Home / Gali Shayari

Gali Shayari

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain..

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain,
So us ke shehar mein kuchh din thahar ke dekhte hain.

Suna hai rabt hai us ko kharab-haalon se,
So apne aap ko barbaad kar ke dekhte hain.

Suna hai dard ki gahak hai chashm-e-naz us ki,
So hum bhi us ki gali se guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ko bhi hai shair-o-shayari se shaghaf,
So hum bhi moajize apne hunar ke dekhte hain.

Suna hai bole to baaton se phool jhadte hain,
Ye baat hai to chalo baat kar ke dekhte hain.

Suna hai raat use chand takta rahta hai,
Sitare baam-e-falak se utar ke dekhte hain.

Suna hai din ko use titliyan satati hain,
Suna hai raat ko jugnu thahar ke dekhte hain.

Suna hai hashr hain us ki ghazal si aankhen,
Suna hai us ko hiran dasht bhar ke dekhte hain.

Suna hai raat se badh kar hain kakulen us ki,
Suna hai sham ko saye guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ki siyah-chashmagi qayamat hai,
So us ko surma-farosh aah bhar ke dekhte hain.

Suna hai us ke labon se gulab jalte hain,
So hum bahaar pe ilzam dhar ke dekhte hain.

Suna hai aaina timsal hai jabin us ki,
Jo sada dil hain use ban-sanwar ke dekhte hain.

Suna hai jab se hamail hain us ki gardan mein,
Mizaj aur hi lal o guhar ke dekhte hain.

Suna hai chashm-e-tasawwur se dasht-e-imkan mein,
Palang zawiye us ki kamar ke dekhte hain.

Suna hai us ke badan ki tarash aisi hai,
Ki phool apni qabayen katar ke dekhte hain.

Wo sarw-qad hai magar be-gul-e-murad nahi,
Ki us shajar pe shagufe samar ke dekhte hain.

Bas ek nigah se lutta hai qafila dil ka,
So rah-rawan-e-tamanna bhi dar ke dekhte hain.

Suna hai us ke shabistan se muttasil hai bahisht,
Makin udhar ke bhi jalwe idhar ke dekhte hain.

Ruke to gardishen us ka tawaf karti hain,
Chale to us ko zamane thahar ke dekhte hain.

Kise nasib ki be-pairahan use dekhe,
Kabhi kabhi dar o diwar ghar ke dekhte hain.

Kahaniyan hi sahi sab mubaalghe hi sahi,
Agar wo khwab hai tabir kar ke dekhte hain.

Ab us ke shehar mein thahren ki kuch kar jayen,
“Faraz” aao sitare safar ke dekhte hain. !!

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं,
सो उस के शहर में कुछ दिन ठहर के देखते हैं !

सुना है रब्त है उस को ख़राब-हालों से,
सो अपने आप को बरबाद कर के देखते हैं !

सुना है दर्द की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उस की,
सो हम भी उस की गली से गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस को भी है शेर-ओ-शायरी से शग़फ़,
सो हम भी मोजिज़े अपने हुनर के देखते हैं !

सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते हैं,
ये बात है तो चलो बात कर के देखते हैं !

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है,
सितारे बाम-ए-फ़लक से उतर के देखते हैं !

सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती हैं,
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते हैं !

सुना है हश्र हैं उस की ग़ज़ाल सी आँखें,
सुना है उस को हिरन दश्त भर के देखते हैं !

सुना है रात से बढ़ कर हैं काकुलें उस की,
सुना है शाम को साए गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस की सियह-चश्मगी क़यामत है,
सो उस को सुरमा-फ़रोश आह भर के देखते हैं !

सुना है उस के लबों से गुलाब जलते हैं,
सो हम बहार पे इल्ज़ाम धर के देखते हैं !

सुना है आइना तिमसाल है जबीं उस की,
जो सादा दिल हैं उसे बन-सँवर के देखते हैं !

सुना है जब से हमाइल हैं उस की गर्दन में,
मिज़ाज और ही लाल ओ गुहर के देखते हैं !

सुना है चश्म-ए-तसव्वुर से दश्त-ए-इम्काँ में,
पलंग ज़ाविए उस की कमर के देखते हैं !

सुना है उस के बदन की तराश ऐसी है,
कि फूल अपनी क़बाएँ कतर के देखते हैं !

वो सर्व-क़द है मगर बे-गुल-ए-मुराद नहीं,
कि उस शजर पे शगूफ़े समर के देखते हैं !

बस एक निगाह से लुटता है क़ाफ़िला दिल का,
सो रह-रवान-ए-तमन्ना भी डर के देखते हैं !

सुना है उस के शबिस्ताँ से मुत्तसिल है बहिश्त,
मकीं उधर के भी जल्वे इधर के देखते हैं !

रुके तो गर्दिशें उस का तवाफ़ करती हैं,
चले तो उस को ज़माने ठहर के देखते हैं !

किसे नसीब कि बे-पैरहन उसे देखे,
कभी कभी दर ओ दीवार घर के देखते हैं !

कहानियाँ ही सही सब मुबालग़े ही सही,
अगर वो ख़्वाब है ताबीर कर के देखते हैं !

अब उस के शहर में ठहरें कि कूच कर जाएँ,
“फ़राज़” आओ सितारे सफ़र के देखते हैं !!

 

Tumhein jine mein aasani bahut hai..

Tumhein jine mein aasani bahut hai,
Tumhare khoon mein pani bahut hai.

Kabutar ishq ka utre to kaise,
Tumhari chhat pe nigarani bahut hai.

Irada kar liya gar khud-kushi ka,
To khud ki aankh ka pani bahut hai.

Zahar suli ne gali goliyon ne,
Hamari zat pahchani bahut hai.

Tumhare dil ki man-mani meri jaan,
Hamare dil ne bhi mani bahut hai. !!

तुम्हें जीने में आसानी बहुत है,
तुम्हारे ख़ून में पानी बहुत है !

कबूतर इश्क़ का उतरे तो कैसे,
तुम्हारी छत पे निगरानी बहुत है !

इरादा कर लिया गर ख़ुद-कुशी का,
तो ख़ुद की आँख का पानी बहुत है !

ज़हर सूली ने गाली गोलियों ने,
हमारी ज़ात पहचानी बहुत है !

तुम्हारे दिल की मन-मानी मेरी जान,
हमारे दिल ने भी मानी बहुत है !!

 

Laayi phir ek laghzish-e-mastana tere shehar mein..

Laayi phir ek laghzish-e-mastana tere shehar mein,
Phir banengi masjiden mai-khana tere shehar mein.

Aaj phir tutengi tere ghar ki nazuk khidkiyan,
Aaj phir dekha gaya diwana tere shehar mein.

Jurm hai teri gali se sar jhuka kar lautna,
Kufr hai pathrav se ghabrana tere shehar mein.

Shah-name likhe hain khandaraat ki har int par,
Har jagah hai dafn ek afsana tere shehar mein.

Kuchh kanizen jo harim-e-naz mein hain baryad,
Mangti hain jaan-o-dil nazrana tere shehar mein.

Nangi sadkon par bhatak kar dekh jab marti hai raat,
Rengta hai har taraf virana tere shehar mein. !!

लाई फिर इक लग़्ज़िश-ए-मस्ताना तेरे शहर में,
फिर बनेंगी मस्जिदें मय-ख़ाना तेरे शहर में !

आज फिर टूटेंगी तेरे घर की नाज़ुक खिड़कियाँ,
आज फिर देखा गया दीवाना तेरे शहर में !

जुर्म है तेरी गली से सर झुका कर लौटना,
कुफ़्र है पथराव से घबराना तेरे शहर में !

शाह-नामे लिक्खे हैं खंडरात की हर ईंट पर,
हर जगह है दफ़्न एक अफ़्साना तेरे शहर में !

कुछ कनीज़ें जो हरीम-ए-नाज़ में हैं बारयाब,
माँगती हैं जान-ओ-दिल नज़राना तेरे शहर में !

नंगी सड़कों पर भटक कर देख जब मरती है रात,
रेंगता है हर तरफ़ वीराना तेरे शहर में !!

 

Aakhiri baar aah kar li hai..

Aakhiri baar aah kar li hai,
Maine khud se nibaah kar li hai.

Apne sar ek bala to leni thi,
Maine wo zulf apne sar li hai.

Din bhala kis tarah guzaroge,
Wasl ki shab bhi ab guzar li hai.

Jaan-nisaron pe war kya karna,
Maine bas haath mein sipar li hai.

Jo bhi mango udhaar dunga main,
Us gali mein dukaan kar li hai.

Mera kashkol kab se khali tha,
Maine is mein sharab bhar li hai.

Aur to kuchh nahi kiya maine,
Apni haalat tabaah kar li hai.

Shaikh aaya tha mohtasib ko liye,
Maine bhi un ki wo khabar li hai. !!

आख़िरी बार आह कर ली है,
मैंने ख़ुद से निबाह कर ली है !

अपने सर इक बला तो लेनी थी,
मैंने वो ज़ुल्फ़ अपने सर ली है !

दिन भला किस तरह गुज़ारोगे,
वस्ल की शब भी अब गुज़र ली है !

जाँ-निसारों पे वार क्या करना,
मैंने बस हाथ में सिपर ली है !

जो भी माँगो उधार दूँगा मैं,
उस गली में दुकान कर ली है !

मेरा कश्कोल कब से ख़ाली था,
मैंने इस में शराब भर ली है !

और तो कुछ नहीं किया मैंने,
अपनी हालत तबाह कर ली है !

शैख़ आया था मोहतसिब को लिए,
मैंने भी उन की वो ख़बर ली है !!

Phir dil se aa rahi hai sada us gali mein chal..

Phir dil se aa rahi hai sada us gali mein chal,
Shayad mile ghazal ka pata us gali mein chal.

Kab se nahi hua hai koi sher kaam ka,
Ye sher ki nahi hai faza us gali mein chal.

Woh baam-o-dar wo log wo ruswaiyon ke zakhm,
Hain sab ke sab aziz juda us gali mein chal.

Us phool ke baghair bahut ji udas hai,
Mujh ko bhi sath le ke saba us gali mein chal.

Duniya to chahti hai yunhi fasle rahen,
Duniya ke mashwaron pe na jaa us gali mein chal.

Be-nur o be-asar hai yahan ki sada-e-saz,
Tha us sukut mein bhi maza us gali mein chal.

“Jalib” pukarti hain wo shola-nawaiyan,
Ye sard rut ye sard hawa us gali mein chal. !!

फिर दिल से आ रही है सदा उस गली में चल,
शायद मिले ग़ज़ल का पता उस गली में चल !

कब से नहीं हुआ है कोई शेर काम का,
ये शेर की नहीं है फ़ज़ा उस गली में चल !

वो बाम ओ दर वो लोग वो रुस्वाइयों के ज़ख़्म,
हैं सब के सब अज़ीज़ जुदा उस गली में चल !

उस फूल के बग़ैर बहुत जी उदास है,
मुझ को भी साथ ले के सबा उस गली में चल !

दुनिया तो चाहती है यूँही फ़ासले रहें,
दुनिया के मशवरों पे न जा उस गली में चल !

बे-नूर ओ बे-असर है यहाँ की सदा-ए-साज़,
था उस सुकूत में भी मज़ा उस गली में चल !

“जालिब” पुकारती हैं वो शोला-नवाइयाँ,
ये सर्द रुत ये सर्द हवा उस गली में चल !!