Saturday , February 29 2020
Home / Gham Shayari (page 5)

Gham Shayari

Tumhare khat mein naya ek salam kis ka tha..

Tumhare khat mein naya ek salam kis ka tha,
Na tha raqib to aakhir wo naam kis ka tha.

Wo qatal kar ke mujhe har kisi se puchhte hain,
Ye kaam kis ne kiya hai ye kaam kis ka tha.

Wafa karenge nibahenge baat manenge,
Tumhein bhi yaad hai kuchh ye kalam kis ka tha.

Raha na dil mein wo bedard aur dard raha,
Muqim kaun hua hai maqam kis ka tha.

Na puchh-gachh thi kisi ki wahan na aaw-bhagat,
Tumhari bazm mein kal ehtimam kis ka tha.

Tamam bazm jise sun ke rah gayi mushtaq,
Kaho wo tazkira-e-na-tamam kis ka tha.

Hamare khat ke to purze kiye padha bhi nahi,
Suna jo tune ba-dil wo payam kis ka tha.

Uthai kyun na qayamat adu ke kuche mein,
Lihaz aap ko waqt-e-khiram kis ka tha.

Guzar gaya wo zamana kahun to kis se kahun,
Khayal dil ko mere subh o sham kis ka tha.

Hamein to hazrat-e-waiz ki zid ne pilwai,
Yahan irada-e-sharb-e-mudam kis ka tha.

Agarche dekhne wale tere hazaron the,
Tabah-haal bahut zer-e-baam kis ka tha.

Wo kaun tha ki tumhein jis ne bewafa jaana,
Khayal-e-kham ye sauda-e-kham kis ka tha.

Inhin sifat se hota hai aadmi mashhur,
Jo lutf aam wo karte ye naam kis ka tha.

Har ek se kahte hain kya “Daagh” bewafa nikla,
Ye puchhe unse koi wo ghulam kis ka tha. !!

तुम्हारे ख़त में नया इक सलाम किस का था,
न था रक़ीब तो आख़िर वो नाम किस का था !

वो क़त्ल कर के मुझे हर किसी से पूछते हैं,
ये काम किस ने किया है ये काम किस का था !

वफ़ा करेंगे निबाहेंगे बात मानेंगे,
तुम्हें भी याद है कुछ ये कलाम किस का था !

रहा न दिल में वो बेदर्द और दर्द रहा,
मुक़ीम कौन हुआ है मक़ाम किस का था !

न पूछ-गछ थी किसी की वहाँ न आव-भगत,
तुम्हारी बज़्म में कल एहतिमाम किस का था !

तमाम बज़्म जिसे सुन के रह गई मुश्ताक़,
कहो वो तज़्किरा-ए-ना-तमाम किस का था !

हमारे ख़त के तो पुर्ज़े किए पढ़ा भी नहीं,
सुना जो तूने ब-दिल वो पयाम किस का था !

उठाई क्यूँ न क़यामत अदू के कूचे में,
लिहाज़ आप को वक़्त-ए-ख़िराम किस का था !

गुज़र गया वो ज़माना कहूँ तो किस से कहूँ,
ख़याल दिल को मिरे सुब्ह ओ शाम किस का था !

हमें तो हज़रत-ए-वाइज़ की ज़िद ने पिलवाई,
यहाँ इरादा-ए-शर्ब-ए-मुदाम किस का था !

अगरचे देखने वाले तिरे हज़ारों थे,
तबाह-हाल बहुत ज़ेर-ए-बाम किस का था !

वो कौन था कि तुम्हें जिस ने बेवफ़ा जाना,
ख़याल-ए-ख़ाम ये सौदा-ए-ख़ाम किस का था !

इन्हीं सिफ़ात से होता है आदमी मशहूर,
जो लुत्फ़ आम वो करते ये नाम किस का था !

हर इक से कहते हैं क्या “दाग़” बेवफ़ा निकला,
ये पूछे उनसे कोई वो ग़ुलाम किस का था !!

famous two line poetry of aziz lakhnavi

Paida wo baat kar ki tujhe roye dusare,
Rona khud ye apne haal pe ye zaar zaar kya.

पैदा वो बात कर कि तुझे रोएँ दूसरे,
रोना खुद अपने हाल पे ये जार जार क्या !

Tumne cheda to kuchh khule hum bhi,
Baat par baat yaad aati hai.

तुम ने छेड़ा तो कुछ खुले हम भी,
बात पर बात याद आती है !

Zaban dil ki haqiqat ko kya bayan karti,
Kisi ka haal kisi se kaha nahi jata.

जबान दिल की हकीकत को क्या बयां करती,
किसी का हाल किसी से कहा नहीं जाता !

Unko sote huye dekha tha dame-subah kabhi,
Kya bataun jo in aankhon ne sama dekha tha.

उनको सोते हुए देखा था दमे-सुबह कभी,
क्या बताऊं जो इन आंखों ने समां देखा था !

Apne markaz ki taraf maaial-e-parwaz tha husan
Bhulta hi nahi aalam tiri angadaai ka.

अपने मरकज़ की तरफ माइल-ए-परवाज़ था हुस्न,
भूलता ही नहीं आलम तिरी अंगड़ाई का !

Itana to soch zalim jauro-jafa se pahale,
Yah rasm dosti ki duniya se uth jayegi.

इतना तो सोच जालिम जौरो-जफा से पहले,
यह रस्म दोस्ती की दुनिया से उठ जायेगी !

Hamesha tinke hi chunte gujar gayi apni,
Magar chaman mein kahi aashiyan bana na sake.

हमेशा तिनके ही चुनते गुजर गई अपनी,
मगर चमन में कहीं आशियाँ बना ना सके !

Ek majboor ki tamnna kya,
Roz jeeti hai, roz marti hai.

एक मजबूर की तमन्ना क्या,
रोज जीती है, रोज मरती है !

Kafas mein ji nahi lagta hai. aah phir bhi mera,
Yah janta hun ki tinka bhi aashiyan mein nahi.

कफस में जी नहीं लगता है, आह फिर भी मेरा,
यह जानता हूँ कि तिनका भी आशियाँ में नहीं !

Sitam hai lash par us bewafa ka yah kehana,
Ki aane ka bhi na kisi ne intezaar kiya.

सितम है लाश पर उस बेवफा का यह कहना,
कि आने का भी न किसी ने इंतज़ार किया !

Khuda ka kaam hai yun marizon ko shifa dena,
Munasib ho to ek din hathon se apne dawa dena.

खुदा का काम है यूँ तो मरीजों को शिफा देना,
मुनासिब हो तो इक दिन हाथों से अपने दवा देना !

Bhala zabat ki bhi koi inteha hai,
Kahan tak tabiyat ko apni sambhale.

भला जब्त की भी कोई इन्तहा है,
कहाँ तक तबियत को अपनी संभाले !

Jhoothe wadon par thi apni zindagi,
Ab to yah bhi aasara jata raha.

झूठे वादों पर थी अपनी जिन्दगी,
अब तो यह भी आसरा जाता रहा !

Suroore-shab ki nahi subah ka khumar hun main,
Nikal chuki hai jo gulshan se wah bahar hun main.

सुरूरे-शब की नहीं सुबह का खुमार हूँ मैं,
निकल चुकी है जो गुलशन से वह बहार हूँ मैं !

Dil samjhata tha ki khalwat mein wo tanha honge,
Maine parda jo uthaya to kayamat nikali.

दिल समझता था कि ख़ल्वत में वो तन्हा होंगे,
मैंने पर्दा जो उठाया तो क़यामत निकली !

Khud chale aao ya bula bhejo,
Raat akele basar nahi hoti.

ख़ुद चले आओ या बुला भेजो,
रात अकेले बसर नहीं होती !

Aaina chhod ke dekha kiye surat meri,
Dil-e-muztar ne mire un ko sanwarne na diya.

आईना छोड़ के देखा किए सूरत मेरी,
दिल-ए-मुज़्तर ने मिरे उन को सँवरने न दिया !

Hijr ki raat katne waale,
Kya karega agar sahar na huyi.

हिज्र की रात काटने वाले,
क्या करेगा अगर सहर न हुई !

Hai dil mein josh-e-hasrat rukte nahi hain aansoo,
Risti huyi surahi tuuta hua subu hun.

है दिल में जोश-ए-हसरत रुकते नहीं हैं आँसू,
रिसती हुई सुराही टूटा हुआ सुबू हूँ !

“Azīz” munh se wo apne naqab to ulten,
Karenge jabr agar dil pe ikhtiyar raha.

“अज़ीज़” मुँह से वो अपने नक़ाब तो उलटें,
करेंगे जब्र अगर दिल पे इख़्तियार रहा !

Be-piye waaiz ko meri raaye mein,
Masjid-e-jama mein jaana hi na tha.

बे-पिए वाइ’ज़ को मेरी राय में,
मस्जिद-ए-जामा में जाना ही न था !

Usi ko hashr kahte hain jahan duniya ho fariyadi,
Yahi ai mir-e-divan-e-jaza kya teri mahfil hai.

उसी को हश्र कहते हैं जहाँ दुनिया हो फ़रियादी,
यही ऐ मीर-ए-दीवान-ए-जज़ा क्या तेरी महफ़िल है !

Lutf-e-bahar kuchh nahi go hai wahi bahar,
Dil hi ujad gaya ki zamana ujad gaya.

लुत्फ़-ए-बहार कुछ नहीं गो है वही बहार,
दिल ही उजड़ गया कि ज़माना उजड़ गया !

Itna bhi bar-e-khatir-e-gulshan na ho koi,
Tuti wo shakh jis pe mira ashiyana tha.

इतना भी बार-ए-ख़ातिर-ए-गुलशन न हो कोई,
टूटी वो शाख़ जिस पे मिरा आशियाना था !

Batao aise marizon ka hai ilaaj koi,
Ki jin se haal bhi apna bayan nahi hota.

बताओ ऐसे मरीज़ों का है इलाज कोई,
कि जिन से हाल भी अपना बयाँ नहीं होता !

Be-khudi kucha-e-janan mein liye jaati hai,
Dekhiye kaun mujhe meri khabar deta hai.

बे-ख़ुदी कूचा-ए-जानाँ में लिए जाती है,
देखिए कौन मुझे मेरी ख़बर देता है !

Haaye kya chiiz thi jawani bhi,
Ab to din raat yaad aati hai.

हाए क्या चीज़ थी जवानी भी,
अब तो दिन रात याद आती है !

Maana ki bazm-e-husn ke adab hain bahut,
Jab dil pe ikhtiyar na ho kya kare koi.

माना कि बज़्म-ए-हुस्न के आदाब हैं बहुत,
जब दिल पे इख़्तियार न हो क्या करे कोई !

Naza ka waqt hai baitha hai sirhane koi,
Waqt ab wo hai ki marna hamein manzur nahi.

नज़्अ’ का वक़्त है बैठा है सिरहाने कोई,
वक़्त अब वो है कि मरना हमें मंज़ूर नहीं !

Qatal aur mujh se sakht-jan ka qatal,
Tegh dekho zara kamar dekho.

क़त्ल और मुझ से सख़्त-जाँ का क़त्ल,
तेग़ देखो ज़रा कमर देखो !

Jab se zulfon ka pada hai is mein aks,
Dil mira tuta hua aaina hai.

जब से ज़ुल्फ़ों का पड़ा है इस में अक्स,
दिल मिरा टूटा हुआ आईना है !

Dil nahi jab to khaak hai duniya,
Asal jo chiiz thi wahi na rahi.

दिल नहीं जब तो ख़ाक है दुनिया,
असल जो चीज़ थी वही न रही !

Tumhen hanste hue dekha hai jab se,
Mujhe rone ki aadat ho gayi hai.

तुम्हें हँसते हुए देखा है जब से,
मुझे रोने की आदत हो गई है !

Tamam anjuman-e-waz ho gayi barham,
Liye hue koi yun saghar-e-sharab aaya.

तमाम अंजुमन-ए-वाज़ हो गई बरहम,
लिए हुए कोई यूँ साग़र-ए-शराब आया !

Musibat thi hamare hi liye kyun,
Ye maana ham jiye lekin jiye kyun ?

मुसीबत थी हमारे ही लिए क्यूँ,
ये माना हम जिए लेकिन जिए क्यूँ ?

Tah mein dariya-e-mohabbat ke thi kya chiiz “Azīz”,
Jo koi dub gaya us ko ubharne na diya.

तह में दरिया-ए-मोहब्बत के थी क्या चीज़ “अज़ीज़”,
जो कोई डूब गया उस को उभरने न दिया !

Dil ki aludgi-e-zakhm badhi jaati hai,
Saans leta hun to ab khun ki bu aati hai.

दिल की आलूदगी-ए-ज़ख़्म बढ़ी जाती है,
साँस लेता हूँ तो अब ख़ून की बू आती है !

Phuut nikla zahr saare jism mein,
Jab kabhi aansoo hamare tham gaye.

फूट निकला ज़हर सारे जिस्म में,
जब कभी आँसू हमारे थम गए !

Udasi ab kisi ka rang jamne hi nahi deti,
Kahan tak phool barsaye koi gor-e-ghariban par.

उदासी अब किसी का रंग जमने ही नहीं देती,
कहाँ तक फूल बरसाए कोई गोर-ए-ग़रीबाँ पर !

Shisha-e-dil ko yun na uthao,
Dekho haath se chhota hota.

शीशा-ए-दिल को यूँ न उठाओ,
देखो हाथ से छोटा होता !

famous two line poetry of Asghar Gondvi

Chala jaata hun hansta khelta mauj-e-havadis se,
Agar aasaniyan hon zindagi dushwaar ho jaaye.

चला जाता हूँ हँसता खेलता मौज-ए-हवादिस से,
अगर आसानियाँ हों ज़िंदगी दुश्वार हो जाए !

Aks kis cheez ka aaina-e-hairat mein nahi,
Teri surat mein hai kya jo meri surat mein nahi.

अक्स किस चीज़ का आईना-ए-हैरत में नहीं,
तेरी सूरत में है क्या जो मेरी सूरत में नहीं !

Zahid ne mira hasil-e-iman nahi dekha,
Ruḳh par tiri zulfon ko pareshan nahi dekha.

ज़ाहिद ने मिरा हासिल-ए-ईमाँ नहीं देखा,
रुख़ पर तिरी ज़ुल्फ़ों को परेशाँ नहीं देखा !

Yahan to umar guzari hai mauj-e-talaatum mein,
Wo koi aur honge sair-e-saahil dekhne wale.

यहाँ तो उम्र गुजरी है मौजे- तलातुम में,
वो कोई और होंगे सैरे-साहिल देखने वाले !

Yun muskuraye jaan si kaliyon mein pad gayi,
Yun lab-kusha hue ki gulistan bana diya.

यूँ मुस्कुराए जान सी कलियों में पड़ गई,
यूँ लब-कुशा हुए कि गुलिस्ताँ बना दिया !

Ek aisi bhi tajalli aaj mai-ḳhane mein hai,
Lutf peene mein nahi hai balki kho jaane mein hai.

एक ऐसी भी तजल्ली आज मय-ख़ाने में है,
लुत्फ़ पीने में नहीं है बल्कि खो जाने में है !

Bulbulo-gul pe jo guzari humko us se kya garaz,
Hum to gulshan mein fakat rang-e-chaman dekha kiye.

बुलबुलो-गुल पै जो गुजरी हमको उससे क्या गरज,
हम तो गुलशन में फकत रंगे-चमन देखा किए !

Ik ada, ik hijab, ik shokhi,
Nichi nazron mein kya nahi hota.

इक अदा, इक हिजाब, इक शोख़ी,
नीची नज़रों में क्या नहीं होता !

Pahli nazar bhi aap ki uff kis bala ki thi,
Hum aaj tak wo chot hain dil par liye hue.

पहली नज़र भी आप की उफ़ किस बला की थी,
हम आज तक वो चोट हैं दिल पर लिए हुए !

Bana leta hai mauj-e-ḳhun-e-dil se ik chaman apna,
Wo paband-e-qafas jo fitratan azad hota hai.

बना लेता है मौज-ए-ख़ून-ए-दिल से इक चमन अपना,
वो पाबंद-ए-क़फ़स जो फ़ितरतन आज़ाद होता है !

Dastan un ki adaon ki hai rangin lekin,
Is mein kuchh ḳhun-e-tamanna bhi hai shamil apna.

दास्ताँ उन की अदाओं की है रंगीं लेकिन,
इस में कुछ ख़ून-ए-तमन्ना भी है शामिल अपना !

Sunta hun bade ghaur se afsana-e-hasti,
Kuchh khwab hai kuchh asl hai kuchh tarz-e-ada hai.

सुनता हूँ बड़े ग़ौर से अफ़्साना-ए-हस्ती,
कुछ ख़्वाब है कुछ अस्ल है कुछ तर्ज़-ए-अदा है !

Jina bhi aa gaya mujhe marna bhi aa gaya,
Pahchanne laga hun tumhari nazar ko main.

जीना भी आ गया मुझे मरना भी आ गया,
पहचानने लगा हूँ तुम्हारी नज़र को मैं !

Aalam se be-khabar bhi hun aalam mein bhi hun main,
Saaqi ne is maqam ko asan bana diya.

आलम से बे-ख़बर भी हूँ आलम में भी हूँ मैं,
साक़ी ने इस मक़ाम को आसाँ बना दिया !

Mujhse jo chahiye wo dars-e-basirat lije,
Main khud awaz hun meri koi awaz nahi.

मुझसे जो चाहिए वो दर्स-ए-बसीरत लीजे,
मैं ख़ुद आवाज़ हूँ मेरी कोई आवाज़ नहीं !

Zulf thi jo bikhar gayi rukh tha ki jo nikhar gaya,
Haaye wo shaam ab kahan haaye wo ab sahar kahan.

ज़ुल्फ़ थी जो बिखर गई रुख़ था कि जो निखर गया,
हाए वो शाम अब कहाँ हाए वो अब सहर कहाँ !

Main kya kahun kahan hai mohabbat kahan nahi,
Rag rag mein daudi phirti hai nashtar liye hue.

मैं क्या कहूँ कहाँ है मोहब्बत कहाँ नहीं,
रग रग में दौड़ी फिरती है नश्तर लिए हुए !

Allah-re chashm-e-yar ki mojiz-bayaniyan,
Har ik ko hai guman ki mukhatab hamin rahe.

अल्लाह-रे चश्म-ए-यार की मोजिज़-बयानियाँ,
हर इक को है गुमाँ कि मुख़ातब हमीं रहे !

Sau baar tira daman hathon mein mire aaya,
Jab aankh khulī dekha apna hī gareban tha.

सौ बार तिरा दामन हाथों में मिरे आया,
जब आँख खुली देखा अपना ही गरेबाँ था !

Nahi dair o haram se kaam ham ulfat ke bande hain,
Wahi kaaba hai apna aarzu dil ki jahan nikle.

नहीं दैर ओ हरम से काम हम उल्फ़त के बंदे हैं,
वही काबा है अपना आरज़ू दिल की जहाँ निकले !

“Asghar” ghazal mein chahiye wo mauj-e-zindagi,
Jo husan hai buton mein jo masti sharab mein.

“असग़र” ग़ज़ल में चाहिए वो मौज-ए-ज़िंदगी,
जो हुस्न है बुतों में जो मस्ती शराब में !

Niyaz-e-ishq ko samjha hai kya ai waaiz-e-nadan,
Hazaaron ban gaye kaabe jabin maine jahan rakh di.

नियाज़-ए-इश्क़ को समझा है क्या ऐ वाइज़-ए-नादाँ,
हज़ारों बन गए काबे जबीं मैंने जहाँ रख दी !

Log marte bhi hain jite bhi hain betab bhi hain,
Kaun sa sehr tiri chashm-e-inayat mein nahi.

लोग मरते भी हैं जीते भी हैं बेताब भी हैं,
कौन सा सेहर तिरी चश्म-ए-इनायत में नहीं !

Rind jo zarf utha len wahi saghar ban jaye,
Jis jagah baith ke pi len wahi mai-khana bane.

रिंद जो ज़र्फ़ उठा लें वही साग़र बन जाए,
जिस जगह बैठ के पी लें वही मय-ख़ाना बने !

Ye bhi fareb se hain kuchh dard ashiqī ke,
Ham mar ke kya karenge kya kar liya hai jī ke.

ये भी फ़रेब से हैं कुछ दर्द आशिक़ी के,
हम मर के क्या करेंगे क्या कर लिया है जी के !

Hal kar liya majaz haqiqat ke raaz ko,
Payi hai maine khwab kī tabir khwab mein.

हल कर लिया मजाज़ हक़ीक़त के राज़ को,
पाई है मैंने ख़्वाब की ताबीर ख़्वाब में !

Ishq ki betabiyon par husan ko rahm aa gaya,
Jab nigah-e-shauq tadpi parda-e-mahmil na tha.

इश्क़ की बेताबियों पर हुस्न को रहम आ गया,
जब निगाह-ए-शौक़ तड़पी पर्दा-ए-महमिल न था !

Ishvon ki hai na us nigah-e-fitna-za ki hai,
Saari khata mire dil-e-shorish-ada ki hai.

इश्वों की है न उस निगह-ए-फ़ित्ना-ज़ा की है,
सारी ख़ता मिरे दिल-ए-शोरिश-अदा की है !

Kuchh milte hain ab pukhtagi-e-ishq ke asar,
Nalon mein rasaai hai na aahon mein asar hai.

कुछ मिलते हैं अब पुख़्तगी-ए-इश्क़ के आसार,
नालों में रसाई है न आहों में असर है !

Kya mastiyan chaman mein hain josh-e-bahar se,
Har shakh-e-gul hai haath mein saghar liye hue.

क्या मस्तियाँ चमन में हैं जोश-ए-बहार से,
हर शाख़-ए-गुल है हाथ में साग़र लिए हुए !

Ye astan-e-yar hai sehn-e-haram nahi,
Jab rakh diya hai sar to uthana na chahiye.

ये आस्तान-ए-यार है सेहन-ए-हरम नहीं,
जब रख दिया है सर तो उठाना न चाहिए !

Ham us nigah-e-naz ko samjhe the neshtar,
Tumne to muskura ke rag-e-jan bana diya.

हम उस निगाह-ए-नाज़ को समझे थे नेश्तर,
तुमने तो मुस्कुरा के रग-ए-जाँ बना दिया !

Har ik jagah tiri barq-e-nigah daud gayi,
Gharaz ye hai ki kisi cheez ko qarar na ho.

हर इक जगह तिरी बर्क़-ए-निगाह दौड़ गई,
ग़रज़ ये है कि किसी चीज़ को क़रार न हो !

Wo shorishen nizam-e-jahan jin ke dam se hai,
Jab mukhtasar kiya unhen insan bana diya.

वो शोरिशें निज़ाम-ए-जहाँ जिन के दम से है,
जब मुख़्तसर किया उन्हें इंसाँ बना दिया !

Chhut jaye agar daman-e-kaunain to kya gham,
Lekin na chhute haath se daman-e-mohammad.

छुट जाए अगर दामन-ए-कौनैन तो क्या ग़म,
लेकिन न छुटे हाथ से दामान-ए-मोहम्मद !

“Asghar” harim-e-ishq mein hasti hi jurm hai,
Rakhna kabhi na paanv yahan sar liye hue.

‘असग़र’ हरीम-ए-इश्क़ में हस्ती ही जुर्म है,
रखना कभी न पाँव यहाँ सर लिए हुए !

Maail-e-sher-o-ghazal phir hai tabiat “asghar”,
Abhi kuchh aur muqaddar mein hai ruswa hona.

माइल-ए-शेर-ओ-ग़ज़ल फिर है तबीअत “असग़र”,
अभी कुछ और मुक़द्दर में है रुस्वा होना !

Yahan kotahi-e-zauq-e-amal hai khud giraftari,
Jahan baazu simatte hain wahin sayyad hota hai.

यहाँ कोताही-ए-ज़ौक़-ए-अमल है ख़ुद गिरफ़्तारी,
जहाँ बाज़ू सिमटते हैं वहीं सय्याद होता है !

Bistar-e-khak pe baitha hun na masti hai na hosh,
Zarre sab sakit-o-samit hain sitare khamosh.

बिस्तर-ए-ख़ाक पे बैठा हूँ न मस्ती है न होश,
ज़र्रे सब साकित-ओ-सामित हैं सितारे ख़ामोश !

Kya kya hain dard-e-ishq ki fitna-taraziyan,
Ham iltifat-e-khas se bhi bad-guman rahe.

क्या क्या हैं दर्द-ए-इश्क़ की फ़ित्ना-तराज़ियाँ,
हम इल्तिफ़ात-ए-ख़ास से भी बद-गुमाँ रहे !

Alam-e-rozgar ko asan bana diya,
Jo gham hua use gham-e-janan bana diya.

आलाम-ए-रोज़गार को आसाँ बना दिया,
जो ग़म हुआ उसे ग़म-ए-जानाँ बना दिया !

Mujhko khabar rahi na rukh-e-be-naqab ki,
Hai khud numud husan mein shan-e-hijab ki.

मुझको ख़बर रही न रुख़-ए-बे-नक़ाब की,
है ख़ुद नुमूद हुस्न में शान-ए-हिजाब की !

Wahin se ishq ne bhi shorishen udaai hain,
Jahan se tune liye ḳhanda-ha-e-zer-e-labi.

वहीं से इश्क़ ने भी शोरिशें उड़ाई हैं,
जहाँ से तूने लिए ख़ंदा-हा-ए-ज़ेर-ए-लबी !

Wo naghma bulbul-e-rangin-nava ik baar ho jaye,
Kali ki aankh khul jaye chaman bedar ho jaye.

वो नग़्मा बुलबुल-ए-रंगीं-नवा इक बार हो जाए,
कली की आँख खुल जाए चमन बेदार हो जाए !

“Asghar” se mile lekin “asghar” ko nahi dekha,
Ashaar mein sunte hain kuchh kuchh wo numayan hai.

“असग़र” से मिले लेकिन “असग़र” को नहीं देखा,
अशआर में सुनते हैं कुछ कुछ वो नुमायाँ है !

Main kamyab-e-did bhi mahrum-e-did bhi,
Jalwon ke izhdiham ne hairan bana diya.

मैं कामयाब-ए-दीद भी महरूम-ए-दीद भी,
जल्वों के इज़दिहाम ने हैराँ बना दिया !

Miri wahshat pe bahs-araaiyan achchhi nahi zahid,
Bahut se bandh rakkhe hain gareban maine daman mein.

मिरी वहशत पे बहस-आराइयाँ अच्छी नहीं ज़ाहिद,
बहुत से बाँध रक्खे हैं गरेबाँ मैंने दामन में !

Be-mahaba ho agar husan to wo baat kahan,
Chhup ke jis shaan se hota hai numayan koi.

बे-महाबा हो अगर हुस्न तो वो बात कहाँ,
छुप के जिस शान से होता है नुमायाँ कोई !

Qahr hai thodi si bhi ghaflat tariq-e-ishq mein,
Aankh jhapki qais ki aur samne mahmil na tha.

क़हर है थोड़ी सी भी ग़फ़लत तरीक़-ए-इश्क़ में,
आँख झपकी क़ैस की और सामने महमिल न था !

Ariz-e-nazuk pe unke rang sa kuchh aa gaya,
In gulon ko chhed kar hamne gulistan kar diya.

आरिज़-ए-नाज़ुक पे उनके रंग सा कुछ आ गया,
इन गुलों को छेड़ कर हमने गुलिस्ताँ कर दिया !

Lazzat-e-sajda-ha-e-shauq na puchh,
Haye wo ittisal-e-naz-o-niyaz.

लज़्ज़त-ए-सज्दा-हा-ए-शौक़ न पूछ,
हाए वो इत्तिसाल-ए-नाज़-ओ-नियाज़ !

Us jalva-gah-e-husan mein chhaya hai har taraf,
Aisa hijab chashm-e-tamasha kahen jise.

उस जल्वा-गाह-ए-हुस्न में छाया है हर तरफ़,
ऐसा हिजाब चश्म-ए-तमाशा कहें जिसे !

Ai shaikh wo basit haqiqat hai kufr ki,
Kuchh qaid-e-rasm ne jise iman bana diya.

ऐ शैख़ वो बसीत हक़ीक़त है कुफ़्र की,
कुछ क़ैद-ए-रस्म ने जिसे ईमाँ बना दिया !

Rudad-e-chaman sunta hun is tarah qafas mein,
Jaise kabhi ankhon se gulistan nahi dekha.

रूदाद-ए-चमन सुनता हूँ इस तरह क़फ़स में,
जैसे कभी आँखों से गुलिस्ताँ नहीं देखा !

 

 

Kyun kisi aur ko dukh-dard sunaun apne..

kyun kisi aur ko dukh sunaun apne

Kyun kisi aur ko dukh-dard sunaun apne,
Apni aankho mein bhi main zakhm chhupaun apne.

Main to qaem hun tere gham ki badaulat warna,
Yun bhikhar jaun ki khud ke haath na aaun apne.

Sher logon ko bahut yaad hai auron ke liye,
Tu mile to main tujhe sher sunaun apne.

Tere raste ka jo kanta bhi mayassar aaye,
Main use shauk se collar pe sajaun apne.

Sochta hun ki bujha dun main ye kamre ka diya,
Apne saye ko bhi kyon sath jagaun apne.

Us ki talwar ne wo chaal chali hai ab ke,
Panv kate hain agar haath bachaun apne.

Aakhiri baat mujhe yaad hai us ki “Anwar”,
Jaane wale ko gale se na lagaun apne. !!

क्यों किसी और को दुःख-दर्द सुनाओ अपने,
अपनी आँखों में भी मैं ज़ख़्म छुपाऊँ अपने !

मैं तो क़ायम हूँ तेरे गम की बदौलत वरना,
यूँ बिखर जाऊ की खुद के हाथ न आऊं अपने !

शेर लोगों को बहुत याद है औरों के लिए,
तू मिले तो मैं तुझे शेर सुनाऊ अपने !

तेरे रास्ते का जो कांटा भी मयससर आये,
मैं उसे शौक से कॉलर पे सजाऊँ अपने !

सोचता हूँ की बुझा दूँ मैं ये कमरे का दीया,
अपने साये को भी क्यों साथ जगाऊँ अपने !

उस की तलवार ने वो चाल चली है अब के,
पाँव कटते हैं अगर हाथ बचाऊँ अपने !

आख़िरी बात मुझे याद है उस की “अनवर”,
जाने वाले को गले से न लगाऊँ अपने !!

Paraya kaun hai aur kaun apna sab bhula denge..

Paraya kaun hai aur kaun apna sab bhula denge,
Matae zindagi ek din hum bhi luta denge.

Tum apne samne ki bhid se ho kar guzar jao,
Ki aage wale to hargiz na tum ko rasta denge.

Jalae hain diye to phir hawaon par nazar rakkho,
Ye jhonke ek pal mein sab charaghon ko bujha denge.

Koi puchhega jis din waqai ye zindagi kya hai,
Zamin se ek mutthi khak le kar hum uda denge.

Gila, shikwa, hasad, kina, ke tohfe meri kismat hain,
Mere ahbab ab is se ziyaada aur kya denge.

Musalsal dhup mein chalna charaghon ki tarah jalna,
Ye hangame to mujh ko waqt se pahle thaka denge.

Agar tum aasman par ja rahe ho shauq se jao,
Mere naqshe qadam aage ki manzil ka pata denge. !!

पराया कौन है और कौन अपना सब भुला देंगे,
मताए ज़िन्दगानी एक दिन हम भी लुटा देंगे !

तुम अपने सामने की भीड़ से होकर गुज़र जाओ,
कि आगे वाले तो हर गिज़ न तुम को रास्ता देंगे !

जलाये हैं दिये तो फिर हवाओ पर नज़र रखो,
ये झोकें एक पल में सब चिराग़ो को बुझा देंगे !

कोई पूछेगा जिस दिन वाक़ई ये ज़िन्दगी क्या है,
ज़मीं से एक मुठ्ठी ख़ाक लेकर हम उड़ा देंगे !

गिला, शिकवा, हसद, कीना, के तोहफे मेरी किस्मत है,
मेरे अहबाब अब इससे ज़ियादा और क्या देंगे !

मुसलसल धूप में चलना चिराग़ो की तरह जलना,
ये हंगामे तो मुझको वक़्त से पहले थका देंगे !

अगर तुम आसमां पर जा रहे हो, शौक़ से जाओ,
मेरे नक्शे क़दम आगे की मंज़िल का पता देंगे !!

Khushi ka masla kya hai jo mujhse khauf khati hai..

Khushi ka masla kya hai jo mujhse khauf khati hai,
Ise jab bhi bulata hun ghamon ko saath lati hai.

Chiragon kab hawa ki dogli fitrat ko samjhoge,
Jalaati hai yahi tumko yahi tumko bujhaati hai.

Mirashim ke shzar ko badazani ka ghun laga jabse,
Koi patta bhi jab khichein to dali toot jati hai.

ख़ुशी का मसला क्या है जो मुझसे खौफ खाती है,
इसे जब भी बुलाता हूँ ग़मों को साथ लती है !

चिरागों कब हवा की दोगली फितरत को समझोगे,
जलाती है यही तुमको यही तुमको बुझाती है !

मिराशिम के शज़र को बदज़नी का घुन लगा जबसे,
कोई पत्ता भी जब खीचें तो डाली टूट जाती है !!

Silsila zakhm zakhm jari hai..

Silsila zakhm zakhm jari hai

Silsila zakhm zakhm jari hai,
Ye zameen door tak hamari hai.

Is zameen se ajab taalluq hai,
Zarre-zarre se rishtedari hai.

Main bahut km kisi se milata hoon,
Jisse yaari hai usse yaari hai.

Hum jise jee rahe hai wo lamha,
Har gujishta sadi pe bhari hai.

Main toh ab usse door hoon shayed,
Jis imart pe sangbari hai.

Naav kagaz ki chod di maine,
Ab samndar ki zimmedari hai.

Phalsfa hai hayat ka mushkil,
Wese majmun ikhtiyaari hai.

Ret ke ghar bah gaye Lekin,
Barishon ka khulus jari hai.

Bech Daala hai din ka har lamha,
Raat thodi bahut hamari hai.

Koi “Nazmi” guzar kar dekhe,
Maine jo zindagi guzari hai !!

सिलसिला ज़ख़्म ज़ख़्म जारी है,
ये ज़मीन दूर तक हमारी है !

इस ज़मीन से अजब ताल्लुक़ है,
ज़र्रे-ज़र्रे से रिश्तेदारी है !

मैं बहुत कम किसी से मिलता हूँ,
जिससे यारी है उससे यारी है !

हम जिसे जी रहे है वो लम्हा,
हर गुजिश्ता सदी पे भारी है !

मैं तो अब उससे दूर हूँ शायद,
जिस इमारत पे संगबारी है !

नाव कागज़ की छोड़ दी मैंने,
अब समंदर की ज़िम्मेदारी है !

फलसफा है हयात का मुश्किल,
वैसे मजमून इख्तियारी है !

रेत के घर बह गए लेकिन,
बारिशों का ख़ुलूस जारी है !

बेच डाला है दिन का हर लम्हा,
रात थोड़ी बहुत हमारी है !

कोई “नज़्मी” गुज़र कर देखे,
मैंने जो ज़िन्दगी गुज़री है !!