Home / Dua Shayari

Dua Shayari

Ek karb-e-musalsal ki saza den to kise den..

Ek karb-e-musalsal ki saza den to kise den,
Maqtal mein hain jine ki dua den to kise den.

Patthar hain sabhi log karen baat to kis se,
Is shahr-e-khamoshan mein sada den to kise den.

Hai kaun ki jo khud ko hi jalta hua dekhe,
Sab hath hain kaghaz ke diya den to kise den.

Sab log sawali hain sabhi jism barahna,
Aur pas hai bas ek rida den to kise den.

Jab hath hi kat jayen to thamega bhala kaun,
Ye soch rahe hain ki asa den to kise den.

Bazar mein khushbu ke kharidar kahan hain,
Ye phool hain be-rang bata den to kise den.

Chup rahne ki har shakhs qasam khaye hue hai,
Hum zahr bhara jam bhala den to kise den. !!

एक कर्ब-ए-मुसलसल की सज़ा दें तो किसे दें,
मक़्तल में हैं जीने की दुआ दें तो किसे दें !

पत्थर हैं सभी लोग करें बात तो किस से,
इस शहर-ए-ख़मोशाँ में सदा दें तो किसे दें !

है कौन कि जो ख़ुद को ही जलता हुआ देखे,
सब हाथ हैं काग़ज़ के दिया दें तो किसे दें !

सब लोग सवाली हैं सभी जिस्म बरहना,
और पास है बस एक रिदा दें तो किसे दें !

जब हाथ ही कट जाएँ तो थामेगा भला कौन,
ये सोच रहे हैं कि असा दें तो किसे दें !

बाज़ार में ख़ुशबू के ख़रीदार कहाँ हैं,
ये फूल हैं बे-रंग बता दें तो किसे दें !

चुप रहने की हर शख़्स क़सम खाए हुए है,
हम ज़हर भरा जाम भला दें तो किसे दें !!

 

Dil to karta hai khair karta hai..

Dil to karta hai khair karta hai,
Aap ka zikr ghair karta hai.

Kyun na main dil se dun dua us ko,
Jabki wo mujh se bair karta hai.

Aap to hu-ba-hu wahi hain jo,
Mere sapnon mein sair karta hai.

Ishq kyun aap se ye dil mera,
Mujh se puchhe baghair karta hai.

Ek zarra duaen maa ki le,
Aasmanon ki sair karta hai. !!

दिल तो करता है ख़ैर करता है,
आप का ज़िक्र ग़ैर करता है !

क्यूँ न मैं दिल से दूँ दुआ उस को,
जबकि वो मुझ से बैर करता है !

आप तो हू-ब-हू वही हैं जो,
मेरे सपनों में सैर करता है !

इश्क़ क्यूँ आप से ये दिल मेरा,
मुझ से पूछे बग़ैर करता है !

एक ज़र्रा दुआएँ माँ की ले,
आसमानों की सैर करता है !!

 

Munawwar Rana “Maa” Part 4

1.
Mera bachpan tha mera ghar tha khilaune the mere,
Sar pe Maa-Baap ka saaya bhi ghazal jaisa tha.

मेरा बचपन था मेरा घर था खिलौने थे मेरे,
सर पे माँ-बाप का साया भी ग़ज़ल जैसा था !

2.
Mukaddas muskurahat Maa ke honthon par larzati hai,
Kisi bacche ka jab pahala sipaara khtam hota hai.

मुक़द्दस मुस्कुराहट माँ के होंठों पर लरज़ती है,
किसी बच्चे का जब पहला सिपारा ख़त्म होता है !

3.
Main wo mele mein bhatakta hua ek baccha hun,
Jiske Maa-Baap ko rote hue mar jana hain.

मैं वो मेले में भटकता हुआ इक बच्चा हूँ,
जिसके माँ-बाप को रोते हुए मर जाना है !

4.
Milta-julta hai sabhi maaon se Maa ka chehara,
Gurudwaare ki bhi deewar na girne paye.

मिलता-जुलता हैं सभी माँओं से माँ का चेहरा,
गुरूद्वारे की भी दीवार न गिरने पाये !

5.
Maine kal shab chaahaton ki sab kitabein faad di,
Sirf ek kaagaz pe likha lafz-e-Maa rahane diya.

मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दीं,
सिर्फ़ इक काग़ज़ पे लिक्खा लफ़्ज़-ए-माँ रहने दिया !

6.
Gher lene ko mujhe jab bhi balaayein aa gayi,
Dhaal ban kar saamne Maa ki duayein aa gayi.

घेर लेने को मुझे जब भी बलाएँ आ गईं,
ढाल बन कर सामने माँ की दुआएँ आ गईं !

7.
Maidaan chhod dene se main bach to jaunga,
Lekin jo yah khabar meri Maa tak pahunch gayi.

मैदान छोड़ देने स्र मैं बच तो जाऊँगा,
लेकिन जो ये ख़बर मेरी माँ तक पहुँच गई !

8.
Munawwar ! Maa ke aage yun kabhi khul kar nahi rona,
Jahan buniyaad ho itani nami achchi nahi hoti.

मुनव्वर ! माँ के आगे यूँ कभी खुल कर नहीं रोना,
जहाँ बुनियाद हो इतनी नमी अच्छी नहीं होती !

9.
Mitti lipat-lipat gayi pairon mein isliye,
Taiyaar ho ke bhi kabhi hizrat na kar sake.

मिट्टी लिपट-लिपट गई पैरों से इसलिए,
तैयार हो के भी कभी हिजरत न कर सके !

10.
Muflisi ! bacche ko rone nahi dena warna,
Ek aansoo bhare bazaar ko kha jayega.

मुफ़्लिसी ! बच्चे को रोने नहीं देना वरना,
एक आँसू भरे बाज़ार को खा जाएगा !

11.
Mujhe khabar nahim jannat badi ki Maa lekin,
Log kehate hain ki jannat bashar ke niche hai.

मुझे खबर नहीम जन्नत बड़ी कि माँ लेकिन,
लोग कहते हैं कि जन्नत बशर के नीचे है !

12.
Mujhe kadhe hue takiye ki kya jaroorat hai,
Kisi ka haath abhi mere sar ke niche hai.

मुझे कढ़े हुए तकिये की क्या ज़रूरत है,
किसी का हाथ अभी मेरे सर के नीचे है !

13.
Bujurgon ka mere dil se abhi tak dar nahi jata,
Ki jab tak jagati rehati hai Maa main ghar nahi jata.

बुज़ुर्गों का मेरे दिल से अभी तक डर नहीं जाता,
कि जब तक जागती रहती है माँ मैं घर नहीं जाता !

14.
Mohabbat karte jaao bas yahi sachchi ibaadat hai,
Mohabbat Maa ko bhi Makka-Madina maan leti hai.

मोहब्बत करते जाओ बस यही सच्ची इबादत है,
मोहब्बत माँ को भी मक्का-मदीना मान लेती है !

15.
Maa ye kehati thi ki moti hain humare aansoo,
Isliye ashqon ka pina bhi bura lagta hai.

माँ ये कहती थी कि मोती हैं हमारे आँसू,
इसलिए अश्कों का पीना भी बुरा लगता है !

16.
Pardesh jane wale kabhi laut aayenge,
Lekin is intezaar mein aankhen chali gayi.

परदेस जाने वाले कभी लौट आयेंगे,
लेकिन इस इंतज़ार में आँखें चली गईं !

17.
Shehar ke raste hon chaahe gaon ki pagdandiyan,
Maa ki ungali thaam kar chalna mujhe achcha laga.

शहर के रस्ते हों चाहे गाँव की पगडंडियाँ,
माँ की उँगली थाम कर चलना मुझे अच्छा लगा !

18.
Main koi ehsaan maanu bhi to aakhir kisliye,
Shehar ne daulat agar di hai to beta le liya.

मैं कोई एहसान मानूँ भी तो आख़िर किसलिए,
शहर ने दौलत अगर दी है तो बेटा ले लिया !

19.
Ab bhi raushan hain teri yaad se ghar ke kamre,
Raushani deta hai ab tak tera saya mujhko.

अब भी रौशन हैं तेरी याद से घर के कमरे,
रौशनी देता है अब तक तेरा साया मुझको !

20.
Mere chehare pe mamta ki farawani chamakti hai,
Main budha ho raha hun phir bhi peshani chamakti hai.

मेरे चेहरे पे ममता की फ़रावानी चमकती है,
मैं बूढ़ा हो रहा हूँ फिर भी पेशानी चमकती है !

Munawwar Rana “Maa” Part 3

1.
Ab dekhiye kaun aaye janaze ko uthane,
Yun taar to mere sabhi beton ko milega.

अब देखिये कौन आए जनाज़े को उठाने,
यूँ तार तो मेरे सभी बेटों को मिलेगा !

2.
Ab andhera mustaqil rehta hai is dehleez par,
Jo humari muntazir rehti thi aankhen bujh gayi.

अब अँधेरा मुस्तक़िल रहता है इस दहलीज़ पर,
जो हमारी मुन्तज़िर रहती थीं आँखें बुझ गईं !

3.
Agar kisi ki dua mein asar nahi hota,
To mere paas se kyon teer aa ke laut gaya.

अगर किसी की दुआ में असर नहीं होता,
तो मेरे पास से क्यों तीर आ के लौट गया !

4.
Abhi zinda hai Maa meri mujhe kuch bhi nahi hoga,
Main jab ghar se nikalta hun dua bhi saath chalti hai.

अभी ज़िन्दा है माँ मेरी मुझे कु्छ भी नहीं होगा,
मैं जब घर से निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है !

5.
Kahin benoor na ho jayen wo budhi aankhen,
Ghar mein darte the khabar bhi mere bhai dete.

कहीं बे्नूर न हो जायें वो बूढ़ी आँखें,
घर में डरते थे ख़बर भी मेरे भाई देते !

6.
Kya jane kahan hote mere phool-se bachche,
Wirse mein agar maa ki dua bhi nahi milti.

क्या जाने कहाँ होते मेरे फूल-से बच्चे,
विरसे में अगर माँ की दुआ भी नहीं मिलती !

7.
Kuch nahi hoga to aanchal mein chhupa legi mujhe,
Maa kabhi sar pe khuli chhat nahi rahne degi.

कुछ नहीं होगा तो आँचल में छुपा लेगी मुझे,
माँ कभी सर पे खुली छत नहीं रहने देगी !

8.
Kadamon mein laa ke daal di sab nematen magar,
Sauteli Maa ko bachche se nafarat wahi rahi.

क़दमों में ला के डाल दीं सब नेमतें मगर,
सौतेली माँ को बच्चे से नफ़रत वही रही !

9.
Dhnsati hui qabron ki taraf dekh liya tha,
Maa-Baap ke chehron ki taraf dekh liya tha.

धँसती हुई क़ब्रों की तरफ़ देख लिया था,
माँ बाप के चेहरों की तरफ़ देख लिया था !

10.
Koi dukhi ho kabhi kehna nahi padta uss se,
Wo zaroorat ko talabagaar se pehchanta hai.

कोई दुखी हो कभी कहना नहीं पड़ता उससे,
वो ज़रूरत को तलबगार से पहचानता है !

11.
Kisi ko dekh kar rote hue hansna nahi achha,
Ye wo aansoo hain jinse takhte-sultaani palatata hai.

किसी को देख कर रोते हुए हँसना नहीं अच्छा,
ये वो आँसू हैं जिनसे तख़्ते-सुल्तानी पलटता है !

12.
Din bhar ki mashkkat se badan chur hain lekin,
Maa ne mujhe dekha to thakan bhool gayi.

दिन भर की मशक़्क़त से बदन चूर है लेकिन,
माँ ने मुझे देखा तो थकन भूल गई है !

13.
Duayen Maa ki pahunchane ko milon meel jati hain.
Ki jab pardesh jane ke liye beta nikalata hai,

दुआएँ माँ की पहुँचाने को मीलों मील जाती हैं,
कि जब परदेस जाने के लिए बेटा निकलता है !

14.
Diya hai Maa ne mujhe dudh bhi wajoo karke,
Mahaaze-jang se main laut kar na jaunga.

दिया है माँ ने मुझे दूध भी वज़ू करके,
महाज़े-जंग से मैं लौट कर न जाऊँगा !

15.
Khilaunon ki taraf bachhe ko Maa jane nahi deti,
Magar aage khilono ki dukaan jane nahi deti.

खिलौनों की तरफ़ बच्चे को माँ जाने नहीं देती,
मगर आगे खिलौनों की दुकाँ जाने नहीं देती !

16.
Dikhate hai padosi mulk aankhen to dikhane do,
Kahin bachhon ke bose se bhi Maa ka gaal katata hai.

दिखाते हैं पड़ोसी मुल्क आँखें तो दिखाने दो,
कहीं बच्चों के बोसे से भी माँ का गाल कटता है !

17.
Bahan ka pyar Maa ki mamta do chikhti aankhen,
Yahi tohafein the wo jinko main aksar yaad karta tha.

बहन का प्यार माँ की मामता दो चीखती आँखें,
यही तोहफ़े थे वो जिनको मैं अक्सर याद करता था !

18.
Barbaad kar diya humen pardesh ne magar,
Maa sabse keh rahi hai ki beta maje mein hai.

बरबाद कर दिया हमें परदेस ने मगर,
माँ सबसे कह रही है कि बेटा मज़े में है !

19.
Badi bechaaragi se lauti baaraat taqte hain,
Bahadur ho ke bhi majboor hote hain dulhan wale.

बड़ी बेचारगी से लौटती बारात तकते हैं,
बहादुर हो के भी मजबूर होते हैं दुल्हन वाले !

20.
Khane ki cheezein Maa ne jo bheji hain gaon se,
Baasi bhi ho gayi hain to lazzat wahi rahi.

खाने की चीज़ें माँ ने जो भेजी हैं गाँव से,
बासी भी हो गई हैं तो लज़्ज़त वही रही !

Munawwar Rana “Maa” Part 2

1.
Gale milne ko aapas mein duayein roz aati hain,
Abhi masjid ke darwaze pe maayen roz aati hain.

गले मिलने को आपस में दुआयें रोज़ आती हैं,
अभी मस्जिद के दरवाज़े पे माएँ रोज़ आती हैं !

2.
Kabhi-kabhi mujhe yun bhi azaan bulaati hai,
Shareer bachche ko jis tarah Maa bulaati hai.

कभी-कभी मुझे यूँ भी अज़ाँ बुलाती है,
शरीर बच्चे को जिस तरह माँ बुलाती है !

3.
Kisi ko ghar mila hisse mein ya koi dukaan aayi,
Main ghar mein sab se chhota tha mere hisse mein Maa aayi.

किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकाँ आई,
मैं घर में सब से छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई !

4.
Aye andhere ! dekh le munh tera kala ho gaya,
Maa ne aankhen khol di ghar mein ujala ho gaya.

ऐ अँधेरे ! देख ले मुँह तेरा काला हो गया,
माँ ने आँखें खोल दीं घर में उजाला हो गया !

5.
Is tarah mere gunahon ko wo dho deti hai,
Maa bahut gusse mein hoti hai to ro deti hai.

इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है,
माँ बहुत ग़ुस्से में होती है तो रो देती है !

6.
Meri khwaahish hai ki main phir se farishta ho jaun,
Maa se is tarah lipat jaun ki bachcha ho jaun.

मेरी ख़्वाहिश है कि मैं फिर से फ़रिश्ता हो जाऊँ,
माँ से इस तरह लिपट जाऊँ कि बच्चा हो जाऊँ !

7.
Mera khuloos to purab ke gaaon jaisa hai,
Sulooq duniya ka sauteli Maaon jaisa hai.

मेरा खुलूस तो पूरब के गाँव जैसा है,
सुलूक दुनिया का सौतेली माओं जैसा है !

8.
Roshni deti hui sab laltenen bujh gayi,
Khat nahi aaya jo beton ka to Maayen bujh gayi.

रौशनी देती हुई सब लालटेनें बुझ गईं,
ख़त नहीं आया जो बेटों का तो माएँ बुझ गईं !

9.
Wo maila sa boseeda sa aanchal nahi dekha,
Barason huye humne koi pipal nahi dekha.

वो मैला-सा बोसीदा-सा आँचल नहीं देखा,
बरसों हुए हमने कोई पीपल नहीं देखा !

10.
Kayi batein mohabbat sabko buniyadi batati hai,
Jo pardadi batati thi wahi dadi batati hai.

कई बातें मुहब्बत सबको बुनियादी बताती है,
जो परदादी बताती थी वही दादी बताती है !

11.
Haadson ki gard se khud ko bachane ke liye,
Maa ! hum apne sath bas teri dua le jayenge.

हादसों की गर्द से ख़ुद को बचाने के लिए,
माँ ! हम अपने साथ बस तेरी दुआ ले जायेंगे !

12.
Hawa udaye liye ja rahi hai har chaadar,
Purane log sabhi inteqal karne lage.

हवा उड़ाए लिए जा रही है हर चादर,
पुराने लोग सभी इन्तेक़ाल करने लगे !

13.
Aye khuda ! phool-se bachchon ki hifaazat karna,
Muflisi chaah rahi hai mere ghar mein rahna.

ऐ ख़ुदा ! फूल-से बच्चों की हिफ़ाज़त करना,
मुफ़लिसी चाह रही है मेरे घर में रहना !

14.
Humen hareefon ki tadaad kyon batate ho,
Humare saath bhi beta jawan rehta hai.

हमें हरीफ़ों की तादाद क्यों बताते हो,
हमारे साथ भी बेटा जवान रहता है !

15.
Khud ko is bhid mein tanha nahi hone denge,
Maa tujhe hum abhi budha nahi hone denge.

ख़ुद को इस भीड़ में तन्हा नहीं होने देंगे,
माँ तुझे हम अभी बूढ़ा नहीं होने देंगे !

16.
Jab bhi dekha mere kirdaar pe dhabba koi,
Der tak baith ke tanhai mein roya koi.

जब भी देखा मेरे किरदार पे धब्बा कोई,
देर तक बैठ के तन्हाई में रोया कोई !

17.
Khuda kare ki ummidon ke hath pile hon,
Abhi talak to guzari hai iddaton ki tarah.

ख़ुदा करे कि उम्मीदों के हाथ पीले हों,
अभी तलक तो गुज़ारी है इद्दतों की तरह !

18.
Ghar ki dehleez pe roshan hain wo bujhti aankhein,
Mujhko mat rok mujhe laut ke ghar jana hai.

घर की दहलीज़ पे रौशन हैं वो बुझती आँखें,
मुझको मत रोक मुझे लौट के घर जाना है !

19.
Yahin rahunga kahin umar bhar na jaunga,
Zameen Maa hai ise chhod kar na jaunga.

यहीं रहूँगा कहीं उम्र भर न जाउँगा,
ज़मीन माँ है इसे छोड़ कर न जाऊँगा !

20.
Station se waapas aa kar budhi aankhen sochti hain,
Pattey dehaati rahte hain phal shehri ho jate hain.

स्टेशन से वापस आकर बूढ़ी आँखें सोचती हैं,
पत्ते देहाती रहते हैं फल शहरी हो जाते हैं !

Ab ke yun dil ko saza di hum ne..

Ab ke yun dil ko saza di hum ne,
Uss ki har baat bhula di hum ne.

Ek ek phool bahut yaad aya,
Shakh-e-gul jab woh jala di hum ne.

Aaj tak jis pe woh sharmaate hain,
Baat woh kab ki bhula di hum ne.

Shehar-e jahan raakh se aabaad hua,
Aag jab dil ki bujha di hum ne.

Aaj phir yaad bahut aaye wo,
Aaj phir uss ko dua di hum ne.

Koi toh baat uss mein bhi hai “Faiz”,
Har khushi jis par luta di hum ne. !!

अब के यूँ दिल को सजा दी हम ने,
उस की हर बात भुला दी हम ने !

एक एक फूल बहुत याद आया,
शख-ए-गुल जब जला दी हम ने !

आज तक जिस पे वो शर्माते हैं,
बात वह कब की भुला दी हम ने !

शहर-ए-जहाँ राख से आबाद हुआ,
आग जब दिल की बुझा दी हम ने

आज फिर याद बहुत आये वो,
आज फिर उस को दुआ दी हम ने !

कोई तो बात उस में भी है “फैज”,
हर ख़ुशी जिस पर लूटा दी हम ने !!

Chandni chhat pe chal rahi hogi..

Chandni chhat pe chal rahi hogi,
Ab akeli tahal rahi hogi.

Phir mera zikr aa gaya hoga,
Barf si wo pighal rahi hogi.

Kal ka sapna bahut suhana tha,
Ye udasi na kal rahi hogi.

Sochta hun ki band kamre mein,
Ek shama si jal rahi hogi.

Shahr ki bhid-bhad se bach kar,
Tu gali se nikal rahi hogi.

Aaj buniyaad thartharaati hai,
Wo dua phul-phal rahi hogi.

Tere gahnon si khankhanati thi,
Bajre ki fasal rahi hogi.

Jin hawaon ne tujh ko dulraya,
Un mein meri ghazal rahi hogi. !!

चाँदनी छत पे चल रही होगी,
अब अकेली टहल रही होगी !

फिर मेरा ज़िक्र आ गया होगा,
बर्फ़ सी वो पिघल रही होगी !

कल का सपना बहुत सुहाना था,
ये उदासी न कल रही होगी !

सोचता हूँ कि बंद कमरे में,
एक शमा सी जल रही होगी !

शहर की भीड़-भाड़ से बच कर,
तू गली से निकल रही होगी !

आज बुनियाद थरथराती है,
वो दुआ फूल-फल रही होगी !

तेरे गहनों सी खनखनाती थी,
बाजरे की फ़सल रही होगी !

जिन हवाओं ने तुझ को दुलराया,
उन में मेरी ग़ज़ल रही होगी !!