Home / Dukh Shayari

Dukh Shayari

Sadiyon Se Insan Ye Sunta Aaya Hai..

Sadiyon se insan ye sunta aaya hai,
Dukh ki dhup ke aage sukh ka saya hai.

Hum ko in sasti khushiyon ka lobh na do,
Hum ne soch samajh kar gham apnaya hai.

Jhuth to qatil thahra is ka kya rona,
Sach ne bhi insan ka khun bahaya hai.

Paidaish ke din se maut ki zad mein hain,
Is maqtal mein kaun hamein le aaya hai.

Awwal awwal jis dil ne barbaad kiya,
Aakhir aakhir wo dil hi kaam aaya hai.

Itne din ehsan kiya diwanon par,
Jitne din logon ne sath nibhaya hai. !!

सदियों से इंसान ये सुनता आया है,
दुख की धूप के आगे सुख का साया है !

हम को इन सस्ती ख़ुशियों का लोभ न दो,
हम ने सोच समझ कर ग़म अपनाया है !

झूठ तो क़ातिल ठहरा इस का क्या रोना,
सच ने भी इंसाँ का ख़ूँ बहाया है !

पैदाइश के दिन से मौत की ज़द में हैं,
इस मक़्तल में कौन हमें ले आया है !

अव्वल अव्वल जिस दिल ने बर्बाद किया,
आख़िर आख़िर वो दिल ही काम आया है !

इतने दिन एहसान किया दीवानों पर,
जितने दिन लोगों ने साथ निभाया है !!

#Sahir Ludhianvi Ghazal

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Beti बेटी)

1.
Gharon mein yun sayani betiyan bechain rehati hain,
Ki jaise sahilon par kashtiyan bechain rehati hain.

घरों में यूँ सयानी बेटियाँ बेचैन रहती हैं,
कि जैसे साहिलों पर कश्तियाँ बेचैन रहती हैं !

2.
Ye chidiya bhi meri beti se kitani milati-julti hai,
Kahin bhi shakhe-gul dekhe to jhula daal deti hai.

ये चिड़िया भी मेरी बेटी से कितनी मिलती-जुलती है,
कहीं भी शाख़े-गुल देखे तो झूला डाल देती है !

3.
Ro rahe the sab to main bhi phoot ke rone laga,
Warna mujhko betiyon ki rukhsati achchi lagi.

रो रहे थे सब तो मैं भी फूट कर रोने लगा,
वरना मुझको बेटियों की रुख़सती अच्छी लगी !

4.
Badi hone ko hain ye muratein aangan mein mitti ki,
Bahut se kaam baaki hai sambhala le liya jaye.

बड़ी होने को हैं ये मूरतें आँगन में मिट्टी की,
बहुत से काम बाक़ी हैं सँभाला ले लिया जाये !

5.
To phir jakar kahin Maa-Baap ko kuch chain padta hai,
Ki jab sasuraal se ghar aa ke beti muskurati hai.

तो फिर जाकर कहीँ माँ-बाप को कुछ चैन पड़ता है,
कि जब ससुराल से घर आ के बेटी मुस्कुराती है !

6.
Ayesa lagta hai ki jaise khtam mela ho gaya,
Uad gayi aangan se chidiyaan ghar akela ho gaya.

ऐसा लगता है कि जैसे ख़त्म मेला हो गया,
उड़ गईं आँगन से चिड़ियाँ घर अकेला हो गया !

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Gurabat गुरबत)

1.
Ghar ki diwar pe kauve nahi achche lagte,
Muflisi mein ye tamashe nahi achche lagte.

घर की दीवार पे कौवे नहीं अच्छे लगते,
मुफ़लिसी में ये तमाशे नहीं अच्छे लगते !

2.
Muflisi ne sare aangan mein andhera kar diya,
Bhai khali hath laute aur Behane bujh gayi.

मुफ़लिसी ने सारे आँगन में अँधेरा कर दिया,
भाई ख़ाली हाथ लौटे और बहनें बुझ गईं !

3.
Amiri resham-o-kamkhwab mein nangi nazar aayi,
Garibi shaan se ek taat ke parde mein rehati hai.

अमीरी रेशम-ओ-कमख़्वाब में नंगी नज़र आई,
ग़रीबी शान से इक टाट के पर्दे में रहती है !

4.
Isi gali mein wo bhukha kisan rahata hai,
Ye wo zameen hai jahan aasman rahata hai.

इसी गली में वो भूखा किसान रहता है,
ये वो ज़मीं है जहाँ आसमान रहता है !

5.
Dehleez pe sar khole khadi hogi jarurat,
Ab ase ghar mein jana munasib nahi hoga.

दहलीज़ पे सर खोले खड़ी होगी ज़रूरत,
अब ऐसे घर में जाना मुनासिब नहीं होगा !

6.
Eid ke khauf ne rozon ka maza chhin liya,
Muflisi mein ye mahina bhi bura lagta hai.

ईद के ख़ौफ़ ने रोज़ों का मज़ा छीन लिया,
मुफ़लिसी में ये महीना भी बुरा लगता है !

7.
Apne ghar mein sar jhukaye is liye aaya hun main,
Itani majduri to bachchon ki dua kha jayegi.

अपने घर में सर झुकाये इस लिए आया हूँ मैं,
इतनी मज़दूरी तो बच्चे की दुआ खा जायेगी !

8.
Allaah gareebon ka madadgar hai “Rana”,
Hum logon ke bachche kabhi sardi nahi khate.

अल्लाह ग़रीबों का मददगार है “राना”,
हम लोगों के बच्चे कभी सर्दी नहीं खाते !

9.
Bojh uthana shauk kahan hai majburi ka suda hai,
Rehate-rehate station par log kuli ho jate hain.

बोझ उठाना शौक़ कहाँ है मजबूरी का सौदा है,
रहते-रहते स्टेशन पर लोग कुली हो जाते हैं !

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Vividh विविध)

1.
Hum sayadar ped zamane ke kaam aaye,
Jab sukhne lage to jalane ke kaam aaye.

हम सायादार पेड़ ज़माने के काम आये,
जब सूखने लगे तो जलाने के काम आये !

2.
Koyal bole ya gaureyya achcha lagta hai,
Apne gaon mein sab kuch bhaiya achcha lagta hai.

कोयल बोले या गौरेय्या अच्छा लगता है,
अपने गाँव में सब कुछ भैया अच्छा लगता है !

3.
Khandani wirasat ke nilam par aap apne ko taiyaar karte hue,
Us haweli ke sare makin ro diye us haweli ko bazaar karte hue.

ख़ानदानी विरासत के नीलाम पर आप अपने को तैयार करते हुए,
उस हवेली के सारे मकीं रो दिये उस हवेली को बाज़ार करते हुए !

4.
Udane se parinde ko shzar rok raha hai,
Ghar wale to khamosh hain ghar rok raha hai.

उड़ने से परिंदे को शजर रोक रहा है,
घर वाले तो ख़ामोश हैं घर रोक रहा है !

5.
Wo chahati hai ki aangan mein maut ho meri,
Kahan ki mitti hai mujhko kahan bulaati hai.

वो चाहती है कि आँगन में मौत हो मेरी,
कहाँ की मिट्टी है मुझको कहाँ बुलाती है !

6.
Numaaish par badan ki yun koi taiyaar kyon hota,
Agar sab ghar ho jate to ye bazar kyon hota.

नुमाइश पर बदन की यूँ कोई तैयार क्यों होता,
अगर सब घर हो जाते तो ये बाज़ार क्यों होता !

7.
Kachcha samajh ke bech na dena makan ko,
Shayad kabhi ye sar ko chhupane ke kaam aaye.

कच्चा समझ के बेच न देना मकान को,
शायद कभी ये सर को छुपाने के काम आये !

8.
Andheri raat mein aksar sunhari mishalein lekar,
Parindo ki musibat ka pata jugnu lagate hain.

अँधेरी रात में अक्सर सुनहरी मिशअलें लेकर,
परिंदों की मुसीबत का पता जुगनू लगाते हैं !

9.
Tune saari bajiyan jiti hain mujhpe baith kar,
Ab main budha ho raha hun astbal bhi chahiye.

तूने सारी बाज़ियाँ जीती हैं मुझपे बैठ कर,
अब मैं बूढ़ा हो रहा हूँ अस्तबल भी चाहिए !

10.
Mohaaziro ! yahi tarikh hai makanon ki,
Banane wala hamesha baramdon mein raha.

मोहाजिरो ! यही तारीख़ है मकानों की,
बनाने वाला हमेशा बरामदों में रहा !

11.
Tumhari aankhon ki tauheen hai zara socho,
Tumhara chahane wala sharab pita hai.

तुम्हारी आँखों की तौहीन है ज़रा सोचो,
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है !

12.
Kisi dukh ka kisi chehare se andaza nahi hota,
Shazar to dekhne se sab hare malum hote hain.

किसी दुख का किसी चेहरे से अंदाज़ा नहीं होता,
शजर तो देखने में सब हरे मालूम होते हैं !

13.
Jarurat se anaa ka bhari patthar tut jata hai,
Magar phir aadami hi andar-andar tut jata hai.

ज़रूरत से अना का भारी पत्थर टूट जात है,
मगर फिर आदमी भी अंदर-अंदर टूट जाता है !

14.
Mohabbat ek aisa khel hai jismein mere bhai,
Hamesha jitane wale pareshani mein rehate hain.

मोहब्बत एक ऐसा खेल है जिसमें मेरे भाई,
हमेशा जीतने वाले परेशानी में रहते हैं !

15.
Phir kabutar ki wafadari pe shaq mat karna,
Wah to ghar ko isi minar se pehachanta hai.

फिर कबूतर की वफ़ादारी पे शक मत करना,
वह तो घर को इसी मीनार से पहचानता है !

16.
Anaa ki mohani surat bigad deti hai,
Bade-badon ki jarurat bigad deti hai.

अना की मोहनी सूरत बिगाड़ देती है,
बड़े-बड़ों को ज़रूरत बिगाड़ देती है !

17.
Banakar ghaunsala rehata tha ek joda kabootar ka,
Agar aandhi nahi aati to ye minar bach jata.

बनाकर घौंसला रहता था इक जोड़ा कबूतर का,
अगर आँधी नहीं आती तो ये मीनार बच जाता !

18.
Un gharon mein jahan mitti ke ghade rahte hain,
Kad mein chhote hon magar log bade rahte hain.

उन घरों में जहाँ मिट्टी के घड़े रहते हैं,
क़द में छोटे हों मगर लोग बड़े रहते हैं !

19.
Pyaas ki shiddat se munh khole parinda gir pada,
Sidhiyon par haanfte akhbar wale ki tarah.

प्यास की शिद्दत से मुँह खोले परिंदा गिर पड़ा,
सीढ़ियों पर हाँफ़ते अख़बार वाले की तरह !

20.
Wo chidiyaan thi duayein padh ke jo mujhko jagati thi,
Main aksar sochta tha ye tilawat kaun karta hai.

वो चिड़ियाँ थीं दुआएँ पढ़ के जो मुझको जगाती थीं,
मैं अक्सर सोचता था ये तिलावत कौन करता है !

21.
Parinde chonch mein tinke dabate jate hain.
Main sochta hun ki ab ghar basa liya jaye.

परिंदे चोंच में तिनके दबाते जाते हैं,
मैं सोचता हूँ कि अब घर बसा लिया जाये !

22.
Aye mere bhai mere khoon ka badla le le,
Hath mein roz ye talwar nahi aayegi.

ऐ मेरे भाई मेरे ख़ून का बदला ले ले,
हाथ में रोज़ ये तलवार नहीं आयेगी !

23.
Naye kamron mein ye chizein purani kaun rakhta hai,
Parindo ke liye sheharon mein paani kaun rakhta hai.

नये कमरों में ये चीज़ें पुरानी कौन रखता है,
परिंदों के लिए शहरों में पानी कौन रखता है !

24.
Jisko bachchon mein pahunchane ki bahut ujalat ho,
Us se kehiye na kabhi Car chalane ke liye.

जिसको बच्चों में पहुँचने की बहुत उजलत हो,
उस से कहिये न कभी कार चलाने के लिए !

25.
So jate hai footpaath pe akhbar bichha kar,
Majdur kabhi nind ki goli nahi khate.

सो जाते हैं फुट्पाथ पे अखबार बिछा कर,
मज़दूर कभी नींद की गोलॊ नहीं खते !

26.
Pet ki khatir phootpaathon pe bech raha hun tasvirein,
Main kya janu roza hai ya mera roza tut gaya.

पेट की ख़ातिर फुटपाथों पे बेच रहा हूँ तस्वीरें,
मैं क्या जानूँ रोज़ा है या मेरा रोज़ा टूट गया !

27.
Jab us se guftgu kar li to phir shazara nahi puncha,
Hunar bakhiyagiri ka ek turpai mein khulta hai.

जब उससे गुफ़्तगू कर ली तो फिर शजरा नहीं पूछा,
हुनर बख़ियागिरी का एक तुरपाई में खुलता है !

 

Zakhm kya kya na zindagi se mile..

Zakhm kya kya na zindagi se mile,
Khwaab palkon se berukhi se mile.

Aap ko mil gaye hain kismat se,
Hum zamaane mein kab kisi ko mile ?

Aise khushbu se mil raha hai gulaab,
Jis tarah raat roshani se mile.

Hum faqeeron se dosti hai magar,
Uss se kehna ki saadagi se mile.

Dil mein rakhte hain ehtiyaat se hum,
Zakhm jo jo bhi jis kisi se mile.

Zindagi se gale mile to laga,
Ajnabi jaise ajnabi se mile.

Uss ke seene mein dil nahi tha “Batool”,
Hum ne socha tha aadmi se mile.

ज़ख्म क्या क्या न ज़िन्दगी से मिले,
ख्वाब पलकों से बेरुखी से मिले !

आप को मिल गए हैं किस्मत से,
हम ज़माने में कब किसी को मिले ?

ऐसे खुशबु से मिल रहा है गुलाब,
जिस तरह रात रोशनी से मिले !

हम फ़क़ीरों से दोस्ती है मगर,
उस से कहना की सादगी से मिले !

दिल में रखते हैं एहतियात से हम,
ज़ख्म जो जो भी जिस किसी से मिले !

ज़िन्दगी से गले मिले तो लगा,
अजनबी जैसे अजनबी से मिले !

उस के सीने में दिल नहीं था “बैतूल”,
हम ने सोचा था आदमी से मिले. !!

famous two line poetry of aziz lakhnavi

Paida wo baat kar ki tujhe roye dusare,
Rona khud ye apne haal pe ye zaar zaar kya.

पैदा वो बात कर कि तुझे रोएँ दूसरे,
रोना खुद अपने हाल पे ये जार जार क्या !

Tumne cheda to kuchh khule hum bhi,
Baat par baat yaad aati hai.

तुम ने छेड़ा तो कुछ खुले हम भी,
बात पर बात याद आती है !

Zaban dil ki haqiqat ko kya bayan karti,
Kisi ka haal kisi se kaha nahi jata.

जबान दिल की हकीकत को क्या बयां करती,
किसी का हाल किसी से कहा नहीं जाता !

Unko sote huye dekha tha dame-subah kabhi,
Kya bataun jo in aankhon ne sama dekha tha.

उनको सोते हुए देखा था दमे-सुबह कभी,
क्या बताऊं जो इन आंखों ने समां देखा था !

Apne markaz ki taraf maaial-e-parwaz tha husan
Bhulta hi nahi aalam tiri angadaai ka.

अपने मरकज़ की तरफ माइल-ए-परवाज़ था हुस्न,
भूलता ही नहीं आलम तिरी अंगड़ाई का !

Itana to soch zalim jauro-jafa se pahale,
Yah rasm dosti ki duniya se uth jayegi.

इतना तो सोच जालिम जौरो-जफा से पहले,
यह रस्म दोस्ती की दुनिया से उठ जायेगी !

Hamesha tinke hi chunte gujar gayi apni,
Magar chaman mein kahi aashiyan bana na sake.

हमेशा तिनके ही चुनते गुजर गई अपनी,
मगर चमन में कहीं आशियाँ बना ना सके !

Ek majboor ki tamnna kya,
Roz jeeti hai, roz marti hai.

एक मजबूर की तमन्ना क्या,
रोज जीती है, रोज मरती है !

Kafas mein ji nahi lagta hai. aah phir bhi mera,
Yah janta hun ki tinka bhi aashiyan mein nahi.

कफस में जी नहीं लगता है, आह फिर भी मेरा,
यह जानता हूँ कि तिनका भी आशियाँ में नहीं !

Sitam hai lash par us bewafa ka yah kehana,
Ki aane ka bhi na kisi ne intezaar kiya.

सितम है लाश पर उस बेवफा का यह कहना,
कि आने का भी न किसी ने इंतज़ार किया !

Khuda ka kaam hai yun marizon ko shifa dena,
Munasib ho to ek din hathon se apne dawa dena.

खुदा का काम है यूँ तो मरीजों को शिफा देना,
मुनासिब हो तो इक दिन हाथों से अपने दवा देना !

Bhala zabat ki bhi koi inteha hai,
Kahan tak tabiyat ko apni sambhale.

भला जब्त की भी कोई इन्तहा है,
कहाँ तक तबियत को अपनी संभाले !

Jhoothe wadon par thi apni zindagi,
Ab to yah bhi aasara jata raha.

झूठे वादों पर थी अपनी जिन्दगी,
अब तो यह भी आसरा जाता रहा !

Suroore-shab ki nahi subah ka khumar hun main,
Nikal chuki hai jo gulshan se wah bahar hun main.

सुरूरे-शब की नहीं सुबह का खुमार हूँ मैं,
निकल चुकी है जो गुलशन से वह बहार हूँ मैं !

Dil samjhata tha ki khalwat mein wo tanha honge,
Maine parda jo uthaya to kayamat nikali.

दिल समझता था कि ख़ल्वत में वो तन्हा होंगे,
मैंने पर्दा जो उठाया तो क़यामत निकली !

Khud chale aao ya bula bhejo,
Raat akele basar nahi hoti.

ख़ुद चले आओ या बुला भेजो,
रात अकेले बसर नहीं होती !

Aaina chhod ke dekha kiye surat meri,
Dil-e-muztar ne mire un ko sanwarne na diya.

आईना छोड़ के देखा किए सूरत मेरी,
दिल-ए-मुज़्तर ने मिरे उन को सँवरने न दिया !

Hijr ki raat katne waale,
Kya karega agar sahar na huyi.

हिज्र की रात काटने वाले,
क्या करेगा अगर सहर न हुई !

Hai dil mein josh-e-hasrat rukte nahi hain aansoo,
Risti huyi surahi tuuta hua subu hun.

है दिल में जोश-ए-हसरत रुकते नहीं हैं आँसू,
रिसती हुई सुराही टूटा हुआ सुबू हूँ !

“Azīz” munh se wo apne naqab to ulten,
Karenge jabr agar dil pe ikhtiyar raha.

“अज़ीज़” मुँह से वो अपने नक़ाब तो उलटें,
करेंगे जब्र अगर दिल पे इख़्तियार रहा !

Be-piye waaiz ko meri raaye mein,
Masjid-e-jama mein jaana hi na tha.

बे-पिए वाइ’ज़ को मेरी राय में,
मस्जिद-ए-जामा में जाना ही न था !

Usi ko hashr kahte hain jahan duniya ho fariyadi,
Yahi ai mir-e-divan-e-jaza kya teri mahfil hai.

उसी को हश्र कहते हैं जहाँ दुनिया हो फ़रियादी,
यही ऐ मीर-ए-दीवान-ए-जज़ा क्या तेरी महफ़िल है !

Lutf-e-bahar kuchh nahi go hai wahi bahar,
Dil hi ujad gaya ki zamana ujad gaya.

लुत्फ़-ए-बहार कुछ नहीं गो है वही बहार,
दिल ही उजड़ गया कि ज़माना उजड़ गया !

Itna bhi bar-e-khatir-e-gulshan na ho koi,
Tuti wo shakh jis pe mira ashiyana tha.

इतना भी बार-ए-ख़ातिर-ए-गुलशन न हो कोई,
टूटी वो शाख़ जिस पे मिरा आशियाना था !

Batao aise marizon ka hai ilaaj koi,
Ki jin se haal bhi apna bayan nahi hota.

बताओ ऐसे मरीज़ों का है इलाज कोई,
कि जिन से हाल भी अपना बयाँ नहीं होता !

Be-khudi kucha-e-janan mein liye jaati hai,
Dekhiye kaun mujhe meri khabar deta hai.

बे-ख़ुदी कूचा-ए-जानाँ में लिए जाती है,
देखिए कौन मुझे मेरी ख़बर देता है !

Haaye kya chiiz thi jawani bhi,
Ab to din raat yaad aati hai.

हाए क्या चीज़ थी जवानी भी,
अब तो दिन रात याद आती है !

Maana ki bazm-e-husn ke adab hain bahut,
Jab dil pe ikhtiyar na ho kya kare koi.

माना कि बज़्म-ए-हुस्न के आदाब हैं बहुत,
जब दिल पे इख़्तियार न हो क्या करे कोई !

Naza ka waqt hai baitha hai sirhane koi,
Waqt ab wo hai ki marna hamein manzur nahi.

नज़्अ’ का वक़्त है बैठा है सिरहाने कोई,
वक़्त अब वो है कि मरना हमें मंज़ूर नहीं !

Qatal aur mujh se sakht-jan ka qatal,
Tegh dekho zara kamar dekho.

क़त्ल और मुझ से सख़्त-जाँ का क़त्ल,
तेग़ देखो ज़रा कमर देखो !

Jab se zulfon ka pada hai is mein aks,
Dil mira tuta hua aaina hai.

जब से ज़ुल्फ़ों का पड़ा है इस में अक्स,
दिल मिरा टूटा हुआ आईना है !

Dil nahi jab to khaak hai duniya,
Asal jo chiiz thi wahi na rahi.

दिल नहीं जब तो ख़ाक है दुनिया,
असल जो चीज़ थी वही न रही !

Tumhen hanste hue dekha hai jab se,
Mujhe rone ki aadat ho gayi hai.

तुम्हें हँसते हुए देखा है जब से,
मुझे रोने की आदत हो गई है !

Tamam anjuman-e-waz ho gayi barham,
Liye hue koi yun saghar-e-sharab aaya.

तमाम अंजुमन-ए-वाज़ हो गई बरहम,
लिए हुए कोई यूँ साग़र-ए-शराब आया !

Musibat thi hamare hi liye kyun,
Ye maana ham jiye lekin jiye kyun ?

मुसीबत थी हमारे ही लिए क्यूँ,
ये माना हम जिए लेकिन जिए क्यूँ ?

Tah mein dariya-e-mohabbat ke thi kya chiiz “Azīz”,
Jo koi dub gaya us ko ubharne na diya.

तह में दरिया-ए-मोहब्बत के थी क्या चीज़ “अज़ीज़”,
जो कोई डूब गया उस को उभरने न दिया !

Dil ki aludgi-e-zakhm badhi jaati hai,
Saans leta hun to ab khun ki bu aati hai.

दिल की आलूदगी-ए-ज़ख़्म बढ़ी जाती है,
साँस लेता हूँ तो अब ख़ून की बू आती है !

Phuut nikla zahr saare jism mein,
Jab kabhi aansoo hamare tham gaye.

फूट निकला ज़हर सारे जिस्म में,
जब कभी आँसू हमारे थम गए !

Udasi ab kisi ka rang jamne hi nahi deti,
Kahan tak phool barsaye koi gor-e-ghariban par.

उदासी अब किसी का रंग जमने ही नहीं देती,
कहाँ तक फूल बरसाए कोई गोर-ए-ग़रीबाँ पर !

Shisha-e-dil ko yun na uthao,
Dekho haath se chhota hota.

शीशा-ए-दिल को यूँ न उठाओ,
देखो हाथ से छोटा होता !

Kyun kisi aur ko dukh-dard sunaun apne..

kyun kisi aur ko dukh sunaun apne

Kyun kisi aur ko dukh-dard sunaun apne,
Apni aankho mein bhi main zakhm chhupaun apne.

Main to qaem hun tere gham ki badaulat warna,
Yun bhikhar jaun ki khud ke haath na aaun apne.

Sher logon ko bahut yaad hai auron ke liye,
Tu mile to main tujhe sher sunaun apne.

Tere raste ka jo kanta bhi mayassar aaye,
Main use shauk se collar pe sajaun apne.

Sochta hun ki bujha dun main ye kamre ka diya,
Apne saye ko bhi kyon sath jagaun apne.

Us ki talwar ne wo chaal chali hai ab ke,
Panv kate hain agar haath bachaun apne.

Aakhiri baat mujhe yaad hai us ki “Anwar”,
Jaane wale ko gale se na lagaun apne. !!

क्यों किसी और को दुःख-दर्द सुनाओ अपने,
अपनी आँखों में भी मैं ज़ख़्म छुपाऊँ अपने !

मैं तो क़ायम हूँ तेरे गम की बदौलत वरना,
यूँ बिखर जाऊ की खुद के हाथ न आऊं अपने !

शेर लोगों को बहुत याद है औरों के लिए,
तू मिले तो मैं तुझे शेर सुनाऊ अपने !

तेरे रास्ते का जो कांटा भी मयससर आये,
मैं उसे शौक से कॉलर पे सजाऊँ अपने !

सोचता हूँ की बुझा दूँ मैं ये कमरे का दीया,
अपने साये को भी क्यों साथ जगाऊँ अपने !

उस की तलवार ने वो चाल चली है अब के,
पाँव कटते हैं अगर हाथ बचाऊँ अपने !

आख़िरी बात मुझे याद है उस की “अनवर”,
जाने वाले को गले से न लगाऊँ अपने !!