Home / Gham Shayari

Gham Shayari

Aangan mein chhod aaye the jo ghaar dekh le..

Aangan mein chhod aaye the jo ghaar dekh le,
Kis haal mein hai in dinon ghar-bar dekh le.

Jab aa gaye hain shehar-e-tilismat ke qarib,
Kya chahti hai nargis-e-bimar dekh le.

Hansna-hansana chhute hue muddaten hui,
Bas thodi dur rah gayi diwar dekh le.

Arse se is dayar ki koi khabar nahi,
Mohlat mile to aaj ka akhbar dekh le.

Mushkil hai tera sath nibhana tamam umar,
Bikna hai na-guzir to bazaar dekh le.

Aashuftagi hamari yahan layi bar-bar,
Hai kya zarur tujh ko bhi har bar dekh le. !!

आँगन में छोड़ आए थे जो ग़ार देख लें,
किस हाल में है इन दिनों घर-बार देख लें !

जब आ गए हैं शहर-ए-तिलिस्मात के क़रीब,
क्या चाहती है नर्गिस-ए-बीमार देख लें !

हँसना-हँसाना छूटे हुए मुद्दतें हुईं,
बस थोड़ी दूर रह गई दीवार देख लें !

अर्से से इस दयार की कोई ख़बर नहीं,
मोहलत मिले तो आज का अख़बार देख लें !

मुश्किल है तेरा साथ निभाना तमाम उम्र,
बिकना है ना-गुज़ीर तो बाज़ार देख लें !

आशुफ़्तगी हमारी यहाँ लाई बार-बार,
है क्या ज़रूर तुझ को भी हर बार देख लें !!

 

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the..

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the,
Safine yun bhi kinare pe kab lagane the.

Khayal aata hai rah-rah ke laut jaane ka,
Safar se pahle humein apne ghar jalane the.

Guman tha ki samajh lenge mausamon ka mizaj,
Khuli jo aankh to zad pe sabhi thikane the.

Humein bhi aaj hi karna tha intezaar us ka,
Use bhi aaj hi sab wade bhul jaane the.

Talash jin ko hamesha buzurg karte rahe,
Na jaane kaun si duniya mein wo khazane the.

Chalan tha sab ke ghamon mein sharik rahne ka,
Ajib din the ajab sar-phire zamane the. !!

हवाएँ तेज़ थीं ये तो फ़क़त बहाने थे,
सफ़ीने यूँ भी किनारे पे कब लगाने थे !

ख़याल आता है रह-रह के लौट जाने का,
सफ़र से पहले हमें अपने घर जलाने थे !

गुमान था कि समझ लेंगे मौसमों का मिज़ाज,
खुली जो आँख तो ज़द पे सभी ठिकाने थे !

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का,
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे !

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे !

चलन था सब के ग़मों में शरीक रहने का,
अजीब दिन थे अजब सर-फिरे ज़माने थे !!

 

Aap ki aankh se gahra hai meri ruh ka zakhm..

Aap ki aankh se gahra hai meri ruh ka zakhm,
Aap kya soch sakenge meri tanhai ko.

Main to dam tod raha tha magar afsurda hayat,
Khud chali aai meri hausla-afzai ko.

Lazzat-e-gham ke siwa teri nigahon ke baghair,
Kaun samjha hai mere zakhm ki gahrai ko.

Main badhaunga teri shohrat-e-khush-bu ka nikhaar,
Tu dua de mere afsana-e-ruswai ko.

Wo to yun kahiye ki ek qaus-e-quzah phail gayi,
Warna main bhul gaya tha teri angdai ko. !!

आप की आँख से गहरा है मेरी रूह का ज़ख़्म,
आप क्या सोच सकेंगे मेरी तन्हाई को !

मैं तो दम तोड़ रहा था मगर अफ़्सुर्दा हयात,
ख़ुद चली आई मेरी हौसला-अफ़ज़ाई को !

लज़्ज़त-ए-ग़म के सिवा तेरी निगाहों के बग़ैर,
कौन समझा है मेरे ज़ख़्म की गहराई को !

मैं बढ़ाऊँगा तेरी शोहरत-ए-ख़ुश्बू का निखार,
तू दुआ दे मेरे अफ़्साना-ए-रुसवाई को !

वो तो यूँ कहिए कि एक क़ौस-ए-क़ुज़ह फैल गई,
वर्ना मैं भूल गया था तेरी अंगड़ाई को !!

 

Ye dil ye pagal dil mera kyun bujh gaya aawargi..

Ye dil ye pagal dil mera kyun bujh gaya aawargi,
Is dasht mein ek shehar tha wo kya hua aawargi.

Kal shab mujhe be-shakl ki aawaz ne chaunka diya,
Main ne kaha tu kaun hai us ne kaha aawargi.

Logo bhala is shehar mein kaise jiyenge hum jahan,
Ho jurm tanha sochna lekin saza aawargi.

Ye dard ki tanhaiyan ye dasht ka viran safar,
Hum log to ukta gaye apni suna aawargi.

Ek ajnabi jhonke ne jab puchha mere gham ka sabab,
Sahra ki bhigi ret par main ne likha aawargi.

Us samt wahshi khwahishon ki zad mein paiman-e-wafa,
Us samt lahron ki dhamak kachcha ghada aawargi.

Kal raat tanha chand ko dekha tha main ne khwab mein,
“Mohsin” mujhe ras aayegi shayad sada aawargi. !!

ये दिल ये पागल दिल मेरा क्यूँ बुझ गया आवारगी,
इस दश्त में एक शहर था वो क्या हुआ आवारगी !

कल शब मुझे बे-शक्ल की आवाज़ ने चौंका दिया,
मैं ने कहा तू कौन है उस ने कहा आवारगी !

लोगो भला इस शहर में कैसे जिएँगे हम जहाँ,
हो जुर्म तन्हा सोचना लेकिन सज़ा आवारगी !

ये दर्द की तन्हाइयाँ ये दश्त का वीराँ सफ़र,
हम लोग तो उक्ता गए अपनी सुना आवारगी !

एक अजनबी झोंके ने जब पूछा मेरे ग़म का सबब,
सहरा की भीगी रेत पर मैं ने लिखा आवारगी !

उस सम्त वहशी ख़्वाहिशों की ज़द में पैमान-ए-वफ़ा,
उस सम्त लहरों की धमक कच्चा घड़ा आवारगी !

कल रात तन्हा चाँद को देखा था मैं ने ख़्वाब में,
“मोहसिन” मुझे रास आएगी शायद सदा आवारगी !!

 

Jo wo mere na rahe main bhi kab kisi ka raha..

Jo wo mere na rahe main bhi kab kisi ka raha,
Bichhad ke un se saliqa na zindagi ka raha.

Labon se ud gaya jugnu ki tarah naam us ka,
Sahaara ab mere ghar mein na raushni ka raha.

Guzarne ko to hazaron hi qafile guzre,
Zameen pe naqsh-e-qadam bas kisi-kisi ka raha. !!

जो वो मेरे न रहे मैं भी कब किसी का रहा,
बिछड़ के उन से सलीक़ा न ज़िंदगी का रहा !

लबों से उड़ गया जुगनू की तरह नाम उस का,
सहारा अब मेरे घर में न रौशनी का रहा !

गुज़रने को तो हज़ारों ही क़ाफ़िले गुज़रे,
ज़मीन पे नक़्श-ए-क़दम बस किसी-किसी का रहा !!

Kya jaane kis ki pyas bujhane kidhar gayi..

Kya jaane kis ki pyas bujhane kidhar gayi,
Is sar pe jhum ke jo ghatayen guzar gayi.

Diwana puchhta hai ye lahron se bar-bar,
Kuchh bastiyan yahan thi batao kidhar gayi.

Ab jis taraf se chahe guzar jaye carvaan,
Viraniyan to sab mere dil mein utar gayi.

Paimana tutne ka koi gham nahi mujhe,
Gham hai to ye ki chandni raatein bikhar gayi.

Paya bhi un ko kho bhi diya chup bhi ho rahe,
Ek mukhtasar si raat mein sadiyan guzar gayi. !!

क्या जाने किस की प्यास बुझाने किधर गईं,
इस सर पे झूम के जो घटाएँ गुज़र गईं !

दीवाना पूछता है ये लहरों से बार-बार,
कुछ बस्तियाँ यहाँ थीं बताओ किधर गईं !

अब जिस तरफ़ से चाहे गुज़र जाए कारवाँ,
वीरानियाँ तो सब मेरे दिल में उतर गईं !

पैमाना टूटने का कोई ग़म नहीं मुझे,
ग़म है तो ये कि चाँदनी रातें बिखर गईं !

पाया भी उन को खो भी दिया चुप भी हो रहे,
एक मुख़्तसर सी रात में सदियाँ गुज़र गईं !!

 

Itna to zindagi mein kisi ke khalal pade..

Itna to zindagi mein kisi ke khalal pade,
Hansne se ho sukun na rone se kal pade.

Jis tarah hans raha hun main pi-pi ke garm ashk,
Yun dusra hanse to kaleja nikal pade.

Ek tum ki tum ko fikr-e-nasheb-o-faraaz hai,
Ek hum ki chal pade to bahar-haal chal pade.

Saqi sabhi ko hai gham-e-tishna-labi magar,
Mai hai usi ki naam pe jis ke ubal pade.

Muddat ke baad us ne jo ki lutf ki nigah,
Ji khush to ho gaya magar aansu nikal pade. !!

इतना तो ज़िंदगी में किसी के ख़लल पड़े,
हँसने से हो सुकून न रोने से कल पड़े !

जिस तरह हँस रहा हूँ मैं पी-पी के गर्म अश्क,
यूँ दूसरा हँसे तो कलेजा निकल पड़े !

एक तुम कि तुम को फ़िक्र-ए-नशेब-ओ-फ़राज़ है,
एक हम कि चल पड़े तो बहर-हाल चल पड़े !

साक़ी सभी को है ग़म-ए-तिश्ना-लबी मगर,
मय है उसी की नाम पे जिस के उबल पड़े !

मुद्दत के बाद उस ने जो की लुत्फ़ की निगाह,
जी ख़ुश तो हो गया मगर आँसू निकल पड़े !!