Thursday , April 9 2020

Gardish Shayari

Khali hai abhi jaam main kuch soch raha hun..

Khali hai abhi jaam main kuch soch raha hun,
Aye gardish-e-ayyam main kuchh soch raha hun.

Saaki tujhe ek thodi si taklif to hogi,
Saghar ko zara tham main kuchh soch raha hun.

Pahle badi raghbat thi tere naam se mujh ko,
Ab sun ke tera naam main kuchh soch raha hun.

Idrak abhi pura taawun nahi karta,
Dai bada-e-gulfam main kuchh soch raha hun.

Hal kuch to nikal aayega halat ki zid ka,
Aye kasrat-e-aalam main kuchh soch raha hun.

Phir aaj “Adam” sham se ghamgin hai tabiyat,
Phir aaj sar-e-sham main kuchh soch raha hun. !!

खाली है अभी जाम मैं कुछ सोच रहा हूँ,
ऐ गर्दिश-ए-अय्याम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

साक़ी तुझे एक थोड़ी सी तकलीफ तो होगी,
सागर को ज़रा थाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

पहले बड़ी रग़बत थी तेरे नाम से मुझको,
अब सुन के तेरा नाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

इदराक अभी पूरा तआवुन नहीं करता,
दय बादा-ए-गुलफ़ाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

हल कुछ तो निकल आएगा हालात की ज़िद्द का,
ऐ कसरत-ए-आलम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

फिर आज “अदम” शाम से ग़मगीन है तबियत,
फिर आज सर-ए-शाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !!

 

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye..

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye,
Tera hath hath mein aa gaya ki charagh rah mein jal gaye.

Wo lajaye mere sawal par ki utha sake na jhuka ke sar,
Udi zulf chehre pe is tarah ki shabon ke raaz machal gaye.

Wahi baat jo wo na kah sake mere sher-o-naghma mein aa gayi,
Wahi lab na main jinhen chhu saka qadah-e-sharab mein dhal gaye.

Wahi aastan hai wahi jabin wahi ashk hai wahi aastin,
Dil-e-zar tu bhi badal kahin ki jahan ke taur badal gaye.

Tujhe chashm-e-mast pata bhi hai ki shabab garmi-e-bazm hai,
Tujhe chashm-e-mast khabar bhi hai ki sab aabgine pighal gaye.

Mere kaam aa gayi aakhirash yahi kawishen yahi gardishen,
Badhin is qadar meri manzilen ki qadam ke khar nikal gaye. !!

मुझे सहल हो गईं मंज़िलें वो हवा के रुख़ भी बदल गए,
तेरा हाथ हाथ में आ गया कि चराग़ राह में जल गए !

वो लजाए मेरे सवाल पर कि उठा सके न झुका के सर,
उड़ी ज़ुल्फ़ चेहरे पे इस तरह कि शबों के राज़ मचल गए !

वही बात जो वो न कह सके मेरे शेर-ओ-नग़्मा में आ गई,
वही लब न मैं जिन्हें छू सका क़दह-ए-शराब में ढल गए !

वही आस्ताँ है वही जबीं वही अश्क है वही आस्तीं,
दिल-ए-ज़ार तू भी बदल कहीं कि जहाँ के तौर बदल गए !

तुझे चश्म-ए-मस्त पता भी है कि शबाब गर्मी-ए-बज़्म है,
तुझे चश्म-ए-मस्त ख़बर भी है कि सब आबगीने पिघल गए !

मेरे काम आ गईं आख़िरश यही काविशें यही गर्दिशें,
बढ़ीं इस क़दर मेरी मंज़िलें कि क़दम के ख़ार निकल गए !!

Kamar bandhe hue chalne ko yaan sab yaar baithe hain..

Kamar bandhe hue chalne ko yaan sab yaar baithe hain,
Bahut aage gaye baqi jo hain tayyar baithe hain.

Na chhed ai nikhat-e-baad-e-bahaari rah lag apni,
Tujhe atkheliyan sujhi hain hum be-zar baithe hain.

Khayal un ka pare hai arsh-e-azam se kahin saqi,
Gharaz kuch aur dhun mein is ghadi mai-khwar baithe hain.

Basan-e-naqsh-e-pa-e-rah-rawan ku-e-tamanna mein,
Nahi uthne ki taqat kya karen lachaar baithe hain.

Ye apni chaal hai uftadgi se in dinon pahron,
Nazar aaya jahan par saya-e-diwar baithe hain.

Kahen hain sabr kis ko aah nang o nam hai kya shai,
Gharaz ro pit kar un sab ko hum yak bar baithe hain.

Kahin bose ki mat jurat dila kar baithiyo un se,
Abhi is had ko wo kaifi nahi hushyar baithe hain.

Najibon ka ajab kuch haal hai is daur mein yaron,
Jise puchho yahi kahte hain hum bekar baithe hain.

Nai ye waza sharmane ki sikhi aaj hai tum ne,
Hamare pas sahab warna yun sau bar baithe hain.

Kahan gardish falak ki chain deti hai suna “Insha”,
Ghanimat hai ki hum surat yahan do-chaar baithe hain. !!

कमर बाँधे हुए चलने को याँ सब यार बैठे हैं,
बहुत आगे गए बाक़ी जो हैं तैयार बैठे हैं !

न छेड़ ऐ निकहत-ए-बाद-ए-बहारी राह लग अपनी,
तुझे अटखेलियाँ सूझी हैं हम बे-ज़ार बैठे हैं !

ख़याल उन का परे है अर्श-ए-आज़म से कहीं साक़ी,
ग़रज़ कुछ और धुन में इस घड़ी मय-ख़्वार बैठे हैं !

बसान-ए-नक़्श-ए-पा-ए-रह-रवाँ कू-ए-तमन्ना में,
नहीं उठने की ताक़त क्या करें लाचार बैठे हैं !

ये अपनी चाल है उफ़्तादगी से इन दिनों पहरों,
नज़र आया जहाँ पर साया-ए-दीवार बैठे हैं !

कहें हैं सब्र किस को आह नंग ओ नाम है क्या शय,
ग़रज़ रो पीट कर उन सब को हम यक बार बैठे हैं !

कहीं बोसे की मत जुरअत दिला कर बैठियो उन से,
अभी इस हद को वो कैफ़ी नहीं होशियार बैठे हैं !

नजीबों का अजब कुछ हाल है इस दौर में यारो,
जिसे पूछो यही कहते हैं हम बेकार बैठे हैं !

नई ये वज़्अ शरमाने की सीखी आज है तुम ने,
हमारे पास साहब वर्ना यूँ सौ बार बैठे हैं !

कहाँ गर्दिश फ़लक की चैन देती है सुना “इंशा”,
ग़नीमत है कि हम सूरत यहाँ दो-चार बैठे हैं !!

Ye fakhar to hasil hai ke bure hain ke bhale hain

Ye fakhar to hasil hai ke bure hain ke bhale hain,
Do-char kadam hum bhi tere sath chale hain.

Jalna to chiraghon ka muqaddar hai azal se,
Ye dil ke kanwal hain ke bujhe hain na jale hain.

The kitne sitare ke sar-e-shaam hi dube,
Hangam-e-seher kitne hi khurdheed dhale hain.

Jo jhel gaye hans ke kari dhoop ke tewar,
Taroon ki khunk chhaon mein wo log jale hain.

Ek shama bujhaee to kai or jala li,
Hum gardish-e-douran se bari chaal chale hain !!

ये फ़ख़र तो हासिल है के बुरे हैं कि भले हैं,
दो-चार क़दम हम भी तेरे साथ चले हैं !

जलना तो चिराग़ों का मुक़द्दर है अज़ल से,
ये दिल के कँवल हैं के बुझे हैं न जले हैं !

थे कितने सितारे के सर-ए-शाम ही डूबे,
हंगम-इ-सेहर कितने ही खुरदीद ढले हैं !

जो झेल गए हंस के कड़ी धूप के तेवर,
तारों की खुनक छाओं मैं वो लोग जले हैं !

एक शमा बुझाई तो कई और झाला ली,
हम गर्दिश-ए-दौरान से बरी चाल चले हैं !!

Khush hun ki zindagi ne koi kaam kar diya

Khush hun ki zindagi ne koi kaam kar diya,
Mujh ko supurd-e gardish-e ayaam kar diya.

Saaqi siyaah-khana-e-hasti mein dekhna,
Roshan charaagh kis ne sar-e shaam kar diya.

Pehle mere khuloos ko dete rahe fareb,
Aakhir mere khuloos ko badnaam kar diya.

Kitni duaayen dun teri zulf-e daraaz ko,
Kitna waseea silsila-e daam kar diya.

Wo chashm-e mast kitni khabardaar thi “Adam”,
Khud hosh mein rahi, humein badnaam kar diya !!

खुश हूँ की ज़िन्दगी ने कोई काम कर दिया,
मुझ को सुपुर्द-ए गर्दिश-ए अयाम कर दिया !

साक़ी सियाह-खाना-ए-हस्ती में देखना,
रोशन चराग़ किस ने सर-ए शाम कर दिया !

पहले मेरे ख़ुलूस को देते रहे फ़रेब,
आखिर मेरे ख़ुलूस को बदनाम कर दिया !

कितनी दुआएं दूँ तेरी ज़ुल्फ़-ए दराज़ को,
कितना वसीअ सिलसिला-ए दाम कर दिया !

वो चश्म-ए-मस्त कितनी ख़बरदार थी “अदम”,
खुद होश में रही, हमें बदनाम कर दिया !!