Home / Gham Shayari

Gham Shayari

Sadiyon Se Insan Ye Sunta Aaya Hai..

Sadiyon se insan ye sunta aaya hai,
Dukh ki dhup ke aage sukh ka saya hai.

Hum ko in sasti khushiyon ka lobh na do,
Hum ne soch samajh kar gham apnaya hai.

Jhuth to qatil thahra is ka kya rona,
Sach ne bhi insan ka khun bahaya hai.

Paidaish ke din se maut ki zad mein hain,
Is maqtal mein kaun hamein le aaya hai.

Awwal awwal jis dil ne barbaad kiya,
Aakhir aakhir wo dil hi kaam aaya hai.

Itne din ehsan kiya diwanon par,
Jitne din logon ne sath nibhaya hai. !!

सदियों से इंसान ये सुनता आया है,
दुख की धूप के आगे सुख का साया है !

हम को इन सस्ती ख़ुशियों का लोभ न दो,
हम ने सोच समझ कर ग़म अपनाया है !

झूठ तो क़ातिल ठहरा इस का क्या रोना,
सच ने भी इंसाँ का ख़ूँ बहाया है !

पैदाइश के दिन से मौत की ज़द में हैं,
इस मक़्तल में कौन हमें ले आया है !

अव्वल अव्वल जिस दिल ने बर्बाद किया,
आख़िर आख़िर वो दिल ही काम आया है !

इतने दिन एहसान किया दीवानों पर,
जितने दिन लोगों ने साथ निभाया है !!

#Sahir Ludhianvi Ghazal

 

Teri Duniya Mein Jine Se To Behtar Hai Ki Mar Jaayen..

Teri duniya mein jine se to behtar hai ki mar jaayen,
Wahi aansoo wahi aahein wahi gham hai jidhar jaayen.

Koi to aisa ghar hota jahan se pyar mil jata,
Wahi begane chehre hain jahan jaayen jidhar jaayen.

Are o aasman wale bata is mein bura kya hai,
Khushi ke chaar jhonke gar idhar se bhi guzar jaayen. !!

तेरी दुनिया में जीने से तो बेहतर है कि मर जाएँ,
वही आँसू वही आहें वही ग़म है जिधर जाएँ !

कोई तो ऐसा घर होता जहाँ से प्यार मिल जाता,
वही बेगाने चेहरे हैं जहाँ जाएँ जिधर जाएँ !

अरे ओ आसमाँ वाले बता इस में बुरा क्या है,
ख़ुशी के चार झोंके गर इधर से भी गुज़र जाएँ !!

Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Main Zindagi Ka Sath Nibhata Chala Gaya..

Main zindagi ka sath nibhata chala gaya,
Har fikr ko dhuyen mein udata chala gaya.

Barbaadiyon ka sog manana fuzul tha,
Barbaadiyon ka jashn manata chala gaya.

Jo mil gaya usi ko muqaddar samajh liya,
Jo kho gaya main us ko bhulata chala gaya.

Gham aur khushi mein farq na mahsus ho jahan,
Main dil ko us maqam pe lata chala gaya. !!

मैं ज़िंदगी का साथ निभाता चला गया,
हर फ़िक्र को धुएँ में उड़ाता चला गया !

बर्बादियों का सोग मनाना फ़ुज़ूल था,
बर्बादियों का जश्न मनाता चला गया !

जो मिल गया उसी को मुक़द्दर समझ लिया,
जो खो गया मैं उस को भुलाता चला गया !

ग़म और ख़ुशी में फ़र्क़ न महसूस हो जहाँ,
मैं दिल को उस मक़ाम पे लाता चला गया !!

Click Here For Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari Collection

 

Kabhi Khud Pe Kabhi Halat Pe Rona Aaya..

abhi khud pe kabhi halat pe rona aaya

Kabhi khud pe kabhi halat pe rona aaya,
Baat nikli to har ek baat pe rona aaya.

Hum to samjhe the ki hum bhul gaye hain un ko,
Kya hua aaj ye kis baat pe rona aaya.

Kis liye jite hain hum kis ke liye jite hain,
Barha aise sawalat pe rona aaya.

Kaun rota hai kisi aur ki khatir aye dost,
Sab ko apni hi kisi baat pe rona aaya. !!

कभी ख़ुद पे कभी हालात पे रोना आया,
बात निकली तो हर इक बात पे रोना आया !

हम तो समझे थे कि हम भूल गए हैं उन को,
क्या हुआ आज ये किस बात पे रोना आया !

किस लिए जीते हैं हम किस के लिए जीते हैं,
बारहा ऐसे सवालात पे रोना आया !

कौन रोता है किसी और की ख़ातिर ऐ दोस्त,
सब को अपनी ही किसी बात पे रोना आया !!

Click Here For Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari  Collection

 

Tang Aa Chuke Hain Kashmakash-E-Zindagi Se Hum..

Tang aa chuke hain kashmakash-e-zindagi se hum,
Thukra na den jahan ko kahin be-dili se hum.

Mayusi-e-maal-e-mohabbat na puchhiye,
Apnon se pesh aaye hain beganagi se hum.

Lo aaj hum ne tod diya rishta-e-umid,
Lo ab kabhi gila na karenge kisi se hum.

Ubhrenge ek bar abhi dil ke walwale,
Go dab gaye hain bar-e-gham-e-zindagi se hum.

Gar zindagi mein mil gaye phir ittifaq se,
Puchhenge apna haal teri bebasi se hum.

Allah-re fareb-e-mashiyyat ki aaj tak,
Duniya ke zulm sahte rahe khamushi se hum. !!

तंग आ चुके हैं कशमकश-ए-ज़िंदगी से हम,
ठुकरा न दें जहाँ को कहीं बे-दिली से हम !

मायूसी-ए-मआल-ए-मोहब्बत न पूछिए,
अपनों से पेश आए हैं बेगानगी से हम !

लो आज हम ने तोड़ दिया रिश्ता-ए-उमीद,
लो अब कभी गिला न करेंगे किसी से हम !

उभरेंगे एक बार अभी दिल के वलवले,
गो दब गए हैं बार-ए-ग़म-ए-ज़िंदगी से हम !

गर ज़िंदगी में मिल गए फिर इत्तिफ़ाक़ से,
पूछेंगे अपना हाल तिरी बेबसी से हम !

अल्लाह-रे फ़रेब-ए-मशिय्यत कि आज तक,
दुनिया के ज़ुल्म सहते रहे ख़ामुशी से हम !!

Click Here For Sahir Ludhianvi All Poetry Collection

Aate Aate Mera Naam Sa Rah Gaya..

Aate aate mera naam sa rah gaya,
Us ke honton pe kuchh kanpta rah gaya.

Raat mujrim thi daman bacha le gayi,
Din gawahon ki saf mein khada rah gaya.

Wo mere samne hi gaya aur main,
Raste ki tarah dekhta rah gaya.

Jhuth wale kahin se kahin badh gaye,
Aur main tha ki sach bolta rah gaya.

Aandhiyon ke irade to achchhe na the,
Ye diya kaise jalta hua rah gaya.

Us ko kandhon pe le ja rahe hain ‘Wasim’,
Aur wo jine ka haq mangta rah gaya. !!

आते आते मेरा नाम सा रह गया,
उस के होंटों पे कुछ काँपता रह गया !

रात मुजरिम थी दामन बचा ले गई,
दिन गवाहों की सफ़ में खड़ा रह गया !

वो मेरे सामने ही गया और मैं,
रास्ते की तरह देखता रह गया !

झूठ वाले कहीं से कहीं बढ़ गए,
और मैं था कि सच बोलता रह गया !

आँधियों के इरादे तो अच्छे न थे,
ये दीया कैसे जलता हुआ रह गया !

उस को काँधों पे ले जा रहे हैं ‘वसीम’,
और वो जीने का हक़ माँगता रह गया !! -Wasim Barelvi Ghazal

 

Tumhari Raah Mein Mitti Ke Ghar Nahi Aate..

Tumhari raah mein mitti ke ghar nahi aate,
Is liye to tumhein hum nazar nahi aate.

Mohabbaton ke dinon ki yehi kharabi hai,
Ye ruth jayen to laut kar nahi aate.

Jinhen saliqa hai tehzib-e-gham samajhne ka,
Unhin ke rone mein aansoo nazar nahi aate.

Khushi ki aankh mein aansoo ki bhi jagah rakhna,
Bure zamane kabhi puchh kar nahi aate.

Bisat-e-ishq pe badhna kise nahi aata,
Ye aur baat ki bachne ke ghar nahi aate.

“Wasim” zehan banate hain to wahi akhabaar,
Jo le ke ek bhi achchhi khabar nahi aate. !!

तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते,
इसीलिए तुम्हे हम नज़र नहीं आते !

मोहब्बतो के दिनों की यही खराबी है,
ये रूठ जाएँ तो लौट कर नहीं आते !

जिन्हें सलीका है तहजीब-ए-गम समझाने का,
उन्ही के रोने में आंसू नज़र नहीं आते !

खुशी की आँख में आंसू की भी जगह रखना,
बुरे ज़माने कभी पूछ कर नहीं आते !

बिसात-ए-इश्क़ पे बढ़ना किसे नहीं आता,
यह और बात कि बचने के घर नहीं आते !

“वसीम” जहन बनाते हैं तो वही अख़बार,
जो ले के एक भी अच्छी ख़बर नहीं आते !! -Wasim Barelvi Ghazal