वो “मोहसिन”,
मैं अंदर से बहुत टूटा हुआ हूँ !!

 

Jo wo mere na rahe main bhi kab kisi ka raha..

Jo wo mere na rahe main bhi kab kisi ka raha,
Bichhad ke un se saliqa na zindagi ka raha.

Labon se ud gaya jugnu ki tarah naam us ka,
Sahaara ab mere ghar mein na raushni ka raha.

Guzarne ko to hazaron hi qafile guzre,
Zameen pe naqsh-e-qadam bas kisi-kisi ka raha. !!

जो वो मेरे न रहे मैं भी कब किसी का रहा,
बिछड़ के उन से सलीक़ा न ज़िंदगी का रहा !

लबों से उड़ गया जुगनू की तरह नाम उस का,
सहारा अब मेरे घर में न रौशनी का रहा !

गुज़रने को तो हज़ारों ही क़ाफ़िले गुज़रे,
ज़मीन पे नक़्श-ए-क़दम बस किसी-किसी का रहा !!

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Beti बेटी)

1.
Gharon mein yun sayani betiyan bechain rehati hain,
Ki jaise sahilon par kashtiyan bechain rehati hain.

घरों में यूँ सयानी बेटियाँ बेचैन रहती हैं,
कि जैसे साहिलों पर कश्तियाँ बेचैन रहती हैं !

2.
Ye chidiya bhi meri beti se kitani milati-julti hai,
Kahin bhi shakhe-gul dekhe to jhula daal deti hai.

ये चिड़िया भी मेरी बेटी से कितनी मिलती-जुलती है,
कहीं भी शाख़े-गुल देखे तो झूला डाल देती है !

3.
Ro rahe the sab to main bhi phoot ke rone laga,
Warna mujhko betiyon ki rukhsati achchi lagi.

रो रहे थे सब तो मैं भी फूट कर रोने लगा,
वरना मुझको बेटियों की रुख़सती अच्छी लगी !

4.
Badi hone ko hain ye muratein aangan mein mitti ki,
Bahut se kaam baaki hai sambhala le liya jaye.

बड़ी होने को हैं ये मूरतें आँगन में मिट्टी की,
बहुत से काम बाक़ी हैं सँभाला ले लिया जाये !

5.
To phir jakar kahin Maa-Baap ko kuch chain padta hai,
Ki jab sasuraal se ghar aa ke beti muskurati hai.

तो फिर जाकर कहीँ माँ-बाप को कुछ चैन पड़ता है,
कि जब ससुराल से घर आ के बेटी मुस्कुराती है !

6.
Ayesa lagta hai ki jaise khtam mela ho gaya,
Uad gayi aangan se chidiyaan ghar akela ho gaya.

ऐसा लगता है कि जैसे ख़त्म मेला हो गया,
उड़ गईं आँगन से चिड़ियाँ घर अकेला हो गया !

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Gurabat गुरबत)

1.
Ghar ki diwar pe kauve nahi achche lagte,
Muflisi mein ye tamashe nahi achche lagte.

घर की दीवार पे कौवे नहीं अच्छे लगते,
मुफ़लिसी में ये तमाशे नहीं अच्छे लगते !

2.
Muflisi ne sare aangan mein andhera kar diya,
Bhai khali hath laute aur Behane bujh gayi.

मुफ़लिसी ने सारे आँगन में अँधेरा कर दिया,
भाई ख़ाली हाथ लौटे और बहनें बुझ गईं !

3.
Amiri resham-o-kamkhwab mein nangi nazar aayi,
Garibi shaan se ek taat ke parde mein rehati hai.

अमीरी रेशम-ओ-कमख़्वाब में नंगी नज़र आई,
ग़रीबी शान से इक टाट के पर्दे में रहती है !

4.
Isi gali mein wo bhukha kisan rahata hai,
Ye wo zameen hai jahan aasman rahata hai.

इसी गली में वो भूखा किसान रहता है,
ये वो ज़मीं है जहाँ आसमान रहता है !

5.
Dehleez pe sar khole khadi hogi jarurat,
Ab ase ghar mein jana munasib nahi hoga.

दहलीज़ पे सर खोले खड़ी होगी ज़रूरत,
अब ऐसे घर में जाना मुनासिब नहीं होगा !

6.
Eid ke khauf ne rozon ka maza chhin liya,
Muflisi mein ye mahina bhi bura lagta hai.

ईद के ख़ौफ़ ने रोज़ों का मज़ा छीन लिया,
मुफ़लिसी में ये महीना भी बुरा लगता है !

7.
Apne ghar mein sar jhukaye is liye aaya hun main,
Itani majduri to bachchon ki dua kha jayegi.

अपने घर में सर झुकाये इस लिए आया हूँ मैं,
इतनी मज़दूरी तो बच्चे की दुआ खा जायेगी !

8.
Allaah gareebon ka madadgar hai “Rana”,
Hum logon ke bachche kabhi sardi nahi khate.

अल्लाह ग़रीबों का मददगार है “राना”,
हम लोगों के बच्चे कभी सर्दी नहीं खाते !

9.
Bojh uthana shauk kahan hai majburi ka suda hai,
Rehate-rehate station par log kuli ho jate hain.

बोझ उठाना शौक़ कहाँ है मजबूरी का सौदा है,
रहते-रहते स्टेशन पर लोग कुली हो जाते हैं !

 

Abhi Maujood Hai Is Gaon Ki Mitti Mein Khuddari

1.
Abhi maujood hai is gaon ki mitti mein khuddari,
Abhi bewa ki gairat se mahajan haar jata hai.

अभी मौजूद है इस गाँव की मिट्टी में ख़ुद्दारी,
अभी बेवा की ग़ैरत से महाजन हार जाता है !

2.
Maa ki mamta ghane badalon ki tarah sar pe saya kiye sath chalti rahi,
Ek bachcha kitaabein liye hath mein khamoshi se sadak paar karte hue.

माँ की ममता घने बादलों की तरह सर पे साया किए साथ चलती रही,
एक बच्चा किताबें लिए हाथ में ख़ामुशी से सड़क पार करते हुए !

3.
Dukh bugurgon ne kaafi uthaye magar mera bachpan bahut hi suhana raha,
Umar bhar dhoop mein ped jalte rahe apni shaakhe samardaar karte hue.

दुख बुज़ुर्गों ने काफ़ी उठाए मगर मेरा बचपन बहुत ही सुहाना रहा,
उम्र भर धूप में पेड़ जलते रहे अपनी शाख़ें-समरदार करते हुए !

4.
Chalo mana ki shahnaai masarat ki nishani hai,
Magar wo shakhs jiski aa ke beti baith jati hai.

चलो माना कि शहनाई मसर्रत की निशानी है,
मगर वो शख़्स जिसकी आ के बेटी बैठ जाती है !

5.
Maloom nahi kaise jaroorat nikal aayi,
Sar kholte hue ghar se sharafat nikal aayi.

मालूम नहीं कैसे ज़रूरत निकल आई,
सर खोले हुए घर से शराफ़त निकल आई !

6.
Ismein bachchon ki jali laashon ki tasvirein hain,
Dekhna hath se akhbaar na girne paye.

इसमें बच्चों की जली लाशों की तस्वीरें हैं,
देखना हाथ से अख़बार न गिरने पाये !

7.
Odhe hue badan pe gareebi chale gaye,
Bahano ko rota chhod ke bhai chale gaye.

ओढ़े हुए बदन पे ग़रीबी चले गये,
बहनों को रोता छोड़ के भाई चले गये !

8.
Kisi budhe ki laathi chhin gayi hai,
Wo dekho ik janaja jaa raha hai.

किसी बूढ़े की लाठी छिन गई है,
वो देखो एक जनाज़ा जा रहा है !

9.
Aangan ki taksim ka kissa,
Mein jaanu ya baba jane.

आँगन की तक़सीम का क़िस्सा,
मैं जानूँ या बाबा जानें !

10.
Humari cheekhti aankhon ne jalte shehar dekhe hain.
Bure lagte hain ab kisse humein Bhai-Bahan wale.

हमारी चीखती आँखों ने जलते शहर देखे हैं,
बुरे लगते हैं अब क़िस्से हमें भाई-बहन वाले !

11.
Isliye maine bujurgon ki zameene chhod di,
Mera ghar jis din basega tera ghar gir jayega.

इसलिए मैंने बुज़ुर्गों की ज़मीनें छोड़ दीं,
मेरा घर जिस दिन बसेगा तेरा घर गिर जाएगा !

12.
Bachpan mein kisi baat pe hum ruth gaye the,
Us din se isi shehar mein hain ghar nahi jate.

बचपन में किसी बात पे हम रूठ गये थे,
उस दिन से इसी शहर में हैं घर नहीं जाते !

13.
Bichhad ke tujh se teri yaad bhi nahi aayi,
Humare kaam ye aulaad bhi nahi aayi.

बिछड़ के तुझ से तेरी याद भी नहीं आई,
हमारे काम ये औलाद भी नहीं आई !

14.
Mujhko har haal mein bkhshega ujala apna,
Chand rishte mein nahi lagta hai mama apna.

मुझको हर हाल में बख़्शेगा उजाला अपना,
चाँद रिश्ते में नहीं लगता है मामा अपना !

15.
Main narm mitti hun tum raund kar gujar jaao,
Ki mere naaz to bas kujagar uthata hai.

मैं नर्म मिट्टी हूँ तुम रौंद कर गुज़र जाओ,
कि मेरे नाज़ तो बस क़ूज़ागर उठाता है !

16.
Masaayal ne humein budha kya hai waqt se pahale,
Gharelu uljhane aksar jawani chhin leti hain.

मसायल नें हमें बूढ़ा किया है वक़्त से पहले,
घरेलू उलझनें अक्सर जवानी छीन लेती हैं !

17.
Uchhale-khelte bachpan mein beta dhundti hogi,
Tabhi to dekh kar pote ko dadi muskurati hai.

उछलते-खेलते बचपन में बेटा ढूँढती होगी,
तभी तो देख कर पोते को दादी मुस्कुराती है !

18.
Kuch khilaune kabhi aangan mein dikhaai dete,
Kash hum bhi kisi bachche ko mithaai dete.

कुछ खिलौने कभी आँगन में दिखाई देते,
काश हम भी किसी बच्चे को मिठाई देते !

19.
Daulat se mohabbat to nahi thi mujhe lekin,
Bachchon ne khilaunon ki taraf dekh liya tha.

दौलत से मुहब्बत तो नहीं थी मुझे लेकिन,
बच्चों ने खिलौनों की तरफ़ देख लिया था !

20.
Jism par mere bahut shffaaf kapde the magar,
Dhul mitti mein aata beta bahut achcha laga.

जिस्म पर मेरे बहुत शफ़्फ़ाफ़ कपड़े थे मगर,
धूल मिट्टी में आता बेटा बहुत अच्छा लगा !