Home / Ehsaas Shayari

Ehsaas Shayari

Lab Pe Pabandi To Hai Ehsas Par Pahra To Hai

Lab pe pabandi to hai ehsas par pahra to hai,
Phir bhi ahl-e-dil ko ahwal-e-bashar kahna to hai.

Khun-e-ada se na ho khun-e-shahidan hi se ho,
Kuch na kuch is daur mein rang-e-chaman nikhra to hai.

Apni ghairat bech dalen apna maslak chhod den,
Rahnumaon mein bhi kuch logon ka ye mansha to hai.

Hai jinhen sab se ziyada dawa-e-hubbul-watan,
Aaj un ki wajh se hubb-e-watan ruswa to hai.

Bujh rahe hain ek ek kar ke aqidon ke diye,
Is andhere ka bhi lekin samna karna to hai.

Jhuth kyun bolen farogh-e-maslahat ke naam par,
Zindagi pyari sahi lekin hamein marna to hai. !!

लब पे पाबंदी तो है एहसास पर पहरा तो है,
फिर भी अहल-ए-दिल को अहवाल-ए-बशर कहना तो है !

ख़ून-ए-आदा से न हो ख़ून-ए-शहीदाँ ही से हो,
कुछ न कुछ इस दौर में रंग-ए-चमन निखरा तो है !

अपनी ग़ैरत बेच डालें अपना मस्लक छोड़ दें,
रहनुमाओं में भी कुछ लोगों का ये मंशा तो है !

है जिन्हें सब से ज़ियादा दावा-ए-हुब्बुल-वतन,
आज उन की वज्ह से हुब्ब-ए-वतन रुस्वा तो है !

बुझ रहे हैं एक एक कर के अक़ीदों के दिए,
इस अँधेरे का भी लेकिन सामना करना तो है !

झूठ क्यूँ बोलें फ़रोग़-ए-मस्लहत के नाम पर,
ज़िंदगी प्यारी सही लेकिन हमें मरना तो है !!

Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection