Home / Four Line Poetry

Four Line Poetry

Koi deewana kehta hain koi pagal samjhta hai..

Koi deewana kehta hain koi pagal samjhta hai,
Magar dharti ki bechani ko bas badal samjhta hai,
Main tujhse dur kaisa hu, tu mujhse dur kaisi hai,
Yeh tera dil samjhta hain ya mera dil samjhta hai.

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है,
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है,
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर कैसी है,
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है !

Mohobbat ek ehsaason ki paawan si kahani hain,
Kabhi kabira deewana tha kabhi meera deewani hain,
Yahaan sab log kehte hain meri aakho mein aansoo hain,
Jo tu samjhe toh moti hain jo na samjhe toh paani hain.

मोहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है,
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है,
यहाँ सब लोग कहते हैं, मेरी आंखों में आँसू हैं,
जो तू समझे तो मोती है, जो ना समझे तो पानी है !

Badalne ko toh in aankhon ke manzar kam nahi badle,
Tumhari yaad ke mausam humhare gham nahi badle,
Tu agle janm mein humse milogi tab toh manogi,
Jamane aur sadi ki is badal mein hum nahi badle.

बदलने को तो इन आंखों के मंजर कम नहीं बदले,
तुम्हारी याद के मौसम हमारे गम नहीं बदले,
तुम अगले जन्म में हमसे मिलोगी तब तो मानोगी,
जमाने और सदी की इस बदल में हम नहीं बदले !

Humein maloom hai do dil judaai seh nahi sakte,
Magar rasmein-wafa ye hai ki ye bhi kah nahi sakte,
Zara kuchh der tum un sahilon ki chikh sun bhar lo,
Jo lahron mein toh dube hai magar sang bah nahi sakte.

हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते,
मगर रस्मे-वफ़ा ये है कि ये भी कह नहीं सकते,
जरा कुछ देर तुम उन साहिलों कि चीख सुन भर लो,
जो लहरों में तो डूबे हैं, मगर संग बह नहीं सकते !

Samandar peer ka andar hain lekin ro nahi sakta,
Yeh aansu pyaar ka moti hain isko kho nahi sakta,
Meri chahat ko dulhan tu bana lena magar sun le,
Jo mera ho nahi paya woh tera ho nahi sakta.

समंदर पीर का अन्दर है, लेकिन रो नही सकता,
यह आँसू प्यार का मोती है, इसको खो नही सकता,
मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना, मगर सुन ले,
जो मेरा हो नही पाया, वो तेरा हो नही सकता !

 

Is martaba bhi aaye hain number tere to kam..

Is martaba bhi aaye hain number tere to kam,
Ruswaiyon ka kya meri daftar banega tu,
Bete ke munh pe de ke chapat bap ne kaha,
Phir fail ho gaya hai minister banega tu. !!

इस मर्तबा भी आए हैं नंबर तेरे तो कम,
रुस्वाइयों का क्या मेरी दफ़्तर बनेगा तू,
बेटे के मुँह पे दे के चपत बाप ने कहा,
फिर फ़ेल हो गया है मिनिस्टर बनेगा तू !!

Wo bhi kya log the aasan thi raahen jinki..

Wo bhi kya log the aasan thi raahen jinki,
Band aankhe kiye ek simt chale jate the,
Akl-o-dil khwab-o-haqikat ki na uljhan na khalish,
Mukhtlif jalwe nigahon ko na bahlate the.

Ishq saada bhi tha bekhud bhi junupesha bhi,
Husn ko apni adaon pe hijab aata tha,
Phool khilte the to phoolon mein nasha hota tha,
Raat dhalti thi to shishon mein shabab aata tha.

Chandni kaifasar ruhafza hoti thi,
Abr aata tha to badmast bhi ho jate the,
Din mein shorish bhi hua karti thi hangame bhi,
Raat ki godh mein muh dhaanp ke so jate the.

Narm rou waqt ke dhaare pe safine the rwan,
Sahil-o-bah ke aain na badlate the kabhi,
Nakhudaon pe bharosa tha mukddar pe yakeen,
Chadar-e-aab se tufaan na ublate the kabhi,

Hum ke tufaanon ke paale bhi sataye bhi hai,
Brk-o-baaraan me wo hi shamme jalaye kaise,
Ye jo aatishkda duniya mein bhadak uthta hai,
Aansuon se use har baar bujhaye kaise.

Kar diya bark-o-bukharaat ne mahshar barpa,
Apne daftar mein litafat ke siwa kuch bhi nahi,
Ghir gaye waqt ki beraham kashakash me magar,
Pass tahjeeb ki doulat ke siwa kuch bhi nahi.

Ye andhera ye talatum ye hawaon ka kharosh,
Is mein taron ki subuk narm ziya kya karti,
Talkhi-e-jist se kadwa hua aashiq ka mizaz,
Nigah-e-yaar ki masoom ada kya karti.

Safar aasan tha to manzil bhi badi roushan thi,
Aaj kis darjaa purasrar hai raahen apni,
Kitni parchaiya aati hai tajlli ban kar,
Kitne jalwon se uljhati hai nigahe apni.

वो भी क्या लोग थे आसान थी राहें जिनकी,
बंद आँखे किये इक सिम्त चले जाते थे,
अक्ल-ओ-दिल ख्वाब-ओ-हक़ीक़त की न उलझन न खलिश,
मुख्तलिफ जलवे निगाहों को न बहलाते थे !

इश्क़ सादा भी था बेखुद भी जुनुपेशा भी,
हुस्न को अपनी अदाओं पे हिजाब आता था,
फूल खिलते थे तो फूलों में नशा होता था,
रात ढलती थी तो शीशों में शबाब आता था !

चांदनी कैफअसर रूहअफजा होती थी,
अब्र आता था तो बदमस्त भी हो जाते थे,
दिन में शोरीश भी हुआ करती थी हंगामे भी,
रात की गोद में मुह ढांप के सो जाते थे !

नरम रौ वक़्त के धारे पे सफीने थे रवां,
साहिल-ओ-बह के आइन न बदलते थे कभी,
नाख़ुदाओं पे भरोसा था मुकद्दर पे यकीन,
चादर-इ-आब से तूफ़ान न उबलते थे कभी !

हम के तुफानो के पाले भी सताए भी है,
बर्क-ओ-बारां में वो ही शम्मे जलाये कैसे,
ये जो आतिशकदा दुनिया में भड़क उठता है,
आंसुओं से उसे हर बार बुझाए कैसे !

कर दिया बारक-ओ-बुखरात ने महशर बरपा,
अपने दफ्तर में लताफत के सिवा कुछ भी नहीं,
घिर गए वक़्त की बेरहम कशाकश में मगर,
पास तहजीब की दौलत के सिवा कुछ भी नहीं !

ये अँधेरा ये तलातुम ये हवाओं का खरोश,
इस में तारों की सुबुक नरम जिया क्या करती,
तल्खी-ए-जीस्त से कड़वा हुआ आशिक़ का मिज़ाज़,
निगाह-ए-यार की मासूम अदा क्या करती !

सफर आसान था तो मंज़िल भी बड़ी रौशन थी,
आज किस दर्जा पूरअसरार है राहें अपनी,
कितनी परछाईया आती है तजल्ली बन कर,
कितने जलवों से उलझती है निगाहे अपनी !!