Home / Fareb Shayari

Fareb Shayari

Matlab muamalat ka kuchh pa gaya hun main..

Matlab muamalat ka kuchh pa gaya hun main,
Hans kar fareb-e-chashm-e-karam kha gaya hun main.

Bas inteha hai chhodiye bas rahne dijiye,
Khud apne etimad se sharma gaya hun main.

Saqi zara nigah mila kar to dekhna,
Kambakht hosh mein to nahi aa gaya hun main.

Shayad mujhe nikal ke pachhta rahe hon aap,
Mehfil mein is khayal se phir aa gaya hun main.

Kya ab hisab bhi tu mera lega hashr mein,
Kya ye itab kam hai yahan aa gaya hun main.

Main ishq hun mera bhala kya kaam dar se,
Wo shara thi jise wahan latka gaya hun main.

Nikla tha mai-kade se ki ab ghar chalun “Adam”,
Ghabra ke su-e-mai-kada phir aa gaya hun main. !!

मतलब मुआ’मलात का कुछ पा गया हूँ मैं,
हँस कर फ़रेब-ए-चश्म-ए-करम खा गया हूँ मैं !

बस इंतिहा है छोड़िए बस रहने दीजिए,
ख़ुद अपने एतिमाद से शर्मा गया हूँ मैं

साक़ी ज़रा निगाह मिला कर तो देखना,
कम्बख़्त होश में तो नहीं आ गया हूँ मैं !

शायद मुझे निकाल के पछता रहे हों आप,
महफ़िल में इस ख़याल से फिर आ गया हूँ मैं !

क्या अब हिसाब भी तू मेरा लेगा हश्र में,
क्या ये इताब कम है यहाँ आ गया हूँ मैं !

मैं इश्क़ हूँ मेरा भला क्या काम दार से,
वो शरअ थी जिसे वहाँ लटका गया हूँ मैं !

निकला था मय-कदे से कि अब घर चलूँ “अदम”,
घबरा के सू-ए-मय-कदा फिर आ गया हूँ मैं !!

 

Dekh kar dil-kashi zamane ki..

Dekh kar dil-kashi zamane ki,
Aarzoo hai fareb khane ki.

Aye gham-e-zindagi na ho naraaz,
Mujh ko aadat hai muskurane ki.

Zulmaton se na dar ki raste mein,
Roshani hai sharab-khane ki.

Aa tere gesuon ko pyar karun,
Raat hai mishalen jalane ki.

Kis ne saghar “Adam buland kiya,
Tham gayi gardishen zamane ki. !!

देख कर दिल-कशी ज़माने की,
आरज़ू है फरेब खाने की !

ऐ ग़म-ए-ज़िन्दगी न हो नाराज,
मुझ को आदत है मुस्कुराने की !

ज़ुल्मतों से न डर की रास्ते में,
रोशनी है शराब-खाने की !

आ तेरे गेसुओं को प्यार करूँ,
रात है मिशालें जलाने की !

किस ने सागर “अदम बुलंद किया,
थम गयी गर्दिशें ज़माने की !!

 

Khush hun ki zindagi ne koi kaam kar diya

Khush hun ki zindagi ne koi kaam kar diya,
Mujh ko supurd-e gardish-e ayaam kar diya.

Saaqi siyaah-khana-e-hasti mein dekhna,
Roshan charaagh kis ne sar-e shaam kar diya.

Pehle mere khuloos ko dete rahe fareb,
Aakhir mere khuloos ko badnaam kar diya.

Kitni duaayen dun teri zulf-e daraaz ko,
Kitna waseea silsila-e daam kar diya.

Wo chashm-e mast kitni khabardaar thi “Adam”,
Khud hosh mein rahi, humein badnaam kar diya !!

खुश हूँ की ज़िन्दगी ने कोई काम कर दिया,
मुझ को सुपुर्द-ए गर्दिश-ए अयाम कर दिया !

साक़ी सियाह-खाना-ए-हस्ती में देखना,
रोशन चराग़ किस ने सर-ए शाम कर दिया !

पहले मेरे ख़ुलूस को देते रहे फ़रेब,
आखिर मेरे ख़ुलूस को बदनाम कर दिया !

कितनी दुआएं दूँ तेरी ज़ुल्फ़-ए दराज़ को,
कितना वसीअ सिलसिला-ए दाम कर दिया !

वो चश्म-ए-मस्त कितनी ख़बरदार थी “अदम”,
खुद होश में रही, हमें बदनाम कर दिया !!